क्या धर्म और संस्कार का संबंध है?...


user

Yogi Prashant Nath

Business Consultant / M D

9:15
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी हां दोनों एक दूसरे के पूरक होते हैं अर्थात मतलब यह है कि अगर एक ना हो तो दूसरे का कोई अचूक नहीं होगा तो स्पष्ट रूप से कहा जा सकता है कि एक के बिना दूसरे अधूरा बिना धर्म के संस्कार नहीं हो सकता और बिना संस्कार के धर्म नहीं हो सकता धर्म किसे कहते हैं सबसे पहले हमें यह जानना होगा उसके उसके बाद संस्कार किसे कहते हैं तभी हम बता पाएंगे कि दोनों में क्या समानता है समझता बैठ समलेटी क्या है और फिर उसके बाद उसमें क्या संबंध है धर्म जो है वह अध्यात्म और परमार्थ परमपिता परमेश्वर की वंदना करना उसके दिखाए गए मार्ग दर्शन पर चलना ओके के मार्गदर्शन द्वारा हमारे जीवन का पहला और हर एक पल अपना अच्छा और स्वचालित रूप से व्यतीत करना धर्म की परिभाषा में आता है कहा जाता है स्वयं भगवान परमपिता परमेश्वर नियंत्रण की संरचना करी है अब आते हैं संस्कारों के संस्कार की व्याख्या वैसे तो बहुत दिव्यंका में बहुत ही पड़ी है और इसी प्रकार से धर्म की भी थी लेकिन मैंने आपको सारांश में प्रस्तुत किया है यह तो संस्कार के होते हैं हमारे कुल पूर्वज लोगों के द्वारा चले आए कुछ ऐसे नियम कायदे कानून जो हमारे जीवन को सुचारू रूप से व्यतीत करने में सहायक या सहायता प्रदान करता है वही तो धर्म और संस्कार संस्कार लोगों द्वारा हमारे पूर्वज द्वारा हमारे पीढ़ी दर पीढ़ी हम तक पहुंचते आते हैं बनाए गए नियम संस्कार कहलाते हैं और धर्म परमात्मा के ग्रंथों द्वारा की गई है परमात्मा द्वारा रची गई प्रार्थना के ग्रंथों में उल्लेखनीय नियम नीति बताओ जो हमारे हमें तो देखा जाए तो दोनों का कार्य ही सामान्य दोनों का एक ही बॉडी बनता है कि जीवन को किस तरह से सुविधाजनक और सरलता पूर्व शुभम रूप से व्यतीत किया जाए जिया मतलब दोनों ही हमें जीवन जीने की कला सिखाते हैं और दोनों में समानता है कि बिना एक को छोड़ें दूसरे को समझा नहीं जा सकता वो हमें दोनों को ही पालन करना पड़ता है अगर हम अपने जीवन में अपने पीढ़ी को एक अच्छा आदर्श जीवन जीने की कला सिखाना चाहते हैं तो दोनों का सम्मिश्रण आवश्यक है धर्म और संस्कार का धर्म कभी भी अहिंसा या कुछ ऐसी चीजों को नहीं सिखाता और ना ही हमारे संस्कार हमें हिंसात्मक को को धारण करने के लिए प्रेरित करते हैं कुछ लोगों ने ऐसी मानसिकता फैला रखी है गलतफहमी पैदा रखे धर्म भव्य विभाजन ऐसा कुछ चाहे वो कोई भी धर्म किसी भी प्रांत का धर्म हर धर्म में हर एक व्यक्ति की रिस्पेक्ट सम्मान करने का सम्मान की दृष्टि से देखे जाने का नजरिया सिखाया जाता है और सम्मान देना भी उसी तरह से हमारे संस्कार किसी भी धर्म या किसी भी समाज के व्यक्ति के परिवार के संस्कृति दाबेली चले आए संस्कार में भी लोगों को रिस्पेक्ट देना उनका सम्मान करना बड़ों का आदर करना यह चीजें हमारे संस्कार में हमें खून में जाती है ताकि एक ऐसे नियम प्रणाली पथ होकर हम अपने दायित्वों का पालन करते रहे मुझ से बाहर ना निकले और जरूरी भी है कहीं नहीं जैसे छोटे बड़ों का लिहाज माता-पिता का सम्मान करना अगर हम इन सब चीजों में अनदेखा करेंगे उन्होंने नकारात्मकता की तरफ लेकर जाएंगे नेगेटिव हमारे विचार खुद नकारात्मक बन जाएंगे और हम पाएंगे कि सारे जीवन में उथल-पुथल मचाते हैं और संस्कार का किसी धर्म में और उसमें ज्यादा मायने नहीं रखता लगते हार्लो अलग अलग सांप के अलग प्रांत समाज करते हैं वे धर्म भी अलग होते हैं तो संस्कार चाहे पीढ़ी दर पीढ़ी दिए जाने वाली सीख होती है जो हम अपने आने वाले बच्चों को देते हैं या जो हमारे माता-पिता ने हमें दिया तेरे कि एक ऐसा तजुर्बा होता है जो हमें हमारे जीवन में या तो उनके द्वारा की गई गलती के द्वारा उन्हें जो परिणाम हासिल हुए उन्हें यह नहीं चाहते कि हमारी पीढ़ी भी उन कठिनाइयों और परेशानियों का सामना करें तो ऐसे नियम वध करते हैं और बताते हैं वह तो उन्हें हम संस्कार कहते हैं और संस्कारों में दो-तीन क्या समानता है मेरी समानता यही है कि दोनों ही हमारे जीवन को प्रभावित करते हैं और अच्छी और शुभम जीवन शैली व्यतीत करने में सहायक होते हैं हमारी मानसिकता को सकारात्मक ऊर्जा प्रदान करते हैं दोनों हैं और दोनों ही एक दूसरे के बिना अधूरे हैं जहां धर्म की रिस्पेक्ट नहीं होगी धर्म का सम्मान या वहां संस्कार नहीं होगा अच्छे संस्कार नहीं होंगे और जहां अच्छे संस्कार नहीं होंगे वहां धर्म नहीं हो सकता तो आशा करता हूं कि वह कल पोस्ट आपके लिए काफी सहायक सिद्ध हो और अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया है तो आप इसे लाइक कर सकते हैं और इसी तरह के वोकल पोस्ट को सुनने के लिए आप मुझे मेरे हो कल प्रोफाइल पर कॉल कर सकते हैं मेरा नाम है योगी प्रशांत नाथ और मैं आप सभी का बहुत-बहुत आभार व्यक्त करता हूं कि आपने समय निकालकर यह और सुना धन्यवाद

ji haan dono ek dusre ke purak hote hai arthat matlab yah hai ki agar ek na ho toh dusre ka koi achuk nahi hoga toh spasht roop se kaha ja sakta hai ki ek ke bina dusre adhura bina dharm ke sanskar nahi ho sakta aur bina sanskar ke dharm nahi ho sakta dharm kise kehte hai sabse pehle hamein yah janana hoga uske uske baad sanskar kise kehte hai tabhi hum bata payenge ki dono mein kya samanata hai samajhata baith samleti kya hai aur phir uske baad usme kya sambandh hai dharm jo hai vaah adhyaatm aur parmaarth parampita parmeshwar ki vandana karna uske dekhiye gaye marg darshan par chalna ok ke margdarshan dwara hamare jeevan ka pehla aur har ek pal apna accha aur svachalit roop se vyatit karna dharm ki paribhasha mein aata hai kaha jata hai swayam bhagwan parampita parmeshwar niyantran ki sanrachna kari hai ab aate hai sanskaron ke sanskar ki vyakhya waise toh bahut divyanka mein bahut hi padi hai aur isi prakar se dharm ki bhi thi lekin maine aapko saransh mein prastut kiya hai yah toh sanskar ke hote hai hamare kul purvaj logo ke dwara chale aaye kuch aise niyam kayade kanoon jo hamare jeevan ko sucharu roop se vyatit karne mein sahayak ya sahayta pradan karta hai wahi toh dharm aur sanskar sanskar logo dwara hamare purvaj dwara hamare peedhi dar peedhi hum tak pahunchate aate hai banaye gaye niyam sanskar kehlate hai aur dharm paramatma ke granthon dwara ki gayi hai paramatma dwara rachi gayi prarthna ke granthon mein ullekhaniya niyam niti batao jo hamare hamein toh dekha jaaye toh dono ka karya hi samanya dono ka ek hi body baata hai ki jeevan ko kis tarah se suvidhajanak aur saralata purv subham roop se vyatit kiya jaaye jiya matlab dono hi hamein jeevan jeene ki kala sikhaate hai aur dono mein samanata hai ki bina ek ko choodey dusre ko samjha nahi ja sakta vo hamein dono ko hi palan karna padta hai agar hum apne jeevan mein apne peedhi ko ek accha adarsh jeevan jeene ki kala sikhaana chahte hai toh dono ka sammishran aavashyak hai dharm aur sanskar ka dharm kabhi bhi ahinsa ya kuch aisi chijon ko nahi sikhata aur na hi hamare sanskar hamein hinsatmak ko ko dharan karne ke liye prerit karte hai kuch logo ne aisi mansikta faila rakhi hai galatfahamee paida rakhe dharm bhavya vibhajan aisa kuch chahen vo koi bhi dharm kisi bhi prant ka dharm har dharm mein har ek vyakti ki respect sammaan karne ka sammaan ki drishti se dekhe jaane ka najariya sikhaya jata hai aur sammaan dena bhi usi tarah se hamare sanskar kisi bhi dharm ya kisi bhi samaj ke vyakti ke parivar ke sanskriti dabeli chale aaye sanskar mein bhi logo ko respect dena unka sammaan karna badon ka aadar karna yah cheezen hamare sanskar mein hamein khoon mein jaati hai taki ek aise niyam pranali path hokar hum apne dayitvo ka palan karte rahe mujhse se bahar na nikle aur zaroori bhi hai kahin nahi jaise chote badon ka lihaj mata pita ka sammaan karna agar hum in sab chijon mein andekha karenge unhone nakaratmakta ki taraf lekar jaenge Negative hamare vichar khud nakaratmak ban jaenge aur hum payenge ki saare jeevan mein uthal puthal machate hai aur sanskar ka kisi dharm mein aur usme zyada maayne nahi rakhta lagte harlow alag alag saap ke alag prant samaj karte hai ve dharm bhi alag hote hai toh sanskar chahen peedhi dar peedhi diye jaane wali seekh hoti hai jo hum apne aane waale baccho ko dete hai ya jo hamare mata pita ne hamein diya tere ki ek aisa tajurba hota hai jo hamein hamare jeevan mein ya toh unke dwara ki gayi galti ke dwara unhe jo parinam hasil hue unhe yah nahi chahte ki hamari peedhi bhi un kathinaiyon aur pareshaniyo ka samana kare toh aise niyam vadh karte hai aur batatey hai vaah toh unhe hum sanskar kehte hai aur sanskaron mein do teen kya samanata hai meri samanata yahi hai ki dono hi hamare jeevan ko prabhavit karte hai aur achi aur subham jeevan shaili vyatit karne mein sahayak hote hai hamari mansikta ko sakaratmak urja pradan karte hai dono hai aur dono hi ek dusre ke bina adhure hai jaha dharm ki respect nahi hogi dharm ka sammaan ya wahan sanskar nahi hoga acche sanskar nahi honge aur jaha acche sanskar nahi honge wahan dharm nahi ho sakta toh asha karta hoon ki vaah kal post aapke liye kaafi sahayak siddh ho aur agar aapko yah post pasand aaya hai toh aap ise like kar sakte hai aur isi tarah ke vocal post ko sunne ke liye aap mujhe mere ho kal profile par call kar sakte hai mera naam hai yogi prashant nath aur main aap sabhi ka bahut bahut abhar vyakt karta hoon ki aapne samay nikalakar yah aur suna dhanyavad

जी हां दोनों एक दूसरे के पूरक होते हैं अर्थात मतलब यह है कि अगर एक ना हो तो दूसरे का कोई अ

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  192
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!