कभी-कभी आपको लगता है कि आपके माता-पिता गलत हैं और वह गलत निर्णय ले रहे हैं तो ऐसी स्थिति में क्या करना चाहिए?...


user

अनिल शास्त्री

शिक्षक,संपादक, सामाजिक कार्यकर्ता

3:09
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कभी-कभी आपको लगता है कि आपके माता-पिता गलत है वह गलत निर्णय ले रहे हैं तो ऐसी स्थिति में क्या करना चाहिए तो देखिए वैसे तो मनुष्य सामाजिक प्राणी है इसमें बड़े या छोटे किसी के भी द्वारा यह निर्णय किया जा सकता है लेकिन फिर भी क्योंकि माता-पिता बहुत अधिक अनुभवी होते हैं उन्होंने जीवन के बहुत सारे कष्टों को पार करके जीवन जिया होता है तो वह अच्छे बुरे को भलीभांति पहचानते हैं तो ऐसे में यह संभावना कम है कि वह गलत निर्णय ले रहे हैं कई बार हम ही अनुभव ना होने के कारण पूरी समझ ना होने के कारण कई बार हम गलत समझ बैठते हैं कि माता-पिता शायद हमारे हित में चल रहे हैं कई बार उन्हें जानबूझ कर के अपने बच्चों को अपने छोटों को समझाना पड़ता है कई बार झटपट भी छोड़ी स्वरूप में करनी पड़ती है जो निश्चित रूप से हमारे चित्त लगती है और हम उन्हें बड़ों के गलत निर्णय मान बैठते हैं तो सबसे पहले तो आप यह बिल्कुल स्पष्ट करें कि आपके जीवन में उनके लिए जो कुछ कहते हैं ऐसा कुछ भी भर करते हैं जिसमें हमें बुरा लग सकता है लेकिन अंततोगत्वा हुए हमारे जीवन के लिए होता है हमारे भले के लिए होता है तो उन बातों को अनुचित ना लें लेकिन इसके अलावा भी यदि आपको कुछ बातों में ऐसा लगता है कि माता-पिता आपके हित में कार्य नहीं कर रहे हैं यह आपके प्रति गलत निर्णय ले रहे हैं तो बैठ करके उनसे आदर पूर्वक प्रसन्न रखे हैं उनसे वार्तालाप करें और जिन बातों में आपको समस्या है उन बातों को खुलकर आप उनके सामने रखेंगे तो उनका स्पष्टीकरण के द्वारा मिलेगा जिससे आप संतुष्ट हो पाएंगे और यदि उनका समय उत्तर नहीं मिलता है और वह कहीं बड़े भी जैसे मैंने शुरू में कहा गलती किसी से भी हो सकती है बड़े भी कहीं गलत हो सकते हैं तो उन पर आप अपना परामर्श ने अपनी राय दें परिवार की उसमें और समझदार लोगों को भी जोड़ सकता है जो आपके और शुभचिंतक हैं जो आपके माता-पिता के प्रयोजन हैं उनके मित्र लोग हैं उनको भी आप इसमें सम्मिलित कर सकते हैं और मिल बैठकर के कैसा सकारात्मक वातावरण है जिससे आपका जो संडे है वह दूर हो आज आपका जो पारिवारिक प्रसन्नता है पारिवारिक एकता का भाग है वह बना रहे जिससे आपके घर की परिवार की जो है वह स्थिति सुदृढ़ बनी रहे और परिवार का जो है विकास होना आवश्यक है * संदेह के घेरे में यदि इस तरह की भावनाएं आपकी बड़ों के प्रति बन रही है तो वह किसी भी प्रकार से उचित नहीं रहेंगी आप के भावी जीवन के सुधार में बातों को बहुत ही धैर्य के साथ शांतिपूर्ण करके रखें और उसका जो है कोई ना कोई निदान आपस में निकालने यह दूसरी जो समझदार लोग हैं परिवार के लोग हैं समाज के लोग हैं उनके बीच आप इनका हल ढूंढ लेंगे तो निश्चित रूप से इन समस्याओं का कोई ना कोई समाधान सरलता से निकल आएगा इससे आपका जो परिवार है वह निश्चित रूप से इन समस्याओं से जब बाहर नहीं जा पाएगा निकल जाएगा तो इससे आप की खुशहाली बढ़ेगी आपके परिवार की खुशहाली बढ़ेगी समाज में आपका आपके पास घर का अच्छा स्थान होगा ऐसी समस्त शुभकामनाओं के साथ कल्याणमस्तु

kabhi kabhi aapko lagta hai ki aapke mata pita galat hai vaah galat nirnay le rahe hain toh aisi sthiti me kya karna chahiye toh dekhiye waise toh manushya samajik prani hai isme bade ya chote kisi ke bhi dwara yah nirnay kiya ja sakta hai lekin phir bhi kyonki mata pita bahut adhik anubhavi hote hain unhone jeevan ke bahut saare kaston ko par karke jeevan jiya hota hai toh vaah acche bure ko bhalibhanti pehchante hain toh aise me yah sambhavna kam hai ki vaah galat nirnay le rahe hain kai baar hum hi anubhav na hone ke karan puri samajh na hone ke karan kai baar hum galat samajh baithate hain ki mata pita shayad hamare hit me chal rahe hain kai baar unhe janbujh kar ke apne baccho ko apne choton ko samajhana padta hai kai baar jhatpat bhi chodi swaroop me karni padti hai jo nishchit roop se hamare chitt lagti hai aur hum unhe badon ke galat nirnay maan baithate hain toh sabse pehle toh aap yah bilkul spasht kare ki aapke jeevan me unke liye jo kuch kehte hain aisa kuch bhi bhar karte hain jisme hamein bura lag sakta hai lekin antatogatwa hue hamare jeevan ke liye hota hai hamare bhale ke liye hota hai toh un baaton ko anuchit na le lekin iske alava bhi yadi aapko kuch baaton me aisa lagta hai ki mata pita aapke hit me karya nahi kar rahe hain yah aapke prati galat nirnay le rahe hain toh baith karke unse aadar purvak prasann rakhe hain unse vartalaap kare aur jin baaton me aapko samasya hai un baaton ko khulkar aap unke saamne rakhenge toh unka spashteekaran ke dwara milega jisse aap santusht ho payenge aur yadi unka samay uttar nahi milta hai aur vaah kahin bade bhi jaise maine shuru me kaha galti kisi se bhi ho sakti hai bade bhi kahin galat ho sakte hain toh un par aap apna paramarsh ne apni rai de parivar ki usme aur samajhdar logo ko bhi jod sakta hai jo aapke aur shubhchintak hain jo aapke mata pita ke prayojan hain unke mitra log hain unko bhi aap isme sammilit kar sakte hain aur mil baithkar ke kaisa sakaratmak vatavaran hai jisse aapka jo sunday hai vaah dur ho aaj aapka jo parivarik prasannata hai parivarik ekta ka bhag hai vaah bana rahe jisse aapke ghar ki parivar ki jo hai vaah sthiti sudridh bani rahe aur parivar ka jo hai vikas hona aavashyak hai sandeh ke ghere me yadi is tarah ki bhaavnaye aapki badon ke prati ban rahi hai toh vaah kisi bhi prakar se uchit nahi rahegi aap ke bhave jeevan ke sudhaar me baaton ko bahut hi dhairya ke saath shantipurna karke rakhen aur uska jo hai koi na koi nidan aapas me nikalne yah dusri jo samajhdar log hain parivar ke log hain samaj ke log hain unke beech aap inka hal dhundh lenge toh nishchit roop se in samasyaon ka koi na koi samadhan saralata se nikal aayega isse aapka jo parivar hai vaah nishchit roop se in samasyaon se jab bahar nahi ja payega nikal jaega toh isse aap ki khushahali badhegi aapke parivar ki khushahali badhegi samaj me aapka aapke paas ghar ka accha sthan hoga aisi samast shubhkamnaon ke saath kalyanamastu

कभी-कभी आपको लगता है कि आपके माता-पिता गलत है वह गलत निर्णय ले रहे हैं तो ऐसी स्थिति में क

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  137
KooApp_icon
WhatsApp_icon
5 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!