बलिया कब आजाद हुआ था?...


user

Gulnaz

लेवल 1 (बिगिनर)

1:11
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बलिया 1886 में गाजीपुर से अलग हुआ था अगर जो है अंग्रेजों ने इसे लगातार आसन रहने के कारण गाजीपुर से अलग कर दिया था यह 1942 के आंदोलन में बलिया ने निवासियों ने स्थानीय अंग्रे अंग्रेजी सरकार को उखाड़ फेंके थे और जो है चित्तू पांडेय के नेतृत्व में कुछ दिनों तक कश्मीर सरकार भी चली लेकिन बाद में अंग्रेजों ने वापस अपनी सत्ता कायम कर ली थी इसी जिले के और जो है 70 गांव में एक और व्यक्ति हुए जिनके नाम है शारदा नंद सिंह जो इस देश के उनके उनके पद पर आसानी हुए और यहां तक कि यह जो बलदेव सिंह नाम के a पहलवान थे जो बाहर पुर गांव के थे और भारत के लिए कुश्ती लड़ते थे भारत के पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर जी इस जिले के मूल निवासी थे आपतकाल के बाद हुई आकृति के जिनके तथा महान स्वतंत्रता सेनानी जयप्रकाश नारायण भी इसी जिले के मूल निवासी थे

baliya 1886 mein gazipur se alag hua tha agar jo hai angrejo ne ise lagatar aasan rehne ke karan gazipur se alag kar diya tha yah 1942 ke andolan mein BA liya ne nivasiyon ne sthaniye angre angrezi sarkar ko ukhad faike the aur jo hai chittu pandey ke netritva mein kuch dino tak kashmir sarkar bhi chali lekin BA ad mein angrejo ne wapas apni satta kayam kar li thi isi jile ke aur jo hai 70 gaon mein ek aur vyakti hue jinke naam hai sharda nand Singh jo is desh ke unke unke pad par aasani hue aur yahan tak ki yah jo BA ldev Singh naam ke a pahalwan the jo BA har pur gaon ke the aur bharat ke liye kushti ladte the bharat ke purv pradhanmantri chandrashekhar ji is jile ke mul niwasi the apatakal ke BA ad hui akriti ke jinke tatha mahaan swatantrata senani jayprakash narayan bhi isi jile ke mul niwasi the

बलिया 1886 में गाजीपुर से अलग हुआ था अगर जो है अंग्रेजों ने इसे लगातार आसन रहने के कारण गा

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  245
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

विकास सिंह

दिल से भारतीय

1:02
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बलिया जिला में भारत जिले के उत्तर प्रदेश में सबसे पूर्वी जिला है जिसका मुख्यालय बलिया शहर है बलिया जिला को उत्तर और दक्षिण सीमा में सूर्य और गंगा नदियों द्वारा बनाई जाती है भारत के स्वतंत्रता आंदोलन में इलाका निवासियों का वीडियो Tevar के कारण से बागी बलिया के नाम से भी जाना जाता है भोजपुरी भाषा बोली जाती है और जिला गाजीपुर से अलग हुआ अंग्रेजों ने इसे लगातार अशांति रहने के कारण गाजीपुर से अलग कर दिया था 1942 के आंदोलन में बलिया के निवासियों ने स्थानीय अंग्रेजी सरकार को उखाड़ फेंका चिंटू पांडे के नेतृत्व में कुछ दिनों के साथ कुछ दिनों पाकिस्तानी सरकार भी चली लेकिन बाद में अंग्रेजी में वापस उस पर अपने सत्ता कायम कर लिया इस दिल के गांव में एक और व्यक्ति हुए हुए हैं जिनका नाम पवन सिंह का जो इस देश के ऊंचे पद पर आसीन हुए यहां बलदेव सिंह नाम के पहलवान तेज बहादुर गांव में था और भारत के लिए कुश्ती लड़ते थे मोहित चीन और भारत के पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर मूल निवासी है

baliya jila mein bharat jile ke uttar pradesh mein sabse purvi jila hai jiska mukhyalay BA liya shehar hai BA liya jila ko uttar aur dakshin seema mein surya aur ganga nadiyon dwara BA nai jaati hai bharat ke swatantrata andolan mein ilaka nivasiyon ka video Tevar ke karan se BA agi BA liya ke naam se bhi jana jata hai bhojpuri bhasha boli jaati hai aur jila gazipur se alag hua angrejo ne ise lagatar ashanti rehne ke karan gazipur se alag kar diya tha 1942 ke andolan mein BA liya ke nivasiyon ne sthaniye angrezi sarkar ko ukhad fenkaa chintu pandey ke netritva mein kuch dino ke saath kuch dino pakistani sarkar bhi chali lekin BA ad mein angrezi mein wapas us par apne satta kayam kar liya is dil ke gaon mein ek aur vyakti hue hue hai jinka naam pawan Singh ka jo is desh ke unche pad par aaseen hue yahan BA ldev Singh naam ke pahalwan tez BA hadur gaon mein tha aur bharat ke liye kushti ladte the mohit china aur bharat ke purv pradhanmantri chandrashekhar mul niwasi hai

बलिया जिला में भारत जिले के उत्तर प्रदेश में सबसे पूर्वी जिला है जिसका मुख्यालय बलिया शहर

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  163
WhatsApp_icon
play
user

Riya

Volunteer

0:12

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बात करें कि बलिया कब आजाद हुआ था तो भारत जो है वह 1947 में आजाद हुआ था परवलिया को आजादी 1942 में ही मिल गई थी

baat kare ki BA liya kab azad hua tha toh bharat jo hai vaah 1947 mein azad hua tha paravliya ko azadi 1942 mein hi mil gayi thi

बात करें कि बलिया कब आजाद हुआ था तो भारत जो है वह 1947 में आजाद हुआ था परवलिया को आजादी 19

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  16
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
बलिया कब आजाद हुआ था ; ballia kab azad hua tha ; ballia kab ajad hua ; bharat kab alag hua tha ; saudi arabia kab azad hua tha ; indonesia kab azad hua ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!