शिया लोग मातम क्यों करते हैं?...


user
2:52
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इस्लामी कैलेंडर से पहले महीने के नाम मोहर्रम है इस महीने में इस्लाम का नया साल शुरू हो जाता है इस महीने की 10 तारीख को इमाम हुसैन की शहादत हुई थी जिसके चलते इस दिन रोज एक आंसू आते हैं मोहर्रम का यह सबसे अहम दिन माना जाता है आज से लगभग 14 साल पहले तारीख ए इस्लाम में कर्बला की जंग हुई थी यह जब जुल्म के खिलाफ इंसाफ के लिए लड़ी गई थी इस जंग में पैगंबर मोहम्मद के नवासे इमाम हुसैन और उनके बात तो साथियों सहित किया गया था किया गया था वहां भी नाम किस शासक ने निधन के बाद उनकी विरासत उनके लड़के कोई अजीत को मिला यदि इस्लाम को अपने तरीके से चलाना चाहता था नंबर मोहम्मद के नवासे हुसैन को अपने मुताबिक चलने को कहा गया था खुद से नाक के रूप में स्वीकार करने का आदेश दिया गया था अजीत को लग रहा था कि अगर इमाम हुसैन अपने खलीफा मान गए तो इस्लाम और इस्लाम के मानने वाले वो राज कर सकते हैं लेकिन हुसैन की बिल्कुल मंजूरी नहीं थी उन्हें यादें पर अपने खिलाफ मनाने और इंसान करने की बात यदि को सहना सहना नहीं था सना हुआ नहीं था और कर्बला के पास ही अधीन के इमाम हुसैन के कांटे को घेर लिया गया और खुद को मारने के लिए उसे मजबूर किया गया इमाम हुसैन की यद्यपि के खिलाफ मानने से इनकार करने के बाद याद भी सेना ने हुसैन के खिलाफ जंग का ऐलान कर दिया इस दौरान 7 तारीख को मोहर्रम की मोहर्रम की 7 तारीख को इमाम हुसैन के साथियों को खाने-पीने के सामान में घेराबंदी की गई थी लश्कर ए का पानी भी बंद कर या गया था मोहर्रम की 7 तारीख से दस तारीख का इमाम हुसैन और उनके काफिले को लोग भूखे प्यासे इमाम हुसैन जितना सबके काम ले रहे थे यदि के जुल्म उतने ही बढ़ते जा रहे थे मोहर्रम में 10 तारीख को तो यह दिन की फौज को सेंड के साथियों को भी जंग चीजें यह दिन बहुत ताकतवर था इसके बाद हथियार हथियार जखीरा तलवारे थी उस सेंड की काबली में 72 लोग थे इस चेक को मोहर्रम की 10 तारीख को फौज के ईमान के हुसैन के 6 महीने की बेटी को अली असगर 18 साल के अकबर और 7 साल की उनके भतीजे का सिम को भी यजीदी सेना ने शहद कर दिया था इसी चलते मोहम्मद मुस्लिम समुदाय इस महीने को कम कि तौर पर मनाते हैं

islami calendar se pehle mahine ke naam moharram hai is mahine me islam ka naya saal shuru ho jata hai is mahine ki 10 tarikh ko imam hussain ki shadat hui thi jiske chalte is din roj ek aasu aate hain moharram ka yah sabse aham din mana jata hai aaj se lagbhag 14 saal pehle tarikh a islam me karbala ki jung hui thi yah jab zulm ke khilaf insaaf ke liye ladi gayi thi is jung me paigambar muhammad ke navase imam hussain aur unke baat toh sathiyo sahit kiya gaya tha kiya gaya tha wahan bhi naam kis shasak ne nidhan ke baad unki virasat unke ladke koi ajit ko mila yadi islam ko apne tarike se chalana chahta tha number muhammad ke navase hussain ko apne mutabik chalne ko kaha gaya tha khud se nak ke roop me sweekar karne ka aadesh diya gaya tha ajit ko lag raha tha ki agar imam hussain apne khalifa maan gaye toh islam aur islam ke manne waale vo raj kar sakte hain lekin hussain ki bilkul manjuri nahi thi unhe yaadain par apne khilaf manane aur insaan karne ki baat yadi ko sahna sahna nahi tha sana hua nahi tha aur karbala ke paas hi adheen ke imam hussain ke kante ko gher liya gaya aur khud ko maarne ke liye use majboor kiya gaya imam hussain ki yadyapi ke khilaf manne se inkar karne ke baad yaad bhi sena ne hussain ke khilaf jung ka elaan kar diya is dauran 7 tarikh ko moharram ki moharram ki 7 tarikh ko imam hussain ke sathiyo ko khane peene ke saamaan me gherabandi ki gayi thi lashkar a ka paani bhi band kar ya gaya tha moharram ki 7 tarikh se das tarikh ka imam hussain aur unke kafile ko log bhukhe pyaase imam hussain jitna sabke kaam le rahe the yadi ke zulm utne hi badhte ja rahe the moharram me 10 tarikh ko toh yah din ki fauj ko send ke sathiyo ko bhi jung cheezen yah din bahut takatwar tha iske baad hathiyar hathiyar jakhira talware thi us send ki kabli me 72 log the is check ko moharram ki 10 tarikh ko fauj ke iman ke hussain ke 6 mahine ki beti ko ali asagar 18 saal ke akbar aur 7 saal ki unke bhatije ka sim ko bhi yajidi sena ne shehed kar diya tha isi chalte muhammad muslim samuday is mahine ko kam ki taur par manate hain

इस्लामी कैलेंडर से पहले महीने के नाम मोहर्रम है इस महीने में इस्लाम का नया साल शुरू हो जात

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  195
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!