हमें अपने बचपन के बारे में बताएं?...


user

Pragya Prasun

Founder of atijeevanfoundation.org

0:53
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेला में धनबाद झारखंड किया हुआ है और उसके बाद आगे पढ़ने के लिए बनारस से दिल्ली बाई वहां से पोस्ट ग्रेजुएशन किया बचपन में बहुत ही अच्छा रहा है हम शायद अपनी दिक्कतें होती हैं वह तो होती है लेकिन मतलबी नहीं हूं हमेशा से

mela mein dhanbad jharkhand kiya hua hai aur uske baad aage padhne ke liye banaras se delhi bai wahan se post graduation kiya bachpan mein bahut hi accha raha hai hum shayad apni dikkaten hoti hain vaah toh hoti hai lekin matlabi nahi hoon hamesha se

मेला में धनबाद झारखंड किया हुआ है और उसके बाद आगे पढ़ने के लिए बनारस से दिल्ली बाई वहां से

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  99
WhatsApp_icon
4 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Dr Ramswaroop Babele

Astrologer Doctor Ayurveda Hypnotherepist

0:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपको पूछना हमें अपने बचपन के बारे में बताएं मुझे जहां तक समझ में आ रहा है तो आप भी यदि मेरे बचपन के बारे में जानना चाहते हैं तो जिस तरह के बच्चों का बचपन होता है उसी तरह मुझे मेरा भी बचपन रहा है हिला कूदना पढ़ना लिखना शरारतें करना जिज्ञासा करना प्रश्न पूछना जाना यह मेरा P55 इसी तरीके से रहा है

aapko poochna hamein apne bachpan ke bare mein bataye mujhe jaha tak samajh mein aa raha hai toh aap bhi yadi mere bachpan ke bare mein janana chahte hain toh jis tarah ke baccho ka bachpan hota hai usi tarah mujhe mera bhi bachpan raha hai hila kudana padhna likhna shararaten karna jigyasa karna prashna poochna jana yah mera P55 isi tarike se raha hai

आपको पूछना हमें अपने बचपन के बारे में बताएं मुझे जहां तक समझ में आ रहा है तो आप भी यदि मेर

Romanized Version
Likes  18  Dislikes    views  540
WhatsApp_icon
user

Purushottam Choudhary

ब्राह्मण Next IAS institute गार्ड

0:23
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अपने बचपन की यादें बड़ी मार्मिक होती है जो बड़े होने के बाद अक्सर लोग भूल जाया करते हैं यह अपने माता-पिता सगे संबंधी जिसने आपको उस अवस्था में देखा है वह इसका सांगोपन घर से वर्णन कर सकते हैं दूसरे को क्या पता कि आपका बचपन कैसे गुजरा अपने बचपन में क्या-क्या किया इत्यादि इत्यादि धन्यवाद

apne bachpan ki yaadain badi marmik hoti hai jo bade hone ke baad aksar log bhool jaya karte hain yah apne mata pita sage sambandhi jisne aapko us avastha mein dekha hai vaah iska sangopan ghar se varnan kar sakte hain dusre ko kya pata ki aapka bachpan kaise gujara apne bachpan mein kya kya kiya ityadi ityadi dhanyavad

अपने बचपन की यादें बड़ी मार्मिक होती है जो बड़े होने के बाद अक्सर लोग भूल जाया करते हैं यह

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  252
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरा बचपन बहुत ही शानदार था मैं जब पैदा हुआ था तो मेरे मम्मी पापा बहुत खुश हुए थे और मैं 5 साल का हुआ था तो फिर मैंने पढ़ाई चालू की पढ़ाई चालू कि मैं 12 बार भी चला पड़ा था और मेरे स्कूल का नाम था सरस्वती शिशु मंदिर गंगा नगर गढ़ा जबलपुर और मैं जब 12 साल पर भी पड़ता रहा तथा करीब 15 का 15 साल का था तो फिर मेरी 12वीं क्लास पूरी खत्म हुई पर मैं कॉलेज गया कॉलेज सफर में आईटीआई कर रहा है क्या मेरी शादी हुई हरिद्वार में कब आजाद हुआ साइंटिस्ट साइंटिस्ट एंड महान वैज्ञानिक के नाम से मेरे को जाना जाता है

mera bachpan bahut hi shandar tha main jab paida hua tha toh mere mummy papa bahut khush hue the aur main 5 saal ka hua tha toh phir maine padhai chaalu ki padhai chaalu ki main 12 baar bhi chala pada tha aur mere school ka naam tha saraswati shishu mandir ganga nagar gadha jabalpur aur main jab 12 saal par bhi padta raha tatha kareeb 15 ka 15 saal ka tha toh phir meri vi class puri khatam hui par main college gaya college safar mein iti kar raha hai kya meri shadi hui haridwar mein kab azad hua scientist scientist and mahaan vaigyanik ke naam se mere ko jana jata hai

मेरा बचपन बहुत ही शानदार था मैं जब पैदा हुआ था तो मेरे मम्मी पापा बहुत खुश हुए थे और मैं 5

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  127
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!