क्या आप भारत में एसिड हमलों से संबंधित कानूनों से संतुष्ट हैं? आपको क्या लगता है कि उन्हें कैसे संशोधित किया जा सकता है?...


user

Pragya Prasun

Founder of atijeevanfoundation.org

4:15
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

रिकी सबसे बड़ा जिला है ऐसी चीज भेजी लेकिन का है आप लोग फिर भी है अपनी जगह पर आ जाता है इंडिया के किसी भी कोने में कॉल किया जाता है कि आज दुकान वाले हैं फ्रीली आराम से बेच रहे हैं ऐसे कोई उनको देखने वाला नहीं है कोई पूछने वाला नहीं है इस सोसाइटी में चार्जिंग नहीं है कि ऐसा दिख रहा है तो उसे क्या करना इन 11 लोगों को सिविलियन से कोई मतलब नहीं है कि विक्रय विक्रय कोई खरीदे हम क्या वहां पर कुछ नहीं हो रहा है चौकी पर पुलिस को कोई मतलब नहीं है ठीक है कोई बेच रहा है कोई पैसा दे दिया ठीक है बीच में दे दिए हैं है या नहीं है वह आराम से देख रहे हैं किसी को भी दे रहे हैं 18 साल का हो या और कोई भी वह 18 साल से छोटा भी हो किसी को भी किसी को भी दे रहे हैं बिना किसी आईडी प्रूफ वैद्यनाथ टेलिंग थे रीजन ऑफ़ बैंक इतना टेंशन नहीं है शायद ही इतना चालू हो और दूसरी बात की सजा सजा उसको कैसे कैसे जाने चाहिए था कुछ आता नहीं है तो भी वह कितने सालों तक आ रहा है कभी कुछ नहीं हो रहा है कभी इधर आज उसकी तबीयत खराब हो गई कभी कुछ हो गया कभी लायक नहीं आया ऐसे करके दिल से बाहर रहते हैं मैं बता रही हूं मतलब अभी भी इसके देख रहे हैं ना तो उसमें कम से कम 12 15 अप्रैल पर बाहर हैं और बाकी सब ठीक चल रहा है चल रही होगी और वह भी 8 साल 10 साल 12 साल काफी है जो जो भी ऐसे तो क्या करें अगर मेरे साथिया के बेटा क्या कर रही हो अच्छा लेकिन शायद मेरी लाइफ बिल्कुल अलग होती और मेरी तो लाइफ बिल्कुल बर्बाद हो गई लेकिन ऐसे ऐसे इतनी सारी लड़कियों की बर्बादी है उनका उनका कोई कंपटीशन भेज सकता है स्कूल में दे सकता सरकार कितने पैसे दे दे कुछ भी कर ले कौन-कौन से इतना क्यों नहीं हो सकी जिंदगी बर्बाद की है उसको कम से कम सजा देनी लाइक तो कर दी इतना तो लो हम इतना स्ट्रिक्ट बना दे कि वह कायदे से वह सजा मिले उसको एक बार हुआ था कि वह निकलकर की और फिर से डाल कर के जला दिया था उसको ऐसे फोटो चित्रित उसको बाहर निकलना ही नहीं उनको जिंदगी भर खेल में रखिए कि लायक नहीं है आप किसी को पैसे डाले कल किसी का गला काट लेंगे अगर बाहर रहेंगे तो कुछ और करेंगे इसीलिए उनको रहना ही नहीं है ऐसा बायकोची जीएनआइटीसी उसको बॉयकॉट कीजिए सोसाइटी में किसी का हक नहीं है किसी की जिंदगी बर्बाद करने का

riki sabse bada jila hai aisi cheez bheji lekin ka hai aap log phir bhi hai apni jagah par aa jata hai india ke kisi bhi kone mein call kiya jata hai ki aaj dukaan waale hai freely aaram se bech rahe hai aise koi unko dekhne vala nahi hai koi poochne vala nahi hai is society mein charging nahi hai ki aisa dikh raha hai toh use kya karna in 11 logo ko civilian se koi matlab nahi hai ki vikray vikray koi kharide hum kya wahan par kuch nahi ho raha hai chowki par police ko koi matlab nahi hai theek hai koi bech raha hai koi paisa de diya theek hai beech mein de diye hai hai ya nahi hai vaah aaram se dekh rahe hai kisi ko bhi de rahe hai 18 saal ka ho ya aur koi bhi vaah 18 saal se chota bhi ho kisi ko bhi kisi ko bhi de rahe hai bina kisi id proof baidyanath telling the reason of bank itna tension nahi hai shayad hi itna chaalu ho aur dusri baat ki saza saza usko kaise kaise jaane chahiye tha kuch aata nahi hai toh bhi vaah kitne salon tak aa raha hai kabhi kuch nahi ho raha hai kabhi idhar aaj uski tabiyat kharab ho gayi kabhi kuch ho gaya kabhi layak nahi aaya aise karke dil se bahar rehte hai bata rahi hoon matlab abhi bhi iske dekh rahe hai na toh usme kam se kam 12 15 april par bahar hai aur baki sab theek chal raha hai chal rahi hogi aur vaah bhi 8 saal 10 saal 12 saal kaafi hai jo jo bhi aise toh kya kare agar mere sathiya ke beta kya kar rahi ho accha lekin shayad meri life bilkul alag hoti aur meri toh life bilkul barbad ho gayi lekin aise aise itni saree ladkiyon ki barbadi hai unka unka koi competition bhej sakta hai school mein de sakta sarkar kitne paise de de kuch bhi kar le kaun kaunsi itna kyon nahi ho saki zindagi barbad ki hai usko kam se kam saza deni like toh kar di itna toh lo hum itna strict bana de ki vaah kayade se vaah saza mile usko ek baar hua tha ki vaah nikalkar ki aur phir se daal kar ke jala diya tha usko aise photo chitrit usko bahar nikalna hi nahi unko zindagi bhar khel mein rakhiye ki layak nahi hai aap kisi ko paise dale kal kisi ka gala kaat lenge agar bahar rahenge toh kuch aur karenge isliye unko rehna hi nahi hai aisa baykochi GNITC usko baykat kijiye society mein kisi ka haq nahi hai kisi ki zindagi barbad karne ka

रिकी सबसे बड़ा जिला है ऐसी चीज भेजी लेकिन का है आप लोग फिर भी है अपनी जगह पर आ जाता है इंड

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  138
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Ghanshyamvan

मंदिर सेवा

0:22
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखे जो ऐसी डांगले करते हैं उन्हें फांसी होनी चाहिए क्योंकि ऐसी नामदेव होने वाला कार होता है उनका पूरा जीवन बर्बाद होना चाहिए होता है इसलिए तुम चाहिए

dekhe jo aisi dangale karte hain unhe fansi honi chahiye kyonki aisi namdev hone vala car hota hai unka pura jeevan barbad hona chahiye hota hai isliye tum chahiye

देखे जो ऐसी डांगले करते हैं उन्हें फांसी होनी चाहिए क्योंकि ऐसी नामदेव होने वाला कार होता

Romanized Version
Likes  86  Dislikes    views  2162
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!