एक मनोवैज्ञानिक के रूप में आपके अनुसार लव मैरिज ज़्यादा अच्छी चलती है या फिर अरेंज मैरिज और क्यूँ?...


user

Sonali Mangal

Counseling Psychologist

0:52
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मारे लव मैरिज या अरेंज मैरेज हो इससे ज्यादा अहमियत रखता है कि उस मार्च में दोनों जने एक दूसरे की कितनी रिस्पेक्ट करते हैं कितना एक दूसरे के लिए का मैटर है कितना एक दूसरे पर ट्रस्ट करते हैं कितना एक दूसरे को एक्सेप्ट करते हैं और कितना एक दूसरे के प्रति समर्पित है और कितना एक दूसरे के हिसाब से एडजस्टमेंट करने के लिए तैयार हैं जिसमें यह सारी चीजें होंगी वह अपने आप से अच्छे से चलेगी क्योंकि दोनों ही जनों को एक पल डेडीकेशन और डिवोशनल और कॉन्ट्रिब्यूशन देना जरूरी होता है इसलिए लव मैरिज है या अरेंज से कोई फर्क नहीं पड़ता

maare love marriage ya arrange marriage ho isse zyada ahamiyat rakhta hai ki us march me dono jane ek dusre ki kitni respect karte hain kitna ek dusre ke liye ka matter hai kitna ek dusre par trust karte hain kitna ek dusre ko except karte hain aur kitna ek dusre ke prati samarpit hai aur kitna ek dusre ke hisab se adjustment karne ke liye taiyar hain jisme yah saari cheezen hongi vaah apne aap se acche se chalegi kyonki dono hi jano ko ek pal dedikeshan aur devotional aur contribution dena zaroori hota hai isliye love marriage hai ya arrange se koi fark nahi padta

मारे लव मैरिज या अरेंज मैरेज हो इससे ज्यादा अहमियत रखता है कि उस मार्च में दोनों जने एक दू

Romanized Version
Likes  90  Dislikes    views  782
WhatsApp_icon
25 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
2:58
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

किसी मैरिज का सफल होना या अच्छा चलना फूल लव है या अरेंज है इस चीज पर निर्भर नहीं करता किसी मैरिज का असफल होना बहुत चीजों पर निर्भर करता है नंबर 1 यदि लड़का लड़की दोनों का स्वभाव अच्छा है दोनों के विचार मिलते हैं दोनों के परिवार मिलते जुलते हैं दोनों एक जैसे परिवेश से आए हैं दोनों एजुकेटेड हैं संस्कारी हैं मैं चोर है लोगों के सुख-दुख को समझते हैं तो उनके सफल होने के उस शादी के सफल होने के चांसेस बढ़ जाते हैं अब लोगों के सुख-दुख को समझने से किसी मैरिज के सफल होने का क्या मतलब यह पूछ सकते हो आप जो आदमी अनजान लोगों के सुख-दुख को समझेगा तो वह अपने लाइफ पार्टनर के सुख-दुख को भी समझेगा कि वह पूरे दिन के अंदर मेरी घरवाली क्या काम कर रही है किन हालातों में रह रही है कैसे सरवाइव कर रही है या पत्नी यह देखें कि पति कहां से काम करके आ रहा है कैसे काम करके आ रहा है वह माहौल कैसा है घर पर आने के बाद मुंह से कैसा व्यवहार करो मैरिज सफल होती है एक दूसरे को समझने से पति और पत्नी एक दूसरे के व्यवहार को समझे सबसे इंपोर्टेंट है एक दूसरे के बाहर समझना कि यह क्या कहना चाहता है कब इसको गुस्सा आता है कब इसको गुस्सा नहीं आता है इसको मजाक कैसे पसंद है इसकी पसंद कैसी है ना पसंद कैसी है क्या खाने में इसको अच्छा लगता है इसकी सोच कैसी है यह अपने माता-पिता के बारे में क्या सोचता है भाई बहनों के बारे में क्या सोचता है क्योंकि एक आदमी जो अपने माता-पिता की इज्जत करेगा वह अपनी पत्नी के माता-पिता की भी इज्जत करेगा एक पत्नी जो अपने माता-पिता की इज्जत करती है वह अपने सास-ससुर की भी इज्जत करेगी तो एक आदमी जो रिश्तो को समझता है दूसरों के सुख दुख को समझता है वह अपने पति या पत्नी के भी रिश्तेदारों की इज्जत करेगा और उनके सुख-दुख को समझेगा तो यह कोई क्राइटेरिया नहीं है कि आप लव मैरिज करोगे तो सफल होगी या अरेंज मैरिज करोगे तो सफल होगी सफलता की गारंटी सिर्फ इन चीजों पर निर्भर करती है आप में चोर कितने हैं आप सेंसेटिव कितने हैं आप समझदार कितने हैं जैसा व्यवहार आप अपने साथ चाहते हैं यदि ऐसा ही व्यवहार आप अपने पति या पत्नी पार्टनर के साथ करेंगे तो आपकी मैरिज जरूर सफल होगी धन्यवाद

kisi marriage ka safal hona ya accha chalna fool love hai ya arrange hai is cheez par nirbhar nahi karta kisi marriage ka asafal hona bahut chijon par nirbhar karta hai number 1 yadi ladka ladki dono ka swabhav accha hai dono ke vichar milte hain dono ke parivar milte julte hain dono ek jaise parivesh se aaye hain dono educated hain sanskari hain main chor hai logo ke sukh dukh ko samajhte hain toh unke safal hone ke us shaadi ke safal hone ke chances badh jaate hain ab logo ke sukh dukh ko samjhne se kisi marriage ke safal hone ka kya matlab yah puch sakte ho aap jo aadmi anjaan logo ke sukh dukh ko samjhega toh vaah apne life partner ke sukh dukh ko bhi samjhega ki vaah poore din ke andar meri gharwali kya kaam kar rahi hai kin halaton me reh rahi hai kaise survive kar rahi hai ya patni yah dekhen ki pati kaha se kaam karke aa raha hai kaise kaam karke aa raha hai vaah maahaul kaisa hai ghar par aane ke baad mooh se kaisa vyavhar karo marriage safal hoti hai ek dusre ko samjhne se pati aur patni ek dusre ke vyavhar ko samjhe sabse important hai ek dusre ke bahar samajhna ki yah kya kehna chahta hai kab isko gussa aata hai kab isko gussa nahi aata hai isko mazak kaise pasand hai iski pasand kaisi hai na pasand kaisi hai kya khane me isko accha lagta hai iski soch kaisi hai yah apne mata pita ke bare me kya sochta hai bhai bahnon ke bare me kya sochta hai kyonki ek aadmi jo apne mata pita ki izzat karega vaah apni patni ke mata pita ki bhi izzat karega ek patni jo apne mata pita ki izzat karti hai vaah apne saas sasur ki bhi izzat karegi toh ek aadmi jo rishto ko samajhata hai dusro ke sukh dukh ko samajhata hai vaah apne pati ya patni ke bhi rishtedaron ki izzat karega aur unke sukh dukh ko samjhega toh yah koi criteria nahi hai ki aap love marriage karoge toh safal hogi ya arrange marriage karoge toh safal hogi safalta ki guarantee sirf in chijon par nirbhar karti hai aap me chor kitne hain aap sensitive kitne hain aap samajhdar kitne hain jaisa vyavhar aap apne saath chahte hain yadi aisa hi vyavhar aap apne pati ya patni partner ke saath karenge toh aapki marriage zaroor safal hogi dhanyavad

किसी मैरिज का सफल होना या अच्छा चलना फूल लव है या अरेंज है इस चीज पर निर्भर नहीं करता किसी

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  107
WhatsApp_icon
user

Aadesh Jee. manovid.

Counselor || Writer

4:13
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आज के दौर में अरेंज मैरिज में भी विवाद बढ़ गए हैं विट्टल ज्यादा हो रहा और तलाक के मामले भी बहुत ज्यादा बढ़ गए हैं इसका कारण है पति पत्नी का दोनों का आत्मनिर्भर हो जाना सोना पत्नी की सैलरी के बंटवारे में लेकर समस्या बनना और रितु की पत्नी आत्मनिर्भर होती है तो वह डेट कम करना चाहती है भगवान कम होती हैं और जॉब अगर कर रहे हैं तो उनको जो काफी परेशानी होती है और धर्म की जिम्मेदारी कभी निर्वाहन करना पड़ता है यह बात पति और उसके ससुराल वाले नहीं समझ पाते ना उतना सही सहयोग दे पाते अखबार छोड़कर इससे समस्या बनती है शेर पति पत्नी का विवाह दूर कोई प्रेम संबंध है उसका उजागर हो जाना या विवाह के बाद पति का या पति का छुपी रूप में पूर्व संबंध को भी चलाते रहना फिर उसका सामने आ जाना इन सब कारणों से अरेंज मैरेज हुई बहुत बुरे दौर से गुजर रही है उसमें स्थायित्व कम है जहां तक लव मैरिज की बात है तो लव मैरिज में विवाद बटन हो तलाक के मामले अरेंज मैरिज से 4 गुना ज्यादा अधिक इसका कारण कम उम्र में कम उम्र का कारण फिर कम उम्र आपन पता उसमें प्यार हो जाना शादी के बाद जाम पर जीवन की जटिलताओं के सामने प्रेमी को प्रेमिका दोनों को हार जाना अच्छे प्रेमी-प्रेमिका शादी के बाद पूरे पति पत्नी साबित हो जाते हैं एक दूसरे ज्यादा अपेक्षाएं रखते हैं दोनों अपने अपने कर्तव्यों के प्रति उदासीन रहते हैं और दूसरों को अपने कर्तव्यों पर रहने के लिए बोला जाता है लव मैरिज और तुम ज्यादा घातक हो जाती है जब पति-पत्नी एक परिवार में सब के रहते हैं यौन आकर्षण जल्दी समाप्त हो जाता है उसके समाप्त होने के बाद एक दूसरे की कमी कमजोरी बुरी आदतों से जरा भी कोई भी नहीं करता कंप्रोमाइज नहीं करता ध्यान नहीं रखता कुल्टी थाना जाने लगती एक दूसरे को और छोटी-छोटी बातों में अलग होने की बात सोचने लगता नहीं लगती है कितनी को दबाव में दोनों निर्णय लिया कर ली कोई दबाव नहीं समाज का घर का तो जैसे मैंने कर ली ऐसी भी तैयार हो जाते लव मैरिज की सबसे बड़ी विफलता का कारण है वह शख्स लव मैरिज की आज ने आसिफ पहले भी और आज और आज की आज भी लव मैरिज की सबसे बड़ी त्रासदी है तब उन्हें शक होता है कि यह लड़का मुझसे सेट हो क्या तो किसी से भी हो सकता है लड़की से लड़का सूचना की लड़की मुझसे सेट हो गई तो किसी भी से छोटी सी मतलब पहले जो प्यार था ब्रिज लव मैरेज और आज की डेट में अरेंज मैरिज दोनों में दिक्कत है लेकिन लव मैरिज में ज्यादा दिक्कत है ज्यादा त्रासदी है

aaj ke daur me arrange marriage me bhi vivaad badh gaye hain vittal zyada ho raha aur talak ke mamle bhi bahut zyada badh gaye hain iska karan hai pati patni ka dono ka aatmanirbhar ho jana sona patni ki salary ke batware me lekar samasya banna aur ritu ki patni aatmanirbhar hoti hai toh vaah date kam karna chahti hai bhagwan kam hoti hain aur job agar kar rahe hain toh unko jo kaafi pareshani hoti hai aur dharm ki jimmedari kabhi nirvahan karna padta hai yah baat pati aur uske sasural waale nahi samajh paate na utana sahi sahyog de paate akhbaar chhodkar isse samasya banti hai sher pati patni ka vivah dur koi prem sambandh hai uska ujagar ho jana ya vivah ke baad pati ka ya pati ka chhupee roop me purv sambandh ko bhi chalte rehna phir uska saamne aa jana in sab karanon se arrange marriage hui bahut bure daur se gujar rahi hai usme sthaayitv kam hai jaha tak love marriage ki baat hai toh love marriage me vivaad button ho talak ke mamle arrange marriage se 4 guna zyada adhik iska karan kam umar me kam umar ka karan phir kam umar apan pata usme pyar ho jana shaadi ke baad jam par jeevan ki jatillataon ke saamne premi ko premika dono ko haar jana acche premi premika shaadi ke baad poore pati patni saabit ho jaate hain ek dusre zyada apekshayen rakhte hain dono apne apne kartavyon ke prati udasin rehte hain aur dusro ko apne kartavyon par rehne ke liye bola jata hai love marriage aur tum zyada ghatak ho jaati hai jab pati patni ek parivar me sab ke rehte hain yaun aakarshan jaldi samapt ho jata hai uske samapt hone ke baad ek dusre ki kami kamzori buri aadaton se zara bhi koi bhi nahi karta compromise nahi karta dhyan nahi rakhta kulti thana jaane lagti ek dusre ko aur choti choti baaton me alag hone ki baat sochne lagta nahi lagti hai kitni ko dabaav me dono nirnay liya kar li koi dabaav nahi samaj ka ghar ka toh jaise maine kar li aisi bhi taiyar ho jaate love marriage ki sabse badi vifalta ka karan hai vaah sakhs love marriage ki aaj ne asif pehle bhi aur aaj aur aaj ki aaj bhi love marriage ki sabse badi trasadi hai tab unhe shak hota hai ki yah ladka mujhse set ho kya toh kisi se bhi ho sakta hai ladki se ladka soochna ki ladki mujhse set ho gayi toh kisi bhi se choti si matlab pehle jo pyar tha bridge love marriage aur aaj ki date me arrange marriage dono me dikkat hai lekin love marriage me zyada dikkat hai zyada trasadi hai

आज के दौर में अरेंज मैरिज में भी विवाद बढ़ गए हैं विट्टल ज्यादा हो रहा और तलाक के मामले भी

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  163
WhatsApp_icon
user

Nita Nayyar

Writer ,Motivational Speaker, Social Worker n Counseller.

2:34
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एक मनोवैज्ञानिक के रूप में नहीं एक समाजशास्त्री के रूप में भी मेरे पास इस बात का कोई प्रमाण नहीं है कि लव मैरिज ज्यादा अच्छी चलती है या की अरेंज सुनने में आता है कि लव मैरिज हुई है दोनों एक दूसरे को जानते हैं समझते हैं चाय अच्छी चलेगी लेकिन ऐसा नहीं है जब भी पति पत्नी में तालमेल की कमी आती है तभी तलाक और संबंध विच्छेद की नौबत आ जाती है चाहे वह लव मैरिज में हो और चाहिए अरेंज मैरिज में हो अरेंज मैरिज में क्या होता है कि माता-पिता पसंद करते हैं और प्लस लड़का लड़की भी आपस में एक दूसरे को देखते और पसंद करते हैं तो अकाउंटेबिलिटी जिम्मेदारी कई भागों में बढ़ जाती है यानी लड़का दोष नहीं दे सकता कि आपने चुना था मेरे लिए लड़की यह नहीं कह सकती लड़का ही तो देखने आया था उसने ही तो मुझे पसंद किया था कई विभागों की जिम्मेदारी उसमें जुड़ी रहती है तो एक दूसरे को दोषारोपण नहीं कर सकते लेकिन लव मैरिज में क्या होता है माता-पिता दो पल्ला झाड़ लेते हैं जब भी पति-पत्नी की लड़ाई होगी वह कहेंगे कि हमने थोड़ा पसंद की थी तुम्हारे लिए तुम ही तो गए थे उसको लाने तुम्हारी पसंद की जो लड़की है अब निभाओ तो मैरिज के सक्सेसफुल लव मैरिज और अरेंज मैरिज नहीं है इसमें आपसी तालमेल और कौन कितना सहन कर लेता है कौन किस की बातों को कितना सुनता है और उनकी आर्थिक स्थितियां कैसी रहती है शादी के बाद बहुत सारे फैक्टर हैं जो हमारी मैरिज को सक्सेसफुल या अनसक्सेसफुल बनाते हैं इसलिए यह कहना कि लव मैरिज हुई है इसलिए बहुत लंबा चलेगी गलत होगा या अरेंज मैरेज हुई है यह बहुत लंबा चलेगी यह कहना गलत होगा दोनों में से कोई भी जल्दी से डिमोलिश हो सकती है यह सब आपके डीलिंग पर निर्भर करता है कि आप सामने वाले पार्टनर को कैसे डील करते हो यदि आप हंसे में ही उसके साथ किसी लड़ाई के मूड में रहते हो तो पाटनर भी बर्दाश्त नहीं करता है तो यह ध्यान रखिए कि लव मैरिज और अरेंज मैरिज दोनों जिम्मेदार नहीं है संबंध विच्छेद के लिए इसको निभाना पति पत्नी को ही पड़ता है

ek manovaigyanik ke roop me nahi ek samajshastri ke roop me bhi mere paas is baat ka koi pramaan nahi hai ki love marriage zyada achi chalti hai ya ki arrange sunne me aata hai ki love marriage hui hai dono ek dusre ko jante hain samajhte hain chai achi chalegi lekin aisa nahi hai jab bhi pati patni me talmel ki kami aati hai tabhi talak aur sambandh vichched ki naubat aa jaati hai chahen vaah love marriage me ho aur chahiye arrange marriage me ho arrange marriage me kya hota hai ki mata pita pasand karte hain aur plus ladka ladki bhi aapas me ek dusre ko dekhte aur pasand karte hain toh akauntebiliti jimmedari kai bhaagon me badh jaati hai yani ladka dosh nahi de sakta ki aapne chuna tha mere liye ladki yah nahi keh sakti ladka hi toh dekhne aaya tha usne hi toh mujhe pasand kiya tha kai vibhagon ki jimmedari usme judi rehti hai toh ek dusre ko dosharopan nahi kar sakte lekin love marriage me kya hota hai mata pita do palla jhad lete hain jab bhi pati patni ki ladai hogi vaah kahenge ki humne thoda pasand ki thi tumhare liye tum hi toh gaye the usko lane tumhari pasand ki jo ladki hai ab nibhao toh marriage ke successful love marriage aur arrange marriage nahi hai isme aapasi talmel aur kaun kitna sahan kar leta hai kaun kis ki baaton ko kitna sunta hai aur unki aarthik sthitiyan kaisi rehti hai shaadi ke baad bahut saare factor hain jo hamari marriage ko successful ya unsuccessful banate hain isliye yah kehna ki love marriage hui hai isliye bahut lamba chalegi galat hoga ya arrange marriage hui hai yah bahut lamba chalegi yah kehna galat hoga dono me se koi bhi jaldi se dimolish ho sakti hai yah sab aapke dealing par nirbhar karta hai ki aap saamne waale partner ko kaise deal karte ho yadi aap hanse me hi uske saath kisi ladai ke mood me rehte ho toh partner bhi bardaasht nahi karta hai toh yah dhyan rakhiye ki love marriage aur arrange marriage dono zimmedar nahi hai sambandh vichched ke liye isko nibhana pati patni ko hi padta hai

एक मनोवैज्ञानिक के रूप में नहीं एक समाजशास्त्री के रूप में भी मेरे पास इस बात का कोई प्रमा

Romanized Version
Likes  24  Dislikes    views  403
WhatsApp_icon
user

Dr. PRAVINA MISHRA

REHABILITATION PSYCHOLOGIST

1:58
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका सवाल है एक मनोवैज्ञानिक के रूप में आपके अनुसार लव मैरिज याद अच्छी चलती है या फिर अरेंज मैरिज और क्यों देखिए आप परिणाम के विषय में पूछ रहे हैं और किसी की मैरिज हुए एडजेस्टमेंट कंप्रोमाइज सेटिस्फेक्शन यह सारी चीजें उसमें जुड़ी होती है पर्सनैलिटी ट्रेट इसमें व्यक्ति व्यक्ति पर निर्भर करता है इन पर निर्भर करता है कि किसका एडजस्टमेंट अच्छा है किसका सेटिस्फेक्शन सकरी क्वेश्चन पेपर किसका अच्छा है उस पर निर्भर करता है ना कि टाइप ऑफ मैरिज के फिर भी ब्रॉडली यदि कहा जाए तो ऐसा माना जाता है कि लव मैरिज भी आप कर रहे हैं तो एक दूसरे को जानते हैं एक दूसरे को एक दूसरे की कमियों और खूबियों को जानते समझते हुए आपने दूसरे को पसंद किया है तो ऐसा माना जाता है कि लव मैरिज का सबसे छोटा होगा लेकिन ऐसा जरूरी नहीं है वही अरेंज मैरिज में दो फैमिली मिलकर करते हैं दो फैमिली यू दो फैमिली आपस में समझौता करते हैं एक दूसरे को देखते हैं उसमें भी एक दूसरे को लोग पसंद करते हैं अभी विवाह होता है लेकिन अच्छा होना या बुरा होना यह व्यक्ति व्यक्ति पर निर्भर करता है लेकिन इन ब्रॉडवे ऐसा माना जाता है कि लव मैरिज ज्यादा अच्छा होता है क्योंकि लोग एक दूसरे को बहुत अच्छे से जानते हो समझते हैं धन्यवाद

aapka sawaal hai ek manovaigyanik ke roop me aapke anusaar love marriage yaad achi chalti hai ya phir arrange marriage aur kyon dekhiye aap parinam ke vishay me puch rahe hain aur kisi ki marriage hue edajestament compromise setisfekshan yah saari cheezen usme judi hoti hai personality trait isme vyakti vyakti par nirbhar karta hai in par nirbhar karta hai ki kiska adjustment accha hai kiska setisfekshan sakari question paper kiska accha hai us par nirbhar karta hai na ki type of marriage ke phir bhi broadly yadi kaha jaaye toh aisa mana jata hai ki love marriage bhi aap kar rahe hain toh ek dusre ko jante hain ek dusre ko ek dusre ki kamiyon aur khubiyon ko jante samajhte hue aapne dusre ko pasand kiya hai toh aisa mana jata hai ki love marriage ka sabse chota hoga lekin aisa zaroori nahi hai wahi arrange marriage me do family milkar karte hain do family you do family aapas me samjhauta karte hain ek dusre ko dekhte hain usme bhi ek dusre ko log pasand karte hain abhi vivah hota hai lekin accha hona ya bura hona yah vyakti vyakti par nirbhar karta hai lekin in broadway aisa mana jata hai ki love marriage zyada accha hota hai kyonki log ek dusre ko bahut acche se jante ho samajhte hain dhanyavad

आपका सवाल है एक मनोवैज्ञानिक के रूप में आपके अनुसार लव मैरिज याद अच्छी चलती है या फिर अरें

Romanized Version
Likes  73  Dislikes    views  677
WhatsApp_icon
user

Naresh rana

Yoga Trainer

0:33
Play

Likes  50  Dislikes    views  481
WhatsApp_icon
user

Suman Bhardwaj

Psychologist/Yoga Trainer/Marriage Counsellor,Child And Adolscent Counsellor

5:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लव मैरिज या अरेंज मैरिज मैरिज एक ऐसा बंधन है जो 1 दिन का नहीं है मैरिज में 2 साथी जिंदगी भर साथ चलते हैं मैंने काफी लोगों को यह कहते सुना है कि लव मैरिज ज्यादा अच्छी है काफी को यह कहते सुना है अरेंज मैरिज ज्यादा अच्छी है लव मैरिज इसलिए ज्यादा अच्छी है क्योंकि हम पहले से ही एक दूसरे को जान लेते हैं तो हम उनको समझ पाती हैं और उनके साथ जिंदगी बितानी आसान हो जाती है दूसरी तरफ कुछ लोग कहते हैं कि अरेंज मैरिज ज्यादा अच्छी है क्योंकि उसमें एक सोशल रिस्पांसिबिलिटी रहती है जिन लोगों ने मैरिज अरेंज की है हमें कहीं ना कहीं एक ही नहीं विशन है एक समाज का डर है कि अगर आप हम इस शादी को तोड़ेंगे या डाइवोर्स लेंगे या अलग होंगे तो हमारा जो समाज है वह क्या कहेगा उसके साथ एक तरह की सोशल एंजाइटी जुड़ी हुई है जो हमें साथ चलने के लिए बाधित करती हैं इस मैरिज को सक्सेसफुल बनाने में मदद करती है यह अलग-अलग लोगों के अलग-अलग विचार हैं लेकिन अगर आप साइकोलॉजिकल पर्सपेक्टिव से जानना चाहते हैं तो किसी भी प्रकार की मैरिज हो लव हो या अरेंज हो उसको सक्सेसफुल बनाने के लिए कुछ चीजें बहुत ज्यादा इंपोर्टेंट है आपका अपने पार्टनर के साथ कम्युनिकेशन बहुत मायने रखता है चाहे मैरिज का जो भी टाइप हो आपने लव मैरिज की है तब भी भी अरेंज मैरिज की है तब भी आप कुछ बातों पर ध्यान दें अगर आप विवाहित हैं तो आप अपने पार्टनर के साथ कम्युनिकेशन रखें कम्युनिकेशन मतलब हर चीज को आप एक दूसरे के साथ डिस्कस करें चाहे मैटर छोटा हो बड़ा हो किसी भी तरह का हो फाइनेंसियल हो इमोशनल हो घर से संबंधित हों जहां पर आपको लगता है कि आपके पार्टनर को यह चीजें जान नहीं चाहिए वहां पर आप हमसे शेयर जरूर करें यह पति और पत्नी दोनों के लिए हैं आप कम्युनिकेशन रखें कम्युनिकेशन इट्स बेटर अंडरस्टैंडिंग उसे ट्रांसपेरेंसी रहती है एक दूसरे के ऊपर शक नहीं होता दूसरा आप कंप्रोमाइज करना सीखे कंप्रोमाइज लीड टू एडजस्टमेंट छोटे-छोटे कंप्रोमाइज से बड़ी-बड़ी सक्सेस मिल जाती है और यहां पर मैरिड लाइफ में तो हम सिर्फ अपने इमोशंस के साथ ही आम तौर पर कंप्रोमाइज कर रहे होते हैं बहुत बार ऐसा होता है कि जब हम कोई कंप्रोमाइज करते हैं उस टाइम हमें लगता है कि मैं ही क्यों नीचे झुक हूं यह ईको होता है जो कई बार हमें नेगेटिव इफेक्ट करता है नेगेटिव रीडायरेक्ट करता है और हम उस पर 8 जाते हैं और वही चीजें आगे जाकर डाइवोर्स की सिचुएशन क्रिएट करती हैं आप इससे बचें और जहां पर आपको लगता है कि आपका इगो आप के आपसी संबंधों के बीच में आ गया है तो आप कंप्रोमाइज करें यह बहुत ज्यादा आपकी self-esteem और रिस्पेक्ट को हम नहीं करेगा डिलीवरी कुछ टाइम बाद आप देखेंगे कि आपका यह जो आपने सैक्रिफाइस किया यह बहुत छोटा था उसके दो कंसीक्वेंसेस है वह बहुत ज्यादा पॉजिटिव होंगे और आपको अच्छा लगेगा कि हां मैंने ठीक ही किया ऐसी हमारी लाइफ में बहुत सारे स्टेशन से इस तरह से आते हैं तीसरी चीज है कमिटमेंट जब हम शादी करते हैं तो हम एक दूसरे को समर्पित हो जाते हैं कुछ टाइम तक हम इस चीज को महसूस भी करते हैं शादी के फर्स्ट और सेकंड ईयर तक एक तो सालों में ज्यादातर कपल्स एक दूसरे को काफी हद तक टाइम पर भी करते हैं अगर इस तरह की कमिटमेंट इस तरह का समर्पण हमेशा ही रखा जाए तो फिर डाइवोर्स ब्रोकन फैमिली प्रतीक फैमिली इस तरह की डेफिनेशन कहीं नहीं सुनने में आएगी इसलिए आप कोशिश करें कि जो कमिटमेंट आपने फर्स्ट वे अपने पार्टनर के लिए किया उसको आप लाइफ टाइम नहीं खाएं क्योंकि कहीं ना कहीं आप सभी का हम सभी यह तो जानते ही हैं ना कि जिसके साथ हमने शादी की उसके साथ हमें जिंदगी भर चलना है लेकिन इस बात को अगर कुछ कमजोर करता है तो वह एक ही खोट है कि हम यह मान लेते हैं कि यह रिश्ता ऐसा है जिसको हम तोड़ सकते हैं अगर हम यह मान लें कि यह रिश्ता ऐसा है जिसको हम तोड़ नहीं सकते जैसे हमारे ब्लड रिलेशन जैसे हम अपने भाई-बहनों के साथ कभी कितना ही मन होता हो जाए हमारे माता-पिता के साथ हो जाए तो हम उनसे डाइवोर्स नहीं लेते कोई लीगल प्रोसेस है ऐसी नहीं है और अभी तो उसने हम इतना जल्दी नहीं जाते हैं उसके लिए तो फिर इस रिश्ते के लिए क्यों जाए इस रिश्ते को सम्मान दें इस को समझें इसमें कम्युनिकेशन कंप्रोमाइज और कमिटमेंट को अपनाएं आप देखिए कितना मधुर संबंध रहता है किस तरह से आप अपनी जिंदगी को आत्मीयता से दिखते हैं

love marriage ya arrange marriage marriage ek aisa bandhan hai jo 1 din ka nahi hai marriage me 2 sathi zindagi bhar saath chalte hain maine kaafi logo ko yah kehte suna hai ki love marriage zyada achi hai kaafi ko yah kehte suna hai arrange marriage zyada achi hai love marriage isliye zyada achi hai kyonki hum pehle se hi ek dusre ko jaan lete hain toh hum unko samajh pati hain aur unke saath zindagi bitani aasaan ho jaati hai dusri taraf kuch log kehte hain ki arrange marriage zyada achi hai kyonki usme ek social responsibility rehti hai jin logo ne marriage arrange ki hai hamein kahin na kahin ek hi nahi vishan hai ek samaj ka dar hai ki agar aap hum is shaadi ko todenge ya divorce lenge ya alag honge toh hamara jo samaj hai vaah kya kahega uske saath ek tarah ki social anxiety judi hui hai jo hamein saath chalne ke liye badhit karti hain is marriage ko successful banane me madad karti hai yah alag alag logo ke alag alag vichar hain lekin agar aap saikolajikal parsapektiv se janana chahte hain toh kisi bhi prakar ki marriage ho love ho ya arrange ho usko successful banane ke liye kuch cheezen bahut zyada important hai aapka apne partner ke saath communication bahut maayne rakhta hai chahen marriage ka jo bhi type ho aapne love marriage ki hai tab bhi bhi arrange marriage ki hai tab bhi aap kuch baaton par dhyan de agar aap vivaahit hain toh aap apne partner ke saath communication rakhen communication matlab har cheez ko aap ek dusre ke saath discs kare chahen matter chota ho bada ho kisi bhi tarah ka ho financial ho emotional ho ghar se sambandhit ho jaha par aapko lagta hai ki aapke partner ko yah cheezen jaan nahi chahiye wahan par aap humse share zaroor kare yah pati aur patni dono ke liye hain aap communication rakhen communication its better understanding use transparency rehti hai ek dusre ke upar shak nahi hota doosra aap compromise karna sikhe compromise lead to adjustment chote chote compromise se badi badi success mil jaati hai aur yahan par married life me toh hum sirf apne emotional ke saath hi aam taur par compromise kar rahe hote hain bahut baar aisa hota hai ki jab hum koi compromise karte hain us time hamein lagta hai ki main hi kyon niche jhuk hoon yah iko hota hai jo kai baar hamein Negative effect karta hai Negative ridayrekt karta hai aur hum us par 8 jaate hain aur wahi cheezen aage jaakar divorce ki situation create karti hain aap isse bache aur jaha par aapko lagta hai ki aapka ego aap ke aapasi sambandhon ke beech me aa gaya hai toh aap compromise kare yah bahut zyada aapki self esteem aur respect ko hum nahi karega delivery kuch time baad aap dekhenge ki aapka yah jo aapne sacrifice kiya yah bahut chota tha uske do kansikwenses hai vaah bahut zyada positive honge aur aapko accha lagega ki haan maine theek hi kiya aisi hamari life me bahut saare station se is tarah se aate hain teesri cheez hai commitment jab hum shaadi karte hain toh hum ek dusre ko samarpit ho jaate hain kuch time tak hum is cheez ko mehsus bhi karte hain shaadi ke first aur second year tak ek toh salon me jyadatar couples ek dusre ko kaafi had tak time par bhi karte hain agar is tarah ki commitment is tarah ka samarpan hamesha hi rakha jaaye toh phir divorce broken family prateek family is tarah ki definition kahin nahi sunne me aayegi isliye aap koshish kare ki jo commitment aapne first ve apne partner ke liye kiya usko aap life time nahi khayen kyonki kahin na kahin aap sabhi ka hum sabhi yah toh jante hi hain na ki jiske saath humne shaadi ki uske saath hamein zindagi bhar chalna hai lekin is baat ko agar kuch kamjor karta hai toh vaah ek hi khot hai ki hum yah maan lete hain ki yah rishta aisa hai jisko hum tod sakte hain agar hum yah maan le ki yah rishta aisa hai jisko hum tod nahi sakte jaise hamare blood relation jaise hum apne bhai bahnon ke saath kabhi kitna hi man hota ho jaaye hamare mata pita ke saath ho jaaye toh hum unse divorce nahi lete koi legal process hai aisi nahi hai aur abhi toh usne hum itna jaldi nahi jaate hain uske liye toh phir is rishte ke liye kyon jaaye is rishte ko sammaan de is ko samajhe isme communication compromise aur commitment ko apanaen aap dekhiye kitna madhur sambandh rehta hai kis tarah se aap apni zindagi ko atmiyata se dikhte hain

लव मैरिज या अरेंज मैरिज मैरिज एक ऐसा बंधन है जो 1 दिन का नहीं है मैरिज में 2 साथी जिंदगी भ

Romanized Version
Likes  110  Dislikes    views  738
WhatsApp_icon
user

DR. MANISH

MULTI TASKER & DR.M.D (A.M.), B-PHARMA, PGDM-M

2:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखो सबसे पहली बात एक समझने की है बड़े हादसे के रूप में भी बताऊंगा और बड़े मनोवैज्ञानिक तरीके से बताऊंगा कि जीवन की गाड़ी में दो पहियों से एक ट्रैक्टर का हो और एक साइकिल का हो तो गाड़ी कैसे चलेगी अब आते हैं हम अरेंज मैरिज के लिए जल लव मैरिज के लिए दिखाकर हिंदुस्तानी की बात करें पूरे विदेशी बात ना करें तो मैं तुम्हें पहले समझाना चाहूंगा लव मैरिज या लव मैरिज में क्या होता है कि लड़का लड़की एक दूसरे से अट्रेक्ट होते हैं उस अट्रैक्शन के पीछे या तो सेक्स के लिए होती है यह शारीरिक आकर्षण होता है या एक दूसरे का रंग रूप को दिखाती होता है या फिर उसकी एक दूसरे की भावनाओं की अच्छी कार में आता है अच्छे से पता है अच्छी गाड़ियों में घूमता है अच्छे सेंट लगाते होटल में खाना खाता है अच्छी सिगरेट पीता है अब मैं जाता है तो ही जरूर तुम तो मेरी रीसेट हो जाएगी शादी कर लो शादी कब कर जाती है लड़की प्रेग्नेंट हो जाती है कि ज्यादातर के दूसरे को बहुत ज्यादा तरीके से नहीं जानता कर देते हैं बस उनकी याद में क्या अच्छा लगता है मुझे तो अच्छा लगता तुम क्या पढ़ी लिखी हो मैं क्या पढ़ा लिखा हूं क्या नौकरी करते क्या सैलरी है इस तरह की बातें हैं जो चिपका कर देते हैं धीरे-धीरे अपना एक दूसरे से टच में रहते हैं इसमें क्या होता है परिवार का जवाब रहता है समाज का जवाब रहता है तो शादी का रिश्ता करा था उसका जवाब रहता है तो लड़का है कि लड़की है दोनों एक दूसरे के प्रति कोशिश करते लॉयल रहे डेडीकेटेड रहे और झगड़ा भी अगर होता है तो वह लोग मिलकर संभाल लेते हैं अगर कोई दोनों में बात हो जाती है तो संभालने वाला कोई नहीं था तो वह बात बढ़ते बढ़ते गलत रूप ले लेती है और उससे कि उन्होंने तलाक की नौबत आ जाती है और उसका अगर बच्चे हो जाते हैं तो उसे बड़ा नेगेटिव असर पड़ता है इसलिए क्या है कि हिंदुस्तान के बाहर निकल जाएगी अगर वह आदमी तलाक दे देता है तो

dekho sabse pehli baat ek samjhne ki hai bade haadse ke roop me bhi bataunga aur bade manovaigyanik tarike se bataunga ki jeevan ki gaadi me do pahiyon se ek tractor ka ho aur ek cycle ka ho toh gaadi kaise chalegi ab aate hain hum arrange marriage ke liye jal love marriage ke liye dikhakar hindustani ki baat kare poore videshi baat na kare toh main tumhe pehle samajhana chahunga love marriage ya love marriage me kya hota hai ki ladka ladki ek dusre se atrekt hote hain us attraction ke peeche ya toh sex ke liye hoti hai yah sharirik aakarshan hota hai ya ek dusre ka rang roop ko dikhati hota hai ya phir uski ek dusre ki bhavnao ki achi car me aata hai acche se pata hai achi gadiyon me ghoomta hai acche sent lagate hotel me khana khaata hai achi cigarette pita hai ab main jata hai toh hi zaroor tum toh meri reset ho jayegi shaadi kar lo shaadi kab kar jaati hai ladki pregnant ho jaati hai ki jyadatar ke dusre ko bahut zyada tarike se nahi jaanta kar dete hain bus unki yaad me kya accha lagta hai mujhe toh accha lagta tum kya padhi likhi ho main kya padha likha hoon kya naukri karte kya salary hai is tarah ki batein hain jo chipaka kar dete hain dhire dhire apna ek dusre se touch me rehte hain isme kya hota hai parivar ka jawab rehta hai samaj ka jawab rehta hai toh shaadi ka rishta kara tha uska jawab rehta hai toh ladka hai ki ladki hai dono ek dusre ke prati koshish karte loyal rahe dediketed rahe aur jhagda bhi agar hota hai toh vaah log milkar sambhaal lete hain agar koi dono me baat ho jaati hai toh sambhalne vala koi nahi tha toh vaah baat badhte badhte galat roop le leti hai aur usse ki unhone talak ki naubat aa jaati hai aur uska agar bacche ho jaate hain toh use bada Negative asar padta hai isliye kya hai ki Hindustan ke bahar nikal jayegi agar vaah aadmi talak de deta hai toh

देखो सबसे पहली बात एक समझने की है बड़े हादसे के रूप में भी बताऊंगा और बड़े मनोवैज्ञानिक तर

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  171
WhatsApp_icon
play
user

DR SURI

Rehabilitation Psychologist

1:13

Likes  109  Dislikes    views  1078
WhatsApp_icon
user

Deepak Dagar

HR Motivation & Compliances

1:17
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लव मैरिज अरेंज मैरिज क्योंकि लव मैरिज सिर्फ दो आदमियों के अंडरस्टैंडिंग थे होती है दोनों एक दूसरे की जरूरत से जुड़े होते हैं ना कि इससे निकाले उसके विपरीत अरेंज मैरिज में तू आज भी रिश्ते को निभाने के लिए जुड़ते परिवार संस्कृत इसलिए हम कह सकते हैं कि लव मैरिज अरेंज मैरिज है जो कि हमारी संस्कृति को हमारे धर्म को हमारे रिश्तो को हमारे हाथों को मजबूती प्रदान करता है और संस्कार में अपने परिवार को देनी है

love marriage arrange marriage kyonki love marriage sirf do adamiyo ke understanding the hoti hai dono ek dusre ki zarurat se jude hote hain na ki isse nikale uske viprit arrange marriage me tu aaj bhi rishte ko nibhane ke liye judte parivar sanskrit isliye hum keh sakte hain ki love marriage arrange marriage hai jo ki hamari sanskriti ko hamare dharm ko hamare rishto ko hamare hathon ko majbuti pradan karta hai aur sanskar me apne parivar ko deni hai

लव मैरिज अरेंज मैरिज क्योंकि लव मैरिज सिर्फ दो आदमियों के अंडरस्टैंडिंग थे होती है दोनों ए

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  84
WhatsApp_icon
user

Vinod Kumar Pandey

Life Coach | Career Counsellor ::Relationship Counsellor :: Parenting Counsellor

1:28
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपने जो पोस्ट किया है उसको तरह मैं यही कहना चाहता हूं कि दोनों प्रकार की ही शादियां अच्छी होती हैं अगर आप अपने समाज में देखने की कोशिश करें तो आप यही पाएंगे कि अरेंज मैरिज भी बहुत सफल शादियां होती हैं और उनमें भी दिक्कतें आती हैं और लव मैरिज में भी बहुत शादियां सफल होती हैं और कुछ दिक्कतें भी आती हैं इसका सीधा सा मतलब है कि शादी का प्रकार शादी की सफलता के लिए क्राइटेरिया नहीं होता है शादी की सफलता व्यक्तियों पर निर्भर करती है कि वह अपने शादी के संबंध को कैसा निभा पा रहे हैं और कैसे वह अपने शादी के जीवन को निभा रहे हैं यह ध्यान रखना होगा कि शादी के बाद बहुत सारी समीकरण बदलते हैं इसलिए बहुत जरूरी होता है कि हम सामाजिक संबंधों को निभाने हमारे पास तरीका हो और हम सामाजिक संबंध को निभा सकें यह सारी का तरीका नहीं डिसाइड करता है कि आपकी शादी सफल होगी या सफल नहीं होगी समाज में दोनों ही पर घर की शादियां बहुत सफल भी हैं और बहुत परेशानियां भी हैं इसलिए यह चीज कहना कि अरेंज मैरिज ज्यादा अच्छा है या लव मैरिज यादा अच्छा है बिल्कुल सही नहीं है क्योंकि दोनों ही प्रकार की शादियों की अपने फायदे और अपने नुकसान होते हैं इसलिए यह बहुत जरूरी होता है और यह व्यक्ति पर निर्भर करता है कि वह उस शादी का या किस तरीके से उसको अपने वैवाहिक जीवन को सफल बना पा रहा है मेरी शुभकामनाएं आपके लिए मैंने

aapne jo post kiya hai usko tarah main yahi kehna chahta hoon ki dono prakar ki hi shadiyan achi hoti hain agar aap apne samaj me dekhne ki koshish kare toh aap yahi payenge ki arrange marriage bhi bahut safal shadiyan hoti hain aur unmen bhi dikkaten aati hain aur love marriage me bhi bahut shadiyan safal hoti hain aur kuch dikkaten bhi aati hain iska seedha sa matlab hai ki shaadi ka prakar shaadi ki safalta ke liye criteria nahi hota hai shaadi ki safalta vyaktiyon par nirbhar karti hai ki vaah apne shaadi ke sambandh ko kaisa nibha paa rahe hain aur kaise vaah apne shaadi ke jeevan ko nibha rahe hain yah dhyan rakhna hoga ki shaadi ke baad bahut saari samikaran badalte hain isliye bahut zaroori hota hai ki hum samajik sambandhon ko nibhane hamare paas tarika ho aur hum samajik sambandh ko nibha sake yah saari ka tarika nahi decide karta hai ki aapki shaadi safal hogi ya safal nahi hogi samaj me dono hi par ghar ki shadiyan bahut safal bhi hain aur bahut pareshaniya bhi hain isliye yah cheez kehna ki arrange marriage zyada accha hai ya love marriage yaada accha hai bilkul sahi nahi hai kyonki dono hi prakar ki shadiyo ki apne fayde aur apne nuksan hote hain isliye yah bahut zaroori hota hai aur yah vyakti par nirbhar karta hai ki vaah us shaadi ka ya kis tarike se usko apne vaivahik jeevan ko safal bana paa raha hai meri subhkamnaayain aapke liye maine

आपने जो पोस्ट किया है उसको तरह मैं यही कहना चाहता हूं कि दोनों प्रकार की ही शादियां अच्छी

Romanized Version
Likes  237  Dislikes    views  2008
WhatsApp_icon
play
user

Dr Nisha Khanna

Renowned Indian Counselling Psychologist, Tedx Speaker, Columnist

0:00

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लाइट मेरा सामान मारी मारी ज्योति सांवरिया लंबे समय तक चलने वाले कप्तान की न्यूड जरूरत नॉर्वे के लिए टेंशन हो तो रखते हैं हमें लगता है हमें अपने बारे में लाइट बंद करते

light mera saamaan mari mari jyoti sanwariya lambe samay tak chalne waale captain ki nude zarurat norway ke liye tension ho toh rakhte hain hamein lagta hai hamein apne bare mein light band karte

लाइट मेरा सामान मारी मारी ज्योति सांवरिया लंबे समय तक चलने वाले कप्तान की न्यूड जरूरत नॉर्

Romanized Version
Likes  38  Dislikes    views  942
WhatsApp_icon
user

Dr. Amit Sharma

Psychologist

1:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अरेंज मैरिज के सफल होने के चांस ज्यादा होते हैं वजह यह है कि लव मैरिज में व्यक्ति की जो अपेक्षाएं अपने पार्टनर से होती हैं वैसा फ्रेंड होती है जितने भी लंबे रिलेशनशिप में रहने पर ऐसा फ्रेंड रहे हैं उन्होंने एक ही परेशानी को अलग-अलग जगह रह कर पेश किया है जो पति पत्नी बन जाते हैं उनका रिश्ता चेंज हो जाता है फ्रेंड से पति-पत्नी का भी परेशानियां मिलकर फेस करनी होती है तो वह जो अपेक्षाएं ऐसा फ्रेंड है वह ऐसा पति पत्नी पूरी तरह से मैसेज नहीं हो पाती पूरी नहीं हो पाती जिससे कि असंतोष है और शिकायतें बनती है इसी के साथ जब आदमी अरेंज मैरिज के लिए बात करता है तो उसकी जो अपेक्षाएं रियल में डेवलप होती है वह धीरे-धीरे डिवेलप होती है अपने पार्टनर से जो काफी रियल होती हैं काफी और वह फुलफिल होने के चांसेस मतलब बनती हैं रियल में ज्यादा रहते हैं फुल खिलौने और वहां पर जस्ट मेंट की जान से ज्यादा बढ़ जाते हैं इंक्लूड होते हैं होते हैं उसमें सभी कहते हैं क्योंकि शादी एक सामाजिक भी बंधन है तो पूरा समाज ही उसमें ए पॉजिटिव एनर्जी के साथ उसको उसको चाहता है कि यह रिश्ता चले तो अपने चोली बहुत ही पॉजिटिव असर उसका पड़ता है तो अरेंज मैरिज ज्यादातर अच्छी तरह से चल जाती है थैंक यू

arrange marriage ke safal hone ke chance zyada hote hai wajah yah hai ki love marriage mein vyakti ki jo apekshayen apne partner se hoti hai waisa friend hoti hai jitne bhi lambe Relationship mein rehne par aisa friend rahe hai unhone ek hi pareshani ko alag alag jagah reh kar pesh kiya hai jo pati patni ban jaate hai unka rishta change ho jata hai friend se pati patni ka bhi pareshaniya milkar face karni hoti hai toh vaah jo apekshayen aisa friend hai vaah aisa pati patni puri tarah se massage nahi ho pati puri nahi ho pati jisse ki asantosh hai aur shikayaten banti hai isi ke saath jab aadmi arrange marriage ke liye baat karta hai toh uski jo apekshayen real mein develop hoti hai vaah dhire dhire develop hoti hai apne partner se jo kaafi real hoti hai kaafi aur vaah fulfil hone ke chances matlab banti hai real mein zyada rehte hai full khilone aur wahan par just ment ki jaan se zyada badh jaate hai include hote hai hote hai usme sabhi kehte hai kyonki shadi ek samajik bhi bandhan hai toh pura samaj hi usme a positive energy ke saath usko usko chahta hai ki yah rishta chale toh apne choli bahut hi positive asar uska padta hai toh arrange marriage jyadatar achi tarah se chal jaati hai thank you

अरेंज मैरिज के सफल होने के चांस ज्यादा होते हैं वजह यह है कि लव मैरिज में व्यक्ति की जो अप

Romanized Version
Likes  18  Dislikes    views  215
WhatsApp_icon
user
2:23
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विजय आपका सवाल एक मोनू बदला लेकिन अपनी आपके अनुसार को मैरिज ज्यादा अच्छी चलती है पीराने हमारी देखिए लव मैरिज ज्यादा चलती है भारी मन से मन का मिलन होता है एनिमल मन से मन का प्यार होता है तो सच्चा प्यार होता है वही उसी लव मैरिज कहते जो मन से मन का मिलन होता है उनसे तो होता है फिर बाद में पर मन से मन का मिलन होता है वही सच्चा प्यार होता है और मन से मन का मिलन होता है वही शादी लव मैरिज याद आती है याद आती है कभी मिले मन से मन का ढूंढना यह लव मैरिज सक्सेसफुल अरेंज मैरिज सक्सेस नहीं है सॉरी मैं आपको उसके प्रभाव और अपने का भाव लड़की के समय हैं अपना सब उस लड़की का कमाल क्या भी अमरकंटक नहीं पता चलता करेंगे यार करके आप खाते हो इसलिए खरीद मैरिज करना अच्छी बात नहीं है लव मैरिज करना अच्छा है क्योंकि उससे आपके मन से मन का संबंध जुड़ जाता है पहले मन से मन मिलता है तो फिर आप लव मैरिज या अरेंज मैरिज ज्यादा नहीं चलती है यार होता है चलता है हमेशा तक चलता है आगे लो मेरी जलती है अरे मेरा पूरा विश्वास दिला मेरी गलती है क्योंकि रिंगा रिंगा कोई दूसरे के सभा का परिचय दें कृपा लव मैरिज या कोई दूसरा थापा का पता रहता है आप एक दूसरे को तहे दिल से चाहते हो तो चाहत तीनों दिन आगे बढ़ती जाती है कम जाती बस आप इतना कर रहा है अपने मन में जो दोनों के अपने 11 का विश्वास है वह दीपक को नहीं तोड़ना आगे बढ़ना है तो आपकी चलती है चलती है चलती है ओके थैंक यू धन्यवाद

vijay aapka sawaal ek monu badla lekin apni aapke anusaar ko marriage zyada achi chalti hai pirane hamari dekhiye love marriage zyada chalti hai bhari man se man ka milan hota hai animal man se man ka pyar hota hai toh saccha pyar hota hai wahi usi love marriage kehte jo man se man ka milan hota hai unse toh hota hai phir baad mein par man se man ka milan hota hai wahi saccha pyar hota hai aur man se man ka milan hota hai wahi shadi love marriage yaad aati hai yaad aati hai kabhi mile man se man ka dhundhana yah love marriage successful arrange marriage success nahi hai sorry main aapko uske prabhav aur apne ka bhav ladki ke samay hain apna sab us ladki ka kamaal kya bhi amarkantak nahi pata chalta karenge yaar karke aap khate ho isliye kharid marriage karna achi baat nahi hai love marriage karna accha hai kyonki usse aapke man se man ka sambandh jud jata hai pehle man se man milta hai toh phir aap love marriage ya arrange marriage zyada nahi chalti hai yaar hota hai chalta hai hamesha tak chalta hai aage lo meri jalti hai are mera pura vishwas dila meri galti hai kyonki ringa ringa koi dusre ke sabha ka parichay de kripa love marriage ya koi doosra thapa ka pata rehta hai aap ek dusre ko tahe dil se chahte ho toh chahat tatvo din aage badhti jaati hai kam jaati bus aap itna kar raha hai apne man mein jo dono ke apne 11 ka vishwas hai vaah deepak ko nahi todna aage badhana hai toh aapki chalti hai chalti hai chalti hai ok thank you dhanyavad

विजय आपका सवाल एक मोनू बदला लेकिन अपनी आपके अनुसार को मैरिज ज्यादा अच्छी चलती है पीराने हम

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  25
WhatsApp_icon
user

Abhay Pratap

Advocate | Social Welfare Activist

0:53
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मनोवैज्ञानिक रूप से लव मैरिज अरेंज मैरिज से अच्छा नहीं है अगर आप अपनी से शादी करते हैं प्यार से शादी करते हैं तो इसी लोग अच्छा तो कहते हैं लेकिन शादी के बाद इसमें समस्याएं अधिक होती हैं और जो शादी समाज के नेतृत्व से होता है उसमें दबाव मान और सम्मान जुड़ा रहता है पता हुआ जीवन के साथ सामान से जुड़ जाता है और उसकी नींव मजबूत होती है और व्यक्तिगत तौर से भी मैं यह कह सकता हूं कि लव मैरिज अच्छा से अच्छा अरेंज मैरिज होगा अजीत सिंह हर लड़की और 8 लड़के को स्वीकार करना चाहिए

manovaigyanik roop se love marriage arrange marriage se accha nahi hai agar aap apni se shadi karte hain pyar se shadi karte hain toh isi log accha toh kehte hain lekin shadi ke baad isme samasyaen adhik hoti hain aur jo shadi samaj ke netritva se hota hai usme dabaav maan aur sammaan juda rehta hai pata hua jeevan ke saath saamaan se jud jata hai aur uski neev majboot hoti hai aur vyaktigat taur se bhi main yah keh sakta hoon ki love marriage accha se accha arrange marriage hoga ajit Singh har ladki aur 8 ladke ko sweekar karna chahiye

मनोवैज्ञानिक रूप से लव मैरिज अरेंज मैरिज से अच्छा नहीं है अगर आप अपनी से शादी करते हैं प्

Romanized Version
Likes  136  Dislikes    views  1535
WhatsApp_icon
user

jyotsna

Teacher

1:52
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जहां तक मैंने सुना है और देखा है तो इससे प्रतीत होता है कि प्यार अंधा होता है अब किसी भी जुनून की हद तक प्यार में जा सकते हैं और आप आपको कर किसी से शादी करनी है किसी को पाना है तो आप किसी भी जो इनके हद तक जाकर उससे बात तो लेते हैं उसे शादी तो कर लेते हैं लेकिन वह प्यार जब शादी में बदल जाता है तो शादी के बाद वह प्यार से होता है ना वह कभी-कभी रिश्ते टूटने लगते क्योंकि आप प्यार से उस इंसान से ही नहीं करते जिससे आप शादी करते हैं और प्यार अपने घरवालों से भी उतना ही करते जितना क्यों उस इंसान से करते हैं लेकिन जरूरी नहीं कि जो जो जो चीज आपको पसंद हूं आपके घर वाले को भी पसंद हो इनका कि प्यार अंधा होता है तो कैसे भी इंसान से कर लेते हैं जो आपकी वाइफ को पसंद हो वो आपकी हो सकता है कि आपकी वाइफ आपके घर वाले को नहीं पसंद करते हो और आपके घर वाले आपकी वाइफ पहली पसंद करते हैं इस तरह से आप एक आटे की उनकी तरफ से जाते हैं आप ना इधर के होते हैं ना उधर के होते हैं अगर बात अरेंज मैरिज की है तो अरेंज मैरिज में लड़की भी घरवालों की पसंद की होती और प्यार का क्या है प्यार तो शादी के बाद भी हो जाता है जरूरी नहीं है कि प्यार शादी से पहले ही होता है कपड़े दर्ज करके भी शादी के बाद भी आपकी वाइफ अगर अच्छी हो उससे भी यह बच्चा हो तो आपको प्यार हो जाता है तो जहां तक मेरा सवाल है मैं तो आनंद महल में ज्यादा बिलीव करती हूं और अरेंज मैरिज जी सबसे ज्यादा लॉन्ग लाइफ चलती है लव मैरिज शादी तो इंडिया में तो शादी सब कर लेते हैं लेकिन शादी के बाद कैसे भी अपना जीवन गुजारने लगते हैं हर किसी की लव मैरिज अच्छी नहीं जाती है लेकिन अरेंज मैरिज देखे तो ज्यादातर अरेंज मैरेज अच्छी चलती है उनके दोस्तों

jahan tak maine suna hai aur dekha hai toh isse pratit hota hai ki pyar andha hota hai ab kisi bhi junun ki had tak pyar mein ja sakte hain aur aap aapko kar kisi se shadi karni hai kisi ko paana hai toh aap kisi bhi jo inke had tak jaakar usse baat toh lete hain use shadi toh kar lete hain lekin vaah pyar jab shadi mein badal jata hai toh shadi ke baad vaah pyar se hota hai na vaah kabhi kabhi rishte tutne lagte kyonki aap pyar se us insaan se hi nahi karte jisse aap shadi karte hain aur pyar apne gharwaalon se bhi utana hi karte jitna kyon us insaan se karte hain lekin zaroori nahi ki jo jo jo cheez aapko pasand hoon aapke ghar waale ko bhi pasand ho inka ki pyar andha hota hai toh kaise bhi insaan se kar lete hain jo aapki wife ko pasand ho vo aapki ho sakta hai ki aapki wife aapke ghar waale ko nahi pasand karte ho aur aapke ghar waale aapki wife pehli pasand karte hain is tarah se aap ek aate ki unki taraf se jaate hain aap na idhar ke hote hain na udhar ke hote hain agar baat arrange marriage ki hai toh arrange marriage mein ladki bhi gharwaalon ki pasand ki hoti aur pyar ka kya hai pyar toh shadi ke baad bhi ho jata hai zaroori nahi hai ki pyar shadi se pehle hi hota hai kapde darj karke bhi shadi ke baad bhi aapki wife agar achi ho usse bhi yah baccha ho toh aapko pyar ho jata hai toh jaha tak mera sawaal hai toh anand mahal mein zyada believe karti hoon aur arrange marriage ji sabse zyada long life chalti hai love marriage shadi toh india mein toh shadi sab kar lete hain lekin shadi ke baad kaise bhi apna jeevan gujarne lagte hain har kisi ki love marriage achi nahi jaati hai lekin arrange marriage dekhe toh jyadatar arrange marriage achi chalti hai unke doston

जहां तक मैंने सुना है और देखा है तो इससे प्रतीत होता है कि प्यार अंधा होता है अब किसी भी ज

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  153
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या प्राइस है लव मैरिज और अरेंज में क्या करना है जो करना है कर सकता है अस्मिता सिंह दोनों अच्छे हैं और दोनों पूरे कौन सी शादी है जिसमें आपको समस्याएं नहीं आने दे कौन ऐसा दिन है जिसमें आपको समस्याओं का सामना नहीं करना पड़े कौन ऐसा फल है जब आप सोचते नहीं किसी समस्या का समाधान में कौन अच्छा है कौन बुरा यह तय नहीं कर सकते यह करता है कि आप अच्छे हो आपका जीवन साथी अच्छा है इस पर निर्भर करता है कि आपकी शादी की जाएगी या नहीं जी के बहुत से लोग कहते हैं कि लव मैरिज सक्सेस नहीं होता क्यों नहीं होता जब एक लड़का और एक लड़की का दिल मिलता है उनकी बातें मिथुन की फिल्म साफ उसमें मिलती है तब ना हो शादी करते हैं उस समय तक तुम एक अच्छी कपल होते हैं लेकिन जैसे ही शादी करते हैं और उनके जीवन में जो जो की वास्तविकता है उतार-चढ़ाव आने लगता है और जब तक मगा जाते हो कि शादी टूट जाती है और जो निभा लेते हैं अरेंज मैरिज की बात पर वह तो लड़का लड़की एक दूसरे को जानते नहीं शादी हो जाती है अगर दोनों अच्छे हैं उनका व्यावहारिक दूसरे से मिला दोनों ने एक दूसरे के साथ एडजस्टमेंट किया उन्होंने यदि समझौता किया अपनी भावनाओं के साथ चलता है विमल अच्छे से कट लव मैरिज वाली भारत नक्शा नहीं भाई कर ले दोनों की अपनी चुनाव दिया है ऐसा देखने को मिलता है अरेंज मैरिज में भी पति-पत्नी का एक जैसा व्यवहार नहीं हो ऐसा लव मैरिज में भी होता है कि आगे चलकर जब दोनों कपल जीवन की समस्याओं का सामना नहीं कर पाते चुनौतियों का सामना नहीं कर पाती शादियां टूटती है समय चिंता नहीं है तो दोनों के दिस एडवांटेज है उनको भी मानना होगा फालतू के नहीं टिकेगा यह तो हमारे ऊपर डिपेंड करता है

kya price hai love marriage aur arrange me kya karna hai jo karna hai kar sakta hai asmita Singh dono acche hain aur dono poore kaun si shaadi hai jisme aapko samasyaen nahi aane de kaun aisa din hai jisme aapko samasyaon ka samana nahi karna pade kaun aisa fal hai jab aap sochte nahi kisi samasya ka samadhan me kaun accha hai kaun bura yah tay nahi kar sakte yah karta hai ki aap acche ho aapka jeevan sathi accha hai is par nirbhar karta hai ki aapki shaadi ki jayegi ya nahi ji ke bahut se log kehte hain ki love marriage success nahi hota kyon nahi hota jab ek ladka aur ek ladki ka dil milta hai unki batein maithun ki film saaf usme milti hai tab na ho shaadi karte hain us samay tak tum ek achi couple hote hain lekin jaise hi shaadi karte hain aur unke jeevan me jo jo ki vastavikta hai utar chadhav aane lagta hai aur jab tak maga jaate ho ki shaadi toot jaati hai aur jo nibha lete hain arrange marriage ki baat par vaah toh ladka ladki ek dusre ko jante nahi shaadi ho jaati hai agar dono acche hain unka vyavaharik dusre se mila dono ne ek dusre ke saath adjustment kiya unhone yadi samjhauta kiya apni bhavnao ke saath chalta hai vimal acche se cut love marriage wali bharat naksha nahi bhai kar le dono ki apni chunav diya hai aisa dekhne ko milta hai arrange marriage me bhi pati patni ka ek jaisa vyavhar nahi ho aisa love marriage me bhi hota hai ki aage chalkar jab dono couple jeevan ki samasyaon ka samana nahi kar paate chunautiyon ka samana nahi kar pati shadiyan tootati hai samay chinta nahi hai toh dono ke this advantage hai unko bhi manana hoga faltu ke nahi tikega yah toh hamare upar depend karta hai

क्या प्राइस है लव मैरिज और अरेंज में क्या करना है जो करना है कर सकता है अस्मिता सिंह दो

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  47
WhatsApp_icon
user

Sarfarazahmadadvocate

Business Owner

0:45
Play

Likes  3  Dislikes    views  111
WhatsApp_icon
user

Ritika

Teacher,life Coach,motivational Speaker

1:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार दोस्तों आज का प्रश्न है एक मनोवैज्ञानिक के रूप में आपके अनुसार लगनारे ज्यादा चलती है या फिर अरेंज मैरेज और क्यों परेशानियां मुसीबतें दोनों ही मैरिज में आते हैं क्योंकि तकलीफ है आना और जाना यह हमारी जिंदगी का नियम है हर एक इंसान की लाइफ में कोई ना कोई प्रॉब्लम आती है तो हमें उस को फेस करना होता है उसका डटकर सामना करना होता है ऐसा कोई जरूरी नहीं है कि लव मैरिज नहीं चल पाती हैं या अरेंज मैरिज नहीं चल पाते बहुत सारे बच्चे स्कूल जाते हैं देहाती अरेंज मैरिज भी सक्सेसफुल रहते हैं यह अल्टीमेटली डिपेंड करता है उन व्यक्तियों के ऊपर जो उसमें इन्वॉल्व हैं उनके आपस में कैसी अंडरस्टैंडिंग है कैसे एक दूसरे को वह समझते हैं क्या एक दूसरे की कितनी केयर करते हैं तो वह उन दोनों 10th स्टैंडर्ड पर उनसे सोच विचार उनकी टीम के इस सब पर निर्भर करता है तो ऐसा कोई जरूरी नहीं होता कि लव मैरिज नहीं टिक पाते ऐसा जरूरी नहीं होता बहुत ही लंबा लिंग पर सरसों रहती है और वहां से अरेंज मैरिज सक्सेसफुल जाते हैं तो यह कहना गलत होगा कि लव मैरिज नहीं चल पाती हैं कि अरेंज मारे चल पाती है यह नहीं यह कहना बिल्कुल गलत होगा दोनों अपनी-अपनी जगह चल पाते हैं इसमें मेन रोल होता है पर संस्था व्यक्तियों का जो भी इसमें इन्वॉल्व है धन्यवाद आपका दिन शुभ हो

namaskar doston aaj ka prashna hai ek manovaigyanik ke roop me aapke anusaar lagnare zyada chalti hai ya phir arrange marriage aur kyon pareshaniya musibatein dono hi marriage me aate hain kyonki takleef hai aana aur jana yah hamari zindagi ka niyam hai har ek insaan ki life me koi na koi problem aati hai toh hamein us ko face karna hota hai uska dantkar samana karna hota hai aisa koi zaroori nahi hai ki love marriage nahi chal pati hain ya arrange marriage nahi chal paate bahut saare bacche school jaate hain dehati arrange marriage bhi successful rehte hain yah altimetli depend karta hai un vyaktiyon ke upar jo usme involve hain unke aapas me kaisi understanding hai kaise ek dusre ko vaah samajhte hain kya ek dusre ki kitni care karte hain toh vaah un dono 10th standard par unse soch vichar unki team ke is sab par nirbhar karta hai toh aisa koi zaroori nahi hota ki love marriage nahi tick paate aisa zaroori nahi hota bahut hi lamba ling par sarso rehti hai aur wahan se arrange marriage successful jaate hain toh yah kehna galat hoga ki love marriage nahi chal pati hain ki arrange maare chal pati hai yah nahi yah kehna bilkul galat hoga dono apni apni jagah chal paate hain isme main roll hota hai par sanstha vyaktiyon ka jo bhi isme involve hai dhanyavad aapka din shubha ho

नमस्कार दोस्तों आज का प्रश्न है एक मनोवैज्ञानिक के रूप में आपके अनुसार लगनारे ज्यादा चलती

Romanized Version
Likes  29  Dislikes    views  483
WhatsApp_icon
user

gurjeet

Business Owner

1:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लव मैरिज अच्छी है कि आपको एक्सपीरियंस लेना चाहिए कि जख्म भरा काम है कि आप को अकेले कोई करना होता है लड़की को और लड़के कहां से लाई है एक्सपीरियंस के लिए मेरी है आपको सो जा अपने लव मैरिज नहीं कि आप मन में रुके रहे तो वह ज्यादा परेशानी वाली बात है रही बात अरेंज मैरिज कि वह भी ठीक है क्योंकि उसमें तो ऑलरेडी बहुत से लोग हैं आपके मम्मी पापा भाई-बहन पूरी फैमिली इन मॉल में और जो सारी फैमिली इन बोल वह घड़ी थोड़ी एक्सपर्ट है लेने देने में एक्सपर्ट है बात करने में एक्सपर्ट है लेकिन वह शादी है अरे वह मनोवैज्ञानिक शादी है जो नंबर शादी है वह हाथ से लिख दिया तो आई थिंक यह नहीं है कि कोई भी चीज तो अरेंज मैरिज है वह भी टूट सकती है लंबी टूट सकती है तो यह इंसान के नीचे चोटी के ऊपर होता है हां थोड़ा तो प्रेम में ज्यादा मजा आता है तो काफी टाइम लग जाता है उससे बाहर आने में हम जब लव करते हैं तो हम समझते हैं कि हम एक दूसरे के बिना रह नहीं सकते एक्शन में जो उसका क्वेश्चन होता है संसार का जो विरोध होता करके होता है कोई भी रिश्ता अरेंज हो मिलने के बाद तो वह थोड़ा उसमें फीकफन आता ही है

love marriage achi hai ki aapko experience lena chahiye ki jakhm bhara kaam hai ki aap ko akele koi karna hota hai ladki ko aur ladke kaha se lai hai experience ke liye meri hai aapko so ja apne love marriage nahi ki aap man me ruke rahe toh vaah zyada pareshani wali baat hai rahi baat arrange marriage ki vaah bhi theek hai kyonki usme toh already bahut se log hain aapke mummy papa bhai behen puri family in mall me aur jo saari family in bol vaah ghadi thodi expert hai lene dene me expert hai baat karne me expert hai lekin vaah shaadi hai are vaah manovaigyanik shaadi hai jo number shaadi hai vaah hath se likh diya toh I think yah nahi hai ki koi bhi cheez toh arrange marriage hai vaah bhi toot sakti hai lambi toot sakti hai toh yah insaan ke niche choti ke upar hota hai haan thoda toh prem me zyada maza aata hai toh kaafi time lag jata hai usse bahar aane me hum jab love karte hain toh hum samajhte hain ki hum ek dusre ke bina reh nahi sakte action me jo uska question hota hai sansar ka jo virodh hota karke hota hai koi bhi rishta arrange ho milne ke baad toh vaah thoda usme fikafan aata hi hai

लव मैरिज अच्छी है कि आपको एक्सपीरियंस लेना चाहिए कि जख्म भरा काम है कि आप को अकेले कोई करन

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  91
WhatsApp_icon
user

mahadeva (mukesh k)

MAHADEVA YOG.https://youtu.be/vN6ns7rL0_8

3:02
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एक मनोवैज्ञानिक के रूप के अनुसार लव मैरिज अच्छी है या अरेंज मैरिज अच्छी है देखिए इसमें ऐसा कुछ भी नहीं कहा जा सकता है कि लव मैरिज अच्छी चलती है या अरेंज मैरिज अच्छी चलती है क्योंकि इन दोनों में से चाहे कोई भी ना मैरिज हो उसको चलाने के लिए हमें सबसे पहले खुद को चलाना जरूरी है खुद को चलाने के लिए हमें खुद के अंदर झांकना बहुत जरूरी है खुद के अंदर झांकने के लिए हमें सबसे पहले अपनी कमियों को देखना बहुत जरूरी है यह दोनों पक्षों से होता है यदि उस व्यक्ति पर कमी भी हो तो उसकी कमी को नजर नजरअंदाज करना है उसके लिए सबसे एक महत्वपूर्ण जो यहां पर एक चीज हमने अपने अंदर समाने है वह प्रेम यदि हमारे अंदर प्रेम है चाहे दूसरा व्यक्ति आज भी है तो भी हम स्वीकार करेंगे इन दोनों में से यदि हमारे अंदर प्रेम नहीं होगा एक भी व्यक्ति के अंदर प्रेम नहीं होगा तो छोटी-छोटी गलतियों को हम देखने लग जाएंगे उसके बाद नतीजा क्या होगा हम उसको अपने आप से दूर करने की सोचेंगे यदि आपके अंदर प्रेम है जिसको बोलते निस्वार्थ प्रेम जहां पर स्वार्थ ना हो जहां पर आप की आशाएं ना हो जहां पर आपकी अपेक्षाएं ना हो इस भाव को यदि हमने पकड़ लिया और यह ट्रेन पकड़ लिया तो समझ लो हर शादी बहुत ही खूबसूरत बहुत ही अनमोल के साथ हम अपना जीवन व्यतीत कर सकते हैं इंसान हैं इंसान से क्या गिरना करनी है चलाना न चलाना किसको कहते हैं कोई यह वस्तु है जिसको हम नहीं चला चला रहे हो कोई ए निर्जीव वस्तु है जिसको हमने थोड़े दिन चला दिया और उसके बाद थैंक दिया कोई गाड़ी है पुरानी होगी इस को बदल दिया को यह मोबाइल लिया यंत्र है जिसको हमने थोड़े दिन चलाया बदल दिया नहीं यह तो एक जिंदगी है एक जीवन है जहां जीवन में हर आदमी छोटी-छोटी गलतियों को करता है क्योंकि इंसान अगर गलती नहीं करेगा तो जीवन ही क्या है तो उस गलतियों को नजरअंदाज करना हमने और नजरअंदाज करके टीम भाव से रहकर अपना समझ कर इस गाड़ी को चलाना है तो देखेंगे ना तो लव मैरिज हो या अरेंज मैरिज कभी भी कोई वादा नहीं आ सकती है

ek manovaigyanik ke roop ke anusaar love marriage achi hai ya arrange marriage achi hai dekhiye isme aisa kuch bhi nahi kaha ja sakta hai ki love marriage achi chalti hai ya arrange marriage achi chalti hai kyonki in dono me se chahen koi bhi na marriage ho usko chalane ke liye hamein sabse pehle khud ko chalana zaroori hai khud ko chalane ke liye hamein khud ke andar jhankana bahut zaroori hai khud ke andar jhankane ke liye hamein sabse pehle apni kamiyon ko dekhna bahut zaroori hai yah dono pakshon se hota hai yadi us vyakti par kami bhi ho toh uski kami ko nazar najarandaj karna hai uske liye sabse ek mahatvapurna jo yahan par ek cheez humne apne andar samane hai vaah prem yadi hamare andar prem hai chahen doosra vyakti aaj bhi hai toh bhi hum sweekar karenge in dono me se yadi hamare andar prem nahi hoga ek bhi vyakti ke andar prem nahi hoga toh choti choti galatiyon ko hum dekhne lag jaenge uske baad natija kya hoga hum usko apne aap se dur karne ki sochenge yadi aapke andar prem hai jisko bolte niswarth prem jaha par swarth na ho jaha par aap ki ashaen na ho jaha par aapki apekshayen na ho is bhav ko yadi humne pakad liya aur yah train pakad liya toh samajh lo har shaadi bahut hi khoobsurat bahut hi anmol ke saath hum apna jeevan vyatit kar sakte hain insaan hain insaan se kya girna karni hai chalana na chalana kisko kehte hain koi yah vastu hai jisko hum nahi chala chala rahe ho koi a nirjeev vastu hai jisko humne thode din chala diya aur uske baad thank diya koi gaadi hai purani hogi is ko badal diya ko yah mobile liya yantra hai jisko humne thode din chalaya badal diya nahi yah toh ek zindagi hai ek jeevan hai jaha jeevan me har aadmi choti choti galatiyon ko karta hai kyonki insaan agar galti nahi karega toh jeevan hi kya hai toh us galatiyon ko najarandaj karna humne aur najarandaj karke team bhav se rahkar apna samajh kar is gaadi ko chalana hai toh dekhenge na toh love marriage ho ya arrange marriage kabhi bhi koi vada nahi aa sakti hai

एक मनोवैज्ञानिक के रूप के अनुसार लव मैरिज अच्छी है या अरेंज मैरिज अच्छी है देखिए इसमें ऐसा

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  112
WhatsApp_icon
user

Vikas

Student And gym Trainer.

1:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखे लव मैरिज में क्या होता है ना कि अगर आपने लव मैरिज करी तो आपके लिए उसको ना अपने घर वाले बच्चे रिश्तेदार सब कुछ छोड़ना पड़ता है सब कुछ और आ रहा अब यह सूची आप पूरी दुनिया आप अपनी पूरी दुनिया किसी के लिए छोड़ कर जा रहे हो और वह इंसान आपके साथ कोई चीट कर दिया गद्दारी करते तो आपको कैसा लगेगा तो फिर उस कंडीशनर का होता ना कि मैं सहने की आदत पड़ जाती है और हमें जिंदगी भर लव मैरिज वाली बंदी के लानी पड़ती है घरवालों की मर्जी से शादी होता है वह ताउम्र मतलब एक तरीके से बरसात समझ लोगे अब कुछ बोलोगी वही रहता है रियल आईरन को बताएगी इंसान रियल कम करता है सिर्फ अपने उसका क्या बोलूं बोलना तू मेरी भी समझती तो बाहर है लेकिन उल्लू भी अच्छा है जो सच में एक दूसरे से प्यार करते हैं वह अपनी काबिलियत रखते हैं कि हम खाएंगे जिंदगी भर घर वालों के साथ होती है उसमें तुम्हारे घर वाले सब होते हैं

dekhe love marriage me kya hota hai na ki agar aapne love marriage kari toh aapke liye usko na apne ghar waale bacche rishtedar sab kuch chhodna padta hai sab kuch aur aa raha ab yah suchi aap puri duniya aap apni puri duniya kisi ke liye chhod kar ja rahe ho aur vaah insaan aapke saath koi cheat kar diya gaddari karte toh aapko kaisa lagega toh phir us conditioner ka hota na ki main sahane ki aadat pad jaati hai aur hamein zindagi bhar love marriage wali bandi ke lani padti hai gharwaalon ki marji se shaadi hota hai vaah taumra matlab ek tarike se barsat samajh loge ab kuch bologi wahi rehta hai real iron ko batayegi insaan real kam karta hai sirf apne uska kya bolu bolna tu meri bhi samajhti toh bahar hai lekin ullu bhi accha hai jo sach me ek dusre se pyar karte hain vaah apni kabiliyat rakhte hain ki hum khayenge zindagi bhar ghar walon ke saath hoti hai usme tumhare ghar waale sab hote hain

देखे लव मैरिज में क्या होता है ना कि अगर आपने लव मैरिज करी तो आपके लिए उसको ना अपने घर वाल

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  113
WhatsApp_icon
user

V D Meena

Adhyapan

0:32
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका सवाल है लव मैरिज दादा छूते या अरेंज मैरिज तो मैं तो यह कहना चाहूंगी कि अरेंज मैरिज सबसे अच्छी होती है लव मैरिज ज्यादा दिखती नहीं है क्योंकि समाज का कोई डर नहीं होता समाज के द्वारा मान्यता भी प्राप्त नहीं होती और अरेंज मैरिज ज्यादा ज्यादा अच्छी होती है क्योंकि वह जीवन भर निभाई जा सकते क्योंकि उसी समाज द्वारा मान्यता प्राप्त है

aapka sawaal hai love marriage dada chhute ya arrange marriage toh main toh yah kehna chahungi ki arrange marriage sabse achi hoti hai love marriage zyada dikhti nahi hai kyonki samaj ka koi dar nahi hota samaj ke dwara manyata bhi prapt nahi hoti aur arrange marriage zyada zyada achi hoti hai kyonki vaah jeevan bhar nibhaai ja sakte kyonki usi samaj dwara manyata prapt hai

आपका सवाल है लव मैरिज दादा छूते या अरेंज मैरिज तो मैं तो यह कहना चाहूंगी कि अरेंज मैरिज सब

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  93
WhatsApp_icon
user

Jyotsna

Homemaker

2:01
Play

Likes  75  Dislikes    views  1002
WhatsApp_icon
user

rahul soni

Student

3:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लव मैरिज हो या अरेंज मैरिज हो इन दोनों में ही एक चीज ऐसी है कॉमन है और वह विश्वास एक दूसरे के प्रति विश्वास और इसी चीज में एक्शन अंग्रेज में हम एक पार्टनर पार्टनर हम हमारे दिल से सुनते हैं चलो मान लिया कि वह पाटनर आपको मिल भी गया इसकी कोई गारंटी हो सकती क्योंकि शुरुआत में सभी के लिए सही होता है शुरुआत में स्टार्ट होता है एक दूसरे के लिए बहुत प्यार आता है लेकिन जब वो चलती है आगे बढ़ती है तब पता चलता है इसका कोई कोई नहीं है एक दूसरे की जो मन की भावनाएं हैं इनकी छाए हैं उनके पसंद उनके नाम पसंद जो भी पता चलता है हम दोनों को धीरे धीरे कि हमारे रिलेशन से किस मोड़ पर है लेकिन इस रिलेशनशिप में भी अगर विश्वास नहीं है सिर्फ प्यार है तो भी ऐसे स्कूल नहीं है क्योंकि दोनों को होना बहुत जरूरी है प्यार दो दिलों की दास्तान है कहते हैं कि प्यार दो दिलों की दास्तान है ऐसा क्या करें जिसके पास दूसरे साथी के दूसरे के दिल को समझने वाला दिल ही ना हो इसलिए अरेंज मैरिज हो या लव मैरिज इन दोनों में ही साथ ऐसा होना चाहिए दोनों ही साथी ऐसे होने चाहिए जो एक दूसरे को हर स्थिति में कबूल करें हर स्थिति में उन्हें प्यार करें और एक दूसरे के ऊपर पूरा विश्वास रखें और यह चीज तभी मुमकिन है जब उन दोनों के ही दिलों में एक्टिव लव और आज के दौर में टूर मतलब 100 में से एक परसेंट श्रीकृष्ण ने भी कहा है कि जिसे आप प्यार करते हैं जिसे आप प्यार करते हैं उसे पूजने का भाव अगर आपके मन में नहीं उड़ता हो तो आप समझ लेना कि वह प्यार नहीं सिर्फ और सिर्फ आकर्षण है इसलिए दोनों ही बनता है

love marriage ho ya arrange marriage ho in dono me hi ek cheez aisi hai common hai aur vaah vishwas ek dusre ke prati vishwas aur isi cheez me action angrej me hum ek partner partner hum hamare dil se sunte hain chalo maan liya ki vaah partner aapko mil bhi gaya iski koi guarantee ho sakti kyonki shuruat me sabhi ke liye sahi hota hai shuruat me start hota hai ek dusre ke liye bahut pyar aata hai lekin jab vo chalti hai aage badhti hai tab pata chalta hai iska koi koi nahi hai ek dusre ki jo man ki bhaavnaye hain inki chay hain unke pasand unke naam pasand jo bhi pata chalta hai hum dono ko dhire dhire ki hamare relation se kis mod par hai lekin is Relationship me bhi agar vishwas nahi hai sirf pyar hai toh bhi aise school nahi hai kyonki dono ko hona bahut zaroori hai pyar do dilon ki dastan hai kehte hain ki pyar do dilon ki dastan hai aisa kya kare jiske paas dusre sathi ke dusre ke dil ko samjhne vala dil hi na ho isliye arrange marriage ho ya love marriage in dono me hi saath aisa hona chahiye dono hi sathi aise hone chahiye jo ek dusre ko har sthiti me kabool kare har sthiti me unhe pyar kare aur ek dusre ke upar pura vishwas rakhen aur yah cheez tabhi mumkin hai jab un dono ke hi dilon me active love aur aaj ke daur me tour matlab 100 me se ek percent shrikrishna ne bhi kaha hai ki jise aap pyar karte hain jise aap pyar karte hain use pujne ka bhav agar aapke man me nahi udta ho toh aap samajh lena ki vaah pyar nahi sirf aur sirf aakarshan hai isliye dono hi banta hai

लव मैरिज हो या अरेंज मैरिज हो इन दोनों में ही एक चीज ऐसी है कॉमन है और वह विश्वास एक दूसरे

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  111
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!