भारत और ईरान के क्या स्थिति है?...


play
user

Ranjeet Singh Uppal

Retired GM ONGC

3:11

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत और ईरान के संबंध सदियों पुराने हैं और दोनों के काफी अच्छे संबंध रहे हैं दोनों के बीच का व्यापार साल तक करीब 2000 करोड़ का होता था 17 अट्ठारह में हमने करीब 22 मिलियन टन से ज्यादा कच्चे तेल का आयात किया था हम चावल दवाई और मशीन की गदर है उसको मेरे याद कर रहे थे और हमने ईरान के साथ एक समझौता किया था चाबहार बंदरगाह को डिवेलप करेंगे और वह हमारे नियंत्रण में रहेगा वह बंदर का मिलने से भारत का एक रास्ता खुल जाता व्यापार के लिए और हम अफगानिस्तान की भी मदद कर पाते क्योंकि अफगानिस्तान के पास में कोई बंदरगाह नहीं है तो पाकिस्तान के बंदरगाहों के ऊपर निर्भर करना पड़ता है अपना सामान भेजने और लाने के लिए लेकिन यह बंदर का होने से अफगानिस्तान का माल सीधा चाबहार बंदरगाह पर आ भी सकता था और जा भी सकता है परंतु पहले ओबामा ने प्रतिबंध लगाए थे ईरान के साथ तो हमारा व्यापार काफी कम हो गया था उसके पश्चात 2015 में वह प्रतिबंध हटा लिए गए थे परमाणु समझौता हो गया था ईरान और अमेरिका के बीच में लेकिन बाद में ट्रंप के आने के पश्चात ट्रंप ने उस समझौते को खत्म कर दिया और दोबारा फिर इरान के ऊपर प्रतिबंध लगाने की घोषणा की इरान से जो हम कच्चा तेल लेते थे उसमें बहुत हमारे को रियायतें मिलती थी जो कच्चे तेल का भुगतान होता था वह हमको डॉलर में ना करके रुपए में करना पड़ता था जिससे हमारा रुपया रह सकता था भुगतान के लिए 60 दिन का अतिरिक्त समय हमको इरान देता था इसके अलावा मुफ्त बीमा देता था मुक्त शूटिंग भी देता था तो यह हमारे को बहुत पहले थे जो अब अमरीका के प्रतिबंध के कारण खत्म हो गए हैं धीरे-धीरे हमने कच्चे तेल का निर्यात घटाकर ईरान से जीरो कर दिया है हालांकि भारत चाहता है कि फिर से स्थिति सुधरे और भारत मध्यस्थ का काम करने की कोशिश करता रहता है इरान और अमेरिका के बीच में परंतु अभी वह संभव नहीं दिखता हो सकता ट्रंप के इलेक्शन के बाद जब दोबारा आए तब कुछ स्थिति सुधरी तब तक तो हमारा व्यापार बढ़ना मुश्किल ही है ईरान का कहना है भारत जो चाहता है वह कर नहीं पा रहा है ईरान भी समझता है हम नहीं चाहते हो उसके ऊपर प्रतिबंध लगे लेकिन कुछ कर नहीं पा रहे हैं धन्यवाद

bharat aur iran ke sambandh sadiyon purane hain aur dono ke kaafi acche sambandh rahe hain dono ke beech ka vyapar saal tak kareeb 2000 crore ka hota tha 17 attharah me humne kareeb 22 million ton se zyada kacche tel ka ayat kiya tha hum chawal dawai aur machine ki gadar hai usko mere yaad kar rahe the aur humne iran ke saath ek samjhauta kiya tha chabahar bandargah ko develop karenge aur vaah hamare niyantran me rahega vaah bandar ka milne se bharat ka ek rasta khul jata vyapar ke liye aur hum afghanistan ki bhi madad kar paate kyonki afghanistan ke paas me koi bandargah nahi hai toh pakistan ke bandaragaahon ke upar nirbhar karna padta hai apna saamaan bhejne aur lane ke liye lekin yah bandar ka hone se afghanistan ka maal seedha chabahar bandargah par aa bhi sakta tha aur ja bhi sakta hai parantu pehle obama ne pratibandh lagaye the iran ke saath toh hamara vyapar kaafi kam ho gaya tha uske pashchat 2015 me vaah pratibandh hata liye gaye the parmanu samjhauta ho gaya tha iran aur america ke beech me lekin baad me trump ke aane ke pashchat trump ne us samjhaute ko khatam kar diya aur dobara phir iran ke upar pratibandh lagane ki ghoshana ki iran se jo hum kaccha tel lete the usme bahut hamare ko riyayaten milti thi jo kacche tel ka bhugtan hota tha vaah hamko dollar me na karke rupaye me karna padta tha jisse hamara rupya reh sakta tha bhugtan ke liye 60 din ka atirikt samay hamko iran deta tha iske alava muft bima deta tha mukt shooting bhi deta tha toh yah hamare ko bahut pehle the jo ab america ke pratibandh ke karan khatam ho gaye hain dhire dhire humne kacche tel ka niryat ghatakar iran se zero kar diya hai halaki bharat chahta hai ki phir se sthiti sudhre aur bharat madhyasth ka kaam karne ki koshish karta rehta hai iran aur america ke beech me parantu abhi vaah sambhav nahi dikhta ho sakta trump ke election ke baad jab dobara aaye tab kuch sthiti sudhari tab tak toh hamara vyapar badhana mushkil hi hai iran ka kehna hai bharat jo chahta hai vaah kar nahi paa raha hai iran bhi samajhata hai hum nahi chahte ho uske upar pratibandh lage lekin kuch kar nahi paa rahe hain dhanyavad

भारत और ईरान के संबंध सदियों पुराने हैं और दोनों के काफी अच्छे संबंध रहे हैं दोनों के बीच

Romanized Version
Likes  118  Dislikes    views  883
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!