व्यक्ति खुद के लिए जीता है या जीने के लिए पीता है?...


user

Rakesh Tiwari

Life Coach, Management Trainer

1:54
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका व्यस्त है व्यक्ति खुद के लिए जीता है या जीने के लिए पीता है जीता है तो सत्य नाथ का स्पष्ट रूप से 90 लोग हैं वह खुद के लिए जीते हैं और खुद का मतलब यह है कि खुद के हित को ध्यान में रखते हुए अपना जीवन व्यतीत करते हैं और खुद की बात करते हैं अपनी पत्नी अपनी बच्चे इन के हित को ध्यान में रखते हुए इस व्यवहार जगत में उन लोगों से व्यवहार करते हैं या जीने के लिए जीता है और जो जीने के लिए जीते हैं उसका तात्पर्य है जिससे जिंदगी का नाम और पूरा जीवन राष्ट्र के लिए कुर्बान हो ऐसे जो लोग होते हैं उनका जीवन एक मिसाल बन जाता है जो कि खुद को खुद के हित को ध्यान में ना रखते हुए पर हित को ध्यान में रखकर अपना जीवन जीते हैं उनका पूरा जीवन पूरा हो जाता है परहित सरिस धर्म नहीं भाई दूसरे के जैसा कोई धर्म नहीं है कोई दायित्व कोई कर्त्तव्य नहीं है जो व्यक्ति दूसरे के लिए जीते हैं वह इतिहास हंस देते हैं अमर हो जाते हैं और जो व्यक्ति खुद के लिए जीता अपना जीवन राग द्वेष स्थित इंडिया ईर्ष्या अभाव अभाव चढ़े रूपा चढ़े त्रिस्तान अपने जीवन को व्यतीत करना थैंक यू

aapka vyast hai vyakti khud ke liye jita hai ya jeene ke liye pita hai jita hai toh satya nath ka spasht roop se 90 log hain vaah khud ke liye jeete hain aur khud ka matlab yah hai ki khud ke hit ko dhyan mein rakhte hue apna jeevan vyatit karte hain aur khud ki baat karte hain apni patni apni bacche in ke hit ko dhyan mein rakhte hue is vyavhar jagat mein un logo se vyavhar karte hain ya jeene ke liye jita hai aur jo jeene ke liye jeete hain uska tatparya hai jisse zindagi ka naam aur pura jeevan rashtra ke liye kurban ho aise jo log hote hain unka jeevan ek misal ban jata hai jo ki khud ko khud ke hit ko dhyan mein na rakhte hue par hit ko dhyan mein rakhakar apna jeevan jeete hain unka pura jeevan pura ho jata hai parhit saris dharm nahi bhai dusre ke jaisa koi dharm nahi hai koi dayitva koi kartavya nahi hai jo vyakti dusre ke liye jeete hain vaah itihas hans dete hain amar ho jaate hain aur jo vyakti khud ke liye jita apna jeevan raag dvesh sthit india irshya abhaav abhaav chade rupa chade tristan apne jeevan ko vyatit karna thank you

आपका व्यस्त है व्यक्ति खुद के लिए जीता है या जीने के लिए पीता है जीता है तो सत्य नाथ का स्

Romanized Version
Likes  80  Dislikes    views  680
KooApp_icon
WhatsApp_icon
9 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!