काम के दौरान तनाव का प्रबंधन कैसे करें और इसे व्यक्तिगत जीवन को प्रभावित कैसे न होने दें? ...


user

Sujata Mukherjee

Award-winning Interior Designer

1:16
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हां यही मैं बोल रही थी बैलेंस यह बैलेंस अपने आप में लाना चाहिए मैं नहीं बोलूंगी कि ईमान से बैलेंस रहता है पहले पहले ऐसा होता है कि काम का प्रेशर पर्सनल चेक करता है लेकिन अगर आप चाहते हो कि आप एक हैप्पी लाइफ बीट करना चाहते हो आप एक प्रोफेशनली साउंड और र पर्सनल लाइफ में भी एक साउंड लाइफ आगे लेकर जाना चाहते हैं तो वह बैलेंस अपने ले आना पड़ेगा आपको सोचना पड़ेगा कि कितना टेंशन में घर में नहीं आ सकती हूं प्रोफेशनल टेंशन टेंशन कितना सकती हूं ताकि मेरा पर्सनल लाइफ कुछ तो आपको अपने आप को माफ करना पड़ेगा और कुछ है कि कुछ बात से जो आपको वेट करना पड़ेगा तो यह सब अपने आप में तैयार हो जाता है विद टाइम एंड प्रोडक्शन और दूसरा बात यह है कि हां शायद मेरा प्रसाद पर्सनल मैसेज करें उसको उसके ऊपर काम करना भी हम लोग का ही एक जगह होता है कि हम लोग को सोचना पड़ेगा कि कितना यहां तक ठीक है ऑनलाइन जो है वह हम लोग को तैयार करना पड़ेगा होता है

haan yahi main bol rahi thi balance yah balance apne aap mein lana chahiye main nahi bolungi ki iman se balance rehta hai pehle pehle aisa hota hai ki kaam ka pressure personal check karta hai lekin agar aap chahte ho ki aap ek happy life beat karna chahte ho aap ek professionally sound aur r personal life mein bhi ek sound life aage lekar jana chahte hain toh vaah balance apne le aana padega aapko sochna padega ki kitna tension mein ghar mein nahi aa sakti hoon professional tension tension kitna sakti hoon taki mera personal life kuch toh aapko apne aap ko maaf karna padega aur kuch hai ki kuch baat se jo aapko wait karna padega toh yah sab apne aap mein taiyar ho jata hai with time and production aur doosra baat yah hai ki haan shayad mera prasad personal massage kare usko uske upar kaam karna bhi hum log ka hi ek jagah hota hai ki hum log ko sochna padega ki kitna yahan tak theek hai online jo hai vaah hum log ko taiyar karna padega hota hai

हां यही मैं बोल रही थी बैलेंस यह बैलेंस अपने आप में लाना चाहिए मैं नहीं बोलूंगी कि ईमान से

Romanized Version
Likes  16  Dislikes    views  478
KooApp_icon
WhatsApp_icon
5 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!