माता-पिता आजकल अपने बच्चों को इंजीनियरिंग और चिकित्सा जैसे करियर लेने के लिए मजबूर करते हैं। उनपर दबाव डालने की बजाय क्या उन्हें अपने बच्चों को उनके सपनों का पालन करने में मदद नहीं करनी चाहिए?...


user

Sujata Mukherjee

Award-winning Interior Designer

2:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

माता-पिता को जो बोलोगी वह यह है कि आपका बच्चा अगर कुछ चीज में या फिर कुछ फील्ड में बहुत इंटरेस्टेड है तो उसको उसी के साथ आगे जाने दो कि शायद वह उसका चॉइस है सब बच्चे तो इंजीनियर नहीं बन सकते सब बच्चे डॉक्टर नहीं मान सकते ऐसा भी बहुत सील है जहां पर आपका बच्चा लेकिन बहुत अच्छा फ्रिज कर सकता है क्योंकि शायद वो जो कौन से कई गुण है वह उसके अंदर में ऑलरेडी है तो एक बच्चा बहुत अच्छा समझ लेता है कि उसको क्या करना है आगे जाकर पेरेंट्स लोग को मैं तो इसका बहुत एंटी हूं कि पैरंट्स लोगों कभी कुछ कुछ नहीं करना चाहिए आप अपने आप बच्चे के ऊपर कि नहीं यही करना है वह करना क्योंकि एक बच्चा ज्यादा अच्छा समझता है कि उसको क्या करना है एंड सेकेंड्ली मुझे लगता है अभी थोड़ा चेंज हो रहा है अभी बैलेंस लोग को थोड़ा लिबरल भी हो रहे हैं थोड़ा वाइट हो रहे हैं उनका कौन सी फ्लाइट हो रहा है मुझे लगता है कि जैसा कि कौन जीता आज बहुत दिमाग है और अगर आप अच्छे से अपना जगह को अगर आगे ले जा सकते हो आपका बहुत योर सोसाइटी में आप अपनी एक जरा भी क्रिएट कर सकते हो एंड रिस्पेक्ट है जो इंसान को चाहिए सब कुछ लेकिन इस प्रोफेशन भी प्रवाहित करते हैं वॉटरॉन्क्लिक साउंड हो सकते हैं आप इतने अपना सोसाइटी में आपको मिल सकता है आपकी सबसे बड़ी बात है आप शादी सेट हो सकते हो आज मेरा मन है कि मुझे यह प्रोफेशन लेकर आगे जाना है अगर मैं उसी प्रोफेशन में आगे जाओ और अच्छा करो तो यह साथी सब से बहुत बड़ी बात होता है कि मैं अपने अंदर जो दिल है जो इच्छा है उसको मैं मार के कुछ नहीं कर रही हो ओके मैं उसके उस को आगे लेकर जा रही हो तो यह सब कुछ अलग होता है मुझे लगता कि यह तो होना चाहिए आज के लिए माता-पिता लोग को इतना तो समझ आना चाहिए कि जो भी उसके उनके बच्चे लोग चाहते हैं उनको आगे जाने दो अभी बहुत तो दुनिया में बहुत सारे फैशन सब प्रोफैशंस में यदि कोई सिम से लिए आगे जाए तो वह अपना मत बना सकते हैं सोसाइटी में

mata pita ko jo bologi vaah yah hai ki aapka baccha agar kuch cheez mein ya phir kuch field mein bahut interested hai toh usko usi ke saath aage jaane do ki shayad vaah uska choice hai sab bacche toh engineer nahi ban sakte sab bacche doctor nahi maan sakte aisa bhi bahut seal hai jaha par aapka baccha lekin bahut accha fridge kar sakta hai kyonki shayad vo jo kaunsi kai gun hai vaah uske andar mein already hai toh ek baccha bahut accha samajh leta hai ki usko kya karna hai aage jaakar parents log ko main toh iska bahut anti hoon ki Parents logo kabhi kuch kuch nahi karna chahiye aap apne aap bacche ke upar ki nahi yahi karna hai vaah karna kyonki ek baccha zyada accha samajhata hai ki usko kya karna hai and sekendli mujhe lagta hai abhi thoda change ho raha hai abhi balance log ko thoda liberal bhi ho rahe hain thoda white ho rahe hain unka kaun si flight ho raha hai mujhe lagta hai ki jaisa ki kaun jita aaj bahut dimag hai aur agar aap acche se apna jagah ko agar aage le ja sakte ho aapka bahut your society mein aap apni ek zara bhi create kar sakte ho and respect hai jo insaan ko chahiye sab kuch lekin is profession bhi pravahit karte hain vatranklik sound ho sakte hain aap itne apna society mein aapko mil sakta hai aapki sabse badi baat hai aap shadi set ho sakte ho aaj mera man hai ki mujhe yah profession lekar aage jana hai agar main usi profession mein aage jao aur accha karo toh yah sathi sab se bahut badi baat hota hai ki main apne andar jo dil hai jo iccha hai usko main maar ke kuch nahi kar rahi ho ok main uske us ko aage lekar ja rahi ho toh yah sab kuch alag hota hai mujhe lagta ki yah toh hona chahiye aaj ke liye mata pita log ko itna toh samajh aana chahiye ki jo bhi uske unke bacche log chahte hain unko aage jaane do abhi bahut toh duniya mein bahut saare fashion sab profaishans mein yadi koi sim se liye aage jaaye toh vaah apna mat bana sakte hain society mein

माता-पिता को जो बोलोगी वह यह है कि आपका बच्चा अगर कुछ चीज में या फिर कुछ फील्ड में बहुत इं

Romanized Version
Likes  21  Dislikes    views  420
WhatsApp_icon
6 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Anita Maurya

कवियित्री & गायिकी

2:08
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हां मैं आपकी बात से सहमत हूं क्या होता है ना कि जो मां-बाप होते हैं ना उनकी भी कुछ इच्छाएं होती है जिन्हें हालात के अनुसार वह सफल नहीं होते हैं जो उनकी इच्छा होती है मां की हो जाए पिता की हो जो एक चैन की अधूरी रह जाती है जैसे मान लीजिए एक पिता है वह चाहता था मैं बहुत बड़ा इंजीनियर बनूं मैं बहुत ज्यादा पढ़ाई करूं किसी कारणवश उसकी पढ़ाई नहीं हो पाती है वह इंजीनियर नहीं बन पाया ऐसी दशा में वह बच्चों पर दबाव डालकर ही सोचता है कि तू सपना मेरा दिन पूरा वह मैं अपने बच्चों को वही चीज बनते हुए देखकर उसे खुशी मिलती है यही स्थिति मां की भी होती है पार्टी के मां चाहती हो कि मैं बहुत पर घर के परिवार के बड़े धनवान घर कि मैं बहू बनो या माल की मैनू और किसी कारणवश वैसा नहीं हो पाती तो वह सोचती मैं अपनी लड़की को काबिल बनाओ कि बड़े परिवार में उसकी शादी करूं धना धन दौलत सब कुछ और रही बात तो आपने पूछा है कि दबाव वैसे यह भी सच है कि दवा बच्चों पर नहीं डालना चाहिए क्योंकि हालांकि संस्कार की वजह से बच्चा मां बाप की कुछ जगह ध्यान रखता है हमेशा लेकिन फिर भी संगत के अनुसार इस जमाने के अनुसार कैसा समय चल रहा है उसके आधार पर बदलाव आ जाता है तो माता-पिता को भी दबाव नहीं डालना चाहिए लेकिन यह बच्चे की रुचि जिसमें बच्चा जिस चीज में होशियार हो या उसका दिल या दिमाग ज्यादा से ज्यादा काम कर रहा हो उसने बच्चों के माता-पिता को बच्चों पर ध्यान देना चाहिए कि उसमें उसकी ज्यादा सब अरुचि है यह जिसमें ज्यादा योग्य है काबिल है या जिस चीज को ढंग से कर सकता उस दिशा में बच्चे को ले जाना चाहिए अपनी आधी अधूरी ख्वाहिशें बच्चों में पूरी करने की दबाव नहीं डालना चाहिए

haan main aapki baat se sahmat hoon kya hota hai na ki jo maa baap hote hain na unki bhi kuch ichhaen hoti hai jinhen haalaat ke anusaar vaah safal nahi hote hain jo unki iccha hoti hai maa ki ho jaaye pita ki ho jo ek chain ki adhuri reh jaati hai jaise maan lijiye ek pita hai vaah chahta tha main bahut bada engineer banun main bahut zyada padhai karu kisi karanvash uski padhai nahi ho pati hai vaah engineer nahi ban paya aisi dasha mein vaah baccho par dabaav dalkar hi sochta hai ki tu sapna mera din pura vaah main apne baccho ko wahi cheez bante hue dekhkar use khushi milti hai yahi sthiti maa ki bhi hoti hai party ke maa chahti ho ki main bahut par ghar ke parivar ke bade dhanwan ghar ki main bahu bano ya maal ki mainu aur kisi karanvash waisa nahi ho pati toh vaah sochti main apni ladki ko kaabil banao ki bade parivar mein uski shadi karu dhana dhan daulat sab kuch aur rahi baat toh aapne poocha hai ki dabaav waise yah bhi sach hai ki dawa baccho par nahi dalna chahiye kyonki halaki sanskar ki wajah se baccha maa baap ki kuch jagah dhyan rakhta hai hamesha lekin phir bhi sangat ke anusaar is jamane ke anusaar kaisa samay chal raha hai uske aadhar par badlav aa jata hai toh mata pita ko bhi dabaav nahi dalna chahiye lekin yah bacche ki ruchi jisme baccha jis cheez mein hoshiyar ho ya uska dil ya dimag zyada se zyada kaam kar raha ho usne baccho ke mata pita ko baccho par dhyan dena chahiye ki usme uski zyada sab aruchi hai yah jisme zyada yogya hai kaabil hai ya jis cheez ko dhang se kar sakta us disha mein bacche ko le jana chahiye apni aadhi adhuri khwahishen baccho mein puri karne ki dabaav nahi dalna chahiye

हां मैं आपकी बात से सहमत हूं क्या होता है ना कि जो मां-बाप होते हैं ना उनकी भी कुछ इच्छाएं

Romanized Version
Likes  44  Dislikes    views  759
WhatsApp_icon
user

Mr Gautam

Business Owner

2:12
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दोस्तों नमस्कार मैं आपको दोस्त मिस्टर गौतम यह बिल्कुल सही है कि आज जो आज का टाइम है जब प्रजेंट टाइम है उसमें जो माता-पिता हैं ज्यादातर को जो उनके मन में होता है जो उनके सपने होते हैं वह अपने बच्चों से वह कराने के लिए तो बोलते हैं लेकिन अगर आप कहीं इन चीजों को साइड में रख कर अगर आप यह चीज बच्चों से जो अब तो बच्चे हैं आप हम से पूछोगे कि आपके सपने क्या अब अब आप अपना फ्यूचर किसने बनाना चाहते हैं आपको क्या अच्छा लगता है किस लाइन में जाना चाहते हैं जो बच्चों के मन में है यदि वह शहीद आरक्षण में जाना चाहते हैं आपकी सोच और उनकी सोच में अंतर है आप बच्चों को इंजीनियर चिकित्सा क्षेत्र में जान जाने की और आपके बच्चों में वह चीज इंटरेस्ट नहीं है तो इसमें क्या होता है जो माता-पिता बच्चों का प्रेशर बनाते हैं तो कभी-कभी ऐसा होता है कि वह बच्चे उस प्रेशर को ज्यादा हैवी ले जाते हैं और वह कुछ भी गलत कदम उठा सकते हैं इसमें इतना ही है क्या आप अपने बच्चों से पूछो कि आप आपको क्या पसंद है आप क्या बनना चाहते हो जो उनको पसंद है जो बनना चाहते हैं आप उसी में उसकी हेल्प करो उसी ही में उसके चेहरे बनाने की सोच को सपोर्ट करो लेकिन अपना अपना प्रेशर मत डालो कि आपको इंजीनियरी बनना है आपको डॉक्टर बनना है क्योंकि कभी-कभी यह प्रेशर बच्चों को गलत आरक्षण मिले जाता है बच्चों के अंदर चिड़चिड़ापन पैदा हो जाता है स्वाभाविक रूप से वह इंटरेस्टेड नहीं होते जो आप कराना चाहते हैं यदि आप जो बच्चा करना चाहते हैं उसमें आप सपोर्ट करोगे तो बच और मन लगाकर अब उनके अंदर टैलेंट उसको निकालेगा और अपने कैरियर को आगे बढ़ाएगा धन्यवाद

doston namaskar main aapko dost mister gautam yah bilkul sahi hai ki aaj jo aaj ka time hai jab present time hai usme jo mata pita hain jyadatar ko jo unke man me hota hai jo unke sapne hote hain vaah apne baccho se vaah karane ke liye toh bolte hain lekin agar aap kahin in chijon ko side me rakh kar agar aap yah cheez baccho se jo ab toh bacche hain aap hum se puchoge ki aapke sapne kya ab ab aap apna future kisne banana chahte hain aapko kya accha lagta hai kis line me jana chahte hain jo baccho ke man me hai yadi vaah shaheed aarakshan me jana chahte hain aapki soch aur unki soch me antar hai aap baccho ko engineer chikitsa kshetra me jaan jaane ki aur aapke baccho me vaah cheez interest nahi hai toh isme kya hota hai jo mata pita baccho ka pressure banate hain toh kabhi kabhi aisa hota hai ki vaah bacche us pressure ko zyada heavy le jaate hain aur vaah kuch bhi galat kadam utha sakte hain isme itna hi hai kya aap apne baccho se pucho ki aap aapko kya pasand hai aap kya banna chahte ho jo unko pasand hai jo banna chahte hain aap usi me uski help karo usi hi me uske chehre banane ki soch ko support karo lekin apna apna pressure mat dalo ki aapko injiniyari banna hai aapko doctor banna hai kyonki kabhi kabhi yah pressure baccho ko galat aarakshan mile jata hai baccho ke andar chidchidapan paida ho jata hai swabhavik roop se vaah interested nahi hote jo aap krana chahte hain yadi aap jo baccha karna chahte hain usme aap support karoge toh bach aur man lagakar ab unke andar talent usko nikalega aur apne carrier ko aage badhayega dhanyavad

दोस्तों नमस्कार मैं आपको दोस्त मिस्टर गौतम यह बिल्कुल सही है कि आज जो आज का टाइम है जब प्र

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  117
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

वह तो सभी मां-बाप चलते हैं कि मेरा मेरा बच्चा पढ़ लिखकर अच्छा जी मने कोई बड़ा आदमी ने इंजीनियर बने डॉ विनय एसएस चाहते हैं

vaah toh sabhi maa baap chalte hain ki mera mera baccha padh likhkar accha ji mane koi bada aadmi ne engineer bane Dr. vinay SS chahte hain

वह तो सभी मां-बाप चलते हैं कि मेरा मेरा बच्चा पढ़ लिखकर अच्छा जी मने कोई बड़ा आदमी ने इंजी

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  80
WhatsApp_icon
user

Rinki

Teacher

0:17
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हां हमें अपने बच्चों के सपनों में फुल सपोर्ट करना चाहिए और हमें जैसे लगे कि उनका करियर किस चीज में बन रहा है उस तरह पूरा फोकस करना चाहिए और उनकी हेल्प करनी चाहिए

haan hamein apne baccho ke sapno me full support karna chahiye aur hamein jaise lage ki unka career kis cheez me ban raha hai us tarah pura focus karna chahiye aur unki help karni chahiye

हां हमें अपने बच्चों के सपनों में फुल सपोर्ट करना चाहिए और हमें जैसे लगे कि उनका करियर किस

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  109
WhatsApp_icon
user

Jay Bheem

Student

0:32
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मानते हैं माता-पिता छल्लो प्रेशर डालते हैं बच्चे नहीं समझते तो उनके हालातों को छोड़ना भी नहीं चाहिए क्योंकि वह और किसी की संगत में रहकर के गलत राह पर चले जाते हैं माता-पिता जो भी गहरे चुनते चुनते हैं और अपने बेटे के लिए कोई महान आपको खराब कैरियर करना नहीं चाहता

maante hain mata pita challo pressure daalte hain bacche nahi samajhte toh unke halaton ko chhodna bhi nahi chahiye kyonki vaah aur kisi ki sangat mein rahkar ke galat raah par chale jaate hain mata pita jo bhi gehre chunte chunate hain aur apne bete ke liye koi mahaan aapko kharab carrier karna nahi chahta

मानते हैं माता-पिता छल्लो प्रेशर डालते हैं बच्चे नहीं समझते तो उनके हालातों को छोड़ना भी न

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  103
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!