दूसरों की खुशी को देख कर खुश होने वाले को क्या कहते हैं?...


user

S Bajpay

Yoga Expert | Beautician & Gharelu Nuskhe Expert

2:03
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

राम जी की आपका प्रश्न दूसरों की खुशी को देख कर खुश होने वाले को क्या कहते हैं तो मैं आपको पहले दुल्हन सुनाऊंगा एक कविता की फिर उसके बाद इस प्रश्न का उत्तर दूंगा इंसान की पहचान है जो पराई आग में जल जाए वही इंसान है अपने लिए जिए तो क्या जिए अपने लिए जिए तो क्या जिए तू जिए दिल जमाने के लिए अपने लिए जिए तो क्या जिए तू दोस्तों दूसरों की खुशी को देख कर खुश होने वाले को सच्चा इंसान को जो दूसरों के काम आए दूसरों के दुख दर्द को दूर करें और उनसे खुश हो जाएं तो खुद खुश हो जाए ऐसे व्यक्ति को इंसान कहते हैं ऐसा ही इंसान वास्तव में इंसान क्या नया लाए थे इंसान वह उस व्यक्ति को मैं इंसान नहीं कहता हूं जो केवल अपने लिए जीता है चरणों में कितने प्रकार के पक्षी है जो अपने बच्चे भी हमने जो हम मनुष्य कहते हैं कि मनुष्य के बाद से विशेष बुद्धि विवेक होता है वो पक्षियों से अलग किसी पक्षियों से मनुष्य को अलग करने वाली चीज है उसकी भावनाएं उसकी संवेदनाएं यूपी दूसरे के दुख से दुखी नहीं होता और दूसरे की खुशी कुछ नहीं होता वह व्यक्ति इंसान नहीं हूं यही आपकी पसंद

ram ji ki aapka prashna dusro ki khushi ko dekh kar khush hone waale ko kya kehte hain toh main aapko pehle dulhan sunaunga ek kavita ki phir uske baad is prashna ka uttar dunga insaan ki pehchaan hai jo parai aag me jal jaaye wahi insaan hai apne liye jiye toh kya jiye apne liye jiye toh kya jiye tu jiye dil jamane ke liye apne liye jiye toh kya jiye tu doston dusro ki khushi ko dekh kar khush hone waale ko saccha insaan ko jo dusro ke kaam aaye dusro ke dukh dard ko dur kare aur unse khush ho jayen toh khud khush ho jaaye aise vyakti ko insaan kehte hain aisa hi insaan vaastav me insaan kya naya laye the insaan vaah us vyakti ko main insaan nahi kahata hoon jo keval apne liye jita hai charno me kitne prakar ke pakshi hai jo apne bacche bhi humne jo hum manushya kehte hain ki manushya ke baad se vishesh buddhi vivek hota hai vo pakshiyo se alag kisi pakshiyo se manushya ko alag karne wali cheez hai uski bhaavnaye uski sanvednaen up dusre ke dukh se dukhi nahi hota aur dusre ki khushi kuch nahi hota vaah vyakti insaan nahi hoon yahi aapki pasand

राम जी की आपका प्रश्न दूसरों की खुशी को देख कर खुश होने वाले को क्या कहते हैं तो मैं आपको

Romanized Version
Likes  325  Dislikes    views  3259
KooApp_icon
WhatsApp_icon
6 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!