क्या भारत में लड़कियाँ सुरक्षित हैं?...


play
user

LAL SINGH

Social Activist

2:42

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पहले तो सुरक्षित तो ना दोगे क्या हुआ कि अपने घर से ही प्रत्येक माता पिता को अपने बच्चों को यही समझाया है अपनी बहन बेटियों की इज्जत मान सम्मान दो बहन बेटियों का जो लेकर के बेटे को घर से बाहर ना निकल जाए तो शादी के दिन नहीं है मानसिकता खराब है जो भी व्यक्ति अपने पर लागू करें इस बात की तो ठीक है बहन बेटी मां बाप को शिक्षा देने बच्चों को बेटे को बहन बेटियों का मान सम्मान करो कि तुम्हारे घर में किसी की बहन बेटी होगी उसके पूरे हिंदुस्तान में है लेकिन फिर भी मेरे को चलाने के लिए भी जाना पड़ता है कुछ समस्याएं हैं गरीबी है बहुत ज्यादा परेशान है मैं मानता हूं कि हिंदुस्तान में सुरक्षित नहीं है हमारे देश के अंदर सभी अपने बच्चों को सुविधाएं अच्छी शिक्षा प्रदान करें अच्छी बात बताएं हिंदुस्तान में सुरक्षित नहीं है उनकी मानसिकता नहीं बदली जाएगी तब तक कुछ भी नहीं हो सकता मानसिक मानसिक बीमारी

pehle toh surakshit toh na doge kya hua ki apne ghar se hi pratyek mata pita ko apne bacchon ko yahi samjhaya hai apni behen betiyon ki izzat maan sammaan do behen betiyon ka jo lekar ke bete ko ghar se bahar na nikal jaaye toh shadi ke din nahi hai mansikta kharaab hai jo bhi vyakti apne par laagu karen is baat ki toh theek hai behen beti maa baap ko shiksha dene bacchon ko bete ko behen betiyon ka maan sammaan karo ki tumhare ghar mein kisi ki behen beti hogi uske poore Hindustan mein hai lekin phir bhi mere ko chalane ke liye bhi jana padta hai kuch samasyaen hain gareebi hai bahut zyada pareshan hai main manata hoon ki Hindustan mein surakshit nahi hai hamare desh ke andar sabhi apne bacchon ko suvidhaen achi shiksha pradan karen achi baat batayen Hindustan mein surakshit nahi hai unki mansikta nahi badli jayegi tab tak kuch bhi nahi ho sakta mansik mansik bimari

पहले तो सुरक्षित तो ना दोगे क्या हुआ कि अपने घर से ही प्रत्येक माता पिता को अपने बच्चों को

Romanized Version
Likes  146  Dislikes    views  3573
WhatsApp_icon
8 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Sunil Kumar

Journalist & Media Consultant

1:04
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इंडिया इज द बेस्ट प्लेस इन लड़कियों के लिए जो भारत है भारत देश हमारा भारत देश बहुत पहले की अपेक्षा से आज के लिए इतना ज्यादा सुरक्षित पहले आप सुनते होंगे की रेप की और बाकी और घटनाएं लड़की भी कम हो गई है कि लोग भी पढ़े लिखे हो गए हैं लड़कियां समझदार हो गई है बाकी औरतें भी हो जो महिलाएं खुद समझदार हो गए हमको पता है कैसा एक किस जात से अपने आप को रखना है कैसे कपड़े पहनने के बाद में कैंप लगाकर दी कपूर कारण ज्यादा तेज घटाएं होते लड़कियों के साथ लेकिन मुझे लगता है कि आप कितनी सुरक्षा से अपने आप को लेकर चलती है इसी के दौर में आपने देखा होगा गुलाबी उबेर इन सब सेफ्टी के निधन के कारण और बाकी प्राइवेट कंपनियों ने गाड़ी भी लगा दी आग लगा दी है कि लड़कियां सुरक्षित रहें लड़कियां बहुत हद तक सुरक्षित है भारत में

india is the best place in ladkiyon ke liye jo bharat hai bharat desh hamara bharat desh bahut pehle ki apeksha se aaj ke liye itna zyada surakshit pehle aap sunte honge ki rape ki aur baki aur ghatnayen ladki bhi kam ho gayi hai ki log bhi padhe likhe ho gaye hain ladkiyan samajhdar ho gayi hai baki auraten bhi ho jo mahilaen khud samajhdar ho gaye hamko pata hai kaisa ek kis jaat se apne aap ko rakhna hai kaise kapde pahanne ke baad mein camp lagakar di kapur karan zyada tez ghataye hote ladkiyon ke saath lekin mujhe lagta hai ki aap kitni suraksha se apne aap ko lekar chalti hai isi ke daur mein aapne dekha hoga gulabi uber in sab safety ke nidhan ke karan aur baki private companion ne gaadi bhi laga di aag laga di hai ki ladkiyan surakshit rahein ladkiyan bahut had tak surakshit hai bharat mein

इंडिया इज द बेस्ट प्लेस इन लड़कियों के लिए जो भारत है भारत देश हमारा भारत देश बहुत पहले की

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  211
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए सुरक्षित अगर आप ही तो मैं समझता हूं कि सुरक्षा एजेंसी के सुरक्षा को प्राथमिकता सामाजिक सुरक्षा की बात करें तो कोई हादसा होता है तो हम पर पुलिस है वह इस लायक नहीं है नाकारा पुलिस है और मजबूत करने की जरूरत है और अभिनय करने की जरूरत है कि ऐसी स्थिति है कि जहां पर हम किसी एजेंसी को जो है ना और सोशल ऑर्गेनाइजेशन जो हमारे देश में काम कर रही हैं उनके साथ किसे यह जो सुरक्षा की बात जो हो रही है कहीं ना कहीं उस पर हो सकता है कि मीडिया में हमको और जो कुछ भी अभी परोसा जा रहा है हमारी जो सरकी जो हमारी देश की जो है क्या कहते हैं आपके हम अलग-अलग समाज में कहीं से कोई ऐसी घटना होती है तो दूसरे समाज का जो है यह तो अपना वर्क का मामला है गांव में शहरों में मजबूत करने की जरूरत सुरक्षा के मामले में की जो आपने बात नहीं की महिलाओं को सुरक्षा की बात आपने सही तरीके से काम नहीं कर रही है और उनके लिए जवाब देगी भी तैयार नहीं अभी तक

dekhiye surakshit agar aap hi toh main samajhata hoon ki suraksha agency ke suraksha ko prathamikta samajik suraksha ki baat karen toh koi hadasaa hota hai toh hum par police hai vaah is layak nahi hai naakaaraa police hai aur mazboot karne ki zaroorat hai aur abhinay karne ki zaroorat hai ki aisi sthiti hai ki jahan par hum kisi agency ko jo hai na aur social organization jo hamare desh mein kaam kar rahi hain unke saath kise yah jo suraksha ki baat jo ho rahi hai kahin na kahin us par ho sakta hai ki media mein hamko aur jo kuch bhi abhi parosa ja raha hai hamari jo sarki jo hamari desh ki jo hai kya kehte hain aapke hum alag alag samaaj mein kahin se koi aisi ghatna hoti hai toh dusre samaaj ka jo hai yah toh apna work ka maamla hai gaon mein shaharon mein mazboot karne ki zaroorat suraksha ke mamle mein ki jo aapne baat nahi ki mahilaon ko suraksha ki baat aapne sahi tarike se kaam nahi kar rahi hai aur unke liye jawab degi bhi taiyar nahi abhi tak

देखिए सुरक्षित अगर आप ही तो मैं समझता हूं कि सुरक्षा एजेंसी के सुरक्षा को प्राथमिकता सामाज

Romanized Version
Likes  336  Dislikes    views  6772
WhatsApp_icon
user

Ghanshyam Mehar

Indian Politician

0:23
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत में लड़कियां सुरक्षित है कि नहीं लिया है हम तो सिर्फ सरकार की और सरकार को रक्षा करनी चाहिए उसका कड़े कानून बनाने चाहिए

bharat mein ladkiyan surakshit hai ki nahi liya hai hum toh sirf sarkar ki aur sarkar ko raksha karni chahiye uska kade kanoon banane chahiye

भारत में लड़कियां सुरक्षित है कि नहीं लिया है हम तो सिर्फ सरकार की और सरकार को रक्षा करनी

Romanized Version
Likes  61  Dislikes    views  718
WhatsApp_icon
user

Aamir Saleem Khan

Chief Reporter/News editor

0:57
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

छोटे छोटे रहते हमारे सामने आते रहते हैं और सीआईडी अधिकारी जो है वह जो जो जो लोग परेशान हैं वह दरवाजे तक अपना एजुकेशन अगर होता है तो उसको जो है जानू नी याद बहुत कम आती इस तरह के होते रहते हैं जहां तक आज भी हमारी बहनें हमारी

chhote chhote rehte hamare saamne aate rehte hain aur CID adhikari jo hai wah jo jo jo log pareshan hain wah darwaze tak apna education agar hota hai toh usko jo hai janu ni yaad bahut kam aati is tarah ke hote rehte hain jahan tak aaj bhi hamari bahanen hamari

छोटे छोटे रहते हमारे सामने आते रहते हैं और सीआईडी अधिकारी जो है वह जो जो जो लोग परेशान हैं

Romanized Version
Likes  25  Dislikes    views  476
WhatsApp_icon
user

Nitin Dhoot

Journalist

0:27
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लड़कियां सुरक्षित नहीं है लड़कियों के लिए गोरमेंट स्कूल में पूर्व या अभी जो टीवी या बना लड़कियों ने कपड़े बापू की लड़कियां

ladkiyan surakshit nahi hai ladkiyon ke liye garment school mein purv ya abhi jo TV ya bana ladkiyon ne kapde bapu ki ladkiyan

लड़कियां सुरक्षित नहीं है लड़कियों के लिए गोरमेंट स्कूल में पूर्व या अभी जो टीवी या बना लड

Romanized Version
Likes  17  Dislikes    views  493
WhatsApp_icon
user

Vimal

Engineer

1:08
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आजकल के जमाने में अगर सोचा जाए तो सही तरीके से अपने आप को एक कला के बारे में इलेक्शन के बारे में कुछ नहीं जानते हैं बहुत सारे लोग ऐसा है कि पहले हम लोग चाहते हैं कि वह अपने आप खुद को संभाल सकते हैं पहले ऐसा होता था कि कोई किसी और पर निर्भर रहता था और अभी ऐसा है कि नहीं उन सारी चीजों को अगर कुछ भी हुआ तो उसको पैदा करने के लिए ट्राई करते हैं तो बहुत सारी चीज बदले हैं और अभी भी प्रॉब्लम है कुछ बदल चुका लड़कियों का अभी शिक्षा आजकल की है वही सिखाता है कि लाइफ अपने को निर्दोष करो आप खुद टेंशन से हो

aajkal ke jamaane mein agar socha jaaye toh sahi tarike se apne aap ko ek kala ke bare mein election ke bare mein kuch nahi jante hain bahut saare log aisa hai ki pehle hum log chahte hain ki vaah apne aap khud ko sambhaal sakte hain pehle aisa hota tha ki koi kisi aur par nirbhar rehta tha aur abhi aisa hai ki nahi un saree chijon ko agar kuch bhi hua toh usko paida karne ke liye try karte hain toh bahut saree cheez badle hain aur abhi bhi problem hai kuch badal chuka ladkiyon ka abhi shiksha aajkal ki hai wahi sikhata hai ki life apne ko nirdosh karo aap khud tension se ho

आजकल के जमाने में अगर सोचा जाए तो सही तरीके से अपने आप को एक कला के बारे में इलेक्शन के बा

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
user

Pragati

Aspiring Lawyer

1:45
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमारे देश में हाल ही में हमने इतने सारे और कैसे सुने हैं इतने सारे केसेस के बारे में पढ़ा है जिनको देखकर देखकर रूह भी कांप जाती है कि कितनी सारी लड़कियों के साथ बच्चों के साथ बलात्कार जैसी घटना हुई है और कहीं जगह पर ऐसा हमने देखा है कि रेप हुए हैं छोटी-छोटी बच्चियों के साथ भी तो इस चीज को देखकर हम कह सकते हैं कि हमारे भारत में लड़कियां अभी पूरी तरह से सुरक्षित नहीं है और उनकी सुरक्षा बढ़ाने के लिए देश के लोगों को ही अपनी तरफ से कुछ ना कुछ सहयोग करना होगा जब तक लोगों को घर से इस चीज की नसीहत नहीं मिलेगी कि हां आप को हर लड़की को सम्मान देना चाहिए और किसी भी के साथ इस तरह की घटना नहीं करनी चाहिए तब तक तो देश में कुछ बदलाव नहीं आएगा उसके अलावा भी हमारे देश के जो कानून है और वह भी काफी अच्छा है जो कानून बनाए गए लोगों को सजा देने के लिए वह भी काफी सही है परंतु हमारे देश को रिजर्वेशन सिस्टम है वह जल्दी से जल्दी न्याय नहीं दे पाता है और किस बहुत ज्यादा पेंडिंग हो जाते हैं जिसके चलते और जो दोषी होते हैं उनको सजा नहीं होती है और जो व्यक्ति होते हैं वह सजा दूसरे इंसान को सजा दिलाने के लिए मोहताज रह जाते हैं और वह कुछ नहीं कर पाते तो जब तक जुडिशल सिस्टम अच्छा नहीं होगा शिक्षक नहीं बनेगा तब तक हमारे देश में पूरी तरह से लड़कियां सुरक्षित महसूस नहीं करेंगी और लोगों को जब तक पनिशमेंट नहीं मिलेगी सजा नहीं मिलेगी तो दूसरे लोग इस चीज को नहीं समझेंगे कि हां यह काम नहीं करना चाहिए इससे हमें काफी नुकसान होता है सजा हो जाती है इंसान को और एक मैसेज नहीं जाएगा हमारी सोसाइटी में ताकि लोग डरे कि इस तरह के काम नहीं करने चाहिए तुम मुझे ही लगता है जब तक जुडिशरी शक नहीं बनेगी और जल्दी से जल्दी न्याय नहीं मिलेगा लड़कियों को जिनके साथ ऐसी घटनाएं होती हैं तब तक लड़कियां पूरी तरह से सुरक्षित हमारे देश में कभी महसूस नहीं कर पाएंगे

hamare desh mein haal hi mein humne itne saare aur kaise sune hain itne saare cases ke bare mein padha hai jinako dekhkar dekhkar ruh bhi kamp jaati hai ki kitni saree ladkiyon ke saath bacchon ke saath balatkar jaisi ghatna hui hai aur kahin jagah par aisa humne dekha hai ki rape hue hain choti choti bachiyo ke saath bhi toh is cheez ko dekhkar hum keh sakte hain ki hamare bharat mein ladkiyan abhi puri tarah se surakshit nahi hai aur unki suraksha badhane ke liye desh ke logon ko hi apni taraf se kuch na kuch sahyog karna hoga jab tak logon ko ghar se is cheez ki nasihat nahi milegi ki haan aap ko har ladki ko sammaan dena chahiye aur kisi bhi ke saath is tarah ki ghatna nahi karni chahiye tab tak toh desh mein kuch badlav nahi aayega uske alava bhi hamare desh ke jo kanoon hai aur vaah bhi kafi accha hai jo kanoon banaye gaye logon ko saza dene ke liye vaah bhi kafi sahi hai parantu hamare desh ko reservation system hai vaah jaldi se jaldi nyay nahi de pata hai aur kis bahut zyada pending ho jaate hain jiske chalte aur jo doshi hote hain unko saza nahi hoti hai aur jo vyakti hote hain vaah saza dusre insaan ko saza dilaane ke liye mohtaaz reh jaate hain aur vaah kuch nahi kar paate toh jab tak judicial system accha nahi hoga shikshak nahi banega tab tak hamare desh mein puri tarah se ladkiyan surakshit mahsus nahi karengi aur logon ko jab tak punishment nahi milegi saza nahi milegi toh dusre log is cheez ko nahi samjhenge ki haan yah kaam nahi karna chahiye isse hamein kafi nuksan hota hai saza ho jaati hai insaan ko aur ek massage nahi jaega hamari society mein taki log dare ki is tarah ke kaam nahi karne chahiye tum mujhe hi lagta hai jab tak judiciary shak nahi banegi aur jaldi se jaldi nyay nahi milega ladkiyon ko jinke saath aisi ghatnayen hoti hain tab tak ladkiyan puri tarah se surakshit hamare desh mein kabhi mahsus nahi kar payenge

हमारे देश में हाल ही में हमने इतने सारे और कैसे सुने हैं इतने सारे केसेस के बारे में पढ़ा

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  141
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
bharat ki ladkiyan ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!