इंजीनियरिंग के छात्रों के लिए नौकरी के अवसर क्या हैं?...


user

Prashant Chadha

CEO, Wordpandit

2:12
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आज की डेट में जो हमारा जिस तरीके से हमारा सिस्टम है तो उस पर सबसे बड़ा जो दिक्कत की बात की है कि इंजीनियरिंग कॉलेज बहुत ज्यादा को हम बहुत भारी तादाद में इंजीनियर हड़ताल करनी है तो जॉब इंजीनियर के लिए जैसे मैं भी कैंपस प्लेसमेंट के टाइम बैठा पंजाबी कॉलेज नॉर्थ इंडिया में काफी मशहूर थे हमें सिविल इंजीनियरिंग में ही नौकरियां मिली मेरे सारे टैचमेंट से कई लोगों को आईटी कंपनी सत्यम कंप्यूटर इलेक्ट्रॉनिक सिटी सेक्टर में ही है जहां पर लोगों को नौकरियां मिलती है और फिर वहां से आगे अपने फील्ड में जाते हैं जो कोर्स जैसे कोर सेक्टर का महीना हुआ कि सिविल इंजीनियर को सिविल में नौकरी मिले मैकेनिकल को मैकेनिकल में मिले प्रोडक्शन वाले को प्रोडक्शन में मिले वह नौकरी या काम है तो जरूर नौकरियां भीम के लोगों को इसके कारण यह तो हमारा वातावरण है इसमें काफी में जाना पड़ता है जिनको अपना कोड नहीं मिलता तो वह फिर आईटी सेक्टर में जाती हैं जिनको काफी लोग हैं जो फिर पढ़कर स्टडीज के लिए जाते हैं और इल्जाम देते हैं तो उनको और यान को सरकारी नौकरियों के लिए बैठना पड़ता है तो वह अक्सर अपने ढूंढने पड़ते हैं तो यह है हमारे जो सिस्टम है उसे यह काफी बड़ा चैलेंज है इसके कारण इंजीनियर नौकरी के लिए परेशानी वह सिस्टम सिस्टम भी उसमें काफी कंट्रीब्यूट इफेक्ट है उसका सिस्टम का काफी बड़ा योगदान है हमें उम्मीद करते हैं कि समय के साथ लोग भी यह समझे कि एग्जिट और भी है जहां पर बच्चों को जाना चाहिए और डिसिप्लिन है जहां घर पर जाएंगे तो हमारे हमारे सिस्टम से तो बेहतर होगा

aaj ki date mein jo hamara jis tarike se hamara system hai toh us par sabse bada jo dikkat ki baat ki hai ki Engineering college bahut zyada ko hum bahut bhari tadad mein engineer hartal karni hai toh job engineer ke liye jaise main bhi campus placement ke time baitha punjabi college north india mein kaafi mashoor the hamein civil Engineering mein hi naukriyan mili mere saare taichment se kai logo ko it company satyam computer electronic city sector mein hi hai jaha par logo ko naukriyan milti hai aur phir wahan se aage apne field mein jaate hain jo course jaise core sector ka mahina hua ki civil engineer ko civil mein naukri mile mechanical ko mechanical mein mile production waale ko production mein mile vaah naukri ya kaam hai toh zaroor naukriyan bhim ke logo ko iske karan yah toh hamara vatavaran hai isme kaafi mein jana padta hai jinako apna code nahi milta toh vaah phir it sector mein jaati hain jinako kaafi log hain jo phir padhakar studies ke liye jaate hain aur illajam dete hain toh unko aur yaan ko sarkari naukriyon ke liye baithana padta hai toh vaah aksar apne dhundhne padte hain toh yah hai hamare jo system hai use yah kaafi bada challenge hai iske karan engineer naukri ke liye pareshani vaah system system bhi usme kaafi kantribyut effect hai uska system ka kaafi bada yogdan hai hamein ummid karte hain ki samay ke saath log bhi yah samjhe ki exit aur bhi hai jaha par baccho ko jana chahiye aur discipline hai jaha ghar par jaenge toh hamare hamare system se toh behtar hoga

आज की डेट में जो हमारा जिस तरीके से हमारा सिस्टम है तो उस पर सबसे बड़ा जो दिक्कत की बात की

Romanized Version
Likes  13  Dislikes    views  329
KooApp_icon
WhatsApp_icon
4 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!