GST शुरू करवाने का मुख्य उद्देश्य क्या है?...


play
user

Pragati

Aspiring Lawyer

1:41

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जीएसटी शुरू करवाने का मुख्य उद्देश्य यही था कि आप हर जो ट्रैक्टर से जो के अलग अलग नाम से अलग अलग तरीके से स्टेट गोवेर्मेंट और सेंट्रल गवर्मेंट अलग-अलग लेती है उसको एक-एक हीरा टैक्स में बना दिया जाए और एक ही टैक्स स्लैब रखी जाए ताकि उन चीजों को आसानी से बहुत ही सिंप्लीफिकेशन से और डिवीजन कर सके कि अगर इस तरह की चीज है तो उसको इस टैक्स स्लैब में डाला जाएगा और अगर थोड़ी ज्यादा किसी प्रोडक्शन वाली चीज है तो उसको इस टैक्स स्लैब में जाल डाला जाएगा तो और चीजों के हिसाब से उनका आचरण कर आ जा रहा है और उनको उनके ऊपर टैक्स वसूल किया जा रहा है उसके अलावा और जो अलग-अलग टैक्स वसूल किए जाते थे स्टेट गवर्नमेंट के द्वारा और सेंट्रल कमेंट के द्वारा उन सभी को हटाकर सिर्फ एक टैक्स बना दिया गया है जो किसी जीएसटी यानी सेंट्रल गवर्मेंट का जीएसटी है वही SC ST जो कि स्टेट गवर्नमेंट जॉब द्वारा जीएसटी दिया जाता है जो कि अलग-अलग चीजों पर अलग-अलग टैक्स स्लैब संजय से 5 परसेंट 12:00 पर्सेंट तारा या फिर भी तो उसे साफ चीजों में बहुत सिंप्लीफिकेशन हो गया है और अब तो ज्यादातर लोगों को ज्यादा टैक्स नहीं देना पड़ता है जगह पर अलग-अलग तरह से जैसे पहले किसान कृषि किसान टेक्स्ट किया जाता था सर्विस टैक्स किया जाता था लिया जाता था तो उन सब को हटाकर सिर्फ एक टैक्स बना दिया जाए गया है तो यह लोगों की जो मुश्किल है वह भी आसान कर रहा है उनसे ज्यादा टैक्स वसूल नहीं हो रहा है और वही जोक्स इकॉनमी है उसमें भी सिंप्लीफिकेशन आ रहा है क्योंकि सिर्फ एक तरह का टैक्स वसूल किया जाएगा और यह सरकार के लिए भी बहुत आसानी से रहेगा और वही है जो कंजूमर से उनके लिए भी बहुत आसान रहेगा टैक्स को समझना और उसका प्रयोग करना

gst shuru karwane ka mukhya uddeshya yahi tha ki aap har jo tractor se jo ke alag alag naam se alag alag tarike se state government aur central government alag alag leti hai usko ek ek heera tax mein BA na diya jaaye aur ek hi tax slab rakhi jaaye taki un chijon ko aasani se BA hut hi simplifikeshan se aur division kar sake ki agar is tarah ki cheez hai toh usko is tax slab mein dala jaega aur agar thodi zyada kisi production wali cheez hai toh usko is tax slab mein jaal dala jaega toh aur chijon ke hisab se unka aacharan kar aa ja raha hai aur unko unke upar tax vasool kiya ja raha hai uske alava aur jo alag alag tax vasool kiye jaate the state government ke dwara aur central comment ke dwara un sabhi ko hatakar sirf ek tax BA na diya gaya hai jo kisi gst yani central government ka gst hai wahi SC ST jo ki state government dwara gst diya jata hai jo ki alag alag chijon par alag alag tax slab sanjay se 5 percent 12 00 percent tara ya phir bhi toh use saaf chijon mein BA hut simplifikeshan ho gaya hai aur ab toh jyadatar logo ko zyada tax nahi dena padta hai jagah par alag alag tarah se jaise pehle kisan krishi kisan text kiya jata tha service tax kiya jata tha liya jata tha toh un sab ko hatakar sirf ek tax BA na diya jaaye gaya hai toh yah logo ki jo mushkil hai vaah bhi aasaan kar raha hai unse zyada tax vasool nahi ho raha hai aur wahi jokes economy hai usme bhi simplifikeshan aa raha hai kyonki sirf ek tarah ka tax vasool kiya jaega aur yah sarkar ke liye bhi BA hut aasani se rahega aur wahi hai jo consumer se unke liye bhi BA hut aasaan rahega tax ko samajhna aur uska prayog karna

जीएसटी शुरू करवाने का मुख्य उद्देश्य यही था कि आप हर जो ट्रैक्टर से जो के अलग अलग नाम से अ

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  142
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
सिंप्लीफिकेशन ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!