प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी में छात्र की मदद करने में कोचिंग सेंटर की क्या भूमिका होती है?...


user
1:11
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार आपका सवाल है प्रतियोगिता परीक्षा की तैयारी में छात्र कीमत करने में कोचिंग सेंटर की क्या भूमिका होती है जो अच्छे कोचिंग सेंटर होते हैं और छात्रों को सही मार्गदर्शन देते हैं कोचिंग सेंटर में जाने का सबसे अधिक फायदा होता है या कि हमें मार्गदर्शन मिलता है हमें छुट्टी हुई सामग्री मिलती है अभी आप किताब से पढ़ते हैं या खुद से पढ़ते हैं तो आपको पता नहीं होता है क्या पढ़ना चाहिए क्या नहीं पढ़ना चाहिए परंतु कोचिंग सेंटर में आपको परीक्षा के नवीनतम पैटर्न से सामना करना पड़ता है आपको यह बताते हैं कि परीक्षा का नवीनतम पैटर्न क्या है उसके बाद कोचिंग में नियमित रूप से टेस्ट होते हैं जहां आपको पता चलता है कि आप कितनी प्रगति कर रहे हैं उसके बाद कोचिंग में आपके जैसे बहुत सारे छात्र होते हैं जिनसे आपका हेल्थी कंपटीशन होता है आपको पता चलता है कि हम क्या सीख रहे हैं और दूसरे की तुलना में हम कहां पर खड़े हुए हैं लेकिन यह सब अच्छे कोचीन के लक्षण है कोचिंग चयन में सावधानी बरतनी चाहिए

namaskar aapka sawaal hai pratiyogita pariksha ki taiyari me chatra kimat karne me coaching center ki kya bhumika hoti hai jo acche coaching center hote hain aur chhatro ko sahi margdarshan dete hain coaching center me jaane ka sabse adhik fayda hota hai ya ki hamein margdarshan milta hai hamein chhutti hui samagri milti hai abhi aap kitab se padhte hain ya khud se padhte hain toh aapko pata nahi hota hai kya padhna chahiye kya nahi padhna chahiye parantu coaching center me aapko pariksha ke navintam pattern se samana karna padta hai aapko yah batatey hain ki pariksha ka navintam pattern kya hai uske baad coaching me niyamit roop se test hote hain jaha aapko pata chalta hai ki aap kitni pragati kar rahe hain uske baad coaching me aapke jaise bahut saare chatra hote hain jinse aapka healthy competition hota hai aapko pata chalta hai ki hum kya seekh rahe hain aur dusre ki tulna me hum kaha par khade hue hain lekin yah sab acche cochin ke lakshan hai coaching chayan me savdhani bartani chahiye

नमस्कार आपका सवाल है प्रतियोगिता परीक्षा की तैयारी में छात्र कीमत करने में कोचिंग सेंटर की

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  106
WhatsApp_icon
5 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user
5:56

Likes  3  Dislikes    views  88
WhatsApp_icon
user

Prashant Chadha

CEO, Wordpandit

1:02
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर यह तो फिर आपको मैं सच में जवाब दो हम खुद बच्चों को इसके लिए मदद करते हैं हमारा कोचिंग का ही काम है उसका बहुत होने से हर बच्चे को भी यही कहता हूं कि कोचिंग का काम सिर्फ 8:00 95% बच्चे की मेहनत बच्चे का एफर्ट है अगर आप जितना मर्जी आप कोचिंग कर लीजिए अगर बच्चा है पेट नहीं करेगा तो नहीं आ सकता है तो आपको दिशा दिखा सकते हैं आपको बता सकते हैं क्या पढ़ना है कैसे पढ़ना है क्या सोचना है आपको करना तो खुद पड़ेगा तो वह मेहनत का एक्सपेक्ट नहीं निकलता किसी भी किसी भी प्रतियोगिता जहां पर आप पैसे हैं जब किसी परीक्षा में बैठते हैं जैसे तकरीर बना दो ढाई लाख लोग बैठ रहे हैं और जिसे 10 या 15000 सीटें ही हैं जो अच्छे कांग्रेस की सीटें हैं तो फिर वहां पर कंपटीशन इतना है तो आपको फिर भेजो तो करनी पड़ेगी तो कोचिंग का उसमें रोल कोचिंग का रोल गाइडेंस के लिए हैं और करने का जो वह है माता है बच्चे के ऊपर आता है

agar yah toh phir aapko main sach mein jawab do hum khud baccho ko iske liye madad karte hain hamara coaching ka hi kaam hai uska bahut hone se har bacche ko bhi yahi kahata hoon ki coaching ka kaam sirf 8 00 95 bacche ki mehnat bacche ka effort hai agar aap jitna marji aap coaching kar lijiye agar baccha hai pet nahi karega toh nahi aa sakta hai toh aapko disha dikha sakte hain aapko bata sakte kya padhna hai kaise padhna hai kya sochna hai aapko karna toh khud padega toh vaah mehnat ka expect nahi nikalta kisi bhi kisi bhi pratiyogita jaha par aap paise hain jab kisi pariksha mein baithate hain jaise takrir bana do dhai lakh log baith rahe hain aur jise 10 ya 15000 seaten hi hain jo acche congress ki seaten hain toh phir wahan par competition itna hai toh aapko phir bhejo toh karni padegi toh coaching ka usme roll coaching ka roll guidance ke liye hain aur karne ka jo vaah hai mata hai bacche ke upar aata hai

अगर यह तो फिर आपको मैं सच में जवाब दो हम खुद बच्चों को इसके लिए मदद करते हैं हमारा कोचिंग

Romanized Version
Likes  12  Dislikes    views  305
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी में छात्र की मदद करने के लिए कोचिंग सेंटर की क्या भूमिका होती है मैं आपको यह बताना चाहूंगा कि कोई भी व्यक्ति जब तक उसको गाइडेंस नहीं मिलेगा मैं आगे नहीं बढ़ सकता क्योंकि कोई व्यक्ति आगे उसी से बढ़ता है जिससे उसकी इच्छा होती यदि कोई व्यक्ति प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहा है तो उसे कोचिंग इसलिए आवश्यक है कि जो कोचिंग टीचर होते हैं उसको उस चीज के बारे में सब पता होता है कि कैसे हमें बच्चे को कैसे गायक करना है कैसे क्या करना है जिससे उस इलेक्शन प्राप्त कर सके इसी वजह से जो कोचिंग मास्टर होता है जो कोचिंग टीचर होता है वह केवल बच्चे को गाइड करता है बाकी जो स्टूडेंट होता है उसे खुद मेहनत करनी होती है जिससे मैं सिलेक्शन प्राप्त करवाता है और बिजी होगी परीक्षा में जीत हासिल होता है

pratiyogi pariksha ki taiyari mein chatra ki madad karne ke liye coaching center ki kya bhumika hoti hai aapko yah bataana chahunga ki koi bhi vyakti jab tak usko guidance nahi milega main aage nahi badh sakta kyonki koi vyakti aage usi se badhta hai jisse uski iccha hoti yadi koi vyakti pratiyogi pariksha ki taiyari kar raha hai toh use coaching isliye aavashyak hai ki jo coaching teacher hote hain usko us cheez ke bare mein sab pata hota hai ki kaise hamein bacche ko kaise gayak karna hai kaise kya karna hai jisse us election prapt kar sake isi wajah se jo coaching master hota hai jo coaching teacher hota hai vaah keval bacche ko guide karta hai baki jo student hota hai use khud mehnat karni hoti hai jisse main selection prapt karwata hai aur busy hogi pariksha mein jeet hasil hota hai

प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी में छात्र की मदद करने के लिए कोचिंग सेंटर की क्या भूमिका होती

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  83
WhatsApp_icon
user

Mohd Mehraj

Business Owner

0:34
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखो कोचिंग में हो बताया जाता है जो स्कूल में नहीं बताया कोचिंग आपको वह मैन मैन बोर्ड बताया था जो आपके पेपर में करने के करने के लिए आपको आसान हो जाते हैं आपको पता होता है कि पेपर में घर पास होना है तो मुझे कौनसी सब डिलीट नहीं आप कौन से नहीं निकले तो उसके लिए कोचिंग में आपको बहुत हेल्पफुल होती है आपके लिए कोचिंग कैसे लिए कोचिंग आपको करनी बहुत ही जरूरी है

dekho coaching mein ho bataya jata hai jo school mein nahi bataya coaching aapko vaah man man board bataya tha jo aapke paper mein karne ke karne ke liye aapko aasaan ho jaate hain aapko pata hota hai ki paper mein ghar paas hona hai toh mujhe kaunsi sab delete nahi aap kaunsi nahi nikle toh uske liye coaching mein aapko bahut helpful hoti hai aapke liye coaching kaise liye coaching aapko karni bahut hi zaroori hai

देखो कोचिंग में हो बताया जाता है जो स्कूल में नहीं बताया कोचिंग आपको वह मैन मैन बोर्ड बताय

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  89
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!