मोदी जी ने कहा- CAA शरणार्थियों को नागरिकता देने का कानून है, वापस लेन का नहीं। क्या आप इस बात से सहमत है?...


user

Mumtaz Ahmad

Politician(BJP)

2:54
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी नमस्कार मोदी जी ने कहा है सीए साथियों को नागरिकता देने का कानून है वापस लेने का नहीं मैं इस बात से सहमत हूं दोस्तों इसलिए कानून लाया गया है इसमें सिर्फ मुस्लिम को छोड़कर बाकी सभी पाकिस्तान अफगानिस्तान और बांग्लादेश से आए हुए शरणार्थी को नागरिकता देने की बात कही गई है सबसे पहले तो मैं यह समझ ले कि पाकिस्तान बांग्लादेश अफ़गानिस्तान मुस्लिम देश है यहां से प्रताड़ित होकर कभी भी आएंगे हमारे यहां तो वह गैर मुस्लिम भी होंगे तो इसमें मेरे समझ से कोई आपत्ति नहीं होनी चाहिए और जो भारत में रहने वाले मुसलमान हैं उन्हें कहां कोई दिक्कत है भारत के नागरिक थे भारत के नागरिक हैं और भारत के नागरिक रहेंगे इसमें जो घुसपैठिया करके यहां शरण लिए हुए हैं तो उनको वह देश वापस हो जाना चाहिए जहां से आए हैं हां यदि वह यह साबित करते हैं कि मैं पाकिस्तान से बंगलादेश भूटान से प्रताड़ित होकर कि मैं यहां शरणार्थी हूं तो फिर उसके बारे में सरकार सोचें लेकिन जहां तक सवाल है कि यदि हम मुझे मेरे देश को पाकिस्तानियों को बांग्लादेशियों को जब नागरिकता देने की बात हो रही हो तो क्या जरूरी था बटवाड़ा का फिर वेलकम है पाकिस्तान बांग्लादेश हिंदुस्तान में ही समा जाए फिर किसी तरह की सीए कानून लाने की जरूरत नहीं पड़ेगी हाय वेलकम नक्शा में पाकिस्तान इंडिया को मिला दिया जाए इस तरह से किसी भी तरह की डरने की बात नहीं है सीए नागरिकता देने का कानून है ना की नागरिकता लेने का जय हिंद

ji namaskar modi ji ne kaha hai ca sathiyo ko nagarikta dene ka kanoon hai wapas lene ka nahi main is baat se sahmat hoon doston isliye kanoon laya gaya hai isme sirf muslim ko chhodkar baki sabhi pakistan afghanistan aur bangladesh se aaye hue sharanarthi ko nagarikta dene ki baat kahi gayi hai sabse pehle toh main yah samajh le ki pakistan bangladesh Afghanistan muslim desh hai yahan se pratarit hokar kabhi bhi aayenge hamare yahan toh vaah gair muslim bhi honge toh isme mere samajh se koi apatti nahi honi chahiye aur jo bharat mein rehne waale muslim hain unhe kaha koi dikkat hai bharat ke nagarik the bharat ke nagarik hain aur bharat ke nagarik rahenge isme jo ghuspaithiya karke yahan sharan liye hue hain toh unko vaah desh wapas ho jana chahiye jaha se aaye hain haan yadi vaah yah saabit karte hain ki main pakistan se bangladesh bhutan se pratarit hokar ki main yahan sharanarthi hoon toh phir uske bare mein sarkar sochen lekin jaha tak sawaal hai ki yadi hum mujhe mere desh ko pakistaniyon ko bangladeshiyon ko jab nagarikta dene ki baat ho rahi ho toh kya zaroori tha batvada ka phir welcome hai pakistan bangladesh Hindustan mein hi sama jaaye phir kisi tarah ki ca kanoon lane ki zarurat nahi padegi hi welcome naksha mein pakistan india ko mila diya jaaye is tarah se kisi bhi tarah ki darane ki baat nahi hai ca nagarikta dene ka kanoon hai na ki nagarikta lene ka jai hind

जी नमस्कार मोदी जी ने कहा है सीए साथियों को नागरिकता देने का कानून है वापस लेने का नहीं मै

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  124
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!