दुख में मां की याद क्यों आती है और सुख में याद क्यों नहीं आती?...


user
2:09
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दुख में मां की याद क्यों आती है और सुख में याद क्यों नहीं आती देखिए यह तो सब एक व्यक्ति 2 व्यक्ति के ऊपर या पर्सन टो पर्सन डिपेंड करता है मुझे तो सुख में भी आती है दुख में भी आती है हर समय आती है यह वही वाली बात हो गई कि परमात्मा को हम दुख के समय तो बहुत याद करते हैं लेकिन जब हमें सब कुछ हमारे पास सदा सुख सुविधा उस समय हम परमात्मा को भूल जाते हैं मौज मस्ती में ही लिप्त रहते हैं तो जो यह मां वाली बात है ठीक उसी प्रकार है कि जब दुखाती है क्योंकि जो मां है जब भी अपनी बेटी को दुख में देखती है बेटी को दुख में दिखती है वह कभी भी शांत नहीं बैठती वह हमेशा उसे कुछ ना कुछ सलाह देगी उसकी मदद करेगी उसको कंफर्ट करने का कोशिश करेगी उसको अपना बेस्ट देने के लिए प्रेरित करेगी इसलिए दुख में हम हमारे साथ कोई नहीं रहता ना कोई भी नहीं रहता सिर्फ एक खम्मा ही हमारे जीवन में ऐसे मां या पिता भी बोली थी लेकिन जो मां है वह बेटा कितना भी गलत क्यों ना हो वह उसको ठीक करना चाहेगी चाहे वह कितना ही उसने खराब काम कर ले एक बार नाराज हो जाएगी लेकिन कुछ आएगी कि मेरा बेटा अच्छा हो जाएगा ठीक हो जाए वह सुधर जाए तो मां सब आप सब की नजर में गिर सकते हैं मां आपको झूठ जरूर बोलेगी कि तुम मेरे नजर में गिर गया हो लेकिन वह आपको जरूर उठाएगी उठाने वाली सबसे पहले हाथ जो आएगा यह दुआ के लिए सबसे पहले जो हाथ ठेका वह मां का ही उठेगा तो दुख में जो हमेशा हमारे साथ रहती है वह कौन है वह मां है और सुख में हमारे साथ ज्यादातर कौन से लोग रहते हैं हमारे दोस्त हमारे आसपास जिनको हमसे कुछ चाहिए या हम कौन से कुछ चाहिए तो हम इतने बिजी हो जाते हैं उन लोगों में की मां का हाल है लेकिन दुख में एक ही व्यक्ति जो सदैव ईश्वर को छोड़कर जो एक व्यक्ति है जो हमेशा हमारे साथ रहता है वह मां है इसलिए दुख में मां की याद आती है लेकिन हमें मां को दुख में भी याद करना चाहिए जब सुखाय तुमको हंसी खुशी परी फोन करके उनकी सेवा करनी चाहिए याद करना सीखो जो जीवन है वह एक सफल होगा धन्यवाद

dukh mein maa ki yaad kyon aati hai aur sukh mein yaad kyon nahi aati dekhiye yah toh sab ek vyakti 2 vyakti ke upar ya person toe person depend karta hai mujhe toh sukh mein bhi aati hai dukh mein bhi aati hai har samay aati hai yah wahi wali baat ho gayi ki paramatma ko hum dukh ke samay toh bahut yaad karte hain lekin jab hamein sab kuch hamare paas sada sukh suvidha us samay hum paramatma ko bhool jaate hain mauj masti mein hi lipt rehte hain toh jo yah maa wali baat hai theek usi prakar hai ki jab dukhati hai kyonki jo maa hai jab bhi apni beti ko dukh mein dekhti hai beti ko dukh mein dikhti hai vaah kabhi bhi shaant nahi baithati vaah hamesha use kuch na kuch salah degi uski madad karegi usko comfort karne ka koshish karegi usko apna best dene ke liye prerit karegi isliye dukh mein hum hamare saath koi nahi rehta na koi bhi nahi rehta sirf ek khamma hi hamare jeevan mein aise maa ya pita bhi boli thi lekin jo maa hai vaah beta kitna bhi galat kyon na ho vaah usko theek karna chahegi chahen vaah kitna hi usne kharab kaam kar le ek baar naaraj ho jayegi lekin kuch aayegi ki mera beta accha ho jaega theek ho jaaye vaah sudhar jaaye toh maa sab aap sab ki nazar mein gir sakte hain maa aapko jhuth zaroor bolegi ki tum mere nazar mein gir gaya ho lekin vaah aapko zaroor uthayegee uthane wali sabse pehle hath jo aayega yah dua ke liye sabse pehle jo hath theka vaah maa ka hi uthega toh dukh mein jo hamesha hamare saath rehti hai vaah kaun hai vaah maa hai aur sukh mein hamare saath jyadatar kaunsi log rehte hain hamare dost hamare aaspass jinako humse kuch chahiye ya hum kaunsi kuch chahiye toh hum itne busy ho jaate hain un logo mein ki maa ka haal hai lekin dukh mein ek hi vyakti jo sadaiv ishwar ko chhodkar jo ek vyakti hai jo hamesha hamare saath rehta hai vaah maa hai isliye dukh mein maa ki yaad aati hai lekin hamein maa ko dukh mein bhi yaad karna chahiye jab sukhay tumko hansi khushi pari phone karke unki seva karni chahiye yaad karna sikho jo jeevan hai vaah ek safal hoga dhanyavad

दुख में मां की याद क्यों आती है और सुख में याद क्यों नहीं आती देखिए यह तो सब एक व्यक्ति 2

Romanized Version
Likes  27  Dislikes    views  312
KooApp_icon
WhatsApp_icon
7 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!