दुःख दुखी क्यों होता है सुख सुखी क्यों होता है?...


user

Gyandeep Kkr

Social Activist

1:30
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह दुख किसी को भी अच्छा नहीं लगता परंतु फिर भी यहां पर दुख है कि इस लोक में हम रहते हैं यहां पर बहुत दुख है वास्तव में हम एक ऐसी सृष्टि से आए हैं जहां पर कोई दुख नहीं ऐसी ही होती है नर नारी करके सृष्टि है परिवार है संतान है सब कुछ है परंतु व्यवस्था नहीं है और मृत्यु नहीं है यानी कि एक बार युवा होने के बाद हम कभी होता नहीं है बिल्कुल सच्चाई है यह सच्चाई बतानी जरूरी भी है क्योंकि हम अज्ञानता में उसकी से वंचित रह जाए तो बताइए हमारे मनुष्य जन्म का क्या फायदा हुआ हमें यह नहीं सोचना चाहिए कि अंधविश्वास है जब प्रमाण देखी जाती है आंखों के सामने तो विश्वास हो जाता है पहले मुझे भी परमात्मा पर इतना विश्वास नहीं था मैंने एक ऐसा ज्ञान देखा जिसमें प्रमाण थी उस ज्ञान को देखने के बाद मन करता है देखते जाए क्योंकि वह सच्चाई उसमें इतनी सच्चाई है कि जो पर मोनू की फिर तो हम सुनते हैं परंतु प्रमाण कहीं नहीं मिला करते थे और अब भी पढ़ सकते हैं यह इतनी रुचि करें प्रमाणित है कि अगर को पढ़ने लग जाओ तो छोड़ने का मन नहीं करता यह पुस्तक मैंने खुद भी पड़ी है आप पढ़ सकते हैं पुस्तक जीने की राह यह सामाजिक आध्यात्मिक ज्ञान से बहुत अच्छी पुस्तक है इसको आप मेरे प्रोफाइल के डिस्क्रिप्शन में जाकर मैंने कॉलिंग किए हुए वहां से जाकर डाउनलोड कर सकते हैं

yah dukh kisi ko bhi accha nahi lagta parantu phir bhi yahan par dukh hai ki is lok me hum rehte hain yahan par bahut dukh hai vaastav me hum ek aisi shrishti se aaye hain jaha par koi dukh nahi aisi hi hoti hai nar nari karke shrishti hai parivar hai santan hai sab kuch hai parantu vyavastha nahi hai aur mrityu nahi hai yani ki ek baar yuva hone ke baad hum kabhi hota nahi hai bilkul sacchai hai yah sacchai batani zaroori bhi hai kyonki hum agyanata me uski se vanchit reh jaaye toh bataiye hamare manushya janam ka kya fayda hua hamein yah nahi sochna chahiye ki andhavishvas hai jab pramaan dekhi jaati hai aakhon ke saamne toh vishwas ho jata hai pehle mujhe bhi paramatma par itna vishwas nahi tha maine ek aisa gyaan dekha jisme pramaan thi us gyaan ko dekhne ke baad man karta hai dekhte jaaye kyonki vaah sacchai usme itni sacchai hai ki jo par monu ki phir toh hum sunte hain parantu pramaan kahin nahi mila karte the aur ab bhi padh sakte hain yah itni ruchi kare pramanit hai ki agar ko padhne lag jao toh chodne ka man nahi karta yah pustak maine khud bhi padi hai aap padh sakte hain pustak jeene ki raah yah samajik aadhyatmik gyaan se bahut achi pustak hai isko aap mere profile ke description me jaakar maine Calling kiye hue wahan se jaakar download kar sakte hain

यह दुख किसी को भी अच्छा नहीं लगता परंतु फिर भी यहां पर दुख है कि इस लोक में हम रहते हैं यह

Romanized Version
Likes  164  Dislikes    views  1769
KooApp_icon
WhatsApp_icon
6 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!