ये तंत्र विद्या है भूत प्रेत है क्या अगर है तो इसका निवारण कैसे करें?...


user

J.P. Y👌g i

Psychologist

7:16
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह तंत्र विद्या है भूत प्रेत है क्या अगर है तो इसका निवारण कैसे करें यह प्रश्न आया हुआ है तो इसमें मानव मानसिकता के अंदर बहुत सी पृथ्वी किस देश से लिया है जिसके प्रति विवेचना बनती है ना वो एक अलग से ऐसी कल्पनिक की जांच प्रभावित चीजें आती हैं जिसमें कि कुछ न कुछ भी विचारधारा को भी इंसान सोचता है तो यह व्यक्तिगत के ऊपर है कि अगर उन्होंने कोई ऐसी चीज जगत दिलो-दिमाग को रिझाने बना रखा है कि तंत्र मंत्र भूत प्रेत है तो वह इसमें कुछ ना कुछ इसके साथ इफेक्ट साइट कुछ प्रभाव और दुष्प्रभाव का जुलूस उनके अंदर कुछ विवेचना रहते हैं उसके आधार पर वह सत्ता से कुछ पीड़ित होते हैं और वह दिमाग की संग्रह में कुछ अलग भर्ती शार्को उपार्जित ऊपर कल उपार्जित करते हैं तो मैं इस अंदर में ज्यादा विवेचना नहीं करना चाहता क्योंकि आज के युग में कुछ शिवांगी चीजें मानसिक विकृति का कारण बनी हुई क्योंकि इसके सही रूप से आधारित ज्ञान की कुछ वह नहीं बनी है शेर की एक सैद्धांतिक तौर पर सार्वजनिक रूप में इसका विषय बनता लेकिन यह गई विशेषता और दूसरे माता उदाहरणों के हिसाब से रुचि कर जो लोग होते हैं वह इसके प्रति थोड़ा सा परिचय चित्र विषय जरूर जान एक जानकारी रखना चाहते हैं तो तांत्रिक विद्या है यह तो हकीकत है और यह विद्यालय कोई भी विधायक जो कला बनी हुई है वह सिर्फ इंसान की जागृति के लिए बनी हुई है और उसके किसी न किसी कल्याण के अर्थ में ही पृथ्वी की गई है लेकिन इसमें भी कृतिका ज्यादा ही प्रयोजन हो जाता है अधिकांश के अंदर शहद प्रवृत्तियों को उत्तेजित करती है तो उसमें यही है कि असंयमित लोग इसमें एक बच्ची पूर्व कूद जाते हैं और उसका कोई हिसाब नहीं कर पाते हैं और वह ज्यादातर बनती और भ्रष्ट गांव में चले जाते हैं तो चल प्रचार के अंदर यह बातें भी महत्वपूर्ण नहीं की जाती कि इनके प्रति कुछ अंश विवेचना हुआ या इसके अंदर निष्ठावान हैं लेकिन यह एक व्यक्तिगत तौर का अनुभूति भावनात्मक विचार और संवेदनाएं हो सकती है मगर अगर आप एक निवारण की बात कह रहे हैं तो निवारण की परिधि में यही है कि एक दूसरे के कार्ड का कोई स्वरूप निर्धारित होता है जैसे कि एक दृढ़ता से यह होता है कि इसमें यह इफेक्ट हो जाएगा और से हुआ पड़ा है और हम में से प्रतिभा चित करते किसी के प्रभाव से ही हमारे पर ही हो रहा है तो उस प्रभाव को उससे भी जो सुप्रीम दिमाग की विद्युत उत्पन्न होती है कि उससे भी बलशाली और उससे भी ज्यादा उसको अवरुद्ध करने वाली कौन सी भर्ती है उसे तो इसी समूह के विवेचना में उसको हम ऐड करते हैं तो इच्छा होती है कि तुझे विरदी बच्चों का खेल है सिर्फ तो अगर आपकी बेटी से आप का अंत करण कुछ कमजोर पड़ रहा है तो उसमें पर स्पष्ट होने वाली भर्तियों का उद्भव होना चाहिए तो यह चीजें अपनी मानसिक परिकल्पना पर ही पर विद्यालय अगर आप सोचते हैं कि उससे ज्यादा पॉसिबल क्या हो सकता है तो उसी जो चीज का है उसके अंदर जो नेताओं से शुरू देवताओं के भाव इत्यादि जो से सुरक्षित विधि के उपाय है तो उसी का अनुसरण योग्य बनाया जाता है तो वहीं एक आधारित बनता है यह तो सबसे प्रबलता अपनी ही आत्म शक्ति के पर भी डिपेंड होता है अगर आपका विश्वास आपके दिल था और आपने के पक्ष मजबूत है तो इसकी कोई मान्यता नहीं बन पाती है और आप उसको दूसरे साथी को बहाना उसने मतलब साथी ग्रुप से सत्संग से ज्ञान के प्रभाव से भी इस अंधकार को निवृत्त कर सकते हैं तो यह निवारण की सबसे योग्य विधि यही है और जो फार्मूले हैं उसमें एक विश्वास और आस्था का प्रक्रिया नहीं रहती है अगर आप भी विश्वास के साथ या कोई ऐसी मतलब अंदर करण विवेक आयोजन हो जाता है कि यह निवृत्ति का कारण बना और ऐसा उपचार हम अंत करण में ले आते हैं तो जरुर सफलता का मैच वसीयत उत्पन्न होता है यह बात नहीं होती है कि किसी भी क्रिया और ध्यान और कोई भी प्रतिक्रिया में किसी का प्रभाव ना बनता हो तो यह सारी चीजें है कि यह अपने एक सिम के सिद्धांत पर आधारित होता है आप अपने आप में सही सात्विकता के आधार पर स्थित होकर के अपने को पर पृष्ठ भावनाओं में उन गुणों में प्रकरण में और साहस के अंदर उन विवेचना को जगह क्योंकि मूल रूप से सूची नियुक्ति है अगर वह चिकन होती आपके अंदर उदाहरणों से जगा रहे तो फिर वह आपको प्रभावित कर देगी तो इससे बेहतर है कि आप ऐसे रचनात्मक विचारों में जाए जो आपको वरिष्ट बना दिया और यह एक चम्मच का खेल हो जाता है और इसमें समय एक फोर्स होता सिर्फ यहां हटा तो हट गया नेहा की आवाज में तो बस में बैठे आधी बातें होती इसमें बहुत दृढ़ता का निर्देश होता है और उस पर अपने अमृता को स्थापित कर दिया जाता है तो निश्चय ही वह कृति की 18 अनुभूति प्रगट हो जाती है तो यही मैं बेचारी ग्रुप से आप को समझाने की कोशिश कर रहा हूं इस बाहों में धन्यवाद

yah tantra vidya hai bhoot pret hai kya agar hai toh iska nivaran kaise kare yah prashna aaya hua hai toh isme manav mansikta ke andar bahut si prithvi kis desh se liya hai jiske prati vivechna banti hai na vo ek alag se aisi kalpanik ki jaanch prabhavit cheezen aati hai jisme ki kuch na kuch bhi vichardhara ko bhi insaan sochta hai toh yah vyaktigat ke upar hai ki agar unhone koi aisi cheez jagat dilo dimag ko rijhaane bana rakha hai ki tantra mantra bhoot pret hai toh vaah isme kuch na kuch iske saath effect site kuch prabhav aur dushprabhav ka jhullus unke andar kuch vivechna rehte hai uske aadhar par vaah satta se kuch peedit hote hai aur vaah dimag ki sangrah mein kuch alag bharti sharko upaarjit upar kal upaarjit karte hai toh main is andar mein zyada vivechna nahi karna chahta kyonki aaj ke yug mein kuch shivangi cheezen mansik vikriti ka karan bani hui kyonki iske sahi roop se aadharit gyaan ki kuch vaah nahi bani hai sher ki ek saiddhaantik taur par sarvajanik roop mein iska vishay baata lekin yah gayi visheshata aur dusre mata udaharanon ke hisab se ruchi kar jo log hote hai vaah iske prati thoda sa parichay chitra vishay zaroor jaan ek jaankari rakhna chahte hai toh tantrika vidya hai yah toh haqiqat hai aur yah vidyalaya koi bhi vidhayak jo kala bani hui hai vaah sirf insaan ki jagriti ke liye bani hui hai aur uske kisi na kisi kalyan ke arth mein hi prithvi ki gayi hai lekin isme bhi kritika zyada hi prayojan ho jata hai adhikaansh ke andar shehed parvirtiyon ko uttejit karti hai toh usme yahi hai ki asanyamit log isme ek bachi purv kud jaate hai aur uska koi hisab nahi kar paate hai aur vaah jyadatar banti aur bhrasht gaon mein chale jaate hai toh chal prachar ke andar yah batein bhi mahatvapurna nahi ki jaati ki inke prati kuch ansh vivechna hua ya iske andar nisthawan hai lekin yah ek vyaktigat taur ka anubhuti bhavnatmak vichar aur sanvednaen ho sakti hai magar agar aap ek nivaran ki baat keh rahe hai toh nivaran ki paridhi mein yahi hai ki ek dusre ke card ka koi swaroop nirdharit hota hai jaise ki ek dridhta se yah hota hai ki isme yah effect ho jaega aur se hua pada hai aur hum mein se pratibha chit karte kisi ke prabhav se hi hamare par hi ho raha hai toh us prabhav ko usse bhi jo supreme dimag ki vidhyut utpann hoti hai ki usse bhi balshali aur usse bhi zyada usko avaruddh karne wali kaun si bharti hai use toh isi samuh ke vivechna mein usko hum aid karte hai toh iccha hoti hai ki tujhe virdi baccho ka khel hai sirf toh agar aapki beti se aap ka ant karan kuch kamjor pad raha hai toh usme par spasht hone wali bhartiyo ka udbhav hona chahiye toh yah cheezen apni mansik parikalpana par hi par vidyalaya agar aap sochte hai ki usse zyada possible kya ho sakta hai toh usi jo cheez ka hai uske andar jo netaon se shuru devatao ke bhav ityadi jo se surakshit vidhi ke upay hai toh usi ka anusaran yogya banaya jata hai toh wahi ek aadharit baata hai yah toh sabse prabalta apni hi aatm shakti ke par bhi depend hota hai agar aapka vishwas aapke dil tha aur aapne ke paksh majboot hai toh iski koi manyata nahi ban pati hai aur aap usko dusre sathi ko bahana usne matlab sathi group se satsang se gyaan ke prabhav se bhi is andhakar ko sevanervit kar sakte hai toh yah nivaran ki sabse yogya vidhi yahi hai aur jo formulae hai usme ek vishwas aur astha ka prakriya nahi rehti hai agar aap bhi vishwas ke saath ya koi aisi matlab andar karan vivek aayojan ho jata hai ki yah nivritti ka karan bana aur aisa upchaar hum ant karan mein le aate hai toh zaroor safalta ka match wasiyat utpann hota hai yah baat nahi hoti hai ki kisi bhi kriya aur dhyan aur koi bhi pratikriya mein kisi ka prabhav na baata ho toh yah saree cheezen hai ki yah apne ek sim ke siddhant par aadharit hota hai aap apne aap mein sahi satwikata ke aadhar par sthit hokar ke apne ko par prishth bhavnao mein un gunon mein prakaran mein aur saahas ke andar un vivechna ko jagah kyonki mul roop se suchi niyukti hai agar vaah chicken hoti aapke andar udaharanon se jagah rahe toh phir vaah aapko prabhavit kar degi toh isse behtar hai ki aap aise rachnatmak vicharon mein jaaye jo aapko varisht bana diya aur yah ek chammach ka khel ho jata hai aur isme samay ek force hota sirf yahan hata toh hut gaya neha ki awaaz mein toh bus mein baithe aadhi batein hoti isme bahut dridhta ka nirdesh hota hai aur us par apne amrita ko sthapit kar diya jata hai toh nishchay hi vaah kriti ki 18 anubhuti pragat ho jaati hai toh yahi main bechari group se aap ko samjhane ki koshish kar raha hoon is baahon mein dhanyavad

यह तंत्र विद्या है भूत प्रेत है क्या अगर है तो इसका निवारण कैसे करें यह प्रश्न आया हुआ है

Romanized Version
Likes  79  Dislikes    views  1599
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!