जाड़ों में कैसे पढ़ें?...


user

sulekhayoga

Yoga Teacher & health beauty expert

2:23
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जाड़ों में पढ़ने का सबसे अच्छा तरीका है कि चाय के साथ पढ़ो बीच-बीच में चाय पियो इससे नींद भी नहीं आएगी और मजा भी आएगा पढ़ने में तू जब मेरा जब मेरा पढ़ने का टाइम था अपनी में बात कर रही हूं तो उस टाइम में चाय बहुत बिजी थी अब मैं चाय नहीं पीती हूं बहुत कम रेट कोई साथ में है तो वरना अलावा इसमें चाय नहीं पीती बट जब मैं पढ़ाई करती थी तो मैं चाय के साथ पढ़ती थी मुझे चाय बहुत पसंद थी और बहुत मन था चाय पढ़ने का और सर्दी के टाइम मैं बहुत चाय पीती थी बीच-बीच में लेकिन जब मैं पढ़ाई करती थी तो मैं यह नहीं देखती थी कि कितना टाइम हो रहा है बस मुझे यह देखना था कि मुझे आज इतना पढ़ना है तो वह पढ़ना ही है इतना मुश्किल पढ़कर इसको खत्म करना है इतना मुझे विश करना है पढ़ना है तो पढ़ना है जो कोचिंग पढ़ा है उसको घर है पढ़ना है तो पढ़ना है इसके अलावा मुझे इतना और भी कवर करना है तो करना है तो वह चीजें हमें करती थी तो उसके बाद में यह देती टाइम 2:00 बज रहा है 2:30 बज रहा है 3:00 बज रहा है बस वह चीज को खत्म करने की बात ही मैं टाइम देती थी कि आप कितना टाइम हो रहा है तो जब टाइम दे दी थी तो कभी कभी कभी एग्जाम जब नजदीक आते थे तो उस टाइम से टाइम देखा जाता था तो कभी तीन 3:30 ऐसा टाइम होता था तो डेक्कनसॉफ्ट तथा कि यार इतना टाइम कब हो गया क्योंकि पढ़ाई में इतना मतलब लगा कि टाइम का पता ही नहीं चलता था तो पढ़ने का सबसे अच्छा रीजन है कि इंसान की नजरें अपनी मंजिल पर होनी चाहिए कि मुझे वह चीज चाहिए तो पढ़ने का खुद-ब-खुद मन करता है और इधर उधर मन नहीं लगता है और कहीं जाना है पढ़ने की बात तो इसमें वह करके आप अच्छे से पढ़ सकते जैसे चाय के साथ जो मैंने आपको बताया तो बहुत अच्छा है बीच-बीच में चाय की दो 2 घंटे की डिस्टेंस में 1 घंटे डिस्टेंस में चाय ले जाता नहीं आता कप चाय एक घंटा पड़ा था जब साइलेंसर अंडा बड़ा जाकर जाए नहीं से नींद भी नहीं आएगी और अच्छा भी लगता है और सर्दी में कुछ भी नहीं है तो आप ले सकते हैं बहुत अच्छा है अगर आपको ग्रीन टी पसंद है तो ग्रीन टी ग्रीन टी और शहद के लिए भी अच्छा है आपको ब्लैक और चंदर ब्लैक कॉफी लेकिन ब्लैक कॉफी ग्रीन टी चाय सभा बीच-बीच में ले सकते हैं पढ़ाई के टाइम तो इससे आपका मूड एकदम फ्रेश रहेगा नींद नहीं आएगी और पढ़ने का मन भी करेगा तो यह चीजें ऑफर न्यू करिए थैंक यू

jadon mein padhne ka sabse accha tarika hai ki chai ke saath padho beech beech mein chai piyo isse neend bhi nahi aayegi aur maza bhi aayega padhne mein tu jab mera jab mera padhne ka time tha apni mein baat kar rahi hoon toh us time mein chai bahut busy thi ab main chai nahi piti hoon bahut kam rate koi saath mein hai toh varna alava isme chai nahi piti but jab main padhai karti thi toh main chai ke saath padhati thi mujhe chai bahut pasand thi aur bahut man tha chai padhne ka aur sardi ke time main bahut chai piti thi beech beech mein lekin jab main padhai karti thi toh main yah nahi dekhti thi ki kitna time ho raha hai bus mujhe yah dekhna tha ki mujhe aaj itna padhna hai toh vaah padhna hi hai itna mushkil padhakar isko khatam karna hai itna mujhe wish karna hai padhna hai toh padhna hai jo coaching padha hai usko ghar hai padhna hai toh padhna hai iske alava mujhe itna aur bhi cover karna hai toh karna hai toh vaah cheezen hamein karti thi toh uske baad mein yah deti time 2 00 baj raha hai 2 30 baj raha hai 3 00 baj raha hai bus vaah cheez ko khatam karne ki baat hi main time deti thi ki aap kitna time ho raha hai toh jab time de di thi toh kabhi kabhi kabhi exam jab nazdeek aate the toh us time se time dekha jata tha toh kabhi teen 3 30 aisa time hota tha toh dekkanasaft tatha ki yaar itna time kab ho gaya kyonki padhai mein itna matlab laga ki time ka pata hi nahi chalta tha toh padhne ka sabse accha reason hai ki insaan ki najarein apni manjil par honi chahiye ki mujhe vaah cheez chahiye toh padhne ka khud bsp khud man karta hai aur idhar udhar man nahi lagta hai aur kahin jana hai padhne ki baat toh isme vaah karke aap acche se padh sakte jaise chai ke saath jo maine aapko bataya toh bahut accha hai beech beech mein chai ki do 2 ghante ki distance mein 1 ghante distance mein chai le jata nahi aata cup chai ek ghanta pada tha jab silencer anda bada jaakar jaaye nahi se neend bhi nahi aayegi aur accha bhi lagta hai aur sardi mein kuch bhi nahi hai toh aap le sakte hai bahut accha hai agar aapko green T pasand hai toh green T green T aur shehed ke liye bhi accha hai aapko black aur Chander black coffee lekin black coffee green T chai sabha beech beech mein le sakte hai padhai ke time toh isse aapka mood ekdam fresh rahega neend nahi aayegi aur padhne ka man bhi karega toh yah cheezen offer new kariye thank you

जाड़ों में पढ़ने का सबसे अच्छा तरीका है कि चाय के साथ पढ़ो बीच-बीच में चाय पियो इससे नींद

Romanized Version
Likes  31  Dislikes    views  972
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!