भारत की भी कोई राष्ट्रीय भाषा होनी चाहिए कि नहीं?...


user
1:10
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत की कोई राष्ट्रभाषा नहीं हो सकती मैं आपको बताती हूं कि क्यों ऐसा नहीं हो सकता क्योंकि जो भारत है वह पंथनिरपेक्ष और भारत में बहुत से धर्म के लोग रहते हैं जो अलग-अलग भाषाओं का प्रयोग करते हैं यदि किसी एक भाषा को राष्ट्रीय मान्यता दे दी जाए तो जो अलग-अलग धर्मों के लोग हैं वह सभी दोस्त हो जाएंगे और जितने अलग-अलग धर्मों के लोग विद्रोह कर देंगे और वह सब दंगे पर उतर आएंगे कि क्यों उनके धर्म को मानता नहीं दी गई इसीलिए किसी एक भाषा या धर्म के समुदायों को राष्ट्रीय भाषा घोषित नहीं की जा सकती और कोई भी भाषा भारत भारती की राष्ट्रीय भाषा नहीं हो सकती इसीलिए आज तक भारत की कोई राष्ट्रभाषा नहीं है और अनंत काल तक ऐसा हो भी नहीं सकती भारत में बहुत ही धर्मों के भौजी अलग-अलग समुदायों के भाषाओं के लोग पाए जाते हैं हर एक मील की दूरी पर लोगों की भाषाएं बदलती हुई दिखाई देते हैं बहुत से लोगों भाषाओं में परिवर्तन पाया जाता है इसलिए कोई भाता राष्ट्रीय हो जाएगी तो हमारे आर्थिक अर्थव्यवस्था और राजनीति दोनों पर प्रभाव पड़ेगा

bharat ki koi rashtrabhasha nahi ho sakti main aapko batati hoon ki kyon aisa nahi ho sakta kyonki jo bharat hai vaah panthnirpeksh aur bharat me bahut se dharm ke log rehte hain jo alag alag bhashaon ka prayog karte hain yadi kisi ek bhasha ko rashtriya manyata de di jaaye toh jo alag alag dharmon ke log hain vaah sabhi dost ho jaenge aur jitne alag alag dharmon ke log vidroh kar denge aur vaah sab dange par utar aayenge ki kyon unke dharm ko maanta nahi di gayi isliye kisi ek bhasha ya dharm ke samudayo ko rashtriya bhasha ghoshit nahi ki ja sakti aur koi bhi bhasha bharat bharati ki rashtriya bhasha nahi ho sakti isliye aaj tak bharat ki koi rashtrabhasha nahi hai aur anant kaal tak aisa ho bhi nahi sakti bharat me bahut hi dharmon ke bhauji alag alag samudayo ke bhashaon ke log paye jaate hain har ek meal ki doori par logo ki bhashayen badalti hui dikhai dete hain bahut se logo bhashaon me parivartan paya jata hai isliye koi bhata rashtriya ho jayegi toh hamare aarthik arthavyavastha aur raajneeti dono par prabhav padega

भारत की कोई राष्ट्रभाषा नहीं हो सकती मैं आपको बताती हूं कि क्यों ऐसा नहीं हो सकता क्योंकि

Romanized Version
Likes  15  Dislikes    views  169
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user
0:19

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपको पहचाना भारत की भी कोई राष्ट्रीय भाषा होनी चाहिए कि नहीं भारत की राष्ट्रीय भाषा है भारत की राष्ट्रीय भाषा हिंदी मानी मानी गई है

aapko pehchana bharat ki bhi koi rashtriya bhasha honi chahiye ki nahi bharat ki rashtriya bhasha hai bharat ki rashtriya bhasha hindi maani maani gayi hai

आपको पहचाना भारत की भी कोई राष्ट्रीय भाषा होनी चाहिए कि नहीं भारत की राष्ट्रीय भाषा है भार

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  162
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!