कला किस प्रकार बनाई जाती है?...


user

J.P. Y👌g i

Psychologist

6:12
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्रशन है कला किस प्रकार बनाई जाती है दरअसल कला बनाना एक अंत करण की वृत्ति का उदय है अगर आप कोई उत्कर्ष के अंदर आपके अंदर रंजकता उत्पन्न होती है तो उसके प्रति आपको सही जी मीटर के हिसाब से अगर कोई चीज कला में निरूपित करते हैं और जिसके बारंबारता में एक औरत निश्चित बनती चली जाती है तो वह कला वर्ग में आ जाती है चाहे नृत्य शैली हो गायन शैली हो या कोई मूर्ती शिल्पकार हो कला की बहुत सी भी विधियां है जिसके अंदर कोई ना कोई हमारा रुझान टेक्स होता है तो कुछ प्रकृतिक संस्कार हमारे अंदर होते हैं और मंकी रंजकता के कारण कलाकार दो हुआ है और कलाकार कलाल जब उत्पन्न होता है जो कुछ है सांसारिक पशुओं से अन रहित होकर के जिनके अंदर शांत होता है और वह कुछ आनंद इन्वायरमेंट में अपने आप को सर्च करते रहते हैं तो उनके अंदर करण से जरूर कला की अदवार्षिक भावना उत्पन्न होती है और उसकी अगर हनोल अनुबंधित रूप से किसी को चित्रात्मक ढंग से अगर उसको सहयोग है तो वह कला के पाठ्यक्रम के रूप में निरूपित हो जाता है तो कला की अभिव्यक्ति कोई जो हम प्रमाणिकता से बनाते हैं उसको संकलन में लाते हैं तो कला का निरूपण हो जाता है तो कलान में एक छोटी सी दशा से लेकर महादशा में इसमें चीज टकरा जाता है और अभ्यास के द्वारा वह कुशलता के रूप में प्रकार उतार के साथ-साथ समक्ष प्रस्तुत होती है तो कला कोई जब भी अभिव्यक्त आना है तो यही है कि मन के अंदर अगर शांति से कोई चीज निरूपण हो रहा है आप उसको व्यवहार मंडल में लाने की कोशिश करें और उसके सहयोग तत्वों से सकारात्मक स्वरूप बनाए और उसके व्यक्ति में रुझान उत्पन्न होता है तो निश्चय में कला के रूप में प्रकट हो रहा है तो कला जीवन का एक बहुत बड़ा जीने का ढंग है क्योंकि हार विधि काला के अंदर ही समाहित होती है और कला के अंदर ही निपुणता आती है क्या और वही कुशलता को लाए हुए अंत करण की अभिव्यक्ति होती है तो कल आपके अंदर जो जिसका अंत करण मन और प्राण का काम करता है शरीर के साथ वह कला के व्यक्ति करने में निपुण हो जाते हैं और रंजकता के आधार पर वह अपने उसे मंडल में प्रवेश करते हैं जान के अभिरुचि या बढ़ती रहती है और उसमें आरस वादन और आनंद का आभास होता है यह तो कला एक बहुत बड़ी प्रमुखता है कला के गीत देने से आज जगत की संरचना हो रही है चाहे वह सड़क का डिजाइन हो या या किसी कार्यालय कौन हो भवन हो इत्यादि हर तरह के औद्योगिक क्षेत्र परिसरों का निर्माण हो स्कूल कॉलेज जियो का निर्माण और भी चौकस धरती पर हम सजाते हैं वह सब कलाकार नहीं हुआ है अभी निर्माण होता है तो कला किसे जनता आपके वीकली फिदा का समय संभवत प्रकट होती रहती है अगर आपके अंदर एकाग्रता से उसको सही नियोजित करने की क्षमता है तो आप की कला में प्रस्तुतीकरण का नवीनतम धारा उत्पन्न हो सकती है तो कला की याद भी सर्च ना चली आ रही है जिसमें कुछ ना कुछ नवीनतम ढंग की शैलियां उसमें प्रस्तुत हो रही है और यही चीज है कि विवि देता को बढ़ा रही हैं इसमें एक रंजकता का विराट आयोजन समारोह बनता है जिसके कारण एक मन में आंदोलित उत्पन्न करता है कला और बहुत कुछ इंडिकेट करता है भावनाओं को कला की बहुत बड़ी भूमिका होती है और उसमें मनुष्य की मानसिकता की पहचान नजर आती है किस की गहराई में इस कला का निरूपण किस आधार पर हुआ है और यह अंतर जगत में होने वाली विमर्श की संभावनाओं को प्रकट करती है और वह बिना कहे हुए बहुत सारी चीजों पर बच्चों को बाहर कर आते हैं कल आपने आप में नहीं पड़ता है और कला ही संसार का सबसे बड़ा उपयोगिता और आधार माना जाता है मानव जाति के लिए और ही है यह पूरा जगत से और उसकी ऐश्वर्या का प्रतीक होता है कला तो कला ही एक बहुत बड़ी शादी बनती है और अपने आपको आज स्थापित कर लेती है तो बहुत से विभिन्न तरह की कला है हमारी विश्व के अंदर निर्धारित हो रही हैं और उसके ऊपर क्रिया मन हो रहा है कि जोड़ो भी एक कला है कुश्ती कला है कबड्डी कलाएं खेल के सारे स्वरूप एक कला में निरूपित होते हैं और इसमें विकास होता है रंजकता पड़ती है तो कला की प्रकाश डालें जो बहुत कुछ उस कृति के अंदर होत भाषित हो जाता है कि इसका समय पुर वजन ही हो रहा है तो इसे सारे दिव्य अनुभूति का एक मंडल कला के रूप में निरूपित होता है और कला अपनी एकाग्रता पर सतही बनाई जा सकती है और इसके लिए प्रयासरत रहना चाहिए इसी से ही आपकी मनुष्य की जो कृतियां बनती है मनुष्य उपयोगी हो जाता है जीवन एक साथ सार्थकता के मोमेंट कहलाता है का स्मृतियां बहुत ही उत्तम दलजीत इंसानों की महत्वता को बताता है धन्यवाद

prashan hai kala kis prakar banai jaati hai darasal kala banana ek ant karan ki vriti ka uday hai agar aap koi utkarsh ke andar aapke andar ranjakata utpann hoti hai toh uske prati aapko sahi ji meter ke hisab se agar koi cheez kala mein nirupit karte hain aur jiske barambarta mein ek aurat nishchit banti chali jaati hai toh vaah kala varg mein aa jaati hai chahen nritya shaili ho gaayan shaili ho ya koi moorti shilpakaar ho kala ki bahut si bhi vidhiyan hai jiske andar koi na koi hamara rujhan tax hota hai toh kuch prakritik sanskar hamare andar hote hain aur monkey ranjakata ke karan kalakar do hua hai aur kalakar kalal jab utpann hota hai jo kuch hai sansarik pashuo se an rahit hokar ke jinke andar shaant hota hai aur vaah kuch anand environment mein apne aap ko search karte rehte hain toh unke andar karan se zaroor kala ki adavarshik bhavna utpann hoti hai aur uski agar hanol anubandhit roop se kisi ko chitratmak dhang se agar usko sahyog hai toh vaah kala ke pathyakram ke roop mein nirupit ho jata hai toh kala ki abhivyakti koi jo hum pramanikata se banate hain usko sankalan mein laate hain toh kala ka nirupan ho jata hai toh kalan mein ek choti si dasha se lekar Mahadasha mein isme cheez takara jata hai aur abhyas ke dwara vaah kushalata ke roop mein prakar utar ke saath saath samaksh prastut hoti hai toh kala koi jab bhi abhivyakt aana hai toh yahi hai ki man ke andar agar shanti se koi cheez nirupan ho raha hai aap usko vyavhar mandal mein lane ki koshish kare aur uske sahyog tatvon se sakaratmak swaroop banaye aur uske vyakti mein rujhan utpann hota hai toh nishchay mein kala ke roop mein prakat ho raha hai toh kala jeevan ka ek bahut bada jeene ka dhang hai kyonki haar vidhi kaala ke andar hi samahit hoti hai aur kala ke andar hi nipunata aati hai kya aur wahi kushalata ko laye hue ant karan ki abhivyakti hoti hai toh kal aapke andar jo jiska ant karan man aur praan ka kaam karta hai sharir ke saath vaah kala ke vyakti karne mein nipun ho jaate hain aur ranjakata ke aadhar par vaah apne use mandal mein pravesh karte hain jaan ke abhiruchi ya badhti rehti hai aur usme arsh vaadan aur anand ka aabhas hota hai yah toh kala ek bahut badi pramukhta hai kala ke geet dene se aaj jagat ki sanrachna ho rahi hai chahen vaah sadak ka design ho ya ya kisi karyalay kaun ho bhawan ho ityadi har tarah ke audyogik kshetra parisaron ka nirmaan ho school college jio ka nirmaan aur bhi chaukas dharti par hum sajate hain vaah sab kalakar nahi hua hai abhi nirmaan hota hai toh kala kise janta aapke weekly fida ka samay sambhavat prakat hoti rehti hai agar aapke andar ekagrata se usko sahi niyojit karne ki kshamta hai toh aap ki kala mein prastutikaran ka navintam dhara utpann ho sakti hai toh kala ki yaad bhi search na chali aa rahi hai jisme kuch na kuch navintam dhang ki shailiyan usme prastut ho rahi hai aur yahi cheez hai ki vividhta deta ko badha rahi hain isme ek ranjakata ka virat aayojan samaroh baata hai jiske karan ek man mein andolit utpann karta hai kala aur bahut kuch indicate karta hai bhavnao ko kala ki bahut badi bhumika hoti hai aur usme manushya ki mansikta ki pehchaan nazar aati hai kis ki gehrai mein is kala ka nirupan kis aadhar par hua hai aur yah antar jagat mein hone wali vimarsh ki sambhavanaon ko prakat karti hai aur vaah bina kahe hue bahut saree chijon par baccho ko bahar kar aate hain kal aapne aap mein nahi padta hai aur kala hi sansar ka sabse bada upayogita aur aadhar mana jata hai manav jati ke liye aur hi hai yah pura jagat se aur uski aishwarya ka prateek hota hai kala toh kala hi ek bahut badi shadi banti hai aur apne aapko aaj sthapit kar leti hai toh bahut se vibhinn tarah ki kala hai hamari vishwa ke andar nirdharit ho rahi hain aur uske upar kriya man ho raha hai ki jodon bhi ek kala hai kushti kala hai kabaddi kalaen khel ke saare swaroop ek kala mein nirupit hote hain aur isme vikas hota hai ranjakata padti hai toh kala ki prakash Daalein jo bahut kuch us kriti ke andar hot bhashit ho jata hai ki iska samay pur wajan hi ho raha hai toh ise saare divya anubhuti ka ek mandal kala ke roop mein nirupit hota hai aur kala apni ekagrata par satahi banai ja sakti hai aur iske liye prayasarat rehna chahiye isi se hi aapki manushya ki jo kritiyaan banti hai manushya upyogi ho jata hai jeevan ek saath sarthakta ke moment kehlata hai ka smritiyan bahut hi uttam daljit insano ki mahatvata ko batata hai dhanyavad

प्रशन है कला किस प्रकार बनाई जाती है दरअसल कला बनाना एक अंत करण की वृत्ति का उदय है अगर आप

Romanized Version
Likes  149  Dislikes    views  2344
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Ganesh

Eletrical Engineer

0:20
Play

Likes  3  Dislikes    views  133
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!