दहेज लेना गलत है? क्यों?...


user

Gyandeep Kkr

Social Activist

2:59
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह दहेज लेना गलत है देखिए जो हम किसी से दहेज लेते हैं कर्जा लेते हैं इसका रिजल्ट लेट आता है इसलिए हमें पता नहीं चलता हम अज्ञानता में अपने ऊपर करके डालते हैं और आप एक बात सोचें जिसने अपना बच्चा ही दे दी अपनी बेटी दे दी इतना पाल पोस कर उसके बाद आप उस से ले रहे हैं तो कितनी बड़ी गलती कर रही है हमारा जो विवेक है यह मतलब हमारी बुद्धि इतनी कम है कि हम दहेज ले रही हैं हम शायद ऐसे भी मिलते हैं देखा देखी लोगों की देखा देखी हम इतना चलते हैं जबकि हमें यह सोचना चाहिए कि जिसके साथ हमारा संबंध जोड़ रहा है अपनी पत्नी के साथ हमें इतना चित्र रहना चाहिए कि उसकी आत्मा इतनी खुश हो कि वह बिल्कुल बराबरी का दर्जा उसको देना चाहिए उसकी आत्मा इतनी खुश हो कि वह हमारी दिल से हमारी मतलब केयर कर सके जबरदस्ती वाला कोई सौदा तो होता नहीं डिस्ट्रिक्ट जमीन की यह चीज तो है नहीं जो इतना अच्छा संबंध आप जोड़ रहे हैं उसको इतना एक गलत नीति के तहत जोड़ रही है बहुत गलत मिला रही है बहुत गलत बात है तो इन चीजों से आपको अभी बचना चाहिए अगर आपका मानसिक स्तर इतना नहीं है तो आपको को इसकी सही जानकारी हमारा मन का मानसिक स्तर इतना छोटा होता है कि हम सही चीज को अपना नहीं पाते दुनिया हमारे ऊपर इतनी हैवी होती और हमें खुद भी वह सही ठीक लगती है जो दुनिया एक मेजॉरिटी बहुत गलत चीज को अपना लेते नहीं लगती जबकि एक व्यक्ति की थी आप खुद देखिए हमें क्या चाहिए और दूसरे को क्या चाहिए हमारे जीवन में मानसिक संतोष का बहुत अहम रोल होता है देखिए जीवन इसमें काफी ऐसी घटनाएं होती हैं जब हमें मानसिक मतलब एक्सपोर्ट की जरूरत होती है यह जीवन में पता नहीं क्या-क्या होता है तो हम हमें एक लाइफ पार्टनर मिल रहा है उसको हम इतने प्यार से रखना चाहिए कि जैसे कोई कहना कि दोस्तों कितना रहना चाहिए अगर दोस्तों कितना प्यार करोगे तब दोस्त बन के रह जाएगा उसको इतना परेशान कर दोगे वह आपके घर में आती है आपके माता-पिता के साथ कैसे रहती है तो आप को उसके माता-पिता कैसे रहना चाहिए यह कोई ऐसा नहीं है कि आप नौकर खरीद कर ला रही है ऐसी भावना नहीं होता तो आत्मा का विवाह कर रहा है आपको एक पार्टनर दे रहा है तो उसका आदर करना चाहिए तो इसलिए सोच समझी हमें फैसला लेना चाहिए अगर माता-पिता कुछ की जानकारी नहीं है उन्हें भी देनी थी आप एक पुस्तक पढ़ी है जीने की राह पूरे परिवार को करनी चाहिए इसका लिंक भी मैंने अपने प्रोफाइल में दिया हुआ है वहां से डाउनलोड कर लीजिए

yah dahej lena galat hai dekhiye jo hum kisi se dahej lete hain karja lete hain iska result late aata hai isliye hamein pata nahi chalta hum agyanata me apne upar karke daalte hain aur aap ek baat sochen jisne apna baccha hi de di apni beti de di itna pal pos kar uske baad aap us se le rahe hain toh kitni badi galti kar rahi hai hamara jo vivek hai yah matlab hamari buddhi itni kam hai ki hum dahej le rahi hain hum shayad aise bhi milte hain dekha dekhi logo ki dekha dekhi hum itna chalte hain jabki hamein yah sochna chahiye ki jiske saath hamara sambandh jod raha hai apni patni ke saath hamein itna chitra rehna chahiye ki uski aatma itni khush ho ki vaah bilkul barabari ka darja usko dena chahiye uski aatma itni khush ho ki vaah hamari dil se hamari matlab care kar sake jabardasti vala koi sauda toh hota nahi district jameen ki yah cheez toh hai nahi jo itna accha sambandh aap jod rahe hain usko itna ek galat niti ke tahat jod rahi hai bahut galat mila rahi hai bahut galat baat hai toh in chijon se aapko abhi bachna chahiye agar aapka mansik sthar itna nahi hai toh aapko ko iski sahi jaankari hamara man ka mansik sthar itna chota hota hai ki hum sahi cheez ko apna nahi paate duniya hamare upar itni heavy hoti aur hamein khud bhi vaah sahi theek lagti hai jo duniya ek mejariti bahut galat cheez ko apna lete nahi lagti jabki ek vyakti ki thi aap khud dekhiye hamein kya chahiye aur dusre ko kya chahiye hamare jeevan me mansik santosh ka bahut aham roll hota hai dekhiye jeevan isme kaafi aisi ghatnaye hoti hain jab hamein mansik matlab export ki zarurat hoti hai yah jeevan me pata nahi kya kya hota hai toh hum hamein ek life partner mil raha hai usko hum itne pyar se rakhna chahiye ki jaise koi kehna ki doston kitna rehna chahiye agar doston kitna pyar karoge tab dost ban ke reh jaega usko itna pareshan kar doge vaah aapke ghar me aati hai aapke mata pita ke saath kaise rehti hai toh aap ko uske mata pita kaise rehna chahiye yah koi aisa nahi hai ki aap naukar kharid kar la rahi hai aisi bhavna nahi hota toh aatma ka vivah kar raha hai aapko ek partner de raha hai toh uska aadar karna chahiye toh isliye soch samjhi hamein faisla lena chahiye agar mata pita kuch ki jaankari nahi hai unhe bhi deni thi aap ek pustak padhi hai jeene ki raah poore parivar ko karni chahiye iska link bhi maine apne profile me diya hua hai wahan se download kar lijiye

यह दहेज लेना गलत है देखिए जो हम किसी से दहेज लेते हैं कर्जा लेते हैं इसका रिजल्ट लेट आता ह

Romanized Version
Likes  152  Dislikes    views  1350
KooApp_icon
WhatsApp_icon
6 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!