लोग मनोचिकित्सक को मनोवैज्ञानिक के साथ भ्रमित क्यों करते हैं?...


play
user

DR SURI

Rehabilitation Psychologist

1:08

Likes  89  Dislikes    views  1483
WhatsApp_icon
6 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Anita Mishra

Psychologist,Counselor, Career Counselor, Motivational Speaker

0:53
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मनोचिकित्सक और मनोवैज्ञानिक साइकैटरिस्ट और साइकॉलजिस्ट अक्सर लोग कंफ्यूज होते हैं भ्रमित रहते हैं क्योंकि जो साइकस होते हैं वह दवाइयां देने के लिए उनके पास लाइसेंस होता है और जबकि मनोवैज्ञानिक जो होते हैं उनको आप अभी भी और और राष्ट्रपति थेरेपी 2cbpo और थ्री पीस के थ्रू वह आपकी मानसिक समस्याओं को सुलझाने में आपकी मदद करते हैं अक्सर लोग मानसिक समस्याओं के लिए उनके पास ज्ञान का अभाव होता है और यह कंफ्यूजन भी होती है कि साइकैटरिस्ट कौन है और साइकॉलजिस्ट कौन है और किस कारण से और किस वजह से उनको अप्रोच किया जाए उनकी मदद ली जाए इसलिए लोग अक्सर भ्रमित रहते हैं

manochikitsak aur manovaigyanik saikaitrist aur psychologist aksar log confuse hote hain bharmit rehte hain kyonki jo cycas hote hain vaah davaiyan dene ke liye unke paas license hota hai aur jabki manovaigyanik jo hote hain unko aap abhi bhi aur aur rashtrapati therapy 2cbpo aur three peace ke through vaah aapki mansik samasyaon ko suljhane me aapki madad karte hain aksar log mansik samasyaon ke liye unke paas gyaan ka abhaav hota hai aur yah confusion bhi hoti hai ki saikaitrist kaun hai aur psychologist kaun hai aur kis karan se aur kis wajah se unko approach kiya jaaye unki madad li jaaye isliye log aksar bharmit rehte hain

मनोचिकित्सक और मनोवैज्ञानिक साइकैटरिस्ट और साइकॉलजिस्ट अक्सर लोग कंफ्यूज होते हैं भ्रमित र

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  167
WhatsApp_icon
play
user

Dr Nisha Khanna

Renowned Indian Counselling Psychologist, Tedx Speaker, Columnist

3:06

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपकी लाइफ रूटिंग इसलिए बोलते हैं नींद आ रही है क्या कर रही हो क्या करते हैं खुशी कॉलेज इंटरमीडिएट बार-बार मरने के बारे में सोचता है हमसे रहते हैं

aapki life routing isliye bolte hain neend aa rahi hai kya kar rahi ho kya karte hain khushi college intermediate baar baar marne ke bare mein sochta hai humse rehte hain

आपकी लाइफ रूटिंग इसलिए बोलते हैं नींद आ रही है क्या कर रही हो क्या करते हैं खुशी कॉलेज इंट

Romanized Version
Likes  19  Dislikes    views  567
WhatsApp_icon
user

Mahendra Joshi

Motivational Speaker www.mahendrajoshi.com

0:46
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आलू मनोचिकित्सक को मनोवैज्ञानिक के साथ भ्रमित क्यों करते हैं अमूमन यह ज्ञान की कमी या इंफॉर्मेशन या सूचना की कमी के कारण होता है और जब भी कभी किसी को कैरियर को लेकर आ रिलेशनशिप और उसे सलाह दी जाती है कि आपको किसी मनोवैज्ञानिक से संपर्क करना है तो मन ही मन करता है कि मुझे मनोचिकित्सक के पास जाना पड़ेगा और मेडिसिन शुरू हो जाएगी जो लोग थोड़े से हथियार हैं जानते हैं इस चीज के बारे में कि यह भी एक रूटीन लाइफ का हिस्सा है जहां पर आप इन चीजों को थोड़ा सा प्रॉपर्ली करें तो बैटल रिजल्ट आ सकते हैं मनोवैज्ञानिक की सलाह निश्चित रूप से हमें हमारे जीवन के बहुत सारे पहलुओं में आगे बढ़ने में और छोटी छोटी सी समस्याओं को जिनको हैंडलिंग करने में दिक्कत होती है उससे बाहर आ में मदद करती है नमस्कार

aalu manochikitsak ko manovaigyanik ke saath bharmit kyon karte hain amuman yah gyaan ki kami ya information ya soochna ki kami ke karan hota hai aur jab bhi kabhi kisi ko carrier ko lekar aa Relationship aur use salah di jaati hai ki aapko kisi manovaigyanik se sampark karna hai toh man hi man karta hai ki mujhe manochikitsak ke paas jana padega aur medicine shuru ho jayegi jo log thode se hathiyar hain jante hain is cheez ke bare mein ki yah bhi ek routine life ka hissa hai jaha par aap in chijon ko thoda sa properly kare toh battle result aa sakte hain manovaigyanik ki salah nishchit roop se hamein hamare jeevan ke bahut saare pahaluwon mein aage badhne mein aur choti choti si samasyaon ko jinako handling karne mein dikkat hoti hai usse bahar aa mein madad karti hai namaskar

आलू मनोचिकित्सक को मनोवैज्ञानिक के साथ भ्रमित क्यों करते हैं अमूमन यह ज्ञान की कमी या इंफॉ

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  39
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मनोवैज्ञानिक आपके मनोविज्ञान को समझता है और मनोचिकित्सक जो है वह आपकी जो मन के विकार हैं मन किस तरह की बीमारी है आपके मस्तिष्क की उसकी दवा करता है

manovaigyanik aapke manovigyan ko samajhata hai aur manochikitsak jo hai vaah aapki jo man ke vikar hain man kis tarah ki bimari hai aapke mastishk ki uski dawa karta hai

मनोवैज्ञानिक आपके मनोविज्ञान को समझता है और मनोचिकित्सक जो है वह आपकी जो मन के विकार हैं म

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  111
WhatsApp_icon
user
Play

Likes  4  Dislikes    views  98
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!