प्राणायाम करने की सही विधि क्या है और प्राणायाम करने के लाभ क्या है?...


user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हरिओम लायन करने की सही विधि क्या है और प्राणायाम करने के लाभ क्या है प्राणायाम करने की सही विधि अगर आप चाहें तो मेरी बात माने ब्रह्म मुहूर्त में उठने का प्रयास करें ब्रह्म मुहूर्त कब चालू होता है सुबह 4:00 से चालू होता है 5:06 बजे के अंदर आप करले अक्सर सिटी वाले देर में उठते हैं सुबह उठकर शौच वगैरह क्रिया कर लीजिए पूरी तरह से खाली हो जाए अगर सोच करते समय आपके पेट में दिक्कत आती है पेट साफ नहीं होता है आप कट संचालन प्रिया कर लीजिए इसे दोनों हाथों पर बड़ी और छोटी आप दोनों पर प्रभाव पड़ेगा और बल पूरी तरह से खिसक कर लीजिए आ जाएगी और पेट साफ करने की सही विधि व सुबह होती है जब आप प्रणाम करना बैठे तो एक गर्म कंबल मैथ दरी वगैरह कुछ बिछा लीजिए ताकि गुरुत्वाकर्षण बल का खिंचाव नव दिखाने के बाद आपको स्वयं करनी चाहिए मुलायम करते समय ध्यान दें कुछ अनपढ़ आयाम के विषय में बताने जा रहे हैं उसको ध्यान से सुने अस्त्र का प्रयोग लंबी गाड़ी सांस को लेना और छोड़ देना अगर आप चाहें तो वज्रासन की स्थिति में बैठकर दोनों हाथों को ऊपर करें लंबी गहरी सांस को अंदर भरे कनपटी के पास दोनों हाथों को सीधा करें फिर सांस को छोड़े तो पूरी तरह से आप दोनों नीचे आ जाएगी और यह का के पास सकते हुए कमर के पास अगल बगल बार बार प्रेस लगेगा जिससे बगल की चर्बी धीरे-धीरे कम हो जाती है इसको करने से स्पॉट लाइट की समस्या दूर हो जाती है और यह भ्रम की स्थिति हो गई है उसको नाइस यह तीन चक्र का होता है उससे लो सबसे लो ध्यान रहे कि लोगों को नहीं करनी है उन लोगों को नहीं करनी है जो हर बिजी की समस्याएं हैं जिनको प्रेम करने की सही विधि तो हमने बताया इसके साथ-साथ और भी भी दिया हम बताने जा रहे हैं जो आपको काफी लाभ होंगे कौन-कौन से प्राणायाम किस समय करना चाहिए कौन-कौन कैसे किस तरह से करना चाहिए इसके लाभ भी बताते हैं इसके तमाम अनंत लाभ है कपालभाति प्राणायाम जब करते हैं तो पूरी तरह से हमारे सूर्य केंद्र जागृत हो जाते हैं पूरी बॉडी में रक्त का संचार अच्छी गति से होने लगता है बॉडी में श्वेता मंडी लगते हैं वाइट ब्लड सेल किसे बोला जाता है डब्ल्यूबीसी इसको करने से हमारे 1031 सिस्टम रीस्टार्ट रिसर्कुलेटरी बबुनी सिस्टम पाचन सुशांत परिसंचरण सर्जन तंत्रिका प्रेषित कंकाल किस तारीख को मिलता है हमारी बॉडी में चर्म रोग समस्याओं समस्याएं दूर हो जाती है भेजन भोजन पूरी तरह से एक्टिव होता है अच्छी तरह से पता है इसको करने से तमाम लाभ होते हैं बसीर का कपालभाति अनुलोम विलोम अनुलोम विलोम हमने देखा है कि लोग तीव्र गति के साथ करते हैं यह गलत बात है बहुत ही सावधानी पूर्वक अनुलोम-विलोम करनी चाहिए लोग जल्दी-जल्दी करते हैं यह गलत तरीका है बिल्कुल गलत है प्राणायाम क्या है प्राण को गद्दी अनुलोम विलोम जब भी करें दाहिने हाथ से दाहिना नाच का बंद करें और चेहरे पर बिना तनाव दी हरि मस्ती में धीरे-धीरे भाई नाश्ता से लंबी गहरी सांस को भर्ती जाए भरते भरते जा और भरते जाए और भरे कुमारी कुमारी जितना हो सके फेफड़ों में अंदर सांस भर लेने के बाद बाएं नाक का बंद कर लीजिए फिर दाहिने से धीरे-धीरे के अंतराल पर किया जाता है इसे प्रतिदिन जरूर करें अगर 1 पदों के अंतराल पर कर देते हैं तो और बढ़िया है यह नाड़ी शोधन की क्रिया के अंतर्गत आ जाता है अनुलोम-विलोम लंबी गहरी श्वास को दाहिने हाथ बंद अंगूठे को अंगूठे के द्वारा गाए जाना इसका बंद करके बाय सेलेना लंबी गली सॉन्ग बाय बाय मैसेज छोड़ देना फिर दाहिने से लेना बाय से उसे छोड़ देना बाय सेलेना दाहिने से छोड़ देना फिर दाएं से बाएं छोर देना और जल्द ही आप श्वास को अंदर भरेया छोड़े तो इसमें अतिक्रमण जल्दबाजी न करें क्योंकि प्रणब करने जा रहे हैं आवाज बिल्कुल सुनाई न दे अगर आप के बगल बैठा व्यक्ति है उसे भी यह स्वास की आवाज सुनाई नहीं देनी चाहिए इतना धीमा कर देना कपालभाति अनुलोम-विलोम भ्रामरी प्राणायाम कम से कम 7 बार जरूर करें और चक्रों के माध्यम से करें और नहीं बेहतरीन मूलाधार स्वाधिष्ठान चक्र स्वाधिष्ठान से मणिपुर चक्र की मणिपुर चक्र से अनाहत चक्र की ओर अनाहत चक्र से आपको विशुद्ध चक्र की और विशुद्धि चक्र से त्रिनेत्र के पास जो है आज्ञा चक्र की ओर आज्ञा चक्र से सहस्रार चक्र की ओर अग्रसर हो यह भ्रमरी प्राणायाम है भंवरे की तरह कुंजन करना इस तरह से हमने प्राणायाम की विषय में जानकारी आप लोगों को दी इसके लाभ भी दिए सही विधि विधि उपयोग के क्षेत्र में आगे बढ़ सकते हैं हमें बड़ी खुशी होती है कि आप इस तरह से प्रश्न पूछती है और थोड़ा सा टाइम हमारे पास कम होता है हम क्षमा चाहते हैं कुछ दिनों तक हम आप लोगों के पास नहीं आए लेकिन अब हम चाहते हैं कि आप लोगों को इस्लाम डाउन में पूरा समय जरूर दें सुबह-सुबह

hariom lion karne ki sahi vidhi kya hai aur pranayaam karne ke labh kya hai pranayaam karne ki sahi vidhi agar aap chahain toh meri baat maane Brahma muhurt me uthane ka prayas kare Brahma muhurt kab chaalu hota hai subah 4 00 se chaalu hota hai 5 06 baje ke andar aap karle aksar city waale der me uthte hain subah uthakar sauch vagera kriya kar lijiye puri tarah se khaali ho jaaye agar soch karte samay aapke pet me dikkat aati hai pet saaf nahi hota hai aap cut sanchalan priya kar lijiye ise dono hathon par badi aur choti aap dono par prabhav padega aur bal puri tarah se khisak kar lijiye aa jayegi aur pet saaf karne ki sahi vidhi va subah hoti hai jab aap pranam karna baithe toh ek garam kambal math dari vagera kuch bicha lijiye taki gurutvaakarshan bal ka khinchav nav dikhane ke baad aapko swayam karni chahiye mulayam karte samay dhyan de kuch anpad aayam ke vishay me batane ja rahe hain usko dhyan se sune astra ka prayog lambi gaadi saans ko lena aur chhod dena agar aap chahain toh vajrasan ki sthiti me baithkar dono hathon ko upar kare lambi gehri saans ko andar bhare kanpati ke paas dono hathon ko seedha kare phir saans ko chode toh puri tarah se aap dono niche aa jayegi aur yah ka ke paas sakte hue kamar ke paas agal bagal baar baar press lagega jisse bagal ki charbi dhire dhire kam ho jaati hai isko karne se spot light ki samasya dur ho jaati hai aur yah bharam ki sthiti ho gayi hai usko nice yah teen chakra ka hota hai usse lo sabse lo dhyan rahe ki logo ko nahi karni hai un logo ko nahi karni hai jo har busy ki samasyaen hain jinako prem karne ki sahi vidhi toh humne bataya iske saath saath aur bhi bhi diya hum batane ja rahe hain jo aapko kaafi labh honge kaun kaun se pranayaam kis samay karna chahiye kaun kaun kaise kis tarah se karna chahiye iske labh bhi batatey hain iske tamaam anant labh hai kapalbhati pranayaam jab karte hain toh puri tarah se hamare surya kendra jagrit ho jaate hain puri body me rakt ka sanchar achi gati se hone lagta hai body me shweta mandi lagte hain white blood cell kise bola jata hai wbc isko karne se hamare 1031 system restart risarkuletri babuni system pachan sushant parisancharan Surgeon tantrika preshit kankal kis tarikh ko milta hai hamari body me charm rog samasyaon samasyaen dur ho jaati hai bhejan bhojan puri tarah se active hota hai achi tarah se pata hai isko karne se tamaam labh hote hain busier ka kapalbhati anulom vilom anulom vilom humne dekha hai ki log tivra gati ke saath karte hain yah galat baat hai bahut hi savdhani purvak anulom vilom karni chahiye log jaldi jaldi karte hain yah galat tarika hai bilkul galat hai pranayaam kya hai praan ko gaddi anulom vilom jab bhi kare dahine hath se dahina nach ka band kare aur chehre par bina tanaav di hari masti me dhire dhire bhai nashta se lambi gehri saans ko bharti jaaye bharte bharte ja aur bharte jaaye aur bhare kumari kumari jitna ho sake phephadon me andar saans bhar lene ke baad baen nak ka band kar lijiye phir dahine se dhire dhire ke antaral par kiya jata hai ise pratidin zaroor kare agar 1 padon ke antaral par kar dete hain toh aur badhiya hai yah naadi sodhan ki kriya ke antargat aa jata hai anulom vilom lambi gehri swas ko dahine hath band anguthe ko anguthe ke dwara gaayen jana iska band karke bye selena lambi gali song bye bye massage chhod dena phir dahine se lena bye se use chhod dena bye selena dahine se chhod dena phir dayen se baen chhor dena aur jald hi aap swas ko andar bhareya chode toh isme atikraman jaldabaji na kare kyonki pranab karne ja rahe hain awaaz bilkul sunayi na de agar aap ke bagal baitha vyakti hai use bhi yah swas ki awaaz sunayi nahi deni chahiye itna dheema kar dena kapalbhati anulom vilom bhramari pranayaam kam se kam 7 baar zaroor kare aur chakron ke madhyam se kare aur nahi behtareen muladhar swadhishthan chakra swadhishthan se manipur chakra ki manipur chakra se ANAHATA chakra ki aur ANAHATA chakra se aapko vishudh chakra ki aur vishuddhi chakra se trinetra ke paas jo hai aagya chakra ki aur aagya chakra se sahasrar chakra ki aur agrasar ho yah bhramari pranayaam hai bhanware ki tarah kunjan karna is tarah se humne pranayaam ki vishay me jaankari aap logo ko di iske labh bhi diye sahi vidhi vidhi upyog ke kshetra me aage badh sakte hain hamein badi khushi hoti hai ki aap is tarah se prashna puchti hai aur thoda sa time hamare paas kam hota hai hum kshama chahte hain kuch dino tak hum aap logo ke paas nahi aaye lekin ab hum chahte hain ki aap logo ko islam down me pura samay zaroor de subah subah

हरिओम लायन करने की सही विधि क्या है और प्राणायाम करने के लाभ क्या है प्राणायाम करने की सही

Romanized Version
Likes  281  Dislikes    views  2990
KooApp_icon
WhatsApp_icon
30 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!