रिश्ते तोड़ देना हमारी फितरत में नहीं, हम तो बदनाम है, रिश्ते निभाने के लिए !!क्या आशय है?...


user

Devesh Singh

Motivational Speaker | Professor

1:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

वैसे तो यह पंक्तियां किसी शायर की कही हुई लगती हैं लेकिन कोई भी आत्मा से मजबूत व्यक्ति अपने रिश्ते को बहुत सहेज के रखना चाहता है वह अपने रिश्तो के प्रति पूरा ईमानदार होता है और वह अपने संबंधों को पूरे मधुरता और पूरी ईमानदारी से निभाता है सामने वाले का पूरा ख्याल रखता है और जब भी सामने वाले से कोई भी किसी तरीके की कोई गलती कोई चूक कोई भी मिस्टेक हो जाती है तो उस भूल को सुधार करने का एक मौका देता है और फिर से उस संबंध को एक नया आयाम देने की कोशिश करता है हम सभी के अंदर कहीं न कहीं इंसानियत छुपी रहती है कई बार उसको हम लोग सामने रखते हैं कई बार उसको हम लोग अपने अंदर रखते हैं और यह इंसानियत यह आत्मा बंद यही हमें वह शक्ति प्रदान करता है जिससे हम किसी भी संबंध को शहीद के रख सकते हैं आपसी संबंध आपसी रिश्ते ही हमारे जीवन की बुनियाद है और इस दुनिया को हिलाने या खत्म करने की सोच किसी भी समझदार व्यक्ति की नहीं होती है इसी नाते वह इन संबंधों को सहेज के रखता है अपने रिश्तो को बचा के रखता है ताकि उसका जीवन सफल रह सके और लोग उसे मरने के बाद भी याद कर सकें

waise toh yah panktiyan kisi shayar ki kahi hui lagti hain lekin koi bhi aatma se majboot vyakti apne rishte ko bahut sahej ke rakhna chahta hai vaah apne rishto ke prati pura imaandaar hota hai aur vaah apne sambandhon ko poore madhurata aur puri imaandaari se nibhata hai saamne waale ka pura khayal rakhta hai aur jab bhi saamne waale se koi bhi kisi tarike ki koi galti koi chuk koi bhi mistake ho jaati hai toh us bhool ko sudhaar karne ka ek mauka deta hai aur phir se us sambandh ko ek naya aayam dene ki koshish karta hai hum sabhi ke andar kahin na kahin insaniyat chhupee rehti hai kai baar usko hum log saamne rakhte hain kai baar usko hum log apne andar rakhte hain aur yah insaniyat yah aatma band yahi hamein vaah shakti pradan karta hai jisse hum kisi bhi sambandh ko shaheed ke rakh sakte hain aapasi sambandh aapasi rishte hi hamare jeevan ki buniyad hai aur is duniya ko hulana ya khatam karne ki soch kisi bhi samajhdar vyakti ki nahi hoti hai isi naate vaah in sambandhon ko sahej ke rakhta hai apne rishto ko bacha ke rakhta hai taki uska jeevan safal reh sake aur log use marne ke baad bhi yaad kar sakein

वैसे तो यह पंक्तियां किसी शायर की कही हुई लगती हैं लेकिन कोई भी आत्मा से मजबूत व्यक्ति अपन

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  123
KooApp_icon
WhatsApp_icon
7 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!