सूर्य नमस्कार के क्या-क्या लाभ होते हैं?...


user

Shyam Vispute

Yoga Instructor

2:06
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जय गुरुदेव श्री नमस्कार मतलब क्या होता है कि हम मॉर्निंग के समय में सूर्य के सामने पूर्व दिशा में खड़े रहकर सूर्य को नमस्कार करते हैं 12 आसनों के जरिए तो इसमें अलग-अलग बारासन बारासन को करने से काफी लाभ होते व्यक्तिगत लाभ होते सूर्य से में एनर्जी मिलती है सूर्य अकेला तोते पुष्पा जिससे हम ज्यादा एनर्जी लेते हैं सबसे हाईएस्ट एनर्जी मिलती है तो सिर्फ भगवान को जो प्रणाम करते हैं जो सूर्य का प्लान गिटार इफेक्ट्स जो है वह हमारे पर अच्छा आता है और हमें विटामिन डी भी मिलता है रोज नियमित मात्रा में तो उससे हमारी हड्डियां मांसपेशियां मजबूत हो जाती है और जब उसने नमस्कार करते हैं तो उस शरीर के अंगों का व्यायाम होता है कि हमारा हाथ काफी मजबूत हो जाता है हमारा स्टेमिना बढ़ता है ऊर्जा का संचार होता है मांसपेशियां मजबूत होती है मसल्स मजबूत होते हैं अच्छी लगती है खाना अच्छा बचता है और स्टेमिना रहता है एक नई स्फूर्ति आती है दिमाग में दिमाग सुस्त रहता है और यह काम में ध्यान रखता है और जल्दी आदमी खाता नहीं है और बहुत सारी बहुत सारी चीजें हैं जो हम जल्दी अभी कर लेते हैं तो टाइम का पता नहीं चलता आदमी काम करते हो सकता नहीं है ज्यादा जल्दी जल्दी काम हो जाता है और पूरे दिन उत्साह बना रहता है तो सर नमस्कार काफी जरूरी है सर नमस्कार करते हो तो बॉडी में कल एक्सीडेंट आता है और अंदरूनी मजबूती बढ़ते हैं बॉडी की शरीर तेज में उसमें हो जाता है चेहरे की कांति बढ़ती है तो यह सारी चीज है तो आप जब भी सूर्य नमस्कार करें तो खाली पेट सुबह नमस्कार खाली पेट चने में सैर करने के बाद में थोड़ा सा ध्यान करें एक सूर्य नमस्कार किस से स्टार्ट करें तो जिस दिन दूसरा तीसरे दिन 30 साल से 12 सुना है उसका तक जाए कुछ लोग 108 दिन में उसका तक भी चले जाते हैं स्टैमिना के हिसाब से लेकिन अब रोज बारिश जो सरकारी दो कि काफी है लेकिन एक्सेप्ट कीजिए सूर्य नमस्कार एक्शन नमस्कार चर्चा करते हैं तब काफी लाभ होता है धीरे-धीरे आप उसे बढ़ाइए ताकि बड़ी तादाद है तो यह सेंसर करने से काफी लाभ है तो आप इसे रोज कीजिए आप शाम के समय में भी कर सकते हैं और सुबह के समय भी का सूर्यास्त के समय में कीजिए पश्चिम दिशा की ओर मुंह करके और मॉर्निंग पूर्व दिशा की ओर मुंह करके ऐसे आप कर सकते हैं नमो नारायण

jai gurudev shri namaskar matlab kya hota hai ki hum morning ke samay me surya ke saamne purv disha me khade rahkar surya ko namaskar karte hain 12 aasanon ke jariye toh isme alag alag barasan barasan ko karne se kaafi labh hote vyaktigat labh hote surya se me energy milti hai surya akela tote pushpa jisse hum zyada energy lete hain sabse highest energy milti hai toh sirf bhagwan ko jo pranam karte hain jo surya ka plan guitar effects jo hai vaah hamare par accha aata hai aur hamein vitamin d bhi milta hai roj niyamit matra me toh usse hamari haddiyan manspeshiya majboot ho jaati hai aur jab usne namaskar karte hain toh us sharir ke angon ka vyayam hota hai ki hamara hath kaafi majboot ho jata hai hamara stamina badhta hai urja ka sanchar hota hai manspeshiya majboot hoti hai muscles majboot hote hain achi lagti hai khana accha bachta hai aur stamina rehta hai ek nayi sfurti aati hai dimag me dimag sust rehta hai aur yah kaam me dhyan rakhta hai aur jaldi aadmi khaata nahi hai aur bahut saari bahut saari cheezen hain jo hum jaldi abhi kar lete hain toh time ka pata nahi chalta aadmi kaam karte ho sakta nahi hai zyada jaldi jaldi kaam ho jata hai aur poore din utsaah bana rehta hai toh sir namaskar kaafi zaroori hai sir namaskar karte ho toh body me kal accident aata hai aur andaruni majbuti badhte hain body ki sharir tez me usme ho jata hai chehre ki kanti badhti hai toh yah saari cheez hai toh aap jab bhi surya namaskar kare toh khaali pet subah namaskar khaali pet chane me sair karne ke baad me thoda sa dhyan kare ek surya namaskar kis se start kare toh jis din doosra teesre din 30 saal se 12 suna hai uska tak jaaye kuch log 108 din me uska tak bhi chale jaate hain stamina ke hisab se lekin ab roj barish jo sarkari do ki kaafi hai lekin except kijiye surya namaskar action namaskar charcha karte hain tab kaafi labh hota hai dhire dhire aap use badhaiye taki badi tadad hai toh yah censor karne se kaafi labh hai toh aap ise roj kijiye aap shaam ke samay me bhi kar sakte hain aur subah ke samay bhi ka suryaast ke samay me kijiye paschim disha ki aur mooh karke aur morning purv disha ki aur mooh karke aise aap kar sakte hain namo narayan

जय गुरुदेव श्री नमस्कार मतलब क्या होता है कि हम मॉर्निंग के समय में सूर्य के सामने पूर्व द

Romanized Version
Likes  456  Dislikes    views  5140
KooApp_icon
WhatsApp_icon
30 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!