श्राद्ध शिक्षा से आप क्या समझते हैं?...


user
Play

Likes  6  Dislikes    views  148
WhatsApp_icon
14 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

mahendra kumar puram

aassitant teacher

3:06
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो नमस्कार सर शिक्षा से आप क्या समझते हैं श्रद्धा शिक्षा में श्रद्धालुओं बहुत छोटी है जिसे भगवान को मानते हैं तो भगवान को मारने के हमको श्रद्धा जरूर होती है उसी प्रकार एक शिक्षा में भी श्रद्धा विश्वास होना बहुत जरूरी है एक श्रद्धा विश्वास है उनको कोई चीज पढ़ाया जाता है या हम खुद पढ़ते हैं उस पड़ी हुई बातें या कोई आपको बताता है अगर हम उस पर विश्वास नहीं होगा तो पढ़ने से कोई मतलब नहीं है जैसे हम भीमराव अंबेडकर महात्मा गांधी सुभाष चंद्र बोस आदि महा सम्मानित पद सामान्य व्यक्ति है ऐसे लोगों के बारे में हम कहानी से पढ़ते हैं या हम को पढ़ाते हैं अगर उस पर आए हुए बातें या बताइए बातें को अंदर हम विश्वास नहीं करेंगे अगर हम विश्वास नहीं करेंगे तो फिर वह हमको पढ़ने और जानने से कोई मतलब नहीं है ना जब तक हम उस पर विश्वास ना हो श्रद्धा नहीं होगा तब तक हम उसको अपने जीवन में आत्मसात लाकर हमको पालन कैसे कर सकते हैं इसलिए शिक्षा में श्रद्धा विश्वास महात्मा गांधी महात्मा गांधी राष्ट्रपिता राष्ट्रपिता है लेकिन उनके बारे में पड़े कि उसने बचपन से शराब मध्य सेवन नहीं किया अगर हम उससे समाज करेंगे तब बोलेंगे नहीं किया अगर हमने विश्वास नहीं किया श्रद्धा ने किया इसका मतलब है कि हो सकता है झूठ लिखा है हो सकता है चुप चुप के यह सब मध्य सेवन का करता रहा होगा ऐसे हम के बारे में अनावश्यक अनुमान लगाएंगे हमारे शिक्षक या उनके सिवा कोई अच्छी ज्ञान की बातें बताता है जिससे हमको क्या करना हैं कि हमको इस मार्ग में कत्थक विचारों पर चलकर हम अच्छे आदमी बन सकते हैं जैसे हम अगर सदस्य बोलते हैं अगर हम सब लोगों से अच्छा व्यवहार करते हैं तो सामने वाला व्यक्ति प्यार करेगा हमारे साथ अच्छा दोस्त निभाएगा अगर हम इस बातों को हम पुस्तक में पढ़ते हैं और हमारे जीवन में उस बातें करते हमारे पास एनिमल नहीं करेंगे तो हमारे उच्च शिक्षा को कोई महत्व नहीं है उस ऐसे शिक्षकों श्रद्धा शिक्षक नहीं कर सकते हैं और यह हम पढ़ते हैं पुस्तक जो भी हो और उस पड़ी हुई आया सुनी हुई बातों पर शिक्षा पर ज्ञान के बाद हां विश्वास करते हैं और हमारे जीवन में उस लाते हैं तभी वह शिक्षा शिक्षा कहलाएगा बहुत धन्यवाद

hello namaskar sir shiksha se aap kya samajhte hain shraddha shiksha me shraddhaluon bahut choti hai jise bhagwan ko maante hain toh bhagwan ko maarne ke hamko shraddha zaroor hoti hai usi prakar ek shiksha me bhi shraddha vishwas hona bahut zaroori hai ek shraddha vishwas hai unko koi cheez padhaya jata hai ya hum khud padhte hain us padi hui batein ya koi aapko batata hai agar hum us par vishwas nahi hoga toh padhne se koi matlab nahi hai jaise hum bhimrao ambedkar mahatma gandhi subhash chandra bose aadi maha sammanit pad samanya vyakti hai aise logo ke bare me hum kahani se padhte hain ya hum ko padhate hain agar us par aaye hue batein ya bataiye batein ko andar hum vishwas nahi karenge agar hum vishwas nahi karenge toh phir vaah hamko padhne aur jaanne se koi matlab nahi hai na jab tak hum us par vishwas na ho shraddha nahi hoga tab tak hum usko apne jeevan me aatmsat lakar hamko palan kaise kar sakte hain isliye shiksha me shraddha vishwas mahatma gandhi mahatma gandhi rashtrapita rashtrapita hai lekin unke bare me pade ki usne bachpan se sharab madhya seven nahi kiya agar hum usse samaj karenge tab bolenge nahi kiya agar humne vishwas nahi kiya shraddha ne kiya iska matlab hai ki ho sakta hai jhuth likha hai ho sakta hai chup chup ke yah sab madhya seven ka karta raha hoga aise hum ke bare me anavashyak anumaan lagayenge hamare shikshak ya unke siva koi achi gyaan ki batein batata hai jisse hamko kya karna hain ki hamko is marg me katthak vicharon par chalkar hum acche aadmi ban sakte hain jaise hum agar sadasya bolte hain agar hum sab logo se accha vyavhar karte hain toh saamne vala vyakti pyar karega hamare saath accha dost nibhaega agar hum is baaton ko hum pustak me padhte hain aur hamare jeevan me us batein karte hamare paas animal nahi karenge toh hamare ucch shiksha ko koi mahatva nahi hai us aise shikshakon shraddha shikshak nahi kar sakte hain aur yah hum padhte hain pustak jo bhi ho aur us padi hui aaya suni hui baaton par shiksha par gyaan ke baad haan vishwas karte hain aur hamare jeevan me us laate hain tabhi vaah shiksha shiksha kehlaega bahut dhanyavad

हेलो नमस्कार सर शिक्षा से आप क्या समझते हैं श्रद्धा शिक्षा में श्रद्धालुओं बहुत छोटी है जि

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  120
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

किसी मरे हुए व्यक्ति के बारे में बताना

kisi mare hue vyakti ke bare me batana

किसी मरे हुए व्यक्ति के बारे में बताना

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  53
WhatsApp_icon
user
0:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमें शराब का क्वेश्चन है कि 1485 आपके समझते हैं मैं बताना चाहता हूं कि मैं परिवार चाहता हूं कि शिक्षा से क्या समझते हैं परंतु शिक्षा के संबंध में यह कार्य करता है कि 25 शब्द है जिसे मनुष्य की मानसिक शक्तियों का विकास हो

hamein sharab ka question hai ki 1485 aapke samajhte hain main batana chahta hoon ki main parivar chahta hoon ki shiksha se kya samajhte hain parantu shiksha ke sambandh me yah karya karta hai ki 25 shabd hai jise manushya ki mansik shaktiyon ka vikas ho

हमें शराब का क्वेश्चन है कि 1485 आपके समझते हैं मैं बताना चाहता हूं कि मैं परिवार चाहता हू

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  113
WhatsApp_icon
user

tej

Teacher

0:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सर आपदा में सदस्यता से आप क्या समझते हैं संडे को बच्चों को कहते हैं मंच शिक्षा शिक्षा शिक्षा

sir aapda me sadasyata se aap kya samajhte hain sunday ko baccho ko kehte hain manch shiksha shiksha shiksha

सर आपदा में सदस्यता से आप क्या समझते हैं संडे को बच्चों को कहते हैं मंच शिक्षा शिक्षा शिक्

Romanized Version
Likes  17  Dislikes    views  216
WhatsApp_icon
user
0:34
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कि आपने पूछा किस रात शिक्षा से आप क्या समझते हैं आपको दिए भी सीखना सिखाना शिक्षा के व्यापक तथा विद्युत मुझे कुछ अच्छे समाज में एक निश्चित समय पर निश्चित स्थान स्थानों विद्यालय महाविद्यालय में सुनियोजित ढंग से चलने वाली एक संदेश सामाजिक प्रक्रिया है जिसके द्वारा विद्यार्थी निश्चित पाठ्यक्रम को पढ़कर मंदिर अपेक्षा को उज्जैन करना सीखता है धन्यवाद

ki aapne poocha kis raat shiksha se aap kya samajhte hain aapko diye bhi sikhna sikhaana shiksha ke vyapak tatha vidyut mujhe kuch acche samaj me ek nishchit samay par nishchit sthan sthano vidyalaya mahavidyalaya me suniyojit dhang se chalne wali ek sandesh samajik prakriya hai jiske dwara vidyarthi nishchit pathyakram ko padhakar mandir apeksha ko ujjain karna sikhata hai dhanyavad

कि आपने पूछा किस रात शिक्षा से आप क्या समझते हैं आपको दिए भी सीखना सिखाना शिक्षा के व्यापक

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  112
WhatsApp_icon
user

Shalini

Teacher(Hindi /Sanskrit)

0:25
Play

Likes  5  Dislikes    views  123
WhatsApp_icon
user

Shivendra Pratap Singh

Engineer , Assistant Professor

0:24
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हिंदू धर्म में श्राद्ध को बहुत ही ऊंचा स्थान दिया गया है हिंदू धर्म में माना गया है कि हमारे पित्रे तब तक नहीं करते हैं जब तक कि उस घर का मनुष्य यानी कि पुरुष अपने हाथों से उसके प्रत्यर्पण ना करदे स्थित राज्य शिक्षा का हमारे बच्चों को देना बहुत ही जरूरी है

hindu dharm mein shraddh ko bahut hi uncha sthan diya gaya hai hindu dharm mein mana gaya hai ki hamare pitre tab tak nahi karte hain jab tak ki us ghar ka manushya yani ki purush apne hathon se uske pratyarpan na karde sthit rajya shiksha ka hamare baccho ko dena bahut hi zaroori hai

हिंदू धर्म में श्राद्ध को बहुत ही ऊंचा स्थान दिया गया है हिंदू धर्म में माना गया है कि हमा

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  64
WhatsApp_icon
user
1:10
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका सवाल यशराज शिक्षा से आप क्या समझते हैं श्राद्ध एक ऐसा कर्म है जो इंसान की मृत्यु के बाद उसके परिवार के सदस्य उसकी आत्मा की शांति के लिए करते हैं यह एक ऐसा हिंदू संस्कृति का एक कर्म है जिसे करना अनिवार्य होता है जब घर के किसी बुजुर्ग की मृत्यु होती है तो उसके परिवार के पुरुष वर्ग के जो सदस्य होते हैं पुत्र पौत्र वह इस कर्म को किसी नदी के तट पर जाकर के किसी पवित्र नदी के तट पर जाकर के ब्राह्मणों से करवाते हैं इसका नाम श्राद्ध श्राद्ध करने से पितरों की शांति मिलती है मरे हुए जो बुजुर्ग हमारे परिवार के उन को शांति मिलती है इसलिए साथ गर्म किया जाता है और इसे करना अनिवार्य भी हिंदू संस्कृति के अनुसार है इसे अपराध शिक्षा कहते हैं इसका ज्ञान आदमी आने वाली पीढ़ी को यदि दिया जाए तो यह कारण वह अपने पूर्वजों के लिए सदा करते रहेंगे

aapka sawaal yashraj shiksha se aap kya samajhte hain shraddh ek aisa karm hai jo insaan ki mrityu ke baad uske parivar ke sadasya uski aatma ki shanti ke liye karte hain yah ek aisa hindu sanskriti ka ek karm hai jise karna anivarya hota hai jab ghar ke kisi bujurg ki mrityu hoti hai toh uske parivar ke purush varg ke jo sadasya hote hain putra potra vaah is karm ko kisi nadi ke tat par jaakar ke kisi pavitra nadi ke tat par jaakar ke brahmanon se karwaate hain iska naam shraddh shraddh karne se pitaron ki shanti milti hai mare hue jo bujurg hamare parivar ke un ko shanti milti hai isliye saath garam kiya jata hai aur ise karna anivarya bhi hindu sanskriti ke anusaar hai ise apradh shiksha kehte hain iska gyaan aadmi aane wali peedhi ko yadi diya jaaye toh yah karan vaah apne purvajon ke liye sada karte rahenge

आपका सवाल यशराज शिक्षा से आप क्या समझते हैं श्राद्ध एक ऐसा कर्म है जो इंसान की मृत्यु के ब

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  171
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

श्रद्धा ही शिक्षा है उसे जाहिर होता है सही मन से पढ़ाई करोगे तो आगे बढ़ आओगे

shraddha hi shiksha hai use jaahir hota hai sahi man se padhai karoge toh aage badh aaoge

श्रद्धा ही शिक्षा है उसे जाहिर होता है सही मन से पढ़ाई करोगे तो आगे बढ़ आओगे

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  112
WhatsApp_icon
play
user

Rahul Raj

Teacher

0:59

Likes  4  Dislikes    views  120
WhatsApp_icon
user

SUNILRANA

Teacher

0:39
Play

Likes  5  Dislikes    views  165
WhatsApp_icon
user
0:54
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

श्रद्धा शिक्षा जिसको हल्दी का पोज कहते हैं अगर आप शब्दों को देख कर इनको श्रद्धा भी भाव प्रकट करते हो तो जो ग्राफी को हिंदी में भूगोल कहते हैं धरती को लेनी कोई तो वह होती है धरती गोल है अगर आप हमारी आरती है ओम जय जगदीश हरे शब्द आता है जगत पिता जगदीश्वर तुम सबके सामने जगदीश में गति हो गणेश नगर आप श्रद्धा से पड़ेंगे गीता के श्लोकों से लेकर हर चीज को तो आपका जो आत्मानुशासन है और जो आपका एकाग्रता है भाषा बढ़ जाती है

shraddha shiksha jisko haldi ka pawege kehte hain agar aap shabdon ko dekh kar inko shraddha bhi bhav prakat karte ho toh jo graafi ko hindi me bhugol kehte hain dharti ko leni koi toh vaah hoti hai dharti gol hai agar aap hamari aarti hai om jai jagdish hare shabd aata hai jagat pita jagadishwar tum sabke saamne jagdish me gati ho ganesh nagar aap shraddha se padenge geeta ke shlokon se lekar har cheez ko toh aapka jo atmanushasan hai aur jo aapka ekagrata hai bhasha badh jaati hai

श्रद्धा शिक्षा जिसको हल्दी का पोज कहते हैं अगर आप शब्दों को देख कर इनको श्रद्धा भी भाव प्र

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  100
WhatsApp_icon
user
0:28
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पूर्वजों के लिए किया गया श्राद्ध श्राद्ध शिक्षा होती है

purvajon ke liye kiya gaya shraddh shraddh shiksha hoti hai

पूर्वजों के लिए किया गया श्राद्ध श्राद्ध शिक्षा होती है

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  109
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!