दहेज प्रथा एक अभिशाप है कैसे?...


user

DR. I.P.SINGH

Doctorate in Literature

3:09
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बेटा आपने पूछा दहेज प्रथा एक अभिशाप पर क्यों सही बात तो यह ध्यान रखें कि हिंदी में एक शब्द परंपरा परंपरा क्या है समाज अपनी व्यवस्था के लिए जो नियम बनाता उसे परंपरा की सरकार अपनी व्यवस्था के लिए जो नियम बनाती है कानून कैसे परंपरा समाज में समाज द्वारा मान्यता प्राप्त करती है और पंचायत पंच पटेल आदि जो है वह इसी परंपरा के अंदर तो पुराने समय में जब बेटियां शादी करके दूसरे घर जाती थी और अपना घर लगभग हमेशा के लिए छोड़ जाती थी सीता करना तो माता-पिता पर उनके जीवनयापन के लिए जीवन की आरंभिक सुविधाओं के नाम पर उन्हें कुछ सामग्री दिया करते जैसी कहां है क्या बताएगी कुछ कपड़े कुछ चित्रकूट पर समाज दे देती थी कुछ पैसा दे दी थी इसे दहेज का गया यह एक व्यवस्था बन गई नहीं बेटी की शादी में कुछ न कुछ देना चाहिए और परंपरा जब व्यवस्था बनती है उसका पालन कर लेते हैं लेकिन जब मजबूरी बन जाती तुझसे दूर तो आपने जो दहेज प्रथा कहा है और था तब तो बेटा बात तो है कि हम अपनी बहन को बेटी को भतीजी को भी दर्शन की आवश्यकता है मजबूरी में हमें बेटी की सुविधा के नाम पर लड़के वाले हम से मांग रहे हैं वह रही है और हर मां-बाप अपनी बच्ची को ध्यान रखें कि कुछ अपवाद हो सकते हैं वह सुख की जिंदगी जीने देना चाहते चाहते वह पक्षी जो है वह स्वस्थ हो लड़की की और उसकी सुख भोग की इस आकांक्षा के चलते उससे दहेज की मांग की जाती है और मां-बाप अपनी बच्ची की सुख सुविधा के लिए मजबूरी में जब इस देश को झुकाते हैं जिसमें अभी तक घर बार सब कुछ बिक जाए करता है तो दहेज यहां दूर ही बन जाते हो इसे कभी साफ करते हैं और अभिशाप में भी एक बच्ची अपने माता-पिता के घर की बर्बादी देखकर ससुराल में आती है तो कहीं ना कहीं उसके मन में ससुराल के प्रति लगाव नहीं और फिर वह ससुराल पक्ष के साथ भावनात्मक जुड़ सकें यह संभव भी नहीं होता है तो दहेज की विसंगति जब पैदा होती रूडी बहुत तो केवल वधू पक्ष को ही बर्बाद नहीं करती पर पक्षी की बर्बादी का कारण भी बन सकती है इसीलिए उसे अभिशाप कहा जाता है सही

beta aapne poocha dahej pratha ek abhishap par kyon sahi baat toh yah dhyan rakhen ki hindi me ek shabd parampara parampara kya hai samaj apni vyavastha ke liye jo niyam banata use parampara ki sarkar apni vyavastha ke liye jo niyam banati hai kanoon kaise parampara samaj me samaj dwara manyata prapt karti hai aur panchayat punch patel aadi jo hai vaah isi parampara ke andar toh purane samay me jab betiyan shaadi karke dusre ghar jaati thi aur apna ghar lagbhag hamesha ke liye chhod jaati thi sita karna toh mata pita par unke jivanayapan ke liye jeevan ki aarambhik suvidhaon ke naam par unhe kuch samagri diya karte jaisi kaha hai kya batayegi kuch kapde kuch chitrakoot par samaj de deti thi kuch paisa de di thi ise dahej ka gaya yah ek vyavastha ban gayi nahi beti ki shaadi me kuch na kuch dena chahiye aur parampara jab vyavastha banti hai uska palan kar lete hain lekin jab majburi ban jaati tujhse dur toh aapne jo dahej pratha kaha hai aur tha tab toh beta baat toh hai ki hum apni behen ko beti ko bhatiji ko bhi darshan ki avashyakta hai majburi me hamein beti ki suvidha ke naam par ladke waale hum se maang rahe hain vaah rahi hai aur har maa baap apni bachi ko dhyan rakhen ki kuch apavad ho sakte hain vaah sukh ki zindagi jeene dena chahte chahte vaah pakshi jo hai vaah swasth ho ladki ki aur uski sukh bhog ki is aakansha ke chalte usse dahej ki maang ki jaati hai aur maa baap apni bachi ki sukh suvidha ke liye majburi me jab is desh ko jhukate hain jisme abhi tak ghar baar sab kuch bik jaaye karta hai toh dahej yahan dur hi ban jaate ho ise kabhi saaf karte hain aur abhishap me bhi ek bachi apne mata pita ke ghar ki barbadi dekhkar sasural me aati hai toh kahin na kahin uske man me sasural ke prati lagav nahi aur phir vaah sasural paksh ke saath bhavnatmak jud sake yah sambhav bhi nahi hota hai toh dahej ki visangati jab paida hoti rudi bahut toh keval vadhu paksh ko hi barbad nahi karti par pakshi ki barbadi ka karan bhi ban sakti hai isliye use abhishap kaha jata hai sahi

बेटा आपने पूछा दहेज प्रथा एक अभिशाप पर क्यों सही बात तो यह ध्यान रखें कि हिंदी में एक शब्द

Romanized Version
Likes  161  Dislikes    views  1549
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!