एक उद्यमी बनने के लिए मुख्य प्रेरणा क्या थी?...


user

Prashant Chadha

CEO, Wordpandit

1:50
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मीनू से होटल और पढ़ने के लिए बुक करना है जो कि मेरे लिए वह तो देखा जाए तो उसे मेरी सबसे बड़ा योगदान है वह मेरे पिताजी का था तो मैंने उनको देखा अपना बचपन से ही हमारे घर में माहौल था कि एक बिजनेस का माहौल रहा है शुरू से ही हमारे घर में हमारे घर में शिव को काफी प्रोत्साहन दिया जाता है कि आप नौकरी ना करो और अपना काम शुरू करो मत करो कोई बात नहीं एक साल नहीं भी कुछ करोगे 1 साल अपना बिजनेस में खड़ा करने में टाइम लगेगा तो बोलो टाइप करो और शुरू करो मुझे मुझे काफी बड़ी प्रेरणा मिली तो एक्सटर्नल नहीं था मेरे को बाहर से नहीं मुझे परेशानी मुझे मेरे घर से वह वातावरण मिला तो काफी बार लिए काफी लोग हैं आज का जो स्टार्टअप जगत है उसके अंदर तो काफी जगह लोगों को कुछ दिक्कत का सामना करने को मिलता है वह कुछ नहीं कर पाते तो उसको कैसे ठीक किया जाए शुरुआत करते नहीं धीरे-धीरे इसका भी काफी अच्छा वातावरण इंडिया पर बनता जा रहा है और लोग अब मानने लग गए हैं कि ऐसे स्टार्टअप का कल्चर होना चाहिए तो बिजनेस चौथे हमारे डिक्शनरी चलते आए थे वह तो सही है उनका इसमें सब साथ-साथ यह भी एक कल्चर है जहां लोगों ने सोसाइटी से एक्सेप्ट करना शुरू कर दिया है यह तो काफी आगे आगे

meenu se hotel aur padhne ke liye book karna hai jo ki mere liye vaah toh dekha jaaye toh use meri sabse bada yogdan hai vaah mere pitaji ka tha toh maine unko dekha apna bachpan se hi hamare ghar mein maahaul tha ki ek business ka maahaul raha hai shuru se hi hamare ghar mein hamare ghar mein shiv ko kaafi protsahan diya jata hai ki aap naukri na karo aur apna kaam shuru karo mat karo koi baat nahi ek saal nahi bhi kuch karoge 1 saal apna business mein khada karne mein time lagega toh bolo type karo aur shuru karo mujhe mujhe kaafi badi prerna mili toh external nahi tha mere ko bahar se nahi mujhe pareshani mujhe mere ghar se vaah vatavaran mila toh kaafi baar liye kaafi log hain aaj ka jo startup jagat hai uske andar toh kaafi jagah logo ko kuch dikkat ka samana karne ko milta hai vaah kuch nahi kar paate toh usko kaise theek kiya jaaye shuruat karte nahi dhire dhire iska bhi kaafi accha vatavaran india par baata ja raha hai aur log ab manne lag gaye hain ki aise startup ka culture hona chahiye toh business chauthe hamare dictionary chalte aaye the vaah toh sahi hai unka isme sab saath saath yah bhi ek culture hai jaha logo ne society se except karna shuru kar diya hai yah toh kaafi aage aage

मीनू से होटल और पढ़ने के लिए बुक करना है जो कि मेरे लिए वह तो देखा जाए तो उसे मेरी सबसे बड

Romanized Version
Likes  19  Dislikes    views  281
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!