हिंसक विरोध प्रदर्शन के पहले या बाद में प्रशासन एहतियात के तौर पर इंटरनेट शटडाउन होता है, इससे क्या नुक़सान होता है? आपकी क्या राय है?...


user

Vimal Kumar Gour

General Physician

7:25
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो हिंसक विरोध प्रदर्शन के पहले या बाद में प्रशासन ऐतिहासिक इतिहास के तौर पर इंटरनेट शटडाउन क्यों कर देता है तू यह सरकार कर रही है इंटरनेट बंद कर दिए हमारा कोई नुकसान नहीं है नुकसान तो है पर सरकार इसको धन्य में सच्चे मरती है कि हमारी जनता खुश सुखी रहे खुश रहे जितनी अफवाह फैलते हैं बहुत से लोग इंटरनेट से जुड़े हुए इधर-उधर अफवाह फैलाते हैं इसीलिए इंटरनेट सेवा बंद कर दी जाती है इंटरनेट सेवा शुरू से चालू होता है लिंक होता लोगों से देश विदेशों में तो वहां पर हमें दंगा करना है वहां सभी लोग वेट कर के भगा कर देते हो सरकार करना पड़ता मजबूरी है उसकी दोस्ती हमारी जनता खुश रहे कोई तकलीफ नहीं आए जनता को इसकी हिंसा फैलाने एक दूसरे से लिंक होते हैं इसीलिए इंटरनेट बंद कर देती हो पर यह सरकार की कोई एहसान करनी चाहिए तो हमारी इस से बहुत नुकसान होता है देखा होगा उत्तर प्रदेश में 130 दंगे आरोपियों ने से वसूली की प्रक्रिया शुरू हो गई हर जगह दिल्ली में देखो पैसेज अलादीन जहां में विश्वविद्यालय में वहां पर भी दोष प्रदूषण हो रहा दंगे बाजार फैजाबाद मेरठ अलीगढ़ हाथरस हर जगह लखनऊ हर जगह से निकाला जा रहा है तो ऐसे सब दंगों के यह नहीं लिखा हम दंडित कर रहे हैं तो यह धमाका हमारा ही होगा अब देखो उत्तर प्रदेश में सरकार ने 130 दंगे आरोपियों को वसूली की प्रक्रिया शुरू कर दी प्रदेश में पिछले दिनों में प्रदर्शन के दौरान समिति अनुमान लगाया कि उसमें सार्वजनिक संपत्ति का 5000000 नुकसान आया था कहा जा रहा है नुकसान आरोपियों से वसूला जाएगा इसके लिए जगह-जगह सीसीटीवी फुटेज खंगाले गए पहचानने के लिए आरोपियों को तस्वीर वाले पोस्टर भी लगाए गए दीवानों पर चिपकाए गए तो माहौल बहुत बिगड़ गया था पिछले दिनों में देशों में हादसों में हिंसा हुई थी झारखंड में चुनाव चल रहा था उसी दौरान हुई हिंसा फैलाने है लेकिन इसमें सचमुच इसकी वसूली होगी साल 2012 मुंबई के आजाद पार्क में एक रैली के दौरान हिंसा हुई थी तो बाद में पाया गया कि उस हिंसा में सार्वजनिक संपत्ति को लोगों ने तीन करोड़ नुकसान पहुंचा था इसके लिए महाराष्ट्र पुलिस ने वसूली नोटिस जारी किया था लेकिन वसूली को हो पाई ऐसी हमें कभी नहीं शायद आसान भी नहीं था अंतराल अपने सेक्सी फोटो भेज सबूत के तौर पर कितने सरकार होगी दंगा रोकने के लिए ऐसे कदम उठाए अगर हम दंगे के बाद सारी कार्रवाई को सिर सिर सजा नहीं हो सकती अगर हम डरने को बहुत सारी कार्रवाई को सिर्फ वसूली सीमित कर देते हैं तो कहीं ना कहीं हमेशा आर्थिक अपराध मानते देते हैं कि ना तो संशोधन कानून पारित करने के लिए देश-विदेश में विरोध प्रदर्शन शुरू हो गए थे इसकी आलोचना और दो अलग-अलग नजरिए से देखा जाए अपनी सोच होगी विरोध के कानून आंखों में चश्मे देखना भी गौर कर रहे थे तो अदालत में दायर की थी कि अपनी बात रखने के लिए शीर्ष अदालत तमाम आज का उनको मौकों को दंग देगी फिर उसे आधार पर अपना फैसला सुनाएगी आ गया ना करके भरोसा करना चालू कर दिया उनकी नजरों में देखना हुआ ऐसा कानून के साथ समझौता आधार के दृष्टिकोण विरोध वर्क सावन में हुई तो हिंसा क्रोध के नेट बंद करने से बड़े सरकार की गलत नहीं सोचती है वह सोचती हमारे जनता खुश रहे खुश रहो जनता को सरकार कर दिया था कहीं पतंग आती होगी तो कुछ कोई कुछ नहीं कुछ कर सकता टुकड़े टुकड़े में दंगे देने का वक्त हमेशा ने गुरुवार को कहा कि कानून के विरुद्ध टुकड़े-टुकड़े किया था जनता उन्हें छोड़ देना चाहिए पूरी दिल्ली गृह मंत्री ने कहा कि कानून को लेकर दिल्ली में हुई हिंसक घटनाओं के लिए कांग्रेसी निवेश जिम्मेदार है जनता के घुमाकर राजधानी की शांति में उन किया गया ऐसा ने कहा कि कांग्रेस सरकार योजना बनाती है फिर 25 साल बजट मंजूरी कर दी 35 साल में खून खून करती थी अरे 5 सालों से भूल जाती थी

hello hinsak virodh pradarshan ke pehle ya baad mein prashasan etihasik itihas ke taur par internet shutdown kyon kar deta hai tu yah sarkar kar rahi hai internet band kar diye hamara koi nuksan nahi hai nuksan toh hai par sarkar isko dhanya mein sacche marti hai ki hamari janta khush sukhi rahe khush rahe jitni afavah failate hain bahut se log internet se jude hue idhar udhar afavah failate hain isliye internet seva band kar di jaati hai internet seva shuru se chaalu hota hai link hota logo se desh videshon mein toh wahan par hamein danga karna hai wahan sabhi log wait kar ke bhaga kar dete ho sarkar karna padta majburi hai uski dosti hamari janta khush rahe koi takleef nahi aaye janta ko iski hinsa felane ek dusre se link hote hain isliye internet band kar deti ho par yah sarkar ki koi ehsaan karni chahiye toh hamari is se bahut nuksan hota hai dekha hoga uttar pradesh mein 130 dange aaropiyon ne se vasuli ki prakriya shuru ho gayi har jagah delhi mein dekho passage alladin jaha mein vishwavidyalaya mein wahan par bhi dosh pradushan ho raha dange bazaar faizabad meerut aligarh hathras har jagah lucknow har jagah se nikaala ja raha hai toh aise sab dango ke yah nahi likha hum dandit kar rahe hain toh yah dhamaaka hamara hi hoga ab dekho uttar pradesh mein sarkar ne 130 dange aaropiyon ko vasuli ki prakriya shuru kar di pradesh mein pichle dino mein pradarshan ke dauran samiti anumaan lagaya ki usme sarvajanik sampatti ka 5000000 nuksan aaya tha kaha ja raha hai nuksan aaropiyon se vasula jaega iske liye jagah jagah cctv footage khangale gaye pahachanne ke liye aaropiyon ko tasveer waale poster bhi lagaye gaye diwanon par chipakayen gaye toh maahaul bahut bigad gaya tha pichle dino mein deshon mein hadason mein hinsa hui thi jharkhand mein chunav chal raha tha usi dauran hui hinsa felane hai lekin isme sachmuch iski vasuli hogi saal 2012 mumbai ke azad park mein ek rally ke dauran hinsa hui thi toh baad mein paya gaya ki us hinsa mein sarvajanik sampatti ko logo ne teen crore nuksan pohcha tha iske liye maharashtra police ne vasuli notice jaari kiya tha lekin vasuli ko ho payi aisi hamein kabhi nahi shayad aasaan bhi nahi tha antaral apne sexy photo bhej sabut ke taur par kitne sarkar hogi danga rokne ke liye aise kadam uthye agar hum dange ke baad saree karyawahi ko sir sir saza nahi ho sakti agar hum darane ko bahut saree karyawahi ko sirf vasuli simit kar dete hain toh kahin na kahin hamesha aarthik apradh maante dete hain ki na toh sanshodhan kanoon paarit karne ke liye desh videsh mein virodh pradarshan shuru ho gaye the iski aalochana aur do alag alag nazariye se dekha jaaye apni soch hogi virodh ke kanoon aankho mein chashme dekhna bhi gaur kar rahe the toh adalat mein dayar ki thi ki apni baat rakhne ke liye shirsh adalat tamaam aaj ka unko maukon ko deng degi phir use aadhaar par apna faisla sunaegi aa gaya na karke bharosa karna chaalu kar diya unki nazro mein dekhna hua aisa kanoon ke saath samjhauta aadhaar ke drishtikon virodh work sawan mein hui toh hinsa krodh ke net band karne se bade sarkar ki galat nahi sochti hai vaah sochti hamare janta khush rahe khush raho janta ko sarkar kar diya tha kahin patang aati hogi toh kuch koi kuch nahi kuch kar sakta tukde tukde mein dange dene ka waqt hamesha ne guruwaar ko kaha ki kanoon ke viruddh tukde tukde kiya tha janta unhe chod dena chahiye puri delhi grah mantri ne kaha ki kanoon ko lekar delhi mein hui hinsak ghatnaon ke liye congressi nivesh zimmedar hai janta ke ghumakar rajdhani ki shanti mein un kiya gaya aisa ne kaha ki congress sarkar yojana banati hai phir 25 saal budget manjuri kar di 35 saal mein khoon khoon karti thi are 5 salon se bhool jaati thi

हेलो हिंसक विरोध प्रदर्शन के पहले या बाद में प्रशासन ऐतिहासिक इतिहास के तौर पर इंटरनेट शटड

Romanized Version
Likes  17  Dislikes    views  508
WhatsApp_icon
11 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Anil Ramola

Yoga Instructor | Engineer

2:47
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आज है कि आजकल देखा गया है कि घर पर कोई हिंसक विरोध प्रदर्शन होता है उससे पहले इंटरनेट बंद कर दे तो कुछ तक तो यह बिल्कुल सही है क्योंकि आज के समय में हम सोशल मीडिया का ज्यादा उपयोग और सूचनाओं को इधर से उधर करने में उपयोग करते हैं और इस समय कुछ अराजक तत्व सोशल मीडिया का उपयोग सॉन्ग को फैलाने में करते हैं जिससे कि हिंसा और अधिक बढ़ सकती है तो इससे यह कदम ठीक है लेकिन यह कि हम काफी समय से देख रहे क्या हर बार यही हो रहा है कि इंटरनेट बंद कर दिया था है लेकिन फिर भी यह पेमेंट समाधान नहीं है हमें कोशिश करनी चाहिए कि कुछ ऐसा प्रोविजन लाया जाए कि अगर कहीं पर कुछ सोच प्रदर्शन हो रहा है तो वहां पर हिंसक घटनाएं ना हो और हिंसक घटना अगर होती है तो उसके लिए जो जिम्मेदार हैं उनके लिए सख्त सख्त कार्रवाई का प्रावधान अभी-अभी हमारे देश में है कोई नहीं है कि किसी आंदोलन में आवेशन में अगर जनता मिलकर कोई हिंसक बना दो फूल करती है तो उसका कोई जुर्माना या फिर सजा का प्रावधान इसलिए कुछ आगरा का तो बेहिचक उसमें क्या फायदा उठाते हैं और समाज में आने की कोशिश करते हैं तो हमें कोशिश करनी चाहिए कि इस समय आवेदक भी कभी ऐसी सिपरेशन हो तो इंटरनेट का सही उपयोग किया जाए और इंटरनेट में आप फॉर्म को नहलाया जाए और प्रशासन को सिर्फ इसी पर फोकस नहीं करना चाहिए साथ ही साथ ही आजकल से होजरी सीसीटी कैमरे हैं अगर कोई भी बंदा विरोध प्रदर्शन के दौरान तोड़फोड़ कर पाया जाए यह प्रश्न करता पाया जाए तो उसके खिलाफ सीसीटी कैमरे का फुटेज लेकर रुपए करवा ही सजा और जुर्माने के तौर पर जो भी नुकसान हुआ है उसकी भरपाई की जाए तो हो सकता है विरोध करेंगे तुम लोग का जो परेशान हो प्रकार होगा अहिंसक ना हो गए एंड सात्मक होगा जिससे कि देश का विकास होगा और जब यह जरूरी है क्योंकि जब भी कोई ऐसा देश को बहुत कुछ होता है आपने भी दिखाओगे बहुत से ऐसे लोग जिन्होंने जिससे कि करोड़ों का नुकसान हुआ है हमारे देश की जनता का हित है क्योंकि जो भी सरकारी संपत्ति है उसमें जो पैसा है वह हमारा ही तो है तो इसीलिए इंटरनेट शटडाउन करना कि सिर्फ एक मात्र उपाय नहीं है पहचान के तौर पे करना और आगे भी मैं प्यार करते रहना चाहिए जिससे कि हिंसक प्रदर्शन में कमी आए

aaj hai ki aajkal dekha gaya hai ki ghar par koi hinsak virodh pradarshan hota hai usse pehle internet band kar de toh kuch tak toh yah bilkul sahi hai kyonki aaj ke samay mein hum social media ka zyada upyog aur suchanaon ko idhar se udhar karne mein upyog karte hain aur is samay kuch arajak tatva social media ka upyog song ko felane mein karte hain jisse ki hinsa aur adhik badh sakti hai toh isse yah kadam theek hai lekin yah ki hum kaafi samay se dekh rahe kya har baar yahi ho raha hai ki internet band kar diya tha hai lekin phir bhi yah payment samadhan nahi hai hamein koshish karni chahiye ki kuch aisa provision laya jaaye ki agar kahin par kuch soch pradarshan ho raha hai toh wahan par hinsak ghatnaye na ho aur hinsak ghatna agar hoti hai toh uske liye jo zimmedar hain unke liye sakht sakht karyawahi ka pravadhan abhi abhi hamare desh mein hai koi nahi hai ki kisi andolan mein aaveshan mein agar janta milkar koi hinsak bana do fool karti hai toh uska koi jurmana ya phir saza ka pravadhan isliye kuch agra ka toh behichak usme kya fayda uthate hain aur samaj mein aane ki koshish karte hain toh hamein koshish karni chahiye ki is samay avedak bhi kabhi aisi separation ho toh internet ka sahi upyog kiya jaaye aur internet mein aap form ko nahlaya jaaye aur prashasan ko sirf isi par focus nahi karna chahiye saath hi saath hi aajkal se hojari CCT camera hain agar koi bhi banda virodh pradarshan ke dauran thorphor kar paya jaaye yah prashna karta paya jaaye toh uske khilaf CCT camera ka footage lekar rupaye karva hi saza aur jurmane ke taur par jo bhi nuksan hua hai uski bharpai ki jaaye toh ho sakta hai virodh karenge tum log ka jo pareshan ho prakar hoga ahinsak na ho gaye and satmak hoga jisse ki desh ka vikas hoga aur jab yah zaroori hai kyonki jab bhi koi aisa desh ko bahut kuch hota hai aapne bhi dikhaoge bahut se aise log jinhone jisse ki karodo ka nuksan hua hai hamare desh ki janta ka hit hai kyonki jo bhi sarkari sampatti hai usme jo paisa hai vaah hamara hi toh hai toh isliye internet shutdown karna ki sirf ek matra upay nahi hai pehchaan ke taur pe karna aur aage bhi main pyar karte rehna chahiye jisse ki hinsak pradarshan mein kami aaye

आज है कि आजकल देखा गया है कि घर पर कोई हिंसक विरोध प्रदर्शन होता है उससे पहले इंटरनेट बंद

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  171
WhatsApp_icon
user

N. K. SINGH 'Nitesh'

Educator, Life Coach, Writer and Expert in British English Language, Author of Book/Fiction Lucky Girl (Love vs Marriage)

2:04
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बीपीए हिंसक विरोध प्रदर्शन से पहले या बाद प्रशासन एहतियात के तौर पर इंटरनेट शटडाउन करता है एक बैंक का कोई ऐप से लिया हुआ है और आपको पैसे ट्रांसफर करने हैं और आप ट्रांसफर नहीं कर पा रहे हैं तो बैंक की जो कमाई होगी आप जब ट्रांसफर करते हैं पति 10000 तो उस पर बैंक में 1 मिनट शुल्क निर्धारित किया है वस्तुओं की प्राप्ति नहीं होगी तो किस का नुकसान हुआ बैंक का नुकसान हुआ बैंक का नुकसान हुआ तो किस कारण देश का और देश की व्यवस्था चलती हुई चलती है तो एटलस नागरिकों का ही नुकसान होता है तमाम उदाहरण आप ले सकते हैं जिससे आपको यह समझने में आसानी होगी इंटरनेट के अंतिम उस आम जनता का ही होता है और भरपाई भी जनता को ही करनी पड़ती तो विरोध प्रदर्शन करने वाले जिस तरह से तोड़फोड़ आगजनी और सिंपल घटनाएं जिसका विरोध नहीं कहा जा सकता उसको दंगे का ही नाम दिया जा सकता है उसमें भी व्यापक नुकसान होता है और उस नुकसान की भरपाई भी जनता को ही करनी पड़ती है तो इस नुकसान से बचने के लिए सरकारी कोशिश करती हैं कि इंटरनेट पुस्तक डाउन करके और इस तरह के दंगों को न पनपने दिया जाए फिर भी दोनों ही स्थितियों में नुकसान जनता का ही होना है और जनता इस बात को समझती नहीं है उस जनता में वह लोग भी शामिल हैं जो सड़कों के दंगा कर रहे हैं आगजनी कर रहे हैं लूटपाट कर रहे हैं और सरकारी संपत्ति की प्राइवेट संपत्ति को नुकसान पहुंचाने प्राइवेट संपत्ति को भी नुकसान पहुंचा रहे हैं तो किसी ने किसी व्यक्ति कर रहे हैं और समर्थवादी इस मिशन का एक अंग है और वह खराब होगा तो नेशन का ही नुकसान होगा और जल्दी हो सके आम जनता को यह सारी चीजें धन्यवाद

BPA hinsak virodh pradarshan se pehle ya baad prashasan ehatiyaat ke taur par internet shutdown karta hai ek bank ka koi app se liya hua hai aur aapko paise transfer karne hain aur aap transfer nahi kar paa rahe hain toh bank ki jo kamai hogi aap jab transfer karte hain pati 10000 toh us par bank mein 1 minute shulk nirdharit kiya hai vastuon ki prapti nahi hogi toh kis ka nuksan hua bank ka nuksan hua bank ka nuksan hua toh kis karan desh ka aur desh ki vyavastha chalti hui chalti hai toh atlas nagriko ka hi nuksan hota hai tamaam udaharan aap le sakte hain jisse aapko yah samjhne mein aasani hogi internet ke antim us aam janta ka hi hota hai aur bharpai bhi janta ko hi karni padti toh virodh pradarshan karne waale jis tarah se thorphor agajani aur simple ghatnaye jiska virodh nahi kaha ja sakta usko dange ka hi naam diya ja sakta hai usme bhi vyapak nuksan hota hai aur us nuksan ki bharpai bhi janta ko hi karni padti hai toh is nuksan se bachne ke liye sarkari koshish karti hain ki internet pustak down karke aur is tarah ke dango ko na panapne diya jaaye phir bhi dono hi sthitiyo mein nuksan janta ka hi hona hai aur janta is baat ko samajhti nahi hai us janta mein vaah log bhi shaamil hain jo sadkon ke danga kar rahe hain agajani kar rahe hain lutpat kar rahe hain aur sarkari sampatti ki private sampatti ko nuksan pahunchane private sampatti ko bhi nuksan pohcha rahe hain toh kisi ne kisi vyakti kar rahe hain aur samarthavadi is mission ka ek ang hai aur vaah kharab hoga toh nation ka hi nuksan hoga aur jaldi ho sake aam janta ko yah saree cheezen dhanyavad

बीपीए हिंसक विरोध प्रदर्शन से पहले या बाद प्रशासन एहतियात के तौर पर इंटरनेट शटडाउन करता है

Romanized Version
Likes  76  Dislikes    views  2208
WhatsApp_icon
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

1:57
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हिंसक विरोध प्रदर्शन से क्या नुकसान होता है आपकी क्या ऐसा होता है सरकार को ऐसा करना पड़ता है कोई भी सरकार नहीं चाहती है कि आम जनता को कोई तकलीफ पहुंचे लेकिन वातावरण और परिस्थिति ऐसी हो जाती है कि सरकार को ऐसे कदम उठाने पड़ते हैं जैसा किस समय हो रहा है और इसके असर जो होती है कि जो हिंसा फैलाने वाले लोग हैं वह तो ठीक है इसकी वजह से इंसान नहीं चला सकते अफवाहों का बाजार गर्म नहीं कर सकते हैं हमारे आपके जैसे जो लोग हैं जो एक दूसरे से इंटरनेट के माध्यम से ही जुड़े हैं और हमारी जो काम जो इंटरनेट के माध्यम से होता है वह सब प्रभावित होता है यह इसकी बड़ी है सर कहीं जा सकती है लेकिन क्या करें क्योंकि आम जनता का जो सुखाकारी और सिक्योरिटी वह सरकार को करना पड़ता है और सरकार को करना चाहिए उसके लिए हम इतना सिक्स पैक तो जरूर देंगे ताकि हमारे प्रदेश में शांति बहाल हो और लोग अफवाह से जय मां नहीं जाए शो ऑल द बेस्ट सेक्सी अगर अच्छी हो जाए ऐसी मैं कामना करता हूं

hinsak virodh pradarshan se kya nuksan hota hai aapki kya aisa hota hai sarkar ko aisa karna padta hai koi bhi sarkar nahi chahti hai ki aam janta ko koi takleef pahuche lekin vatavaran aur paristithi aisi ho jaati hai ki sarkar ko aise kadam uthane padte hain jaisa kis samay ho raha hai aur iske asar jo hoti hai ki jo hinsa felane waale log hain vaah toh theek hai iski wajah se insaan nahi chala sakte afavahon ka bazaar garam nahi kar sakte hain hamare aapke jaise jo log hain jo ek dusre se internet ke madhyam se hi jude hain aur hamari jo kaam jo internet ke madhyam se hota hai vaah sab prabhavit hota hai yah iski badi hai sir kahin ja sakti hai lekin kya kare kyonki aam janta ka jo sukhakari aur Security vaah sarkar ko karna padta hai aur sarkar ko karna chahiye uske liye hum itna six pack toh zaroor denge taki hamare pradesh mein shanti bahaal ho aur log afavah se jai maa nahi jaaye show all the best sexy agar achi ho jaaye aisi main kamna karta hoon

हिंसक विरोध प्रदर्शन से क्या नुकसान होता है आपकी क्या ऐसा होता है सरकार को ऐसा करना पड़ता

Romanized Version
Likes  51  Dislikes    views  649
WhatsApp_icon
user

pervs

Tutor

1:32
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो अभी बंद गुड मॉर्निंग टू ऑल का क्वेश्चन है काफी अच्छा है सब विरोध प्रदर्शन के पहले या बाद में प्रशासन के तौर पर इन पैसों में क्या होता तो आपको बता दूं बच्चे अपनी कौन में पहले की प्रोडक्शन से एक क्यूट टेलीकॉम कंपनी है बहुत ज्यादा फर्क पड़ता है वहीं बड़ी बड़ी कंपनी ऑनलाइन शॉपिंग ऑनलाइन शॉपिंग करने पर सामान बेचा जा सकता है और आप फेंटेसी स्पोर्ट्स हो गया इसका मतलब ऑनलाइन एच डी पी है वह रिकॉर्डिंग पर ज्यादा फर्क पड़ता है तो आप भेज सकते हो आप समझ सकते हो कि इंटरनेट शटडाउन होने से आपकी जिंदगी आधी अधूरी रह जाती है पार्टी में नहीं चल पाता है आपका फर्क नहीं हो पाता है आपका काम पेंडिंग में रहता है आप किसी को फ्लाइट से जाना है किसी को ट्रेन से जाना है तो आपकी आंखें आपका रिजल्ट जाता है अशोक जाते हैं मतलबी पर की सरकार जो आई है नेटवर्क इंटरनेट बंद कर रही है तू हो सकता है सरकार को सत्ता से बाहर होता पड़े तो इस तरह की बातें हैं बहुत ही पैदा करती बहुत ही ख्याल से पैदा करती हूं करती हूं धन्यवाद

hello abhi band good morning to all ka question hai kaafi accha hai sab virodh pradarshan ke pehle ya baad mein prashasan ke taur par in paison mein kya hota toh aapko bata doon bacche apni kaun mein pehle ki production se ek cute telecom company hai bahut zyada fark padta hai wahi baadi badi company online shopping online shopping karne par saamaan becha ja sakta hai aur aap fantasy sports ho gaya iska matlab online h d p hai vaah recording par zyada fark padta hai toh aap bhej sakte ho aap samajh sakte ho ki internet shutdown hone se aapki zindagi aadhi adhuri reh jaati hai party mein nahi chal pata hai aapka fark nahi ho pata hai aapka kaam pending mein rehta hai aap kisi ko flight se jana hai kisi ko train se jana hai toh aapki aankhen aapka result jata hai ashok jaate hai matlabi par ki sarkar jo I hai network internet band kar rahi hai tu ho sakta hai sarkar ko satta se bahar hota pade toh is tarah ki batein hai bahut hi paida karti bahut hi khayal se paida karti hoon karti hoon dhanyavad

हेलो अभी बंद गुड मॉर्निंग टू ऑल का क्वेश्चन है काफी अच्छा है सब विरोध प्रदर्शन के पहले या

Romanized Version
Likes  37  Dislikes    views  617
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हिंसक विरोध प्रदर्शन के पहले या बाद में प्रशासन एहतियात के तौर पर इंटरनेट शटडाउन होता है इसके क्या नुकसान है अपनी राय दीजिए काफी महत्वपूर्ण प्रश्न है वर्तमान प्रदा परिदृश्य को देखते हुए विगत 2 वर्षों में भारत संपूर्ण विश्व में इंटरनेट शटडाउन की कैपिटल बन चुका है अभी इस साल 194 बार विभिन्न जगहों पर इंटरनेट शटडाउन किया जा चुका है और हाल ही में 145 दिन बाद लद्दाख में इंटरनेट की सेवाएं बहाल की गई इससे आप समझ सकते हैं कि यह समस्या कितनी बड़ी है इंटरनेट शटडाउन कितना फ्रिक्वेंटली हमारे देश में हो रहा है इसके नुकसान बहुत है आर्थिक रूप से देखा जाए तो बहुत सारे ऑफिस बहुत सारे व्यवसाय जो कि पूरी तरीके से इंटरनेट पर निर्भर है बोल व्यवसाय को कोसते बहुत नुकसान होता है आज हमारी जो दिनचर्या है जो हमारी लाइफ स्टाइल है उसमें इंटरनेट इतना महत्वपूर्ण हो गया है कि बिना इंटरनेट के काम करना बहुत कठिन है कुछ व्यापारी तो उनके सारे ऑर्डर ऑनलाइन ही आते हैं और वह उनकी जब उन्हें जानकारी होती है तब वह पैकेजिंग करते हैं फिर डिलीवरी के लिए भेजते हैं ठीक है इसी तरीके से बहुत सारे काम कोई ऑनलाइन क्लास लेता है स्टूडेंट को टीचर ऑनलाइन पढ़ा रहा है तो उसके स्टूडेंट की क्लास में सो जाएंगे ऐसे करके बहुत सारे काम रहते हैं यह तो हो गया आर्थिक मुद्दा और आर्थिक पेपर क्या होता है देखिए यह जो विरोध प्रदर्शन करने वाले लोग हैं यह बहुत कम होते हैं लेकिन बाकी के ऐसे लोग बहुत होते हैं जिनको यह सारी परेशानियों का सामना करना पड़ता है दूसरा एक सामाजिक संस्था लोगों के मन में बैठ जाती है लोग कहते हैं कि सरकार का इस तरीके का सही नहीं है क्या होता है कोई भी इस तरीके का ऐप कुछ भी जैसे कि अभी हाल ही में ऐड किया है तो लोग अगर अपने विचार अगर सोशल मीडिया या फिर कहीं से किसी भी माध्यम से लोगों के सामने रखना चाहते हैं और सरकार नहीं चाहती कि वह अपने विचार रखें इंटरनेट शटडाउन कर दे रही है या फिर किसी और इतिहास के तौर पर इंटरनेट शटडाउन कर देती है लेकिन लोग वहां पर यही सोचते हैं कि हम अपने विचार नहीं रख पा रहे हमारा बाकी के देश से बाकी की जगह से वर्ल्ड से कट डाउन हो चुका है तो उनको मन ही मन में बहुत का चोदता है मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है और समाज से काटना उसको बहुत ही दुखदाई लगता है तो इससे एक तरीके का दिमाग में नक्सलिज्म पैदा होता है कि अरे नहीं यह सरकार सब बेकार है और ऐसा वैसा की सरकार को भी सोचना चाहिए कि बहुत ही गंभीर बात हो तब इंटरनेट शटडाउन किया जाना चाहिए जबकि मैंने देखा है कि बात-बात पर छोटी छोटी चीजों पर केवल अपना रुतबा दिखाने के लिए या फिर एक तरीके से ऐसा सिस्टम बना लिया है इंटरनेट शटडाउन को की कुछ पूछिए ना नुकसान उन लोगों को भी होता है कि वही वह अपना डाटा यूज़ नहीं कर पा रहा है 10 दिन हो गए इंटरनेट शटडाउन को तो कंपनियां भी उनको कोई हर्जाना नहीं दे रही है या तो सरकार कुछ इस तरीके की भी नियम बनाए ताकि लोगों को कुछ ना कुछ तो जो लोग इन सब चीजों से परे हैं विरोध प्रदर्शनों बगैरा बगैरा से उन लोगों को जो नुकसान हो रहा है उसकी भरपाई हो और कम से कम इंटरनेट पर डांस

hinsak virodh pradarshan ke pehle ya baad mein prashasan ehatiyaat ke taur par internet shutdown hota hai iske kya nuksan hai apni rai dijiye kaafi mahatvapurna prashna hai vartaman prada paridrishya ko dekhte hue vigat 2 varshon mein bharat sampurna vishwa mein internet shutdown ki capital ban chuka hai abhi is saal 194 baar vibhinn jagaho par internet shutdown kiya ja chuka hai aur haal hi mein 145 din baad ladakh mein internet ki sevayen bahaal ki gayi isse aap samajh sakte hai ki yah samasya kitni baadi hai internet shutdown kitna frikwentali hamare desh mein ho raha hai iske nuksan bahut hai aarthik roop se dekha jaaye toh bahut saare office bahut saare vyavasaya jo ki puri tarike se internet par nirbhar hai bol vyavasaya ko koste bahut nuksan hota hai aaj hamari jo dincharya hai jo hamari life style hai usme internet itna mahatvapurna ho gaya hai ki bina internet ke kaam karna bahut kathin hai kuch vyapaari toh unke saare order online hi aate hai aur vaah unki jab unhe jaankari hoti hai tab vaah packaging karte hai phir delivery ke liye bhejate hai theek hai isi tarike se bahut saare kaam koi online class leta hai student ko teacher online padha raha hai toh uske student ki class mein so jaenge aise karke bahut saare kaam rehte hai yah toh ho gaya aarthik mudda aur aarthik paper kya hota hai dekhiye yah jo virodh pradarshan karne waale log hai yah bahut kam hote hai lekin baki ke aise log bahut hote hai jinako yah saree pareshaniyo ka samana karna padta hai doosra ek samajik sanstha logo ke man mein baith jaati hai log kehte hai ki sarkar ka is tarike ka sahi nahi hai kya hota hai koi bhi is tarike ka app kuch bhi jaise ki abhi haal hi mein aid kiya hai toh log agar apne vichar agar social media ya phir kahin se kisi bhi madhyam se logo ke saamne rakhna chahte hai aur sarkar nahi chahti ki vaah apne vichar rakhen internet shutdown kar de rahi hai ya phir kisi aur itihas ke taur par internet shutdown kar deti hai lekin log wahan par yahi sochte hai ki hum apne vichar nahi rakh paa rahe hamara baki ke desh se baki ki jagah se world se cut down ho chuka hai toh unko man hi man mein bahut ka chodta hai manushya ek samajik prani hai aur samaj se kaatna usko bahut hi dukhdai lagta hai toh isse ek tarike ka dimag mein naksalijm paida hota hai ki are nahi yah sarkar sab bekar hai aur aisa waisa ki sarkar ko bhi sochna chahiye ki bahut hi gambhir baat ho tab internet shutdown kiya jana chahiye jabki maine dekha hai ki baat baat par choti choti chijon par keval apna rutbaa dikhane ke liye ya phir ek tarike se aisa system bana liya hai internet shutdown ko ki kuch puchiye na nuksan un logo ko bhi hota hai ki wahi vaah apna data use nahi kar paa raha hai 10 din ho gaye internet shutdown ko toh companiya bhi unko koi harjana nahi de rahi hai ya toh sarkar kuch is tarike ki bhi niyam banaye taki logo ko kuch na kuch toh jo log in sab chijon se pare hai virodh pradarshanon bagaira bagaira se un logo ko jo nuksan ho raha hai uski bharpai ho aur kam se kam internet par dance

हिंसक विरोध प्रदर्शन के पहले या बाद में प्रशासन एहतियात के तौर पर इंटरनेट शटडाउन होता है इ

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  248
WhatsApp_icon
user

Ajeett Tripathi

Motivational Speaker

1:35
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इंटरनेट आजकल एक ऐसा माध्यम हो चुका है जो माध्यम से फोटोशॉप करके गलत जानकारियां फूड वीडियो एडिट करके गलत जानकारी दी जाती है जो बाल उगाने के काम आती है तो इंटरनेट बंद करना हर हिंसक विरोध प्रदर्शन में ऐसा तो नहीं है जरूरी है लेकिन कहीं ना कहीं वह अपने बता देता है क्योंकि ज्यादातर तौर पर जो भड़काने वाले लोग रहते हैं जो भी पॉलीटिशियंस हैं और जो लोग जो चाहते हैं जिनका अपना कोई अपना पर्सनल प्रॉफिट होता है तो चाहते भड़काने के लिए तू बहुत सारी चीजें बहुत सारे टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करके उसी से करते रहते हैं इस सब चीजों को करने से बंद करना झूमर मोंगरिंग को बंद करता है कि डिनर बहुत ज्यादा नहीं होता फैलती है इससे कहीं ना कहीं उस आंदोलन को रोकने में काबू करने में बहुत फायदे मिले इसे काफी दिनों से हम देख रहे हैं कश्मीर में जम्मू कश्मीर में इंटरनेट बंद होने के कारण काफी हद तक शांति है और इंटरनेट कहीं ना कहीं बहुत अच्छा है तो कहीं न कहीं वह बहुत मतलब बहुत ही समाज के लिए नुकसानदायक भी है इन दोनों की बीच की हमको कढ़ी बनानी पड़ेगी और इंटरनेट बंद करना ही सलूशन नहीं है और भी कोई इंतजाम करने चाहिए लेकिन ठीक है आज की स्थिति में इंटरनेट बंद करना भी कहीं ना कहीं घटनाओं को रोकने में हेल्प करता है

internet aajkal ek aisa madhyam ho chuka hai jo madhyam se photoshop karke galat jankariyan food video edit karke galat jaankari di jaati hai jo baal ugane ke kaam aati hai toh internet band karna har hinsak virodh pradarshan mein aisa toh nahi hai zaroori hai lekin kahin na kahin vaah apne bata deta hai kyonki jyadatar taur par jo bhadkaane waale log rehte hain jo bhi politicians hain aur jo log jo chahte hain jinka apna koi apna personal profit hota hai toh chahte bhadkaane ke liye tu bahut saree cheezen bahut saare technology ka istemal karke usi se karte rehte hain is sab chijon ko karne se band karna jhumar mongaring ko band karta hai ki dinner bahut zyada nahi hota failati hai isse kahin na kahin us andolan ko rokne mein kabu karne mein bahut fayde mile ise kaafi dino se hum dekh rahe hain kashmir mein jammu kashmir mein internet band hone ke karan kaafi had tak shanti hai aur internet kahin na kahin bahut accha hai toh kahin na kahin vaah bahut matlab bahut hi samaj ke liye nukasanadayak bhi hai in dono ki beech ki hamko kadhi banani padegi aur internet band karna hi salution nahi hai aur bhi koi intajam karne chahiye lekin theek hai aaj ki sthiti mein internet band karna bhi kahin na kahin ghatnaon ko rokne mein help karta hai

इंटरनेट आजकल एक ऐसा माध्यम हो चुका है जो माध्यम से फोटोशॉप करके गलत जानकारियां फूड वीडियो

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  58
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सवाल बहुत ही जायज है और इसका जो जवाब है वह आप सबको पता होना चाहिए ग्रुप के इंस्टिट्यूट करके एक संस्थान है उसकी नेट डाउन पर इंटरनेट जो बंदी है इस पर रिपोर्ट आई थी 2015 16 की जो भारत में हुआ था तो उसके हिसाब से 6485 करोड का नुकसान भारत की इकोनॉमी को नोट बंदी से हुआ था 2015 16 कि इस बार पिछले चार महीनों से कश्मीर में इंटरनेट बंद है भारत के विभिन्न हिस्सों में पिछले दिनों की जुम्मे को 21 जिलों का उत्तर प्रदेश के नेट बंद करके के जब तक की सबसे बड़ी इंटरनेट बंदी है बार-बार इंटरनेट बंद कर दिया गया है और यह नुकसान कितना होगा इसका अंदाजा लगा पाना में 6000 485 करोड़ से कितना दे होगा आप अंदाजा भी नहीं लगा सकते तो नेट बंदी भारत में इतनी ज्यादा बढ़ गई है कि भारत आप यकीन नहीं करेंगे कि वर्ल्ड मेंट नोटबंदी में इनाम अगर मिलेगा तो नंबर पर आ गया है नंबर दो पर पाकिस्तान है इस साल की 2019 की बात करें यह गुजर रहा है अभी तो तू उससे ज्यादा बाहर इंटरनेट बंद हुआ है 2019 में तो पाकिस्तान पाकिस्तान दूसरे नंबर पर्सेंट मेड बंदी में लेकिन आप सुनेंगे जिसको इस्लामिक कंट्री कहा जाता है और जो इतने सारे जिस पर प्रतिबंध है जो आतंकवादियों को पालता है उसमें कुल 12 बाहर इंटरनेट बंद है 12 बार में नंबर वन नंबर दो पर है वह और नंबर वन देखो सौ बार बंद कर दिया है हमने हम एक लोकतांत्रिक देश है लगता है आपको अब बताइए आप लगता है कि इंटरनेट बंद होना चाहिए क्या जनता पर अपने नियंत्रण करने के लिए सिर्फ नेट बंद ही जरूरत है क्या आपको ऐसा लगता है क्या यह जो पॉलीटिशियंस है जो लोकसभा में कुछ कहते हैं और रैलियों में अगर कुछ और कह देते हैं कि हमने तो है ना उसी पर कोई बात ही नहीं की और लोकसभा में कहते कि नाम से लेकर आएंगे इनको बाहर निकालेंगे इनके नेता इनके छोटे-मोटे मंत्री ने कैसे-कैसे बयान देते हैं भड़काने वाले लोगों को और फिर कहते हैं कि हमने नहीं बढ़ गया लोक भड़का रहे हैं नेट बंद कर दो तुझे कुछ सलूशन नहीं होता आप मुझे नहीं पता को देश कैसे चलाना एक धर्मनिरपेक्ष धन्यवाद

sawaal bahut hi jayaj hai aur iska jo jawab hai vaah aap sabko pata hona chahiye group ke institute karke ek sansthan hai uski net down par internet jo bandi hai is par report I thi 2015 16 ki jo bharat mein hua tha toh uske hisab se 6485 crore ka nuksan bharat ki economy ko note bandi se hua tha 2015 16 ki is baar pichle char mahinon se kashmir mein internet band hai bharat ke vibhinn hisson mein pichle dino ki jumme ko 21 jilon ka uttar pradesh ke net band karke ke jab tak ki sabse badi internet bandi hai baar baar internet band kar diya gaya hai aur yah nuksan kitna hoga iska andaja laga paana mein 6000 485 crore se kitna de hoga aap andaja bhi nahi laga sakte toh net bandi bharat mein itni zyada badh gayi hai ki bharat aap yakin nahi karenge ki world ment notebandi mein inam agar milega toh number par aa gaya hai number do par pakistan hai is saal ki 2019 ki baat kare yah gujar raha hai abhi toh tu usse zyada bahar internet band hua hai 2019 mein toh pakistan pakistan dusre number percent made bandi mein lekin aap sunenge jisko islamic country kaha jata hai aur jo itne saare jis par pratibandh hai jo aatankwadion ko paalata hai usme kul 12 bahar internet band hai 12 baar mein number van number do par hai vaah aur number van dekho sau baar band kar diya hai humne hum ek loktantrik desh hai lagta hai aapko ab bataye aap lagta hai ki internet band hona chahiye kya janta par apne niyantran karne ke liye sirf net band hi zarurat hai kya aapko aisa lagta hai kya yah jo politicians hai jo lok sabha mein kuch kehte hain aur railiyo mein agar kuch aur keh dete hain ki humne toh hai na usi par koi baat hi nahi ki aur lok sabha mein kehte ki naam se lekar aayenge inko bahar nikalenge inke neta inke chote mote mantri ne kaise kaise bayan dete hain bhadkaane waale logo ko aur phir kehte hain ki humne nahi badh gaya lok bhadaka rahe hain net band kar do tujhe kuch salution nahi hota aap mujhe nahi pata ko desh kaise chalana ek dharmanirapeksh dhanyavad

सवाल बहुत ही जायज है और इसका जो जवाब है वह आप सबको पता होना चाहिए ग्रुप के इंस्टिट्यूट करक

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  157
WhatsApp_icon
user

Raman

Preparing (UPSC)

2:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हिंसक विरोध विरोध प्रदर्शन के पहले प्रशासन को यह याद रखना चाहिए कि वहां एरिया में जैसे इंटरनेट डाउनलोडर होती है सही है क्योंकि उससे पब्लिक प्रापर्टी के नुकसान होती है और दूसरी बात यह है कि अगर सोशल मीडिया है जो भी है उससे अफवाह ना फैलाएं अफवाह ना फैलाएं इसीलिए इसको या तरसती है अगर आपको लगता है कि नेट नहीं बंद होना चाहिए तो उस राज्य में सरकार को एक प्रारूप तैयार करना चाहिए जैसे कि फेसबुक यूट्यूब और जो वीडियो अपलोड होता हो और जिससे इमेजेस और वॉइस अपलोड होता है उस सरकार को इन सब को बुलाना चाहिए और एक कारू प्यार करना चाहिए कि यह आप लोग हर डिस्टिक वाइज एक प्रारूप तैयार कर दी से वीडियो अपलोड ना हो जैसे कि माली जगह मेरठ नहीं होता होती है तो यूट्यूब फेसबुक और व्हाट्सएप मैसेंजर जो भी हो डिस्टिक वाइज कर देगी प्रारूप तू अगर जैसे मेरठ में हीनता होता है वहां की डाटा से बंद कर दिया जाएगा जिससे वहां की कोई अफवाह न फैले कि जैसे किसी तरह की वीडियो नहीं वायरल होगी किसी तरह की इमेज वायरल नहीं होगी अगर दूसरी बात यह है कि अगर सरकार को इस नेट भी ऑन रहेगा और डाटा भी चलता रहेगा और यह भी है कि अगर सरकार अगर अगर लगता है कि उससे भी नहीं हो रहा है तो सरकार को क्या करना चाहिए कि 4जी 3जी या 2जी ऑन कर देना चाहिए और उस पर नजर रखनी चाहिए साइबर सेल को है ना और उसकी स्पीड कम कर देनी चाहिए है ना उसकी स्पीड कम कर देनी चाहिए जिससे आसानी हो सके कोई भी जगह 5MB 10 हिंदी के वीडियो अपलोड करता है तो उस पर साइबरस्क्वाड नजर रख सकें और उसको डिलीट कर सके इससे अफवाह नहीं चलेगी अगर कोई हिंसक प्रदर्शन करता है तो इस तरह से वह एक समुदाय जैसे समुदाय समुदाय कोई मुस्लिम समुदाय कोई हिंदू समुदाय एक ही समुदाय होता और दूसरे समुदाय से झड़प होती है इसलिए इसको रोकने के लिए यहां तक इस प्रारूप को अपनाना चाहिए जिससे अफवाह भी नहीं खेलेगी और एक पब्लिक प्रॉपर्टी को नुकसान नहीं होगा

hinsak virodh virodh pradarshan ke pehle prashasan ko yah yaad rakhna chahiye ki wahan area mein jaise internet daunalodar hoti hai sahi hai kyonki usse public praparti ke nuksan hoti hai aur dusri baat yah hai ki agar social media hai jo bhi hai usse afavah na failaen afavah na failaen isliye isko ya tarsati hai agar aapko lagta hai ki net nahi band hona chahiye toh us rajya mein sarkar ko ek prarup taiyar karna chahiye jaise ki facebook youtube aur jo video upload hota ho aur jisse images aur voice upload hota hai us sarkar ko in sab ko bulana chahiye aur ek karu pyar karna chahiye ki yah aap log har district wise ek prarup taiyar kar di se video upload na ho jaise ki maali jagah meerut nahi hota hoti hai toh youtube facebook aur whatsapp messenger jo bhi ho district wise kar degi prarup tu agar jaise meerut mein hinata hota hai wahan ki data se band kar diya jaega jisse wahan ki koi afavah na failen ki jaise kisi tarah ki video nahi viral hogi kisi tarah ki image viral nahi hogi agar dusri baat yah hai ki agar sarkar ko is net bhi on rahega aur data bhi chalta rahega aur yah bhi hai ki agar sarkar agar agar lagta hai ki usse bhi nahi ho raha hai toh sarkar ko kya karna chahiye ki ji ji ya ji on kar dena chahiye aur us par nazar rakhni chahiye cyber cell ko hai na aur uski speed kam kar deni chahiye hai na uski speed kam kar deni chahiye jisse aasani ho sake koi bhi jagah 5MB 10 hindi ke video upload karta hai toh us par saibaraskwad nazar rakh sake aur usko delete kar sake isse afavah nahi chalegi agar koi hinsak pradarshan karta hai toh is tarah se vaah ek samuday jaise samuday samuday koi muslim samuday koi hindu samuday ek hi samuday hota aur dusre samuday se jhadap hoti hai isliye isko rokne ke liye yahan tak is prarup ko apnana chahiye jisse afavah bhi nahi khelegi aur ek public property ko nuksan nahi hoga

हिंसक विरोध विरोध प्रदर्शन के पहले प्रशासन को यह याद रखना चाहिए कि वहां एरिया में जैसे इंट

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  114
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नवीन गुड इवनिंग सवाल यह है कि हिंसक विरोध प्रदर्शन के चलते पहले या फिर बाद में इंटरनेट सेटिंग क्यों होता है अगर आप बात करें भारत देश जैसे लोकतांत्रिक देश में तो यह प्रक्रिया जो है आवाज को दबाने का एक बहुत ही आसान तरीका माना जाता है सरकारों को यह करने से काफी ज्यादा आसानी हो जाती है उस बात को पूरे देश तक पहुंचाने में जो अपना कार्य कर रहे हैं जो हिंसक प्रदर्शन हिंसक प्रदर्शनों ने नहीं कहना चाहिए क्योंकि किसी को भी हिंसक ऐसे ही कह देना वह सही नहीं होता है अगर हम संविधान में आकर अपनी बात को शांत शांति से रखते हैं और विरोध करने का अधिकार हर किसी को है जब तक हम सरकारी संपत्ति और किसी को नुकसान ना पहुंचे तो मुझे नहीं लगता है कि उसे नहीं सकते ना चाहिए हिंसक प्रदर्शन ना करते हुए अगर हम यह कहें कि वह प्रदर्शनी यों को जिस इलाके में प्रदर्शन कर रहे हैं और वह सरकार को डर होता कि वह हिंसा में ना परिवर्तित हो जाए इसलिए उन्हें शटडाउन करना पड़ता है इंटरनेट को इंटरनेट से डाउन क्यों करना पड़ता है इसलिए करना पड़ता है कि पहला इंटरनेट शटडाउन करने से काफी ज्यादा लोगों को काबू में किया जा सकता है ऐसा सरकार का मानना है ऐसा कुछ रियालिटी भी है क्योंकि अगर आप अपने आवाज को लोगों तक फैला नहीं सकते इसे कमीनी केशन का एक जरिया बंद कर देते हो तो लोग आपके साथ जो 21वीं सदी में हम जी रहे हैं तो सबसे बड़ा माध्यम है इंटरनेट दूसरा इसे नुकसान क्या क्या होता है इसे नुकसान सबसे पहले हम कह सकते हैं जो इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर है जो टेलीकॉम कंपनी है उनकी एक नामी पैर इफेक्ट पड़ता है उसके अलावा उसके साथ-साथ एक टेलीकॉम कंपनी के साथ-साथ सरकार उसे स्टेट की सरकार गवर्नमेंट को या फिर उस डिस्ट्रिक्ट को इग्नोर मिक्सर पर काफी ज्यादा नुकसान होता डिजिटल जमाने के स्तन में हम पूरी तरीके से निर्भर है इंटरनेट पर लेनदेन से लेकर बड़े से बड़ा कार्य और छोटे से छोटा का जन्म इंटरनेट से करता है बिल भुगतान फीस जमा करना होगा या फिर फॉर्म सबमिट हम आजकल इंटरनेट से करते हैं अगर हम इंटरनेट के उपयोग ना करें तो फिर आजकल हर चीज को इस्तेमाल करना काफी मुश्किल हो जाएगा और यह चीजें मुझे मेरी नर्सरी से यह बहुत ही ज्यादा गलत है क्योंकि भारत को इंटरनेट से टाउन के मामले का कैपिटल कह दिया गया है जिससे काफी ज्यादा मतलब इफेक्ट करते हैं कि इंडिया जो एक कैपिटल बन चुका है इंटरनेट शटडाउन के मामले में तो भारत जैसे लोकतांत्रिक देश को यह शोभा नहीं देता है और ऐसे सरकारों को करना भी नहीं चाहिए

naveen good evening sawaal yah hai ki hinsak virodh pradarshan ke chalte pehle ya phir baad mein internet setting kyon hota hai agar aap baat kare bharat desh jaise loktantrik desh mein toh yah prakriya jo hai awaaz ko dabane ka ek bahut hi aasaan tarika mana jata hai sarkaro ko yah karne se kaafi zyada aasani ho jaati hai us baat ko poore desh tak pahunchane mein jo apna karya kar rahe hain jo hinsak pradarshan hinsak pradarshanon ne nahi kehna chahiye kyonki kisi ko bhi hinsak aise hi keh dena vaah sahi nahi hota hai agar hum samvidhan mein aakar apni baat ko shaant shanti se rakhte hain aur virodh karne ka adhikaar har kisi ko hai jab tak hum sarkari sampatti aur kisi ko nuksan na pahuche toh mujhe nahi lagta hai ki use nahi sakte na chahiye hinsak pradarshan na karte hue agar hum yah kahein ki vaah pradarshani yo ko jis ilaake mein pradarshan kar rahe hain aur vaah sarkar ko dar hota ki vaah hinsa mein na parivartit ho jaaye isliye unhe shutdown karna padta hai internet ko internet se down kyon karna padta hai isliye karna padta hai ki pehla internet shutdown karne se kaafi zyada logo ko kabu mein kiya ja sakta hai aisa sarkar ka manana hai aisa kuch reality bhi hai kyonki agar aap apne awaaz ko logo tak faila nahi sakte ise kamini kaisan ka ek zariya band kar dete ho toh log aapke saath jo vi sadi mein hum ji rahe hain toh sabse bada madhyam hai internet doosra ise nuksan kya kya hota hai ise nuksan sabse pehle hum keh sakte hain jo internet service provider hai jo telecom company hai unki ek nami pair effect padta hai uske alava uske saath saath ek telecom company ke saath saath sarkar use state ki sarkar government ko ya phir us district ko ignore mixer par kaafi zyada nuksan hota digital jamane ke stan mein hum puri tarike se nirbhar hai internet par lenden se lekar bade se bada karya aur chote se chota ka janam internet se karta hai bill bhugtan fees jama karna hoga ya phir form submit hum aajkal internet se karte hain agar hum internet ke upyog na kare toh phir aajkal har cheez ko istemal karna kaafi mushkil ho jaega aur yah cheezen mujhe meri nursery se yah bahut hi zyada galat hai kyonki bharat ko internet se town ke mamle ka capital keh diya gaya hai jisse kaafi zyada matlab effect karte hain ki india jo ek capital ban chuka hai internet shutdown ke mamle mein toh bharat jaise loktantrik desh ko yah shobha nahi deta hai aur aise sarkaro ko karna bhi nahi chahiye

नवीन गुड इवनिंग सवाल यह है कि हिंसक विरोध प्रदर्शन के चलते पहले या फिर बाद में इंटरनेट सेट

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  162
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!