एक आर्किटेक्ट की तुलना में एक इंटीरियर डिजाइनर का जीवन समान या थोड़ा अधिक कठिन है?...


user

Sujata Mukherjee

Award-winning Interior Designer

2:04
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आदि के दोनों की नई स्टाइल कुछ जगह तक सीमित होता है और कुछ जगह डिसमिल होता है एक आर्किटेक्ट जो होते हैं वह फाउंडेशन को खड़ा खड़ा करते वह जो बिल्डिंग एंड कंस्ट्रक्शन है उसको खड़ा करते हैं लेकिन इन दिनों जो होता है वह लेकिन देवांशी उसके साथ जुड़े रहते हैं जब कोई भी अगर आप कोई भी सिटी कंस्ट्रक्शन के बारे में बात करें कंस्ट्रक्शन हो तो पहले दिन से लेकर आना कभी प्लान आर्किटेक्ट के प्लान के साथ एक साथ आगे बढ़ता है ऐसा नहीं है कि आर्किटेक्ट अपना पूरा कंस्ट्रक्शन खड़ा कर दिया फिर इंटीरियर आते हैं यहां पर कोई ऐसी की बड़ा कोई होटल के बारे में आप ले लीजिए या फिर सारे डिटेल्स और जो भी बड़े अभी जोक्स अनुपात में क्या होता है मार्केटिंग दोनों को एक साथ काम करना पड़ता है तो आज की डेट का काम होता है कंस्ट्रक्शन को फुल फ्लैशली खड़ा कर देना और इंटीरियर डिजाइनर का काम होता है कि जो स्पेशलाइज काम है अंदर का काम ऐसा नहीं कि विकसित करने का काम ही करते डिजाइन बाहर का भी बहुत सारा काम करते हैं बिल्डिंग का दुख है उसमें भी इनकी रेट दिखाना उसका बहुत इंपॉर्टेंट है रहता है वह भी अपना उसका अवदान रहता है और जैसे कि लैंडस्केप लाइनिंग कार्ड कैसा होगा बाहर का लुक कैसा होगा रास्ता कैसा होगा यह सब लिख इन इंटीरियर डिजाइन का कौनसे-कौनसे प्लानिंग से लगता है कि दोनों इंपॉर्टेंट डिजाइनिंग के लिए

aadi ke dono ki nayi style kuch jagah tak simit hota hai aur kuch jagah decimal hota hai ek architect jo hote hain vaah foundation ko khada khada karte vaah jo building and construction hai usko khada karte hain lekin in dino jo hota hai vaah lekin devanshi uske saath jude rehte hain jab koi bhi agar aap koi bhi city construction ke bare mein baat kare construction ho toh pehle din se lekar aana kabhi plan architect ke plan ke saath ek saath aage badhta hai aisa nahi hai ki architect apna pura construction khada kar diya phir interior aate hain yahan par koi aisi ki bada koi hotel ke bare mein aap le lijiye ya phir saare details aur jo bhi bade abhi jokes anupat mein kya hota hai marketing dono ko ek saath kaam karna padta hai toh aaj ki date ka kaam hota hai construction ko full flaishali khada kar dena aur interior designer ka kaam hota hai ki jo specialize kaam hai andar ka kaam aisa nahi ki viksit karne ka kaam hi karte design bahar ka bhi bahut saara kaam karte hain building ka dukh hai usme bhi inki rate dikhana uska bahut important hai rehta hai vaah bhi apna uska avadan rehta hai aur jaise ki landscape lining card kaisa hoga bahar ka look kaisa hoga rasta kaisa hoga yah sab likh in interior design ka kaunsi kaun se planning se lagta hai ki dono important designing ke liye

आदि के दोनों की नई स्टाइल कुछ जगह तक सीमित होता है और कुछ जगह डिसमिल होता है एक आर्किटेक्ट

Romanized Version
Likes  15  Dislikes    views  365
WhatsApp_icon
1 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!