क्या महिलाओ पर हो रहे अत्याचार को देखते हुए सरकार को कोई कठोर कदम उठाना चाहिए?...


play
user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

1:59

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सरकार महिलाओं पर होते हुए अत्याचारों को रोकने के लिए प्रयास कर रही है कठोर से कठोर संविधान भी बना रखे हैं आपने देखा कि जो रेप रेप केस अधिक हो जाता है तो उसके लिए मरते दम तक का प्रावधान है सरकार तो बहुत प्रयास कर रही है किंतु मैं सोचता हूं जनता का भी सहयोग से मिलना चाहिए और जनता का नहीं विशेष तौर से महिलाओं का बेखुदी अत्याचार में शामिल हो रही हैं आप देखिए लड़कियां हैं पढ़ने के लिए जाती हैं और 10:10 बजे फ्रेंडों के साथ में घूमती हुई कर रही हैं अब तुम सोचो मैं माता-पिता को धोखा दे रही है कि मैं पढ़ने जा रही और वह दर दर होटल में भटकती रही लड़कों के साथ में तो वक्री लक्ष्मण रेखाओं को पार कर रही और तारे अब तुम सोचो कभी वह पकड़ी जाती है मन तू के देख महिलाएं महिलाओं पर अत्याचार हो रहे हैं दूसरी बात नहीं शादी होती है लड़के की बहू आती है तो सांस के अत्याचार भी करने वाली जो साथ है वह भी बहू पर अत्याचार कर रही है मालूम तो एक वह भी महिलाएं वह भी मैं लाइफ में एक महीना तू से मेला के दर्द को नहीं समझ पा रही है आप देख रहे हैं एक लड़की अंधी लड़की दूसरी लड़कियों को देखकर बना करके पैसा लेती है और उनमें फिर वह भी गंदगी में शामिल कर लेती है एक महिला तू से मेला पर भी कर रही है एक कुछ महिलाओं को भी सचेत होना चाहिए गंदगी की वजह गंदगी रास्ता बनाई जाए माता पिता को धोखा ना दें हम समाज के साथ धोखा ना करें क्योंकि समाज आपको जिस दिन पड़ेगा उस दिन पर आपको पचा नहीं पाएंगे बेहतर यही है क्या

sarkar mahilaon par hote hue atyacharo ko rokne ke liye prayas kar rahi hai kathor se kathor samvidhan bhi bana rakhe hain aapne dekha ki jo rape rape case adhik ho jata hai toh uske liye marte dum tak ka pravadhan hai sarkar toh bahut prayas kar rahi hai kintu main sochta hoon janta ka bhi sahyog se milna chahiye aur janta ka nahi vishesh taur se mahilaon ka bekhudi atyachar mein shaamil ho rahi hain aap dekhie ladkiyan hain padhne ke liye jati hain aur 10:10 baje friendon ke saath mein ghoomti hui kar rahi hain ab tum socho main mata pita ko dhokha de rahi hai ki main padhne ja rahi aur wah dar dar hotel mein bhatakti rahi ladko ke saath mein toh vakri lakshman rekhaon ko par kar rahi aur taare ab tum socho kabhi wah pakadi jati hai man tu ke dekh mahilaye mahilaon par atyachar ho rahe hain dusri baat nahi shadi hoti hai ladke ki bahu aati hai toh saans ke atyachar bhi karne wali jo saath hai wah bhi bahu par atyachar kar rahi hai maloom toh ek wah bhi mahilaye wah bhi main life mein ek mahina tu se mela ke dard ko nahi samajh pa rahi hai aap dekh rahe hain ek ladki andhi ladki dusri ladkiyon ko dekhkar bana karke paisa leti hai aur unmen phir wah bhi gandagi mein shaamil kar leti hai ek mahila tu se mela par bhi kar rahi hai ek kuch mahilaon ko bhi sachet hona chahiye gandagi ki wajah gandagi rasta banai jaye mata pita ko dhokha na de hum samaj ke saath dhokha na karein kyonki samaj aapko jis din padega us din par aapko pacha nahi payenge behtar yahi hai kya

सरकार महिलाओं पर होते हुए अत्याचारों को रोकने के लिए प्रयास कर रही है कठोर से कठोर संविधान

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  358
KooApp_icon
WhatsApp_icon
4 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!