महाभारत में अर्जुन का वध किसने किया था?...


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

महाभारत की लड़ाई 18 दिनों तक चली जिसमें एक तरफ नेतृत्व दुर्योधन के हाथों में था दूसरे तरफ नेतृत्व पांडवों के सबसे बड़े भाई युधिष्ठिर के हाथों में था अंततः महाभारत की 18 दिनों की लड़ाई में दुर्योधन भी मारा गया और पांडव विजई हुए जिस विषय में सबसे बड़ी भूमिका अर्जुन के सारथी श्री कृष्ण और अर्जुन के हाथों में विराजमान गांडीव धनुष का था अतः अर्जुन का वध कैसे होगा अर्जुन बिजाई के रूप में सामने आया कुछ घटनाएं ऐसी वर्णित है जहां कई बार अर्जुन के बाद का प्रयास किया गया यह मान लिया गया कि हां अर्जुन मारा गया लेकिन किसी न किसी रूप में पुनः उन्हें जीवन सातवां और स्वर्गारोहण में पांचों भाइयों के साथ अर्जुन और द्रौपदी भी गए साथ में कुत्ता भी था हालांकि सर्जरी स्वर्ग सिर्फ युधिष्ठिर जा पाए अर्जुन सहित बाकी चारों भाई और द्रौपदी सब इधर ही बर्फ में गल गए लेकिन स शरीर विमान पर कुत्ते के साथ चढ़कर के जब पहुंचे युधिष्ठिर चुकी कुत्ता कोई और नहीं स्वयं धर्मराज युधिष्ठिर की परीक्षा लेने के लिए आए थे तो जब युधिष्ठिर वहां स्वर्ग में तस्वीर पहुंचे तो उन्होंने देखा कि हमारे जो भाई पीछे बर्फ में छूट गए थे सब हमसे पहले ही स्वर्ग में विराजमान है तो यह माना जाएगा कि चुकी स्वर्गारोहण में अर्जुन गए थे शरीर के साथ इसलिए अर्जुन का वध नहीं हुआ ठीक है कई बार ऐसी घटनाएं हुई कि उनके गर्दन को कार्ड लिया गया लोगों ने कहा यह मर गया लेकिन चाहे जिस कारण से होते हुए तो सही धन्यवाद

mahabharat ki ladai 18 dino tak chali jisme ek taraf netritva duryodhan ke hathon mein tha dusre taraf netritva pandavon ke sabse bade bhai yudhishthir ke hathon mein tha antatah mahabharat ki 18 dino ki ladai mein duryodhan bhi mara gaya aur pandav vijayi hue jis vishay mein sabse badi bhumika arjun ke saarthi shri krishna aur arjun ke hathon mein viraajamaan gandiv dhanush ka tha atah arjun ka vadh kaise hoga arjun bijai ke roop mein saamne aaya kuch ghatnaye aisi varnit hai jaha kai baar arjun ke baad ka prayas kiya gaya yah maan liya gaya ki haan arjun mara gaya lekin kisi na kisi roop mein punh unhe jeevan satvaan aur swargarohan mein panchon bhaiyo ke saath arjun aur draupadi bhi gaye saath mein kutta bhi tha halaki surgery swarg sirf yudhishthir ja paye arjun sahit baki charo bhai aur draupadi sab idhar hi barf mein gal gaye lekin s sharir Vimaan par kutte ke saath chadhakar ke jab pahuche yudhishthir chuki kutta koi aur nahi swayam Dharamraj yudhishthir ki pariksha lene ke liye aaye the toh jab yudhishthir wahan swarg mein tasveer pahuche toh unhone dekha ki hamare jo bhai peeche barf mein chhut gaye the sab humse pehle hi swarg mein viraajamaan hai toh yah mana jaega ki chuki swargarohan mein arjun gaye the sharir ke saath isliye arjun ka vadh nahi hua theek hai kai baar aisi ghatnaye hui ki unke gardan ko card liya gaya logo ne kaha yah mar gaya lekin chahen jis karan se hote hue toh sahi dhanyavad

महाभारत की लड़ाई 18 दिनों तक चली जिसमें एक तरफ नेतृत्व दुर्योधन के हाथों में था दूसरे तरफ

Romanized Version
Likes  39  Dislikes    views  1303
KooApp_icon
WhatsApp_icon
5 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!