हृदय में कक्ष का क्या कार्य है...


user

DR OM PRAKASH SHARMA

Principal, Education Counselor, Best Experience in Professional and Vocational Education cum Training Skills and 25 years experience of Competitive Exams. 9212159179. dsopsharma@gmail.com

1:47
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

का क्या कार्य पूरी बॉडी हमारी छोटे-छोटे कक्ष में बैठी हुई है ब्लॉक्स में बैठी हुई है और अगर बॉडी में हमारे शरीर में ब्लॉक्स ना हो तो शायद शरीर के अंग काम ना कर पाए इसलिए कई बार ऐसा होता है कि शरीर के विभिन्न अंगों की जो ब्लॉक से जो अपना अलग-अलग फंक्शन करते हैं अगर उनके अंदर तालमेल नहीं बैठता और वह अनुचित रूप से उनका विस्थापन या 55 या उनका आंतरिक नियंत्रण हो जाता है तो वह बीमारी का कारण बन जाता है इसलिए हर ब्लॉक का अपना अलग-अलग कार्य हृदय में जो ब्लॉक को टाइट होता है उस कक्ष का काम है ह्रदय की धड़कन को गतिमान बनाए रखना होता है और जब तक हृदय की गति हृदय की धड़कन चलती रहती है निश्चित रूप से शरीर की क्रियाएं प्रतिक्रियाएं भी चलती रहती है क्योंकि मनुष्य का पूरा जीवन की धड़कन पर निभाने अगर हृदय की धड़कन मंजिल हो जाती है या बंद हो जाती है तो इंसान के जीवन का भी अंत हो जाता है तो यहां तक कि एक बहुत बड़ी भूमिका होती है और संभवत अलग दृष्टिकोण से अलग अलग नजरिए से अलग-अलग भी 4% जो है वह भी डिफर हो सकते हैं

ka kya karya puri body hamari chote chhote kaksh mein BA ithi hui hai blocks mein BA ithi hui hai aur agar body mein hamare sharir mein blocks na ho toh shayad sharir ke ang kaam na kar paye isliye kai BA ar aisa hota hai ki sharir ke vibhinn angon ki jo block se jo apna alag alag function karte hai agar unke andar talmel nahi BA ithta aur vaah anuchit roop se unka visthapan ya 55 ya unka aantarik niyantran ho jata hai toh vaah bimari ka karan BA n jata hai isliye har block ka apna alag alag karya hriday mein jo block ko tight hota hai us kaksh ka kaam hai hriday ki dhadkan chahiye ko gatiman BA naye rakhna hota hai aur jab tak hriday ki gati hriday ki dhadkan chahiye chalti rehti hai nishchit roop se sharir ki kriyaen pratikriyaen bhi chalti rehti hai kyonki manushya ka pura jeevan ki dhadkan chahiye par nibhane agar hriday ki dhadkan chahiye manjil ho jaati hai ya BA nd ho jaati hai toh insaan ke jeevan ka bhi ant ho jata hai toh yahan tak ki ek BA hut BA di bhumika hoti hai aur sambhavat alag drishtikon se alag alag nazariye se alag alag bhi 4 jo hai vaah bhi differ ho sakte hain

का क्या कार्य पूरी बॉडी हमारी छोटे-छोटे कक्ष में बैठी हुई है ब्लॉक्स में बैठी हुई है और अग

Romanized Version
Likes  80  Dislikes    views  1603
WhatsApp_icon
1 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!