आपकी राय में तलाक के दौर से गुजर रहे घरों के बच्चों को अपने जीवन और पढ़ाई से कैसे तालमेल बिठाना चाहिए?...


play
user

DR SURI

Rehabilitation Psychologist

1:34

Likes  137  Dislikes    views  1392
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

2:53

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपकी राय में तलाक के दौर से गुजर रहे घरों के बच्चों को अपने जीवन में पढ़ाई कैसे करना चाहिए बहुत ही समझदार बच्चे ने सवाल किया है क्योंकि जिस घर में तलाक की बात उस दरमियान बच्चों की शिक्षा प्रशिक्षण बुरा असर पड़ता है यह सब लोगों को अगर समझ आ जाए तो लोग इस तरह की बात ना करें आपका जो सवाल है कि पढ़ाई कैसे तालमेल बैठाना है बच्चों को बच्चों को यह समझना चाहिए कि उनका काम है पढ़ाई करना और पढ़ाई करते समाजशास्त्र लक में जो भी अंजाम आएगा चाहे माता-पिता अलग होंगे या नहीं होंगे वह सब कोर्ट में होगी कभी लेकिन तब तक हम पढ़ाई को टाल तो नहीं सकते हमें तो अपनी पढ़ाई वह तलाक के नाटकों दिमाग में से निकालकर और पढ़ाई में ध्यान लगाना पड़ेगा वरना हमारा साल बर्बाद हो जाएगा फैसला जो आएगा वह अपने माता-पिता करेगा और आपको किसके पास रहना है वह भी कोर्ट तय करेगा उसमें आप क्यों चिंता कर रही अभी पढ़ाई करो प्लीज भगवान के ऊपर छोड़ दी थी कि जो भी फैसला होगा उसका वह भगवान ने जो लिखी होगी वह अपने माता-पिता के साथ को यह सब बातों को बोलना करते और सिर्फ पढ़ाई और पढ़ाई और सिर्फ पढ़ाई पर ध्यान लगाना है बाकी सब भगवान के पर्चे इस तरह से अच्छे नंबर से पास होना कि मैं बोल रहा हूं लेकिन फिर भी भगवान भी हमारी परीक्षा लेते हैं जैसी कमीनी जैसी काल में भगवान भी इस तरह की परीक्षा कभी-कभी बच्चों के लिए लेते इसलिए परिस्थितियों से जूस बनाकर और दिमाग में से निकाल कर पढ़ाई पर ध्यान केंद्रित शुभकामनाएं आपको हिम्मत देता हूं कि आपको इससे आगे चलकर बहुत ही सफल इंसान लगी

aapki rai mein talak ke daur se gujar rahe gharon ke baccho ko apne jeevan mein padhai kaise karna chahiye bahut hi samajhdar bacche ne sawaal kiya hai kyonki jis ghar mein talak ki baat us darmiyaan baccho ki shiksha prashikshan bura asar padta hai yah sab logo ko agar samajh aa jaaye toh log is tarah ki baat na kare aapka jo sawaal hai ki padhai kaise talmel baithana hai baccho ko baccho ko yah samajhna chahiye ki unka kaam hai padhai karna aur padhai karte samajshastra luck mein jo bhi anjaam aayega chahen mata pita alag honge ya nahi honge vaah sab court mein hogi kabhi lekin tab tak hum padhai ko tal toh nahi sakte hamein toh apni padhai vaah talak ke natakon dimag mein se nikalakar aur padhai mein dhyan lagana padega varna hamara saal barbad ho jaega faisla jo aayega vaah apne mata pita karega aur aapko kiske paas rehna hai vaah bhi court tay karega usme aap kyon chinta kar rahi abhi padhai karo please bhagwan ke upar chod di thi ki jo bhi faisla hoga uska vaah bhagwan ne jo likhi hogi vaah apne mata pita ke saath ko yah sab baaton ko bolna karte aur sirf padhai aur padhai aur sirf padhai par dhyan lagana hai baki sab bhagwan ke parche is tarah se acche number se paas hona ki main bol raha hoon lekin phir bhi bhagwan bhi hamari pariksha lete hai jaisi kamini jaisi kaal mein bhagwan bhi is tarah ki pariksha kabhi kabhi baccho ke liye lete isliye paristhitiyon se juice banakar aur dimag mein se nikaal kar padhai par dhyan kendrit subhkamnaayain aapko himmat deta hoon ki aapko isse aage chalkar bahut hi safal insaan lagi

आपकी राय में तलाक के दौर से गुजर रहे घरों के बच्चों को अपने जीवन में पढ़ाई कैसे करना चाहिए

Romanized Version
Likes  31  Dislikes    views  446
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

तलाक के दौर से गुजर रहे बच्चों को अपने जीवन में लड़ाई और जीवन से कैसे तालमेल बैठाना चाहिए सबसे ज्यादा जो मुश्किल है वह बच्चों को आते हैं सबसे ज्यादा ड्रामा बच्चों को जो है महसूस करना पड़ता है और टूटे हुए परिवार में जो है आपसे आप जो है अपने परिवार को देखते हैं जैसे आपने अपने जीवन में और पढ़ाई में तालमेल बैठाना है जो तू बड़ा मुश्किल होता है मुझे लगता है कि अगर कोई बड़ा हो घर में समझदार आदमी हो तो शायद वह उनको है इन कामों को ज्यादा अच्छी तरह से कर सकता हूं कि बहुत बार ऐसा होता है कि जो तलाक देने वाले जुड़े होते हैं उनमें आपस में कोई नशीला होती है और ना ही कोई और बात वह तलाक होने पर अड़े होते हैं और तकलीफ ही मानते हैं तो ऐसे में कोई बड़ा हो जो भी उनकी देखभाल कर सकता हूं वह उनके जीवन में और उनके पढ़ाई में संतुलन ला सकता है

talak ke daur se gujar rahe baccho ko apne jeevan mein ladai aur jeevan se kaise talmel baithana chahiye sabse zyada jo mushkil hai vaah baccho ko aate hai sabse zyada drama baccho ko jo hai mehsus karna padta hai aur tute hue parivar mein jo hai aapse aap jo hai apne parivar ko dekhte hai jaise aapne apne jeevan mein aur padhai mein talmel baithana hai jo tu bada mushkil hota hai mujhe lagta hai ki agar koi bada ho ghar mein samajhdar aadmi ho toh shayad vaah unko hai in kaamo ko zyada achi tarah se kar sakta hoon ki bahut baar aisa hota hai ki jo talak dene waale jude hote hai unmen aapas mein koi nasheela hoti hai aur na hi koi aur baat vaah talak hone par ade hote hai aur takleef hi maante hai toh aise mein koi bada ho jo bhi unki dekhbhal kar sakta hoon vaah unke jeevan mein aur unke padhai mein santulan la sakta hai

तलाक के दौर से गुजर रहे बच्चों को अपने जीवन में लड़ाई और जीवन से कैसे तालमेल बैठाना चाहिए

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  12
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!