एक छोटा परिवार होने के बावजूद, परिवार के परामर्शदाता की तलाश करना क्यों महत्वपूर्ण होता जा रहा है?...


user

Nita Nayyar

Writer ,Motivational Speaker, Social Worker n Counseller.

3:01
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

परिवार चाहे छोटा हो या बड़ा हो उसमें एक परामर्शदाता की आवश्यकता हमेशा रहती है और मेरा मानना यह है कि घर का मुखिया पिता होता है उसके बाद दूसरे स्थान पर मां का स्थान है यदि घर के मुखिया पिता और उनके साथ जुड़ी हुई माता दोनों ही समझदार हैं तो आप दोनों को ही परामर्शदाता के रूप में स्वीकार कर सकते हैं भले ही परिवार छोटा हो या कि बड़ा हो हर वक्त हमें कोई डिसीजन ऐसे लेने होते हैं जिसमें हमें किसी ना किसी बड़े की सलाह की जरूरत होती है कई घरों में मैंने देखा है कि साथ में माता-पिता रहते हैं बुजुर्ग साथ 70 साल से ऊपर उनको किसी भी सलाह में शामिल नहीं किया जाता जो कि गलत है हम परामर्शदाता के रूप में उनको मैं तो देते हुए उनकी सलाह का भी स्वागत कर सकते हैं क्योंकि उनके पास क्या है उनके पास अनुभव है और अनुभव भी एक तरीके से एक टीचर का ही काम करता है और सही परामर्श आपको दे सकता है क्योंकि उन्होंने जीवन के उतार-चढ़ाव देखे होते हैं कई बार उन्हीं रास्तों से खून निकले होते हैं जिन पर आप आजकल चल रहे हैं तो परिवार छोटे और बड़े होने का सवाल नहीं है आपके परिवार में एक परामर्शदाता अच्छा सा जो सही सलाह दे सके होना चाहिए लेकिन मैं अक्सर देखती हूं आजकल हम पिता को मुखिया की पद पर बैठा तो देते हैं लेकिन पिता कई बार शराब पीते हैं कई बहुत अभी होते हैं कई जुआ खेलने वाले होते हैं कई पब में जाने वाले होते हैं कई और कई तरीके के गलत हरकतों में शामिल होते हैं तो ऐसे पिता की सलाह लेना तो बहुत ही मुश्किल हो जाएगा युवा लोगों के लिए तो जब आप एटीन इयर्स के हो जाएं तो आप कोशिश करिए कि आप किसी एक अपने पुराने अच्छे टीचर से जुड़ी है जो आपको आपके जीवन के बारे में सही सलाह दें और आप को सही रास्ता दिखाए क्योंकि मैं देखती हूं मैं जब रिटायर नहीं भी हुई थी या अब रिटायर हो गई हूं तो भी बहुत से मेरे पुराने स्टूडेंट्स मेरे पास आते हैं क्योंकि उन्होंने क्लास में मेरे लेक्चर सुने होते हैं कि मैडम हमें सही बात बता सकती हैं कई बार वह कहते हैं कि हमें हमारे माता-पिता नहीं गाइड कर पा रहे हैं आप हमें बताइए कि हम जीवन के इस निश्चय को या इस लक्ष्य को कैसे हासिल करें तो आप भी अपने जीवन में कोई अपनी पुरानी टीचर या कोई बुजुर्ग या मौसी जो आपको अच्छी लगती हैं उनसे सलाह ले सकते हैं

parivar chahen chota ho ya bada ho usme ek paramarshadata ki avashyakta hamesha rehti hai aur mera manana yah hai ki ghar ka mukhiya pita hota hai uske baad dusre sthan par maa ka sthan hai yadi ghar ke mukhiya pita aur unke saath judi hui mata dono hi samajhdar hain toh aap dono ko hi paramarshadata ke roop me sweekar kar sakte hain bhale hi parivar chota ho ya ki bada ho har waqt hamein koi decision aise lene hote hain jisme hamein kisi na kisi bade ki salah ki zarurat hoti hai kai gharon me maine dekha hai ki saath me mata pita rehte hain bujurg saath 70 saal se upar unko kisi bhi salah me shaamil nahi kiya jata jo ki galat hai hum paramarshadata ke roop me unko main toh dete hue unki salah ka bhi swaagat kar sakte hain kyonki unke paas kya hai unke paas anubhav hai aur anubhav bhi ek tarike se ek teacher ka hi kaam karta hai aur sahi paramarsh aapko de sakta hai kyonki unhone jeevan ke utar chadhav dekhe hote hain kai baar unhi raston se khoon nikle hote hain jin par aap aajkal chal rahe hain toh parivar chote aur bade hone ka sawaal nahi hai aapke parivar me ek paramarshadata accha sa jo sahi salah de sake hona chahiye lekin main aksar dekhti hoon aajkal hum pita ko mukhiya ki pad par baitha toh dete hain lekin pita kai baar sharab peete hain kai bahut abhi hote hain kai jua khelne waale hote hain kai pub me jaane waale hote hain kai aur kai tarike ke galat harkaton me shaamil hote hain toh aise pita ki salah lena toh bahut hi mushkil ho jaega yuva logo ke liye toh jab aap eighteen years ke ho jayen toh aap koshish kariye ki aap kisi ek apne purane acche teacher se judi hai jo aapko aapke jeevan ke bare me sahi salah de aur aap ko sahi rasta dekhiye kyonki main dekhti hoon main jab retire nahi bhi hui thi ya ab retire ho gayi hoon toh bhi bahut se mere purane students mere paas aate hain kyonki unhone class me mere lecture sune hote hain ki madam hamein sahi baat bata sakti hain kai baar vaah kehte hain ki hamein hamare mata pita nahi guide kar paa rahe hain aap hamein bataiye ki hum jeevan ke is nishchay ko ya is lakshya ko kaise hasil kare toh aap bhi apne jeevan me koi apni purani teacher ya koi bujurg ya mausi jo aapko achi lagti hain unse salah le sakte hain

परिवार चाहे छोटा हो या बड़ा हो उसमें एक परामर्शदाता की आवश्यकता हमेशा रहती है और मेरा मानन

Romanized Version
Likes  20  Dislikes    views  367
KooApp_icon
WhatsApp_icon
11 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!