इंटीरियर डिजाइनरों को महंगा कहा जाता है, ऐसे में इनकी सेवाएं छोटे शहरों में कैसे उपलब्ध कराइ जा सकती हैं?...


user

Sujata Mukherjee

Award-winning Interior Designer

1:37
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए मैं खुद एक का सेमी अर्बन जरा में काम कर रही हूं और आज की डेट में मैं लेकिन इस जन्म में पूछ कर चुकी हूं कि इंटीरियर डिजाइनर्स तो हर वक्त महंगा नहीं होते हैं हां यह होता है अलग बात है कि ईद पहला तो यह बोलो कि मैं कि इंटीरियर डिजाइनिंग और डिजाइनर अगर आप उसको कोई काम है उसको उसका कोई लिमिट नहीं रहता वह बहुत ज्यादा भी हो सकता है और आपका जो बजट है उसमें भी सीख कर सकता है तो यह डिपेंड करता है कस्टमर के ऊपर कि वह क्या चाहते हैं जैकलिन और इंटीरियर डिजाइनर डिजाइनर लोग कभी भी कोई खर्चा बढ़ाते नहीं है वह घट आते हैं यह कॉल राम कथा की डिजाइनें मतलबी खर्चा बड़ा है तो समझ में आ रहा है सब काम कर रहे हैं इस जगह में पढ़ाई किए हैं उन्हें इस बारे में वह कांट्रेक्टर दिया मिस्ट्री जैसे करना है मैं खुद सेमी अर्बन जरा में काम करके इतना तो बोल सकती हूं कि कौन सीट चेंज हो रहा है आज के डेट में हम लोग को बहुत ज्यादा बुलाया जा रहा है बहुत जगह में ऐसे इंसान भी है जो बहुत नॉमिनल खर्चा में काम करवाना चाहते हैं लेकिन डिजाइनर से जो काम करवाना चाहते क्योंकि उन्हें वह समझ आ गया है कि डिजाइन अगर काम करेंगे तो वह बहुत अच्छे मैटिक होगा बहुत सुंदर होगा वह बहुत कॉस्ट इफेक्टिव भी होगा तो यही बात है

dekhiye main khud ek ka semi urban zara mein kaam kar rahi hoon aur aaj ki date mein main lekin is janam mein puch kar chuki hoon ki interior designers toh har waqt mehnga nahi hote hain haan yah hota hai alag baat hai ki eid pehla toh yah bolo ki main ki interior designing aur designer agar aap usko koi kaam hai usko uska koi limit nahi rehta vaah bahut zyada bhi ho sakta hai aur aapka jo budget hai usme bhi seekh kar sakta hai toh yah depend karta hai customer ke upar ki vaah kya chahte hain jacqueline aur interior designer designer log kabhi bhi koi kharcha badhate nahi hai vaah ghat aate hain yah call ram katha ki dijainen matlabi kharcha bada hai toh samajh mein aa raha hai sab kaam kar rahe hain is jagah mein padhai kiye hain unhe is bare mein vaah contractor diya mystery jaise karna hai khud semi urban zara mein kaam karke itna toh bol sakti hoon ki kaun seat change ho raha hai aaj ke date mein hum log ko bahut zyada bulaya ja raha hai bahut jagah mein aise insaan bhi hai jo bahut nominal kharcha mein kaam karwana chahte hain lekin designer se jo kaam karwana chahte kyonki unhe vaah samajh aa gaya hai ki design agar kaam karenge toh vaah bahut acche matic hoga bahut sundar hoga vaah bahut cost effective bhi hoga toh yahi baat hai

देखिए मैं खुद एक का सेमी अर्बन जरा में काम कर रही हूं और आज की डेट में मैं लेकिन इस जन्म म

Romanized Version
Likes  16  Dislikes    views  393
WhatsApp_icon
1 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!