क्या आपको लगता है की सोशल मीडिया के आने के बाद रेडीओ की महत्वता कम हो गयी है?...


user

Abhishek Kumar Yadav

Expert In Account & Finance, Motivational Speaker& Life Coach

4:59
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार मैं अभिषेक यादव जैसा कि लोगों ने प्रश्न पूछा है कि क्या आपको लगता है सोशल मीडिया के आने के बाद जेडीओ का महत्व कम हो गया है तो सबसे पहले मैं आपको बताना चाहूंगा कि लोगों की पसंद आना पसंद बिल्कुल अलग अलग होती है दूसरी चीज होती है एपीडी से जैसे जीते आई थी वह आज भी वैसे ही है अर्जुन नई पीढ़ी है उसकी पसंद कुछ और है मेरे कहने का तात्पर्य है कि सोशल मीडिया पर जो जुड़े हुए लोग हैं कोई ज्यादा कर 1140 केएसके हैं मतलब वह नवीन पुरी या मध्यम नवीन पीड़ित हैं वह लेकिन जो रेडियो जो सुनते हैं लोग जो हमारे बाबा दादा आजा सुनते हैं जो लोग आज भी है वह आज भी रेडियो के ही शौकीन ना हम कभी रेडियो के शौकीन थे ना आज है ना कभी साथ होंगे लेकिन जो उस रेडियो के शौकीन थे वह आज भी हैं और हमेशा उस समय समय की बात होती है वक्त बदल जाते हैं लोगों के शौक नहीं बदलते हैं शौक अक्सर वही होते हैं जो पुराने होते हैं एक कहावत सुनी होगी नाक में ओल्ड इज गोल्ड रेडियो के विविध भारती भले ही पुरानी हो गई हो लेकिन उसके सदाबहार गाने अभी वैसे ही हैं और उसके सदाबहार को संसद आज भी ऐसे ही ऐसे ना जाने से रेडियो के विविध भारतीय की विविधता कदम नहीं हुई है बल्कि व्यवस्था और अच्छी हो गई इतना ही नहीं कुछ नई पीढ़ी के भी लोग हैं जो रेडियो के विरूद्ध भारती को पसंद करते हैं जैसे कि मैं आज भी मैं सुनता हूं तो उसमें के पुराने गाने देते हैं जिसमें से एक मुझे सीख सीखने को मिलती है उसमें कुछ न कुछ चीज होती है जो मुझ सीखने को मिलती है जो जीवन के बारे में सिखाते हैं जो पुराने जो प्राचीन गाने हुआ करते थे उसमें कुछ न कुछ सीखने को मिलते हैं उसके कुछ न कुछ बोल हुआ करते थे उस जाने के कुछ न कुछ उपदेश हुआ करते थे वह बहुत कुछ कहने की कोशिश करता था लेकिन आज के समय जो एफएम है जेल से जितने सोशल मीडिया है यह केवल एक करंट अफेयर्स भरी हुई है उससे ज्यादा कुछ नहीं इस पर जो समाचार होते हैं समाचार भी बहुत ज्यादा मोरल नहीं होते हैं एक मोरल एजुकेशन हमें नहीं रहते हैं यह ज्यादा करेक्ट ऑनलाइन लॉजिक ऊपर काम करते हैं उनकी बुराई करते नहीं मिलेगी कोई भी तो दर्शन चैनल एबीपी चैनल रेडियो चैनल जो पुराने हैं जो चल रहे हैं वह सरकार की बुराई नहीं करते हैं जिओ को नहीं दिखाते हैं अब ऋतिक अभद्रता वशिष्ठ और अभद्रता किसको कहा अश्लीलता से बहुत दूर हैं वह आज भद्रथा के साथ काम करते हैं शिष्टाचार के साथ काम करते हैं और यह समाचार होते हैं उनको भी सुनने वाले थे वह भी सिर्फ के आज भी शुरू कर दिया है क्योंकि जो लोग रेडियो सुनने वाले से बात भी सुनते हैं और हमेशा रहेंगे देश दुनिया की खबरें आती हैं सदाबहार की रंगोली गाने आते सब कुछ बिकता से भरी हुई है इतनी विविधता को अन्य न्यू सोशल मीडिया पर या फेसबुक और व्हाट्सएप पर आपको नहीं देखने को मिलती है आजकल के लोग 2 प्रैक्टिकल हो गए हैं मैं अपने आप को इंक्लूड करके बोलता हूं कि मैं भी बहुत लॉजिकल हूं बहुत ज्यादा पसंद क्योंकि वर्तमान में जीना पसंद करता हूं वर्तमान के पीड़ित हूं लेकिन जो मेरे पिताजी हैं जो उनके पिताजी थे वह लोग इतने प्रैक्टिकल नहीं हुआ करते थे शायद यही कारण था कि उनके अंदर नैतिकता कूट-कूट कर भरी थी वह एक दूसरे को मदद करते थे करते थे उसका कारण यही था कि उन तक जो खबरें पहुंचाई जाती थी वह नैतिक हुआ करती थी उनका नैतिक मनोबल बढ़ता था इसलिए यह दो अलग-अलग चीजें हैं सोशल मीडिया अलग चीज है रेडी वाला चीज है दोनों के फैन फॉलोअर्स अलग अलग है जो रेडियो पसंद करने वाले हैं वह भी रेडियो सुनते हैं जो सोशल मीडिया पर लगे रहते हैं वह भी आज में लगे रहते हैं तो मुझे नहीं लगता कि सोशल मीडिया के आने से रेडियो का के सोशल मीडिया अपने आपको बहुत ज्यादा है जरूर कर दिया लेकिन मैं तो मैं बता दूं आपको कुछ उसके प्रशंसक रेडियो को वह आज भी उनको वह कम नहीं कर पाई है अगर यह मेरा विचार आपको अच्छा लगा सुनने में समझ में आए तो कृपया करके लाइक करिएगा क्योंकि यह बिल्कुल फ्री सेवा है और हम आप तक अपने विचारों को पहुंचाते हैं इसके लिए हम आपके रिप्लाई की अपेक्षा करते हैं क्योंकि आपका एक लाइक हमें ऊर्जा से ओतप्रोत कर देता है धन्यवाद आपका दिन शुभ हो

namaskar main abhishek yadav jaisa ki logo ne prashna poocha hai ki kya aapko lagta hai social media ke aane ke baad JDO ka mahatva kam ho gaya hai toh sabse pehle main aapko batana chahunga ki logo ki pasand aana pasand bilkul alag alag hoti hai dusri cheez hoti hai APD se jaise jeete I thi vaah aaj bhi waise hi hai arjun nayi peedhi hai uski pasand kuch aur hai mere kehne ka tatparya hai ki social media par jo jude hue log hain koi zyada kar 1140 KSK hain matlab vaah naveen puri ya madhyam naveen peedit hain vaah lekin jo radio jo sunte hain log jo hamare baba dada aajad sunte hain jo log aaj bhi hai vaah aaj bhi radio ke hi shaukin na hum kabhi radio ke shaukin the na aaj hai na kabhi saath honge lekin jo us radio ke shaukin the vaah aaj bhi hain aur hamesha us samay samay ki baat hoti hai waqt badal jaate hain logo ke shauk nahi badalte hain shauk aksar wahi hote hain jo purane hote hain ek kahaavat suni hogi nak me old is gold radio ke vividh bharati bhale hi purani ho gayi ho lekin uske sadabahar gaane abhi waise hi hain aur uske sadabahar ko sansad aaj bhi aise hi aise na jaane se radio ke vividh bharatiya ki vividhata kadam nahi hui hai balki vyavastha aur achi ho gayi itna hi nahi kuch nayi peedhi ke bhi log hain jo radio ke virudh bharati ko pasand karte hain jaise ki main aaj bhi main sunta hoon toh usme ke purane gaane dete hain jisme se ek mujhe seekh sikhne ko milti hai usme kuch na kuch cheez hoti hai jo mujhse sikhne ko milti hai jo jeevan ke bare me sikhaate hain jo purane jo prachin gaane hua karte the usme kuch na kuch sikhne ko milte hain uske kuch na kuch bol hua karte the us jaane ke kuch na kuch updesh hua karte the vaah bahut kuch kehne ki koshish karta tha lekin aaj ke samay jo FM hai jail se jitne social media hai yah keval ek current affairs bhari hui hai usse zyada kuch nahi is par jo samachar hote hain samachar bhi bahut zyada moral nahi hote hain ek moral education hamein nahi rehte hain yah zyada correct online logic upar kaam karte hain unki burayi karte nahi milegi koi bhi toh darshan channel ABP channel radio channel jo purane hain jo chal rahe hain vaah sarkar ki burayi nahi karte hain jio ko nahi dikhate hain ab ritik abhadtrata vashistha aur abhadtrata kisko kaha ashlilata se bahut dur hain vaah aaj bhadratha ke saath kaam karte hain shishtachar ke saath kaam karte hain aur yah samachar hote hain unko bhi sunne waale the vaah bhi sirf ke aaj bhi shuru kar diya hai kyonki jo log radio sunne waale se baat bhi sunte hain aur hamesha rahenge desh duniya ki khabren aati hain sadabahar ki rangoli gaane aate sab kuch bikta se bhari hui hai itni vividhata ko anya new social media par ya facebook aur whatsapp par aapko nahi dekhne ko milti hai aajkal ke log 2 practical ho gaye hain main apne aap ko include karke bolta hoon ki main bhi bahut logical hoon bahut zyada pasand kyonki vartaman me jeena pasand karta hoon vartaman ke peedit hoon lekin jo mere pitaji hain jo unke pitaji the vaah log itne practical nahi hua karte the shayad yahi karan tha ki unke andar naitikta kut kut kar bhari thi vaah ek dusre ko madad karte the karte the uska karan yahi tha ki un tak jo khabren pahunchai jaati thi vaah naitik hua karti thi unka naitik manobal badhta tha isliye yah do alag alag cheezen hain social media alag cheez hai ready vala cheez hai dono ke fan followers alag alag hai jo radio pasand karne waale hain vaah bhi radio sunte hain jo social media par lage rehte hain vaah bhi aaj me lage rehte hain toh mujhe nahi lagta ki social media ke aane se radio ka ke social media apne aapko bahut zyada hai zaroor kar diya lekin main toh main bata doon aapko kuch uske prasanshak radio ko vaah aaj bhi unko vaah kam nahi kar payi hai agar yah mera vichar aapko accha laga sunne me samajh me aaye toh kripya karke like kariega kyonki yah bilkul free seva hai aur hum aap tak apne vicharon ko pahunchate hain iske liye hum aapke reply ki apeksha karte hain kyonki aapka ek like hamein urja se otaprot kar deta hai dhanyavad aapka din shubha ho

नमस्कार मैं अभिषेक यादव जैसा कि लोगों ने प्रश्न पूछा है कि क्या आपको लगता है सोशल मीडिया क

Romanized Version
Likes  20  Dislikes    views  255
KooApp_icon
WhatsApp_icon
9 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!