दूसरों की खुशी को देख कर खुश होने वाले को क्या कहते हैं?...


user

Norang sharma

Social Worker

1:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पराया दर्द अपनाए उसे इंसान कहते हैं किसी के काम जो आए उसे इंसान कहते हैं वह कल पर सुन रहे मेरे सभी बुद्धिजीवी श्रोताओं को मेरा प्यार भरा नमस्कार आज का सवाल है दूसरों की खुशी को देखकर खुश होने वाले को क्या कहते हैं दोस्तों ऐसे इंसानों को ही इंसान कहते हैं ऐसे लोगों को भी एक खुशकिस्मत इंसान कहते हैं क्योंकि दोस्तों अपने लिए तो हर कोई लेता है पशु-पक्षी भी जीते हैं बच्चे पैदा करते हैं खाते पीते हैं और मर जाते हैं इसमें नया क्या है इसमें अलग क्या है लेकिन एक इंसान ही है जो दूसरों के लिए अपनी खुशियों को कुर्बान कर सकता है जो दूसरों की खुशी में कुछ हो सकता है तो मुझे लगता है कि हमारे पास एक मौका है एक अवसर है खुद को इंसान साबित करने का क्योंकि दोस्तों जरूरी नहीं है कि दिखने वाला हर इंसान इंसान ही हूं कहीं इंसान के रूप में भी शैतान होती हैं यह वह लोग होते हैं जो दूसरों की खुशी बर्दाश्त नहीं कर सकते बल्कि दूसरों की तकलीफ से उनको अच्छी लगती है उनका मजाक उड़ाते हैं और उस पर खुश होती हैं तो दोस्तों हमें शैतान नहीं बनना चाहिए बल्कि हमें इंसान ही बनना चाहिए और हर जगह संभव मदद दूसरों की हमें करनी चाहिए जब कभी उन्हें हमारी जरूरत हो हम सबसे पहले इंसान हूं अपना हाथ मदद के लिए आगे बढ़ाने वालों में धन्यवाद

paraaya dard apnaye use insaan kehte hain kisi ke kaam jo aaye use insaan kehte hain vaah kal par sun rahe mere sabhi buddhijeevi shrotaon ko mera pyar bhara namaskar aaj ka sawaal hai dusro ki khushi ko dekhkar khush hone waale ko kya kehte hain doston aise insano ko hi insaan kehte hain aise logo ko bhi ek khushkismat insaan kehte hain kyonki doston apne liye toh har koi leta hai pashu pakshi bhi jeete hain bacche paida karte hain khate peete hain aur mar jaate hain isme naya kya hai isme alag kya hai lekin ek insaan hi hai jo dusro ke liye apni khushiyon ko kurban kar sakta hai jo dusro ki khushi me kuch ho sakta hai toh mujhe lagta hai ki hamare paas ek mauka hai ek avsar hai khud ko insaan saabit karne ka kyonki doston zaroori nahi hai ki dikhne vala har insaan insaan hi hoon kahin insaan ke roop me bhi shaitaan hoti hain yah vaah log hote hain jo dusro ki khushi bardaasht nahi kar sakte balki dusro ki takleef se unko achi lagti hai unka mazak udate hain aur us par khush hoti hain toh doston hamein shaitaan nahi banna chahiye balki hamein insaan hi banna chahiye aur har jagah sambhav madad dusro ki hamein karni chahiye jab kabhi unhe hamari zarurat ho hum sabse pehle insaan hoon apna hath madad ke liye aage badhane walon me dhanyavad

पराया दर्द अपनाए उसे इंसान कहते हैं किसी के काम जो आए उसे इंसान कहते हैं वह कल पर सुन रहे

Romanized Version
Likes  100  Dislikes    views  2939
KooApp_icon
WhatsApp_icon
6 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!