हिंसक विरोध प्रदर्शन के पहले या बाद में प्रशासन एहतियात के तौर पर इंटरनेट शटडाउन होता है, इससे क्या नुक़सान होता है? आपकी क्या राय है?...


user

Vimal Kumar Gour

General Physician

7:25
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो हिंसक विरोध प्रदर्शन के पहले या बाद में प्रशासन ऐतिहासिक इतिहास के तौर पर इंटरनेट शटडाउन क्यों कर देता है तू यह सरकार कर रही है इंटरनेट बंद कर दिए हमारा कोई नुकसान नहीं है नुकसान तो है पर सरकार इसको धन्य में सच्चे मरती है कि हमारी जनता खुश सुखी रहे खुश रहे जितनी अफवाह फैलते हैं बहुत से लोग इंटरनेट से जुड़े हुए इधर-उधर अफवाह फैलाते हैं इसीलिए इंटरनेट सेवा बंद कर दी जाती है इंटरनेट सेवा शुरू से चालू होता है लिंक होता लोगों से देश विदेशों में तो वहां पर हमें दंगा करना है वहां सभी लोग वेट कर के भगा कर देते हो सरकार करना पड़ता मजबूरी है उसकी दोस्ती हमारी जनता खुश रहे कोई तकलीफ नहीं आए जनता को इसकी हिंसा फैलाने एक दूसरे से लिंक होते हैं इसीलिए इंटरनेट बंद कर देती हो पर यह सरकार की कोई एहसान करनी चाहिए तो हमारी इस से बहुत नुकसान होता है देखा होगा उत्तर प्रदेश में 130 दंगे आरोपियों ने से वसूली की प्रक्रिया शुरू हो गई हर जगह दिल्ली में देखो पैसेज अलादीन जहां में विश्वविद्यालय में वहां पर भी दोष प्रदूषण हो रहा दंगे बाजार फैजाबाद मेरठ अलीगढ़ हाथरस हर जगह लखनऊ हर जगह से निकाला जा रहा है तो ऐसे सब दंगों के यह नहीं लिखा हम दंडित कर रहे हैं तो यह धमाका हमारा ही होगा अब देखो उत्तर प्रदेश में सरकार ने 130 दंगे आरोपियों को वसूली की प्रक्रिया शुरू कर दी प्रदेश में पिछले दिनों में प्रदर्शन के दौरान समिति अनुमान लगाया कि उसमें सार्वजनिक संपत्ति का 5000000 नुकसान आया था कहा जा रहा है नुकसान आरोपियों से वसूला जाएगा इसके लिए जगह-जगह सीसीटीवी फुटेज खंगाले गए पहचानने के लिए आरोपियों को तस्वीर वाले पोस्टर भी लगाए गए दीवानों पर चिपकाए गए तो माहौल बहुत बिगड़ गया था पिछले दिनों में देशों में हादसों में हिंसा हुई थी झारखंड में चुनाव चल रहा था उसी दौरान हुई हिंसा फैलाने है लेकिन इसमें सचमुच इसकी वसूली होगी साल 2012 मुंबई के आजाद पार्क में एक रैली के दौरान हिंसा हुई थी तो बाद में पाया गया कि उस हिंसा में सार्वजनिक संपत्ति को लोगों ने तीन करोड़ नुकसान पहुंचा था इसके लिए महाराष्ट्र पुलिस ने वसूली नोटिस जारी किया था लेकिन वसूली को हो पाई ऐसी हमें कभी नहीं शायद आसान भी नहीं था अंतराल अपने सेक्सी फोटो भेज सबूत के तौर पर कितने सरकार होगी दंगा रोकने के लिए ऐसे कदम उठाए अगर हम दंगे के बाद सारी कार्रवाई को सिर सिर सजा नहीं हो सकती अगर हम डरने को बहुत सारी कार्रवाई को सिर्फ वसूली सीमित कर देते हैं तो कहीं ना कहीं हमेशा आर्थिक अपराध मानते देते हैं कि ना तो संशोधन कानून पारित करने के लिए देश-विदेश में विरोध प्रदर्शन शुरू हो गए थे इसकी आलोचना और दो अलग-अलग नजरिए से देखा जाए अपनी सोच होगी विरोध के कानून आंखों में चश्मे देखना भी गौर कर रहे थे तो अदालत में दायर की थी कि अपनी बात रखने के लिए शीर्ष अदालत तमाम आज का उनको मौकों को दंग देगी फिर उसे आधार पर अपना फैसला सुनाएगी आ गया ना करके भरोसा करना चालू कर दिया उनकी नजरों में देखना हुआ ऐसा कानून के साथ समझौता आधार के दृष्टिकोण विरोध वर्क सावन में हुई तो हिंसा क्रोध के नेट बंद करने से बड़े सरकार की गलत नहीं सोचती है वह सोचती हमारे जनता खुश रहे खुश रहो जनता को सरकार कर दिया था कहीं पतंग आती होगी तो कुछ कोई कुछ नहीं कुछ कर सकता टुकड़े टुकड़े में दंगे देने का वक्त हमेशा ने गुरुवार को कहा कि कानून के विरुद्ध टुकड़े-टुकड़े किया था जनता उन्हें छोड़ देना चाहिए पूरी दिल्ली गृह मंत्री ने कहा कि कानून को लेकर दिल्ली में हुई हिंसक घटनाओं के लिए कांग्रेसी निवेश जिम्मेदार है जनता के घुमाकर राजधानी की शांति में उन किया गया ऐसा ने कहा कि कांग्रेस सरकार योजना बनाती है फिर 25 साल बजट मंजूरी कर दी 35 साल में खून खून करती थी अरे 5 सालों से भूल जाती थी

hello hinsak virodh pradarshan ke pehle ya baad mein prashasan etihasik itihas ke taur par internet shutdown kyon kar deta hai tu yah sarkar kar rahi hai internet band kar diye hamara koi nuksan nahi hai nuksan toh hai par sarkar isko dhanya mein sacche marti hai ki hamari janta khush sukhi rahe khush rahe jitni afavah failate hain bahut se log internet se jude hue idhar udhar afavah failate hain isliye internet seva band kar di jaati hai internet seva shuru se chaalu hota hai link hota logo se desh videshon mein toh wahan par hamein danga karna hai wahan sabhi log wait kar ke bhaga kar dete ho sarkar karna padta majburi hai uski dosti hamari janta khush rahe koi takleef nahi aaye janta ko iski hinsa felane ek dusre se link hote hain isliye internet band kar deti ho par yah sarkar ki koi ehsaan karni chahiye toh hamari is se bahut nuksan hota hai dekha hoga uttar pradesh mein 130 dange aaropiyon ne se vasuli ki prakriya shuru ho gayi har jagah delhi mein dekho passage alladin jaha mein vishwavidyalaya mein wahan par bhi dosh pradushan ho raha dange bazaar faizabad meerut aligarh hathras har jagah lucknow har jagah se nikaala ja raha hai toh aise sab dango ke yah nahi likha hum dandit kar rahe hain toh yah dhamaaka hamara hi hoga ab dekho uttar pradesh mein sarkar ne 130 dange aaropiyon ko vasuli ki prakriya shuru kar di pradesh mein pichle dino mein pradarshan ke dauran samiti anumaan lagaya ki usme sarvajanik sampatti ka 5000000 nuksan aaya tha kaha ja raha hai nuksan aaropiyon se vasula jaega iske liye jagah jagah cctv footage khangale gaye pahachanne ke liye aaropiyon ko tasveer waale poster bhi lagaye gaye diwanon par chipakayen gaye toh maahaul bahut bigad gaya tha pichle dino mein deshon mein hadason mein hinsa hui thi jharkhand mein chunav chal raha tha usi dauran hui hinsa felane hai lekin isme sachmuch iski vasuli hogi saal 2012 mumbai ke azad park mein ek rally ke dauran hinsa hui thi toh baad mein paya gaya ki us hinsa mein sarvajanik sampatti ko logo ne teen crore nuksan pohcha tha iske liye maharashtra police ne vasuli notice jaari kiya tha lekin vasuli ko ho payi aisi hamein kabhi nahi shayad aasaan bhi nahi tha antaral apne sexy photo bhej sabut ke taur par kitne sarkar hogi danga rokne ke liye aise kadam uthye agar hum dange ke baad saree karyawahi ko sir sir saza nahi ho sakti agar hum darane ko bahut saree karyawahi ko sirf vasuli simit kar dete hain toh kahin na kahin hamesha aarthik apradh maante dete hain ki na toh sanshodhan kanoon paarit karne ke liye desh videsh mein virodh pradarshan shuru ho gaye the iski aalochana aur do alag alag nazariye se dekha jaaye apni soch hogi virodh ke kanoon aankho mein chashme dekhna bhi gaur kar rahe the toh adalat mein dayar ki thi ki apni baat rakhne ke liye shirsh adalat tamaam aaj ka unko maukon ko deng degi phir use aadhaar par apna faisla sunaegi aa gaya na karke bharosa karna chaalu kar diya unki nazro mein dekhna hua aisa kanoon ke saath samjhauta aadhaar ke drishtikon virodh work sawan mein hui toh hinsa krodh ke net band karne se bade sarkar ki galat nahi sochti hai vaah sochti hamare janta khush rahe khush raho janta ko sarkar kar diya tha kahin patang aati hogi toh kuch koi kuch nahi kuch kar sakta tukde tukde mein dange dene ka waqt hamesha ne guruwaar ko kaha ki kanoon ke viruddh tukde tukde kiya tha janta unhe chod dena chahiye puri delhi grah mantri ne kaha ki kanoon ko lekar delhi mein hui hinsak ghatnaon ke liye congressi nivesh zimmedar hai janta ke ghumakar rajdhani ki shanti mein un kiya gaya aisa ne kaha ki congress sarkar yojana banati hai phir 25 saal budget manjuri kar di 35 saal mein khoon khoon karti thi are 5 salon se bhool jaati thi

हेलो हिंसक विरोध प्रदर्शन के पहले या बाद में प्रशासन ऐतिहासिक इतिहास के तौर पर इंटरनेट शटड

Romanized Version
Likes  17  Dislikes    views  508
KooApp_icon
WhatsApp_icon
11 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!