लोग इंटीरियर डिजाइनिंग के साथ ग्राफिक डिजाइनिंग को क्यों भ्रमित करते हैं?...


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जो आदमी शक्ल से खराब होता है वह यह ना तो जिए क्यों खराब है क्योंकि वह जिंदगी में ऐसा कुछ काम कर जाता है उसको उसका शरीर देखकर आदमी लगता है कि वो ऐसा काम नहीं किया होगा मगर वह ऐसा काम कर जाता है कि दुनिया उसको भी सलाम करने को दी जाएगी क्योंकि वह अपने कड़ी मेहनत और परिश्रम से आगे बढ़ा हुआ है और देश भी उनको अगर देख रहा है आगे बढ़ रहा है तो देश को आगे बढ़ाने की कोशिश जरूर ही करेगी

jo aadmi shakl se kharab hota hai vaah yah na toh jiye kyon kharab hai kyonki vaah zindagi me aisa kuch kaam kar jata hai usko uska sharir dekhkar aadmi lagta hai ki vo aisa kaam nahi kiya hoga magar vaah aisa kaam kar jata hai ki duniya usko bhi salaam karne ko di jayegi kyonki vaah apne kadi mehnat aur parishram se aage badha hua hai aur desh bhi unko agar dekh raha hai aage badh raha hai toh desh ko aage badhane ki koshish zaroor hi karegi

जो आदमी शक्ल से खराब होता है वह यह ना तो जिए क्यों खराब है क्योंकि वह जिंदगी में ऐसा कुछ क

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  147
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!