मनोविज्ञान क्या है?...


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मनोविज्ञान शब्द से स्पष्ट है मन और विज्ञान दो शब्द इसमें हैं तो मनोविज्ञान का अर्थ होगा मन का विज्ञान अपने शुरुआती दौर में मनोविज्ञान दर्शनशास्त्र के अंतर्गत पढ़ा जाता था लेकिन बाद में दुनिया के विद्वानों का ध्यान जब इस ओर गया और उन्हें लगा कि इस पर ज्यादा काम करना चाहिए तो उन्होंने मनोविज्ञान को फोकस किया और धीरे-धीरे मनोविज्ञान दर्शनशास्त्र से निकलकर एक स्वतंत्र अस्तित्व में आया जब मनोविज्ञान स्वतंत्र अस्तित्व में आया तो इसकी परिभाषा में भी परिवर्तन हुआ सबसे पहले इसे मन का ज्ञान माना गया बाद के लोगों को लगा कि नहीं सिर्फ मन का विज्ञान नहीं है यह चेतना का विज्ञान है तो इसे चेतना का विज्ञान माना गया बाद में इसमें रिचार्ज अध्ययन बढ़ते गए तो इसे कहा गया नहीं यह व्यवहार का विज्ञान है और रिचार्ज हुआ तो कहां गया नहीं है अनुभव का विज्ञान है आज के दौर में यह माना गया कि मनोविज्ञान चेतना का विज्ञान है अनुभव का भी विज्ञान है मन का भी विज्ञान है व्यवहार का विज्ञान है तो आज हम कह सकते हैं कि मनोविज्ञान न सिर्फ हमारे मन से जुड़ा हुआ है बल्कि हमारे व्यवहार हमारे अनुभव हमारे चेतना और हमारी आत्मा तक से जुड़ा हुआ यह विज्ञान है इसमें मनुष्य के ही नहीं अन्य जीवो के व्यवहार पर भी अध्ययन किया जा सकता है और मनोविज्ञान के माध्यम से आज यह न सिर्फ हमारे अध्ययन के लिए आंकड़े प्रस्तुत करता है बल्कि इसके माध्यम से कई सारी असाध्य बीमारियों को ठीक किया जा सकता है आज चिकित्सा शास्त्र में मनोविज्ञान गहरी पैठ रखता है और न सिर्फ चिकित्सा शास्त्र में बल्कि सामाजिक संदर्भ में भी मनोविज्ञान कम देखें तो मानवीय व्यवहारों का अध्ययन के लिए मनुष्य के सामाजिकता के अध्ययन के लिए मनोविज्ञान आज के दौर में काफी महत्वपूर्ण हो चुका है धन्यवाद

manovigyan shabd se spasht hai man aur vigyan do shabd isme hain toh manovigyan ka arth hoga man ka vigyan apne shuruati daur mein manovigyan darshanashastra ke antargat padha jata tha lekin baad mein duniya ke vidvaano ka dhyan jab is aur gaya aur unhe laga ki is par zyada kaam karna chahiye toh unhone manovigyan ko focus kiya aur dhire dhire manovigyan darshanashastra se nikalkar ek swatantra astitva mein aaya jab manovigyan swatantra astitva mein aaya toh iski paribhasha mein bhi parivartan hua sabse pehle ise man ka gyaan mana gaya baad ke logo ko laga ki nahi sirf man ka vigyan nahi hai yah chetna ka vigyan hai toh ise chetna ka vigyan mana gaya baad mein isme recharge adhyayan badhte gaye toh ise kaha gaya nahi yah vyavhar ka vigyan hai aur recharge hua toh kahaan gaya nahi hai anubhav ka vigyan hai aaj ke daur mein yah mana gaya ki manovigyan chetna ka vigyan hai anubhav ka bhi vigyan hai man ka bhi vigyan hai vyavhar ka vigyan hai toh aaj hum keh sakte hain ki manovigyan na sirf hamare man se jinko hua hai balki hamare vyavhar hamare anubhav hamare chetna aur hamari aatma tak se jinko hua yah vigyan hai isme manushya ke hi nahi anya jeevo ke vyavhar par bhi adhyayan kiya ja sakta hai aur manovigyan ke madhyam se aaj yah na sirf hamare adhyayan ke liye aankade prastut karta hai balki iske madhyam se kai saree asadhya bimariyon ko theek kiya ja sakta hai aaj chikitsa shastra mein manovigyan gehri paith rakhta hai aur na sirf chikitsa shastra mein balki samajik sandarbh mein bhi manovigyan kam dekhen toh manviya vyavaharon ka adhyayan ke liye manushya ke samajikta ke adhyayan ke liye manovigyan aaj ke daur mein kaafi mahatvapurna ho chuka hai dhanyavad

मनोविज्ञान शब्द से स्पष्ट है मन और विज्ञान दो शब्द इसमें हैं तो मनोविज्ञान का अर्थ होगा मन

Romanized Version
Likes  38  Dislikes    views  1278
KooApp_icon
WhatsApp_icon
4 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!