प्रदर्शन या व्याख्यान प्रदर्शन विधि के गुण और अवगुण के बारे में तथा वह प्रदर्शन तथा व्याख्यान विधि के बारे में बताएं?...


user

vedprakash singh

Psychologist

3:21
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका सवाल है प्रदर्शन या व्याख्यान प्रदर्शन विधि उसके गुण दोषों के बारे में बताएं उसके बारे में भी बता दो प्रदर्शन या व्याख्यान प्रदर्शन विधि भारतीय परिस्थितियों के अनुरूप या सर्वाधिक उपयुक्त है सबसे अधिक उपयुक्त है कि व्यवहारिक व उपयोगी बिजी है व्यवहार में भी उपयोग में भी है यह किसी भी वस्तु की रचना व कार्य प्रणाली का वास्तविक रूप में ज्ञान करा दिया विद्यार्थियों को भी रिया के पर्याप्त अवसर दिया जाते हैं जो भी काम कर सकते एक्टिंग कर सकता है रिजेक्ट नहीं प्रतिक्रिया नहीं व्यक्त कर सकता है विद्यार्थी उन्हें प्रश्न पूछने व प्रदर्शन में सहायता देने के लिए कई अवसर होते जितने भी वह कर सके प्रदर्शन दे सके पूछ सके सारे अप्सरा पर चुन्नी कि उसके पास से इसी घटना परिस्थिति वस्तु आदि को दृश्य रूप में विद्यार्थियों के समक्ष प्रदर्शित कर उस स्पष्ट करना इस विधि का उद्देश्य होता जिसे प्रदर्शन या व्याख्यान विधि है उसमें इसमें शिक्षक विद्यार्थियों के समक्ष वस्तु की प्रदर्शित कर स्पष्ट करता है वह समय-समय पर उनकी सहायता लेता अवगुण में बता देता हूं कि प्रदर्शन में व्याख्यान विधि का क्या गुण है पाला है यह मनोवैज्ञानिक सिद्धांत पर आधारित है दूसरा यस समय व धन की दृष्टि से कम खर्चीली है क्योंकि शिक्षक संघ स्पष्ट करता है अतः केवल एक उपकरण की आवश्यकता होती है शिक्षक शीघ्र कुशलता पूर्वक प्रदर्शन कर जटिल विषय वस्तु को स्पष्ट कर लेता है इनसे दूसरा सुनने की अपेक्षा देखी गई वस्तु अधिक समय तक याद रहती है सुन एक अपेक्षा देखी गई थी अधिक याद रखें इससे विद्यार्थियों का अच्छा होता है क्योंकि प्रदर्शन में व्याख्यान की विधि होती है इसलिए चौथा है विद्यार्थी वैज्ञानिक विधि व वैज्ञानिक सत्य की ओर प्रेरित होता है वैज्ञानिक सत्य की ओर प्रेरित होते हैं आप दोस्त मैं बताना चाहूंगा कि प्रदर्शन में व्याख्यान प्रदर्शन भी देखें क्या दोष है पाला है करके सीखने के सिद्धांत की अवहेलना होती है उसके दोस्त हैं करके सीखने खुद नहीं कर सकते प्रैक्टिकल आपको करवाएंगे वह पूछ सकते लेकिन करके नहीं दूसरा विद्यार्थी केवल रुचिकर प्रदर्शन में सक्रिय रहते हैं जो आपकी रुचि है उसी में जिसमें रुचि ने आप कुछ में नहीं आप सक्रिय हो तो ऐसे भी होते हैं इसमें तीसरा इसमें शिक्षक ही सभी कार्यकर्ता शिक्षक केंद्रित विधियां है इसमें बाल केंद्रित विधि नहीं है इसमें शिक्षक केंद्रित विजय क्योंकि बाल केंद्रित विषय में आपको बताया हूं आपको देखना होगा अगला सवाल भी मेरा देख सकते इसमें में बालकनी विधि और शिक्षक केंद्रित विधि के बारे में बताएं तथा इसमें व्यक्तिगत भिन्नता के सिद्धांत की अवहेलना की जाती है एवं सभी अस्त के विद्यार्थी एक ही विधि से विकास करते हैं पांचवा प्रदर्शन पूर्व तैयारी न होने से या उपकरण के खराब होने से शिक्षण कार्य प्रभावी हो जाता है तो प्रदर्शन व्याख्यान विधि भूत ही जगह जरूरी है

aapka sawaal hai pradarshan ya vyakhyan pradarshan vidhi uske gun doshon ke bare mein bataye uske bare mein bhi bata do pradarshan ya vyakhyan pradarshan vidhi bharatiya paristhitiyon ke anurup ya sarvadhik upyukt hai sabse adhik upyukt hai ki vyavaharik va upyogi busy hai vyavhar mein bhi upyog mein bhi hai yah kisi bhi vastu ki rachna va karya pranali ka vastavik roop mein gyaan kara diya vidyarthiyon ko bhi riya ke paryapt avsar diya jaate hain jo bhi kaam kar sakte acting kar sakta hai reject nahi pratikriya nahi vyakt kar sakta hai vidyarthi unhe prashna poochne va pradarshan mein sahayta dene ke liye kai avsar hote jitne bhi vaah kar sake pradarshan de sake puch sake saare apsara par chunni ki uske paas se isi ghatna paristithi vastu aadi ko drishya roop mein vidyarthiyon ke samaksh pradarshit kar us spasht karna is vidhi ka uddeshya hota jise pradarshan ya vyakhyan vidhi hai usme isme shikshak vidyarthiyon ke samaksh vastu ki pradarshit kar spasht karta hai vaah samay samay par unki sahayta leta avgun mein bata deta hoon ki pradarshan mein vyakhyan vidhi ka kya gun hai pala hai yah manovaigyanik siddhant par aadharit hai doosra Yes samay va dhan ki drishti se kam kharchili hai kyonki shikshak sangh spasht karta hai atah keval ek upkaran ki avashyakta hoti hai shikshak shighra kushalata purvak pradarshan kar jatil vishay vastu ko spasht kar leta hai inse doosra sunne ki apeksha dekhi gayi vastu adhik samay tak yaad rehti hai sun ek apeksha dekhi gayi thi adhik yaad rakhen isse vidyarthiyon ka accha hota hai kyonki pradarshan mein vyakhyan ki vidhi hoti hai isliye chautha hai vidyarthi vaigyanik vidhi va vaigyanik satya ki aur prerit hota hai vaigyanik satya ki aur prerit hote hain aap dost main bataana chahunga ki pradarshan mein vyakhyan pradarshan bhi dekhen kya dosh hai pala hai karke sikhne ke siddhant ki avhelna hoti hai uske dost hain karke sikhne khud nahi kar sakte practical aapko karavaenge vaah puch sakte lekin karke nahi doosra vidyarthi keval ruchikar pradarshan mein sakriy rehte hain jo aapki ruchi hai usi mein jisme ruchi ne aap kuch mein nahi aap sakriy ho toh aise bhi hote hain isme teesra isme shikshak hi sabhi karyakarta shikshak kendrit vidhiyan hai isme baal kendrit vidhi nahi hai isme shikshak kendrit vijay kyonki baal kendrit vishay mein aapko bataya hoon aapko dekhna hoga agla sawaal bhi mera dekh sakte isme mein balakani vidhi aur shikshak kendrit vidhi ke bare mein bataye tatha isme vyaktigat bhinnata ke siddhant ki avhelna ki jaati hai evam sabhi ast ke vidyarthi ek hi vidhi se vikas karte hain panchava pradarshan purv taiyari na hone se ya upkaran ke kharab hone se shikshan karya prabhavi ho jata hai toh pradarshan vyakhyan vidhi bhoot hi jagah zaroori hai

आपका सवाल है प्रदर्शन या व्याख्यान प्रदर्शन विधि उसके गुण दोषों के बारे में बताएं उसके बार

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  181
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
pradarshan vidhi ke sopan ; pradarshan vidhi ; प्रदर्शन विधि के प्रवर्तक कौन हैं ; प्रदर्शन विधि ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!