18 57 की क्रांति क्यों हुई थी?...


user

tej

Teacher

0:27
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

18 57 की क्रांति का क्या हुआ था सर मैं आपको आता तो 18 57 की क्रांति भेजो तत्कालीन कारण होते थे आज आतंकी जायफल के का सूरज को खोल कर खोल पर सूअर और गाय की चर्बी लगी थी ऐसी अफवाह थी कि आप हवा हिंदू और मुस्लिम दोनों धर्म के लोगों को भावनाओं को ठेस पहुंचा रही थी राइफल अट्ठासी 53 में के राइफल में दाखिल

18 57 ki kranti ka kya hua tha sir main aapko aata toh 18 57 ki kranti bhejo tatkalin karan hote the aaj aatanki jaayfal ke ka suraj ko khol kar khol par suar aur gaay ki charbi lagi thi aisi afavah thi ki aap hawa hindu aur muslim dono dharm ke logo ko bhavnao ko thes pohcha rahi thi rifle atthasi 53 me ke rifle me dakhil

18 57 की क्रांति का क्या हुआ था सर मैं आपको आता तो 18 57 की क्रांति भेजो तत्कालीन कारण होत

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  119
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Beer Singh Rajput

Career Counsellor & Lecturer.

2:14

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

धरा सो 57 की क्रांति किसी एक कारण से नहीं हुई है इसके लिए बहुत से मिले जुले कारणों का योगदान है अपनों को से डलहौजी की हड़प नीति जिसमें उसमें के बहुत सारे रजवाड़ों की रात उत्तराधिकारी ना होने के कारण अंग्रेजी राज्य मेथी से नागपुर सातारा झांसी अवधि राजवाड़ा गुस्से में थी उनके पैतृक अधिकार को छीन लिया गया था साथ में बहुत सारे किसान बस्ती कुटीर उद्योग वाले सब बेरोजगार हो गए थे सब मेरे लिए बहुत गुस्सा कर रहा था साथ में चर्बी वाले कारतूस में है बारूद में चिंगारी के काम किया तभी वाले कारतूस जिनको मुंह पर खुला पड़ता था उसमें ऐसा बताया गया के सूअर की चर्बी और गाय की चर्बी लगी होती है जिसको हिंदू मुसलमान दोनों ने अपने धर्म को विश करने की साजिश समझी तो सैनिकों ने भी विद्रोह में सा ले लिया और इसी कारतूस वाली घटना की वजह से ही मंगल पांडे भड़के से पहले वहां से विद्रोह भड़क गया लेकिन दुर्भाग्य था कि जल्दी भाग जा नहीं तो आज उसका परिणाम बुद्धा लेकिन उसको दबा दिया क्रांतिकारी ने बहुत अच्छी योजना नहीं बना पाई थी अरे हुए थे यह कैसा नेतृत्व को नहीं मिल पाया देश के कुछ शहरों में उनका साथ भी नहीं दिया और क्रांति अलग-अलग

dhara so 57 ki kranti kisi ek karan se nahi hui hai iske liye BA hut se mile joule karanon ka yogdan hai apnon ko se dalhousie ki hadap niti jisme usme ke BA hut saare rajvadon ki raat uttradhikari na hone ke karan angrezi rajya methi se nagpur satara jhansi awadhi rajwada gusse mein thi unke paitrik adhikaar ko cheen liya gaya tha saath mein BA hut saare kisan BA sti kutir udyog waale sab berozgaar ho gaye the sab mere liye BA hut gussa kar raha tha saath mein charbi waale kartoos mein hai BA rood mein chingaari ke kaam kiya tabhi waale kartoos jinako mooh par khula padta tha usme aisa BA taya gaya ke suar ki charbi aur gaay ki charbi lagi hoti hai jisko hindu muslim dono ne apne dharm ko wish karne ki saajish samjhi toh sainikon ne bhi vidroh mein sa le liya aur isi kartoos wali ghatna ki wajah se hi mangal pandey bhadake se pehle wahan se vidroh bhadak gaya lekin durbhagya tha ki jaldi bhag ja nahi toh aaj uska parinam buddha lekin usko daba diya krantikari ne BA hut achi yojana nahi BA na payi thi are hue the yah kaisa netritva ko nahi mil paya desh ke kuch shaharon mein unka saath bhi nahi diya aur kranti alag alag

धरा सो 57 की क्रांति किसी एक कारण से नहीं हुई है इसके लिए बहुत से मिले जुले कारणों का योगद

Romanized Version
Likes  186  Dislikes    views  1435
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!