राम शलाका के बारे में बताये?...


user
1:37
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए रामशलाका है वह तुलसीदास जी द्वारा रचित है इसमें 15 बाई 15 के गरीब बनाए हुए हैं और उनमें कुछ अक्षर लिखे हुए हैं ऐसा माना जाता है कि अगर मन में कोई संदेह हो और प्रश्न पूछना हो तो श्री रामचंद्र जी का ध्यान करके और श्लोक का मतलब होता है एक दिन का तो कोई भी अंतिम का लेकर और किसी भी अक्षर पर हम आंख बंद करके राम जी का ध्यान रख करके और उस पर रख देंगे किसी भी अक्षर पर जो भी अक्षर आता है उसको बाएं से दाहिने तरफ प्रत्येक 99 अक्षर का चयन करके उन्हें एक कागज पर लिख लेना चाहिए इन शब्दों से एक चौपाई बनेगी उन चौपाई के आधार पर हम उत्तर हिसाब से जो भी छुपाया थी उसके प्रश्न का उत्तर दिया हुआ रहता है जिससे कि एक चौपाई उदाहरण में बता दो बाकी तो इसमें बहुत सारी है एक उदाहरण होता है प्रभु जी प्रभु से नगर कीजे सब काजा हृदय राखी कौशलपुर राजा इससे कार्य में सफलता मिलती है तो इस तरह से बहुत सारे जो हैं बहुत से छुपाया बनती है उससे अपने मन का संदेह मिटा सकते हैं धन्यवाद

dekhiye ramashalaka hai vaah tulsidas ji dwara rachit hai isme 15 bai 15 ke garib banaye hue hain aur unmen kuch akshar likhe hue hain aisa mana jata hai ki agar man mein koi sandeh ho aur prashna poochna ho toh shri ramachandra ji ka dhyan karke aur shlok ka matlab hota hai ek din ka toh koi bhi antim ka lekar aur kisi bhi akshar par hum aankh band karke ram ji ka dhyan rakh karke aur us par rakh denge kisi bhi akshar par jo bhi akshar aata hai usko baen se dahine taraf pratyek 99 akshar ka chayan karke unhe ek kagaz par likh lena chahiye in shabdon se ek chaupai banegi un chaupai ke aadhar par hum uttar hisab se jo bhi chupaya thi uske prashna ka uttar diya hua rehta hai jisse ki ek chaupai udaharan mein bata do baki toh isme bahut saree hai ek udaharan hota hai prabhu ji prabhu se nagar kije sab kaazaa hriday rakhi kaushalpur raja isse karya mein safalta milti hai toh is tarah se bahut saare jo hain bahut se chupaya banti hai usse apne man ka sandeh mita sakte hain dhanyavad

देखिए रामशलाका है वह तुलसीदास जी द्वारा रचित है इसमें 15 बाई 15 के गरीब बनाए हुए हैं और उन

Romanized Version
Likes  12  Dislikes    views  266
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!