यदि कोई आदमी मारता हो, तो क्या करें?...


user

J.P. Y👌g i

Psychologist

4:49
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्रश्न है यदि कोई आदमी मरता हो तो क्या करें दर्शन अगर यह स्थिति हम मनुष्य की दशा मिले तो उसे मनुष्य के जीवन की एक घटना ज्ञान है और यह स्वाभाविक है कि मनुष्य को इस मिर्ची से भी कभी ना कभी शाम ना होना ही पड़ता है तो जब ऐसी दशा प्रत्येक चूहों में आनी है और जहां तक मानव जीवन है तुमको मानव जाति के अंदर इसकी सूची इतना जीवन में हमेशा साथ में होता है और हर इंसान की सोच कि जानता है कि यही एक जीवन का रास्ता भी बनेगा और इसमें जरूर इस दौर से गुजरना पड़ता है गुजरेगा ही तो यह प्रकृति का स्वाभाविक नियम है बशर्ते यह होता है कि इसके उपरांत शेष क्या स्थिति हो सकती है यह विचार नहीं हो जाता है जो अध्यात्म साधना साधना पथ में चलने वाले साधक होते हैं जिसका लंबन बहुत तीव्र वेदना उसे ले लेते हैं और वे समय का इंतजार ना करते हुए सॉन्ग उस स्थिति का भोज करते हैं वह बातचीत में रहता क्या है और यही त्याग की सबसे बड़ी पृष्ठभूमि बनती है और यही दशा निर्भय पत्ते भी स्थापित कर देती है जो इसका सारांश कमानो प्रतिभावान कर लेते हैं और इसी ही ध्यान में ही मनुष्य अपने जीवन में सचेतना कर्म को परिचालित करता है कि हमें ऐसे कर्म करने चाहिए जिससे कि या ₹100 के बीच से रहित एकांतर भाव शांति और यह सत्र की स्थापना है वहां पर उसकी नियुक्ति हो जाए क्योंकि यह जीवन मरण एक जन्म का नहीं होता है यह कई जन्मों से चला आ रहा है क्योंकि भारत के धार्मिक पृष्ठभूमि में मनुष्य का जीव अविनाशी है इसका विनाश नहीं होता है लेकिन प्रकृति कुछ चैप्टर हैं जो हम उस शहीद नहीं हो पाते हैं और इसके अंदर ऐसी दुर्दशा आती है कि जिस तरह को वस्त्र होता है गंदा और मरीन हो जाता है या उसमें और भी छाती पर वकीलों के नहीं रह जाता तो हम परित्यक्त करके उसके लिए दूसरी अवधारणा को नियुक्त करते हैं तो इस तरह की बातें हैं जो कि आत्मिक लीला से जुड़ी हुई चीज है जो शरीर के इस परिवर्तन से इस दशा को देखते हैं तो इससे घबराने नहीं चाहिए बल्कि शीघ्र उसको और अनुकरण सा भेजना

prashna hai yadi koi aadmi marta ho toh kya kare darshan agar yah sthiti hum manushya ki dasha mile toh use manushya ke jeevan ki ek ghatna gyaan hai aur yah swabhavik hai ki manushya ko is mirchi se bhi kabhi na kabhi shaam na hona hi padta hai toh jab aisi dasha pratyek chuhon mein aani hai aur jaha tak manav jeevan hai tumko manav jati ke andar iski suchi itna jeevan mein hamesha saath mein hota hai aur har insaan ki soch ki jaanta hai ki yahi ek jeevan ka rasta bhi banega aur isme zaroor is daur se gujarana padta hai gujarega hi toh yah prakriti ka swabhavik niyam hai basharte yah hota hai ki iske uprant shesh kya sthiti ho sakti hai yah vichar nahi ho jata hai jo adhyaatm sadhna sadhna path mein chalne waale sadhak hote hai jiska lamban bahut tivra vedana use le lete hai aur ve samay ka intejar na karte hue song us sthiti ka bhoj karte hai vaah batchit mein rehta kya hai aur yahi tyag ki sabse baadi prishthbhumi banti hai aur yahi dasha nirbhay patte bhi sthapit kar deti hai jo iska saransh kamano pratibhavan kar lete hai aur isi hi dhyan mein hi manushya apne jeevan mein sachetna karm ko parichalit karta hai ki hamein aise karm karne chahiye jisse ki ya Rs ke beech se rahit ekantar bhav shanti aur yah satra ki sthapna hai wahan par uski niyukti ho jaaye kyonki yah jeevan maran ek janam ka nahi hota hai yah kai janmon se chala aa raha hai kyonki bharat ke dharmik prishthbhumi mein manushya ka jeev avinashi hai iska vinash nahi hota hai lekin prakriti kuch chapter hai jo hum us shaheed nahi ho paate hai aur iske andar aisi durdasha aati hai ki jis tarah ko vastra hota hai ganda aur Marine ho jata hai ya usme aur bhi chhati par vakilon ke nahi reh jata toh hum parityakt karke uske liye dusri avdharna ko niyukt karte hai toh is tarah ki batein hai jo ki atmik leela se judi hui cheez hai jo sharir ke is parivartan se is dasha ko dekhte hai toh isse ghabrane nahi chahiye balki shighra usko aur anukaran sa bhejna

प्रश्न है यदि कोई आदमी मरता हो तो क्या करें दर्शन अगर यह स्थिति हम मनुष्य की दशा मिले तो उ

Romanized Version
Likes  50  Dislikes    views  1117
KooApp_icon
WhatsApp_icon
8 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!