इंद्रधनुष के बारे में बताये?...


user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार आप उसने इंद्रधनुष के बारे में बताइए पड़ेगी इंद्रधनुष है वह बरसात के दिनों में बनने वाला प्रकाश का होता है वह देखना का काम इस आतंकवादी

namaskar aap usne indradhanush ke bare mein bataiye padegi indradhanush hai vaah barsat ke dino mein banne vala prakash ka hota hai vaah dekhna ka kaam is aatankwadi

नमस्कार आप उसने इंद्रधनुष के बारे में बताइए पड़ेगी इंद्रधनुष है वह बरसात के दिनों में बनने

Romanized Version
Likes  20  Dislikes    views  270
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
0:24
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका गुस्सा नहीं इधर उसके बारे में बताएं तो इंद्रधनुष से जब वर्षा होती है तो वर्षा के उपरांत जब धूप होता है तो तो प्रकाश सात रंगों में विभक्त हो जाता है जिसको वेजिनी हाथी नाला के नाम से जानते हैं इससे सात रंग में यह प्रकाशित होता है इसे इंद्रसेंस खाते हैं

aapka gussa nahi idhar uske bare mein bataye toh indradhanush se jab varsha hoti hai toh varsha ke uprant jab dhoop hota hai toh toh prakash saat rangon mein vibhakt ho jata hai jisko vejini haathi nala ke naam se jante hain isse saat rang mein yah prakashit hota hai ise indrasens khate hain

आपका गुस्सा नहीं इधर उसके बारे में बताएं तो इंद्रधनुष से जब वर्षा होती है तो वर्षा के उपरा

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  153
WhatsApp_icon
user

Prabhat Verma

primary teacher government of bihar

0:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इंद्रधनुष होता है वह बारिश के बाद लाल नारंगी पीला हरा आसमानी नीला तथा वेग में रंगों का एक विशालकाय वृत्ताकार बकरी दिखाई देता है यही धर्म उसका लाता है वर्षा का बादल पानी के सूची बूंदों अथवा कानों पर पड़ने वाले सूर्य की किरणों का विषय पर नहीं इंद्रधनुष कहलाता है सूरज की किरने वर्षा के फंदे से अपवर्थी तथा प्रवर्तित होने के कारण इंद्रधनुष बनाती है इधर दोनों सदा दर्शक की पीठ के पीछे सूजन होने पर ही दिखाई पड़ता है पानी के फुहारों पर दशकों के पीछे से सोचने के पड़ने पर इंद्रधनुष देखा जा सकता है

indradhanush hota hai vaah barish ke baad laal narangi peela hara asamani neela tatha veg mein rangon ka ek vishalkay vritakaar bakri dikhai deta hai yahi dharm uska lata hai varsha ka badal paani ke suchi boondon athva kanon par padane waale surya ki kirano ka vishay par nahi indradhanush kehlata hai suraj ki kirne varsha ke fande se apavarthi tatha pravartit hone ke karan indradhanush banati hai idhar dono sada darshak ki peeth ke peeche sujan hone par hi dikhai padta hai paani ke fuharon par dashakon ke peeche se sochne ke padane par indradhanush dekha ja sakta hai

इंद्रधनुष होता है वह बारिश के बाद लाल नारंगी पीला हरा आसमानी नीला तथा वेग में रंगों का एक

Romanized Version
Likes  24  Dislikes    views  392
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!