तनाव से कैसे छुटकारा मिलेगा?...


play
user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

2:00

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपकी पोस्ट को देख कर तो मुझे एक बात याद आ रही है एक बार अचार आचार्य विनोबा भावे से किसी व्यक्ति ने कहा में कैसे भी आती थी गंदी आदतों को नहीं हो पा रहा हूं यह मेरे पीछे पड़ी हुई है मुझे कुछ नहीं करने देती है और मेन सेतु आचार्य दिनों से उन्होंने कहा कि कल मेरे साथ तुम चलना घूमने चलेंगे हम और सुबह घूमने गए आचार्य विनोबा भावे बात करती हो जा रहे थे कि आचार्य विनोबा भावे ने किसको देखा और फिर से पकड़ लिया तो नहीं पकड़ता है क्या टेंशन आदमी खुद पालता है पालता है उसके बारे में बहुत ज्यादा हम लोग दिए थिंकिंग करते हैं फिर थिंकिंग थिंकिंग वोट पड़े रहते हैं आलस में पड़े रहते उसकी टेंशन पालना सारी बीमारियों की चढ़ाई पीके हो यह समस्या भी आ जाती है कोई झगड़ा भी है तो बैठकर कुछ आ सकता है आपस में बातचीत आगे निकल के आ सकता है टेंशन नहीं पालनी चाहिए टेंशन तो हमने स्वयं ने पाल लिए हम टेंशन हो से हम चुप रहे हैं टेंशन हम से भी चुके हैं इंसानों को हमने पा लिया उसे चिपक गए 24 घंटे 1 प्लस पर की तरह उसी पर चूसते रहेंगे उसके जूते नहीं टेंशन नहीं हुआ तो क्या हुआ और आज की पीढ़ी ने तो वर्क से जी चुराने के लिए टेंशन एक बहाना बना

aapki post ko dekh kar toh mujhe ek baat yaad aa rahi hai ek baar achaar aacharya vinoba bhave se kisi vyakti ne kaha mein kaise bhi aati thi gandi aadaton ko nahi ho pa raha hoon yeh mere peeche padi hui hai mujhe kuch nahi karne deti hai aur main setu aacharya dinon se unhone kaha ki kal mere saath tum chalna ghoomne chalenge hum aur subah ghoomne gaye aacharya vinoba bhave baat karti ho ja rahe the ki aacharya vinoba bhave ne kisko dekha aur phir se pakad liya toh nahi pakadta hai kya tension aadmi khud paalata hai paalata hai uske bare mein bahut zyada hum log diye thinking karte hain phir thinking thinking vote pade rehte hain aalas mein pade rehte uski tension paalnaa saree bimariyon ki chadhai pk ho yeh samasya bhi aa jati hai koi jhadna bhi hai toh baithkar kuch aa sakta hai aapas mein batchit aage nikal ke aa sakta hai tension nahi palni chahiye tension toh humne swayam ne pal liye hum tension ho se hum chup rahe hain tension hum se bhi chuke hain insano ko humne pa liya use chipak gaye 24 ghante 1 plus par ki tarah usi par chuste rahenge uske joote nahi tension nahi hua toh kya hua aur aaj ki peedhi ne toh work se ji churane ke liye tension ek bahana bana

आपकी पोस्ट को देख कर तो मुझे एक बात याद आ रही है एक बार अचार आचार्य विनोबा भावे से किसी व्

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  389
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!