खूनी रविवार क्या है ?...


user
0:23
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पुरुष की जाति के बीच उनके बीवी बच्चों के झूलों पर गोलियां बरसाई जिसके कारण हजारों लोगों की जान गई इस दिन की रविवार था इसलिए यह खूनी रविवार के नाम से जाना जाता है

purush ki jati ke beech unke biwi baccho ke jhulon par goliya barsaai jiske karan hazaro logo ki jaan gayi is din ki raviwar tha isliye yah khuni raviwar ke naam se jana jata hai

पुरुष की जाति के बीच उनके बीवी बच्चों के झूलों पर गोलियां बरसाई जिसके कारण हजारों लोगों की

Romanized Version
Likes  17  Dislikes    views  182
WhatsApp_icon
6 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

muneem singh

Self Empolaee

0:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

खूनी रविवार क्या है पूरी जानकारी दें खूनी रविवार प्रदर्शनकारी खूनी रविवार 22 जनवरी उन्नीस सौ पांच को रूस की जार सेना ने शांतिपूर्ण मजदूरों तथा बीवी बच्चों के एक जुलूस पर गोलियां बरसाई जिसके कारण हजारों लोगों की जान गई इस दिन क्योंकि रविवार था इसलिए ही खूनी रविवार के नाम से जाना जाता है

khuni raviwar kya hai puri jaankari de khuni raviwar pradarshankari khuni raviwar 22 january unnis sau paanch ko rus ki jar sena ne shantipurna majduro tatha biwi BA cchon ke ek jhullus par goliya BA rsaai jiske karan hazaro logo ki jaan gayi is din kyonki raviwar tha isliye hi khuni raviwar ke naam se jana jata hai

खूनी रविवार क्या है पूरी जानकारी दें खूनी रविवार प्रदर्शनकारी खूनी रविवार 22 जनवरी उन्नीस

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  188
WhatsApp_icon
user
0:23
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

के प्रश्न का उत्तर है कि खूनी रविवार 22 जनवरी 1950 को रूस की जड़ सेना ने शांतिपूर्ण मजदूरों तथा उनके बीवी बच्चों पर गोलियां बरसाई थी जिसके कारण हजारों हजार लोगों की जान गई थी इस दिन क्योंकि रविवार था इसलिए उस दिन को खूनी रविवार कहा जाता है

ke prashna ka uttar hai ki khuni raviwar 22 january 1950 ko rus ki jad sena ne shantipurna majduro tatha unke biwi BA cchon par goliya BA rsaai thi jiske karan hazaro hazaar logo ki jaan gayi thi is din kyonki raviwar tha isliye us din ko khuni raviwar kaha jata hai

के प्रश्न का उत्तर है कि खूनी रविवार 22 जनवरी 1950 को रूस की जड़ सेना ने शांतिपूर्ण मजदूरो

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  180
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

खूनी रविवार क्या है तो खूनी रविवार 22 जनवरी उन्नीस सौ पांच को एक शांतिपूर्ण जुलूस पर पुलिस द्वारा बर्बरता पूर्ण तरीके से गोलियां बरसाई गई जिसमें हजारों लोग मारे गए यह दिन रविवार का था इसलिए इसे खूनी रविवार कहा जाता है

khuni raviwar kya hai toh khuni raviwar 22 january unnis sau paanch ko ek shantipurna jhullus par police dwara barbarta purn tarike se goliya barsaai gayi jisme hazaro log maare gaye yah din raviwar ka tha isliye ise khuni raviwar kaha jata hai

खूनी रविवार क्या है तो खूनी रविवार 22 जनवरी उन्नीस सौ पांच को एक शांतिपूर्ण जुलूस पर पुलि

Romanized Version
Likes  22  Dislikes    views  583
WhatsApp_icon
play
user

shekhar11

Volunteer

0:06

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

खूनी रविवार की घटना 22 जनवरी उन्नीस सौ पांच में रसिया में हुई थी

khuni raviwar ki ghatna 22 january unnis sau paanch mein rasiya mein hui thi

खूनी रविवार की घटना 22 जनवरी उन्नीस सौ पांच में रसिया में हुई थी

Romanized Version
Likes  15  Dislikes    views  348
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

खूनी रविवार रूस में एक छोटा सा जापान के साथ हार गया इसी के लिए वहां के जन तेने का क्रोध में आकर क्रांति करने लगे रोटी दो कि ना लगाते हुए आगे जा रहे थे सेंट साइमन के आगे जा रहे थे रोटी का नारा लगाते हुए उसके बाद वहां का जान निकलती है राजा ने कहा सभी सैनिकों को दरबार के आगे खड़ा कर दिया उसे गोलियां चलाई गई उसमें हजारों हजार आदमी है या जनता मर गए इसी को लगा रविवार या लाल रविवार खूनी रविवार के नाम से जाना जाता है

khuni raviwar rus mein ek chota sa japan ke saath haar gaya isi ke liye wahan ke jan tene ka krodh mein aakar kranti karne lage roti do ki na lagate hue aage ja rahe the sent simon ke aage ja rahe the roti ka naara lagate hue uske BA ad wahan ka jaan nikalti hai raja ne kaha sabhi sainikon ko darbaar ke aage khada kar diya use goliya chalai gayi usme hazaro hazaar aadmi hai ya janta mar gaye isi ko laga raviwar ya laal raviwar khuni raviwar ke naam se jana jata hai

खूनी रविवार रूस में एक छोटा सा जापान के साथ हार गया इसी के लिए वहां के जन तेने का क्रोध मे

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  399
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
khuni ravivar kab hua ; khuni ravivar kya hai ; khuni ravivar kya hai answer ; khuni ravivar kya tha ; khuni raviwar ; रविवार क्या है ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!