वाष्प उत्सर्जन से आप क्या समझते हैं, इसके लाभ बताइए?...


play
user

Prabhat Verma

primary teacher government of bihar

0:25

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पौधे द्वारा अनावश्यक जल को बास के रूप में शरीर से बाहर निकालने के किरिया को बागपत सर्जन कहा जाता है पेड़-पौधे मिट्टी से जिस जल का अवशोषण करते हैं उसके केवल थोड़े कहीं पादप शरीर में प्रयोग करता है से सभी काजल पौधे द्वारा बात करते हैं शरीर से बाहर निकाला जाता है पौधे में होने वाली अक्रिय वास्को सर्जन चलाते हैं

paudhe dwara anavashyak jal ko boss ke roop me sharir se bahar nikalne ke kiriya ko bagpat Surgeon kaha jata hai ped paudhe mitti se jis jal ka avshoshan karte hain uske keval thode kahin padap sharir me prayog karta hai se sabhi kajal paudhe dwara baat karte hain sharir se bahar nikaala jata hai paudhe me hone wali akriya vasko Surgeon chalte hain

पौधे द्वारा अनावश्यक जल को बास के रूप में शरीर से बाहर निकालने के किरिया को बागपत सर्जन कह

Romanized Version
Likes  36  Dislikes    views  862
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!